Connect with us

International

UK India Khalistan: लंदन में खालिस्‍तानियों ने किया तिरंगे का अपमान, भारत के अधिकारियों पर खतरा, फिर भी खामोश हैं भारतीय मूल के पीएम ऋषि सुनक

Published

on


लंदन: रविवार को यूके स्थित भारतीय उच्‍चायोग में जिस तरह से खालीस्‍तानी समर्थक दाखिल हुए और उन्‍होंने तिरंगे को उतारकर अपना झंडा लगाया, उस घटना ने भारत की चिंताओं को बढ़ा दिया है। अभी तक इस पूरी घटना पर भारतीय मूल के ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक का कोई भी आधिकारिक बयान नहीं आया है। भारत में ब्रिटेन के राजदूत एलेक्‍स एलिस ने जरूर इसकी निंदा की और कहा कि इस तरह की घटनाओं को हरगिज बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा। मगर पीएम सुनक की प्रतिक्रिया का इंतजार भारत में हर किसी को है। माना जा रहा है कि यूके को इस घटना के नतीजों को भुगतना होगा। भारत का मानना है कि यह मुद्दा सूरक्षा में चूक का बड़ा मामला है। भारत सरकार की तरफ से एलिस के सामने इसका विरोध दर्ज कराया गया है।

खराब होते जा रहे रिश्‍ते
भारत के उच्‍चायोग में रविवार को जो कुछ हुआ है, वह काफी डराने वाला है। विदेश मामलों के जानकार ब्रह्म चेलानी ने इस पर एक ट्वीट किया है। उन्‍होंने लिखा है यह काफी दुखद है कि एक भारतीय मूल का पीएम होते हुए भी, यूके के साथ भारत के रिश्‍ते खराब होते जा रहे हैं। उनका कहना है कि चाहे जो भी यूके इस बात से बच नहीं सकता है कि भारतीय उच्‍चायेग पर जो कुछ हुआ, वह उसका दोषी है। ब्रिटेन के राजदूत एलेक्‍स एलिस ने इस घटना के सामने आते ही इसकी कड़ी निंदा की। उन्‍होंने कहा कि इस तरह की वारदात को बिल्‍कुल भी स्‍वीकार नहीं किया जाएगा।

Indian Flag In UK: खालिस्‍तानियों के मुंह पर जोरदार तमाचा, लंदन में भारतीय उच्‍चायुक्‍त पर लहराया विशाल तिरंगा, देखिए वीडियो

उच्‍चायोग पर नो सिक्‍योरिटी!
उच्‍चायोग के बाहर बिल्‍कुल भी सुरक्षा नहीं थी और इस वजह से ही ये खालिस्‍तानी उच्‍चायुक्‍त के अंदर दाखिल होने में सफल हो पाए हैं। लेकिन इस नए घटनाक्रम का वीडियो भारत की तरफ से खालिस्‍तानियों और इनके समर्थकों के लिए करारा जवाब माना जा रहा है। इसके साथ ही भारत की तरफ से यह स्‍पष्‍ट कर दिया गया है कि किसी भी सूरत में इन खालिस्‍तानियों के आगे घुटने नहीं टेके जाएंगे।

भारत ने इस घटना को विएना संधि के अलावा अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों का उल्‍लंघन भी करार दिया है। साथ ही यह भी कहा है कि यह पूरा मामला सुरक्षा में कमी से जुड़ा है। जो वीडियो सोशल मीडिया पर आया है, वह एक मिनट से कुछ ज्‍यादा समय का है। इस वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि उच्‍चायोग के आसपास कहीं पुलिस मौजूद नहीं है।
Khalistan Australia: भारत के अनुरोध का असर नहीं, ब्रिसबेन में हुआ खालिस्‍तान का ‘जनमत संग्रह’, बिगड़ेंगे ऑस्‍ट्रेलिया संग रिश्‍ते?
यूके को भुगतने होंगे नतीजे

कई विशेषज्ञों का मानना है कि यूके की सरकार को इस घटना के गंभीर नतीजे भुगतने होंगे। सूत्रों की मानें तो रविवार को जो कुछ हुआ है उसके पीछे अवतार सिंह खांडा का हाथ है। खांडा ने ही रविवार को होने वाले सिख छात्रों को इकट्ठा किया था। बताया जा रहा है कि भारत की तरफ से खालिस्‍तानी समर्थकों पर यूके के नरम रवैये के बारे में वहां की सरकार को आगाह किया गया था। लेकिन इसके बाद भी कोई कदम नहीं उठाया गया है। भारत के विदेश मंत्रालय की तरफ से तो इस घटना के खिलाफ कड़ा कदम उठाया गया और यूके के राजदूत को तलब किया गया। वहीं लंदन स्थित उच्‍चायोग की तरफ से भी यूके सरकार को मैसेज दिया गया है।

सुनक सरकार के एक्‍शन पर नजर
भारत सरकार की नजरें अब इस बात पर है कि सुनक सरकार इस पूरे मामले पर क्‍या एक्‍शन लेती है। मोदी सरकार की तरफ से यूके की सरकार और इंटेलीजेंस एजेंसी MI-5 को आगाह किया गया था कि खालिस्‍तानी समर्थक मार्च में कुछ बड़ा करने की साजिश रच रहे हैं। लेकिन इसके बाद भी वहां की सरकार ने कुछ नहीं किया। 22 मार्च को भी लंदन में सिख्‍स फॉर जस्टिस (SFJ) की तरफ से भारत-विरोधी प्रदर्शन होने वाला है। इस प्रदर्शन की अगुवाई सिख चरमपंथी गुरपतवंत सिंह पन्‍नू करेगा। लचर नीतियों की वजह से एसएफजे ने अपने पैर मजबूत कर लिए हैं। यूके के गुरुद्ववारों के बाहर भी एसएफजे फंड इकट्ठा करने में लगा हुआ है। सुनक सरकार की खामोशी उसे आने वाले समय में भारी पड़ सकती है।



Source link

International

हूती विद्रोहियों ने जिस जहाज का किया अपहरण, उस पर यमन में लोग बना रहे टिकटॉक वीडियो

Published

on

By


Image Source : SOCIAL MEDIA
यमन में अपहृत जहाज पर बन रहे टिकटॉक वीडियो

Yemen News: यमन के ​हूती विद्रोहियों ने जिस इजराइल से जुड़े एक कार्गो जहाज का अपहरण कर लिया था, उस जहाज का उपयोग अनोखे तरीके से हो रहा है। इस जहाज पर सोशल ​मीडिया इन्फ्लुएंसर टिकटॉक ​वीडियो बना रहे हैं। 


पिछले 19 नवंबर को लाल सागर से हूती​ विद्रोहियों ने भारत की ओर जा रहे इजराइली बेस्ड इस कार्गो जहाज को अगवा कर लिया था। इसके तहत नकाब और हथियारपोश हमलवर जहाज पर चढ़ गए थे और बंदूक की नोंक पर फिल्मी स्टाइल में जहाज को कब्जे में ले लिया था। हालांकि अब कहानी बदल चुकी है। इस जहाज का यमन में अलग ही तरह से उपयोग हो रहा है।

यमन के सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर का टिकटॉक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा, जिसमें वे लोग कब्जे वाले गैलेक्सी मालवाहक जहाज पर नाच रहे हैं। हूती समूह की तरफ से जब्त किए गए मालवाहक जहाज पर वीडियो शूट किया गया। इसमें 10 लोगों को नाचते हुए दिखाया गया है। बता दें कि अब्दुल रहमान अल जौबी और मुस्तफा अल मुमारी यमन के कॉमेडियन स्टार है। उन्होंने डेक पर नाचने वाले क्लिप को यूट्यूब और टिकटॉक पर पोस्ट किया।

गैलेक्सी जहाज पर युवक थिरके

वीडियो के एक क्लिप में गैलेक्सी जहाज पर अल जौबी के साथ कुछ युवक भी थिरकते नजर आ रहे है। बता दें कि अल जौबी के यूट्यूब पर लगभग 42,000 सब्सक्राइबर हैं। वो मालवाहक जहाज पर कुछ लोगों के साथ एक लिफ्ट में दिखाई दे रहे हैं, जिसमें अल जौबी अपने कान पर एक सेल फोन रखते हुए कैमरे के सामने बोल रहे हैं। वायरल वीडियो में लोगों की एक कतार को जहाज के शीर्ष डेक पर नाचते हुए देखा जा सकता है। वीडियो में तीन लोग यमन के झंडे लहरा रहे हैं, जबकि अन्य के हाथ में हथियार हैं।

सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर ने क्या दी चेतावनी?

एक अन्य यूट्यूब वीडियो में यमन के सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर अल मुमारी को जहाज के डेक पर देखे जाने से पहले छोटी सेलबोट में गैलेक्सी लीडर के पास जाता है। इस दौरान उन्होंने इजरायल से गाजा पर बमबारी बंद करने का भी आग्रह किया। साथ ही चेतावनी दी कि अगर खून-खराबा जारी रहा, तो लोगों को अपने जहाजों के चोरी होने की उम्मीद करनी चाहिए।

Latest World News





Source link

Continue Reading

International

इजराइल में फिर गोलीबारी, सड़क पर गुजर रहे लोगों पर बरसाई गोलियां, दोनों हमलावर ढेर

Published

on

By


Image Source : FILE
इजराइल में फिर गोलीबारी

Israel News: इजराइल में फिर ​गोलीबारी की खबर है। जानकारी के अनुसार येरुशलम के पास सड़क पर गुजर रहे लोगों पर हमलावरों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं। हालांकि पुलिस ने दोनों हमलावरों को ढेर कर दिया है। मिली जानकारी के अनुसार यरुशलम के प्रवेश स्थान पर मुख्य राजमार्ग के पास बस का इंतजार कर रहे और मार्ग से गुजर रहे लोगों पर गुरुवार को बंदूकधारियों ने गोलीबारी की। इजराइल की पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि घटना में 7 लोग घायल हो गए। इनमें से 3 लोगों की हालत गंभीर है। उन्होंने बताया कि घटना सुबह के बेहद व्यस्त समय में हुई। पुलिस ने बताया कि दोनों हमलावरों को मार गिराया गया है। 

संघर्ष विराम खत्म होने से महज 8 मिनट पहले फिर बढ़ा सीजफायर

इसी बीच बड़ी खबर यह है कि इजराइल-हमास के बीच सीजफायर खत्म होने से 8 मिनट पहले यानी भारतीय समयानुसार सुबह 10:22 बजे इसे 1 दिन के लिए आगे बढ़ा दिया गया है। इजराइल और कतर के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की। टाइम्स ऑफ इजराइल के मुताबिक हमास ने आज आजाद होने वाले 10 बंधकों की लिस्ट दी है, जिसे इजराइल ने पास कर दिया है। युद्ध विराम के तहत हमास हर दिन 10 बंधकों को छोड़ेगा। इसके बदले में इजराइल 30 फिलिस्तीनी कैदियों को रिहा करेगा। इजराइली सेना ने बताया कि सीजफायर की दूसरी शर्तों पर अब भी बातचीत जारी है।

गाजा पट्टी से 16 बंधक इजराइल को सौंपे

इससे पहले इजराइल और हमास में संघर्ष विराम के बीच हमास ने गाजा पट्टी से 16 बंधकों को इजराइल को सौंप दिया। रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, नागरिकों के इस समूह में इजरायली और थाई नागरिक शामिल थे। इन बंधकों को छोड़ने के बदले इस्राइल 30 फलस्तीनी महिलाओं और बच्चों को जेलों से रिहा करेगा। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इजराइल सुरक्षा बल (आईडीएफ) ने हमास की कैद से 16 बंधकों की रिहाई की पुष्टि की है। आईडीएफ ने कहा कि बंधकों के परिवारों को ताजा जानकारी से अपडेट किया जा रहा है।

Latest World News





Source link

Continue Reading

International

अमेरिकी एयरफोर्स विमान हादसे से घबराया जापान, उठा सकता है ये बड़ा कदम

Published

on

By


Image Source : FILE
अमेरिकी एयरफोर्स विमान हादसे से घबराया जापान

America Japan: अमेरिकी सैन्य विमान के जापान के तट के निकट दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जापान घबरा गया है। जापान अपनी  ‘ऑस्प्रे’ उड़ान निलंबित कर सकता है। जानकारी के अनुसार जापान में अमेरिकी वायु सेना के ‘ऑस्प्रे’ विमान के एक प्रशिक्षण अभियान के दौरान दक्षिणी तट के पास समुद्र में दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जापान अपनी ‘ऑस्प्रे’ उड़ानों को निलंबित करने पर विचार कर रहा है।

टोक्यो ने अमेरिकी सेना से दुर्घटना के पीड़ितों की तलाश करने वाल विमानों को छोड़कर जापान में संचालित होने वाली सभी ‘ऑस्प्रे’ विमानों के परिचालन को रोकने के लिए भी कहा है। अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। जापान के रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी तारो यामातो ने संसद में सुनवाई के दौरान कहा कि जापान कुछ समय के लिए ‘ऑस्प्रे’ उड़ानें निलंबित करने की योजना बना रहा है।

ट्रेनिंग के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था विमान

जापान में संचालित अमेरिकी वायु सेना का एक ‘ऑस्प्रे’ विमान बुधवार को देश के दक्षिणी तट के पास एक प्रशिक्षण अभियान के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें चालक दल के आठ सदस्यों में से कम से कम एक की मौत हो गई। जापानी तटरक्षक प्रवक्ता काजुओ ओगावा ने कहा कि दुर्घटना का कारण और उसमें सवार सात अन्य लोगों की स्थिति का तुरंत पता नहीं चल पाया है। तटरक्षक ने रातभर खोज जारी रखने की योजना बनाई।

‘हाइब्रिड’ विमान है ‘ऑस्प्रे’, हेलिकॉप्टर की तरह भरता है उड़ान

‘ऑस्प्रे’ एक ‘हाइब्रिड’ विमान है जो हेलीकॉप्टर की तरह उड़ान भरता और उतरता है, लेकिन उड़ान के दौरान यह अपने प्रणोदक को आगे की ओर घुमा सकता है और हवाई जहाज की तरह बहुत तेजी से उड़ान भर सकता है। ‘ऑस्प्रे’ से संबंधित कई दुर्घटनाएं हुई हैं। इनमें जापान में होने वाले हादसे भी शामिल हैं जहां उनका उपयोग अमेरिकी और जापानी सैन्य अड्डों पर किया जाता है। ओकिनावा के गवर्नर डेनी तमाकी ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा कि वह अमेरिकी सेना से जापान में सभी ‘ऑस्प्रे’ उड़ानों को निलंबित करने के लिए कहेंगे।

Latest World News





Source link

Continue Reading