Connect with us

Politics

Vodafone 1799 Plan में पूरे साल के लिए मिलेगी Unlimited Calling, Data

Published

on


नई दिल्ली। 5G Network की शुरुआत हो चुकी है। ऐसे में कई लोग ऐसे रिचार्ज प्लान भी सर्च करते हैं जिन्हें एक बार करवाने के बाद दोबारा कोई टेंशन नहीं रहे। ऐसे प्लान्स को कंपनियां Annual Recharge Plan का नाम देती हैं। अगर आप भी कोई Annual Plan की खोज कर रहे हैं तो आपके लिए ये प्लान्स बेहतर ऑप्शन साबित हो सकते हैं। तो च लिये आपको भी बताते हैं कि आप इन्हें कैसे रिचार्ज करवा सकते हैं?

Vodafone-Idea 1799 Prepaid Plan-

Vodafone-Idea का ये प्लान सबसे ज्यादा चर्चा में रहता है। इस प्लान की खासियत है कि इसे एक बार खरीदने के बाद आपको दोबारा रिचार्ज करवाने की जरूरत ही नहीं है। Vodafone-Idea 1799 Prepaid Plan में आपको कई खासियत मिलती है। सबसे पहले तो इस प्लान की वैलिडिटी 365 दिन की होती है। साथ ही इसमें आपको Unlimited Calling का ऑप्शन भी दिया जाता है। प्लान में कुल 24GB Data भी दिया जाता है।

हालांकि डाटा खत्म होने के बाद भी इंटरनेट रुकेगा नहीं, लेकिन इसकी स्पीड बहुत ज्यादा कम हो जाएगी। साथ ही हाईस्पीड डाटा के लिए आपसे 50p/MB के हिसाब से चार्ज भी किया जाएगा। प्लान में कुल 3600 SMS भी दिए जाते हैं। यानी 365 दिन के लिए आपको 3600 SMS की सुविधा भी दी जाती है। इस हिसाब से देखा जाए तो आपको ये प्लान 138 रुपए प्रति 28 दिन के हिसाब से मिल रहा है।

Jio 1559 Prepaid Plan-

अगर आपके पास Jio का नेटवर्क है तो आप इसे अपनी लिस्ट में शामिल कर सकते हैं। महज 1559 रुपए में आपको Unlimited Calling की सुविधा पूरे 336 दिन के लिए मिल रही है। साथ ही इस प्लान में भी आपको 24GB Data दिया जाता है। SMS की बात करें तो प्लान में आपको 3600 SMS दिए जाते हैं। Jio नेटवर्क के लिहाज से भी काफी बेहतर है इसके रिचार्ज प्लान की कीमत भी काफी कम है।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Politics

Chinese App Ban: सरकार ने बैन किए 230 चाइनीज ऐप्स, भारतीयों को बना रहे थे कर्जदार

Published

on

By


नई दिल्ली। Chinese App Ban: चीन भारत को कमजोर बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ता है। उसकी तरफ से भारत में अवैध लोन ऐप्स और जुआखोरी का धंधा चलाया जा रहा था, जिस पर भारत सरकार ने डिजिटल स्ट्राइक कर दी है। मोदी सरकार की तरफ से करीब 230 चीनी ऐप्स को बैन करने का फरमान जारी किया गया है। इसमें 138 जुआखोरी के लिंक्स शामिल हैं। जबकि 94 लोन ऐप्स शामिल हैं। इस सभी चीनी ऐप्स और लिंक्स को तत्काल प्रभाव से बैन करने का निर्देश दिया गया है।

मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MeitY) की तरफ के गृह मंत्रालय को चीनी ऐप्स को बैन करने का सुझाव दिया गया था। जिसे गृह मंत्रालय की तरफ से मंजूरी दे दी गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक सरकार ने करीब 6 माह पहले 288 चीनी ऐप्स की जांच की थी। इसमें पता चला कि ये ऐप्स भारतीय नागरिकों के निजी डेटा की चोरी कर रहे हैं। इसके बाद सरकार ने आईटी अधिनियम की धारा 69 के तहत चीनी ऐप को बैन किया गया है, जो भारत की की संप्रभुता और अखंडता को नुकसान पहुंचा रहे थे।

चीन भारतीयों के चीनी ऐप्स के जरिए अपने कर्ज के जाल में फंसाता था। चीनी ऐप्स सस्ते में भारतीयों को कर्ज उपलब्ध करा रहे थे। वही कर्ज की वसूली करने के नाम पर जबरन वसूली और उत्पीड़न करते थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक यह ऐप चीनी नागरिकों के दिमाग की उपज हैं, जिन्होंने भारतीयों को काम पर रखा और फिर उन्हें इन ऐप्स को चलाने की जिम्मेदारी दी। रिपोर्ट की मानें, तो चीनी ऐप्स मुश्किल में फंसे लोगों को कर्ज लेने का लालच देते थे फिर उनसे सालाना 3,000 फीसदी तक ब्याज लेते थे।

यह मामला उस वक्त सामाने आया, जब आंध्रप्रदेश और तेलंगाना के कई लोगों ने कर्ज वसूली से तंग आकर जान दे दी थी। इन सभी मृतकों ने बेटिंग ऐप्स से लोन लिया हुआ था।



Source link

Continue Reading

Politics

पंखे की कीमत में मिल रहा 32 Inch Smart TV, कीमत सुनते ही लोगों ने कर दिया ऑर्डर

Published

on

By


नई दिल्ली। Smart TV खरीदने के बारे में विचार कर रहे हैं तो ये आपके लिए बिल्कुल सही समय साबित हो सकता है। क्योंकि अभी 32 Inch Smart TV पर तगड़ा डिस्काउंट मिल रहा है। साथ ही आप अभी इस टीवी को ऑर्डर भी कर सकते हैं। अब आपके मन में सवाल होगा कि आखिर ऐसा कौन-सा स्मार्ट टीवी है जिसकी कीमत अभी पंखे से भी कम हो गई है। तो चलिये आपको भी बताते हैं-

Croma 80 cm (32 inch) HD Ready LED TV आपके लिए बेस्ट ऑप्शन साबित हो सकता है। इस स्मार्ट टीवी की MRP 20,000 रुपए है और आप इसे 63% डिस्काउंट के बाद 7,490 रुपए में ऑर्डर कर सकते हैं। आज ऑर्डर करने के बाद इस टीवी को आसानी से डिलीवर भी करवा दिया जाएगा। Smart TV में 60Hz Refresh Rate भी दिया जाता है। टीवी में 20W Speaker का ऑफर दिया जाता है।

SkyWall 32SWN HD Ready LED TV-80 cm (32 inches) को भी आप अपनी लिस्ट में शामिल कर सकते हैं। इस स्मार्ट टीवी की MRP 15,810 रुपए है और आप इसे डिस्काउंट के बाद 6,499 रुपए में खरीद सकते हैं। ये एक फ्रेम लैस स्मार्ट टीवी है जो लुक में काफी अच्छा लगता है। इस स्मार्ट टीवी पर No Cost EMI Option भी दिया जाता है। अगर आप इसे ऑफिशियल साइट से ऑर्डर करते हैं तो इस पर 7 दिन का Easy Exchange Offer भी दिया जा रहा है।

BPL 81.28 cm (32 inch) HD Ready LED TV को आप Reliance Digital की साइट से खरीद सकते हैं। इस टीवी की MRP 18,000 रुपए है और आप इसे 61% डिस्काउंट के बाद 6,999 रुपए में खरीद सकते हैं। CITI Bank Card से पेमेंट करने पर आपको 10% की छूट अलग से मिल सकती है। इसके अलावा भी आपको अन्य कार्ड्स पर डिस्काउंट मिल रहा है।



Source link

Continue Reading

Politics

रोबोट लेंगे इंसानों की जगह! लेकिन खतरनाक हो सकती है ये दुनिया, जानें एक्सपर्ट की राय

Published

on

By


नई दिल्ली। टेक्नोलॉजी अपने साफ कई तरह की सुविधाएं लेकर आती है, तो कुछ उसके साइज इफेक्ट भी होते हैं। इन दिनों टेक्नोलॉजी की दुनिया तेजी से बदल रही है। पुरानी इंटरनेट की Web 2.0 से शिफ्ट होकर हम Web 3 की दुनिया में दाखिल हो रहे हैं, जहां इंटरनेट और AI का दबदबा होगा। इस दुनिया में मशीन जैसे रोबोट और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बेस्ड डिवाइस काम करेंगी। यह सब सुनने में कितना अच्छा लग रहा है। लेकिन क्या आपको मालूम है इसकी कई चुनौतिया हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से..

इंटरनेट की कमियां
मौजूदा वक्त में इंटरनेट हर जगह मौजदू है। हालांकि इसकी अपनी कुछ कमियां हैं। इंटरनेट की एंट्री से डेटा गोपनीयता, सेंसरशिप, और शोषण और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की शक्ति के दुरुपयोग के संभावनाओं को लेकर चिंताएं बढ़ रही है। यूजर्स के डेटा की बात करें, तो अब कंपनियों पर गोपनीयता और सेफ्टी को लेकर काफी दबाव है। हालांकि यूजर्स को सुनिश्चित करना होगा कि वो चालाकी से चुनें कि किन ऑनलाइन सर्विस का इस्तेमाल करना है, जिसके इस्तेमाल में जोखिम कम है। ऐसा इसलिए क्योंकि आने वाले दिनों में इंटनरेट के प्रसार में वृ्द्धि होगी। ऐसे में हमें अभी इंटनरेट इस्तेमाल को लेकर सतर्क रहना चाहिए।

Web 2.0 की कमियां
हालांकि ऐसा नहीं है कि खतरा है कि तो हमें Web 3 में नहीं शिफ्ट करना चाहिए। क्योंकि कमियां तो चूंकि Web 2.0 टेक्नोलॉजी में भी हैं। Web 2.0 टेक्नोलॉजी में भी यूजर डेटा की हैकिंग की जा सकती है। इसमें मीडिया फाइल या किसी कम्यूनिकेशन के दौरान गलत कोड डालककर हैकिंग को अंजाम दिया जा सकता है। ऐसे में यूजर्स को अन्य टेक्नोलॉजी पर शिफ्ट ही होना होगा। इसके लिए कई सारे ऑप्शन सामने आ रहे हैं, जो यूजर सेफ्टी के लिए काफी शानदार हैं।

आखिर क्यों Web3 की है जरूरत
Web3 इंटरनेट हमारे लिए जरूरी है, क्योंकि Web 3 बेस्ड प्लेटफॉर्म और एप्लिकेशन कम बिजली की खपत करने साथ टिकाऊ और सुरक्षित हैं। ब्लॉकचेन तकनीक Web3 का ही एक हिस्सा है, जो कंपनियों को पुराने सर्वर-बेस्ड कंप्यूटिंग से दूर करता है। साथ ही बिजली खपत और कार्बन उत्सर्जन में कटौती करता है, जिससे कंपनियों की लागत में कमी आती है। यह प्लेटफॉर्म को डिसेंट्रलाइज्ड करने में मदद करता है। उदाहरण के तौर ब्लॉकचैन-बेस्ड बैंकिंग प्लेटफॉर्म पीयर-टू-पीयर लेनदेन की सुविधा देता है।

Web3 का इस्तेमाल करके सेंसरशिप में कमी लाई जा सकती है। मतलब सरकारी कंट्रोल कम होगा। वेब को डिसेंट्रलाइज्ड करके यूजर्स बिना किसी कंट्रोल के बिना काम कर सकते हैं। Web3 मौजूदा सेंट्रलाइज्ड सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए एक प्राइवेसी ऑप्शन दे सकता है।

लेकिन.. कानूनी चुनौतियां क्या हैं?
Web 3 के इस्तेमाल में काफी सारी कानूनी चुनौतियां हैं। इसमें कॉपीराइट, लाइसेंसिंग और मनी लॉन्ड्रिंग शामिल हैं। वही NFT को लेकर विवाद बना हुआ है। इसकी वजह टोकन के ‘स्वामित्व’ और टोकन की खरीददारी को लेकर है। इन मुद्दों को हल करने की तत्काल आवश्यकता है।

डिजिटल संपत्ति के दुरुपयोग और मनी लॉन्ड्रिंग भी विवाद की वजह बना हुआ है। साफ नही है कि NFT को मनी लॉन्ड्रिंग रोधी कानून के तहत ‘संपत्ति’ माना जाता है या नहीं।

तीसरा एनएफटी रियल एस्टेट से जुड़ा हैं। ऐसे में इसे लेकर कानून बनाए जाने की संभावना है। अगर ऐसा नहीं होता है, तो यह आगे चलकर विवाद की वजह बनेगा।

अनूठी डिजिटल संपत्ति को अचल संपत्ति की तरह वसीयत में रखा जा सकता है। आभासी भूमि, क्रिप्टोकुरेंसी, और एनएफटी को संपत्ति की तरह माना जाता है और इसे वसीयत में पारित किया जा सकता है। लेकिन इन डिजिटल संपत्तियों के लिए चुनौती है कि उनकी पहचान और ट्रांसफर का मामला बिल्कुल साफ हो।

आखिरी और अहम सवाल
Web 3 का कंट्रोल किसके पास है? कोई एक संस्था डिसेंट्रलाइज्ड इंटरनेट को नियंत्रित नहीं कर सकती है। उदाहरण के लिए, क्रिप्टोकरेंसी आमतौर पर आम सहमति से नियंत्रित होती हैं और इसमें हिस्सा लेने वालों को कुछ नियमों का पालन करना होता है। हालांकि नियमों के उल्लंघन पर किस तरीके की कानूनी कार्रवाई होगी, इसे लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं.



Source link

Continue Reading