Connect with us

TRENDING

Stock Market: साल 2022 में शेयर बाजार के निवेशकों की संपत्ति में 16.36 लाख करोड़ रुपये से अधिक का इजाफा

Published

on


Stock Market Updates: इस साल दुनिया के कई अन्य बाजारों की तुलना में भारतीय बाजार का प्रदर्शन बेहतर रहा है.

नई दिल्ली:

Stock Market Updates: साल 2022 भारतीय शेयर बाजार के लिए काफी-उतार चढ़ाव भरा रहा है. साल 2022 के खत्म होने में सिर्फ 1 दिन रह गया है. जिसके बाद नया साल 2023 (New Year 20223) शुरू हो जाएगा. इस साल शेयर बाजारों के निवेशकों की संपत्ति 16.36 लाख करोड़ रुपये से अधिक बढ़ी है, ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि भू-राजनीतिक अनिश्चितताओं और मुद्रास्फीति की चिंताओं के बावजूद शेयर बाजार एक नई ऊंचाई पर पहुंच गया. इसको लेकर विश्लेषकों ने कहा कि बेहतर व्यापक आर्थिक बुनियाद, खुदरा निवेशकों का विश्वास और 2022 के अंतिम महीनों में विदेशी निवेशकों की वापसी के चलते घरेलू इक्विटी में तेजी आई है. इस वजह से दुनिया भर के कई अन्य शेयर बाजारों की तुलना में भारतीय बाजार का प्रदर्शन बेहतर रहा है.

यह भी पढ़ें

साल 2022 के शुरुआती दौर में रूस-यूक्रेन युद्ध से बाजारों को झटका लगा था. रूस ने जब 24 फरवरी को यूक्रेन पर  हमला शुरू किया, तो 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स (Sensex) 2,702.15 अंक या 4.72 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज करते हुए 54,529.91 अंक पर बंद हुआ था. इसके बाद के महीनों में प्रमुख सूचकांक ने एक बार फिर वापसी की और 29 दिसंबर तक 2,880.06 अंक या 4.94 प्रतिशत चढ़ गया.

अमेरिका आधारित हेज फंड हेडोनोवा के सीआईओ सुमन बनर्जी ने कहा, ”बाजार ने भू-राजनीतिक तनाव और तेल की बढ़ती कीमतों के सामने लचीलेपन का प्रदर्शन किया है”. उन्होंने कहा कि 2022 में भारतीय शेयर बाजार ने चुनौतियों और विदेशी निवेशकों की बिकवाली के बावजूद बढ़त दर्ज की है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस साल खुदरा निवेशकों ने भी भारतीय अर्थव्यवस्था में बहुत भरोसा दिखाया. जिसकी वदह से एसआईपी में निवेश 2022 में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है.

आज अंतिम कारोबारी दिन सेंसेक्स 293 अंकों की गिरावट के साथ 60,840 पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी ने बी  85 अंक की कमजोरी के साथ 18,105 के लेवल पर कारोबार का अंत किया है.

Featured Video Of The Day

लालू यादव की बेटी रोहिणी ने कहा – ” मैंने अपना बेटी धर्म निभाया, बाकी अंग भी दान करूंगी”



Source link

TRENDING

तीसरे टी20 में बेंच पर बैठे इस खिलाड़ी को मौका देंगे हार्दिक पांड्या! जानें कैसी होगी प्लेइंग 11

Published

on

By


Image Source : AP
भारतीय क्रिकेट टीम

IND vs NZ: भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज का तीसरा और निर्णायक मुकाबला बुधवार को दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला जाएगा। इस मैच में दोनों टीमों के लिए करो या मरो कि स्थिति है। सीरीज में 1-1 की बराबरी पर चल रही दोनों टीमों के बीच अहमदाबाद में कांटे की टक्कर देखने को मिल सकती है। इस मैच को जीतने वाली टीम सीरीज अपने नाम कर लेगी। ऐसे में भारत के कप्तान इस मैच को किसी भी हाल में जीतना चाहेंगे। हार्दिक की कप्तानी में भारत ने एक भी टी20 सीरीज नहीं गवाई है। हार्दिक इस मैच में टीम इंडिया में कुछ बदलाव कर सकते हैं। ऐसे में तीसरे टी20 मैच में बेंच पर बैठे खिलाड़ियों को मौका दिया जा सकता है। आइए इस मैच से पहले एक नजर भारत की संभावित प्लेइंग 11 पर डाले।

टॉप ऑर्डर में बदलाव

न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए पहले दो टी20 मुकाबले में फेल साबित हुई भारत की टॉप ऑर्डर में हार्दिक कुछ बदलाव कर सकते हैं। वनडे मैचों में अपना लोहा मनवा चुके शुभमन गिल को तीसरे टी20 मुकाबले में टीम से ड्रॉप किया जा सकता है। उनकी जगह बेंच पर बैठे पृथवी शॉ को मौका दिया जा सकता है। हार्दिक को टॉप ऑर्डर को मजबूत करने के लिए यह फैसला लेना ही होगा। वहीं पृथवी के साथ ईशान किशन ओपन करते नजर आएंगे। तीसरे नंबर पर राहुल त्रिपाठी को ही मौका दिया जाएगा। राहुल ने पिछले कुछ मैचों से कुछ खास नहीं किया है, लेकिन कप्तान हार्दिक उन्हें मौका देना चाहेंगे।

ये संभालेंगे मिडिल ऑर्डर

मिडिल ऑर्डर को इस मैच में भी सूर्यकुमार यादव और हार्दिक पांड्या ही संभालेंगे। हार्दिक बल्ले के साथ-साथ गेंद से भी टीम के लिए कमाल कर सकते हैं। इनके अलावा दीपक हुड्डा और वॉशिंगटन सुंदर पांचवें और छठे नंबर पर नजर आएंगे। ये दोनों खिलाड़ी नरेंद्र मोदी स्टेडियम के स्पिन ट्रेक्स पर अपना कमाल दिखा सकते हैं। हालांकि रांची और लखनऊ के पिचों की स्थिति को देखते हुए अहमदाबाद में पिच को थोड़ा कम स्पिन फ्रैंडली बनाया जा सकता है। दीपक हुड्डा को इस मैच में बल्ले से कमाल करने की जरूरत है। उनके फ्लॉप होने के कारण टीम की बल्लेबाजी में गहराई नजर नहीं आ रही है। वॉशिंगटन सुंदर की बात करे तो वह बल्ले और गेंद दोनों से शानदार फॉर्म में हैं।

इनके हाथों में होगी गेंदबाजी की कमान

गेंदबाजों की बात करे तो इस मैच में हार्दिक वहीं गेंदबाजी यूनिट के साथ जाना चाहेंगे जिन गेंदबाजों को उन्होंने पहले दोनों टी20 मैचों में खिलाया था। ऐसे में एक बार फिर से स्पिन यूनिट को कुलचा यानी युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव संभालेंगे। वहीं तेज गेंदबाजों के रूप में शिवम मावी और अर्शदीप सिंह एक बार फिर से एक्शन में नजर आ सकते हैं।

तीसरे टी20 के लिए भारत की संभावित प्लेइंग 11

पृथवी शॉ, ईशान किशन, राहुल त्रिपाठी, सूर्यकुमार यादव, दीपक हुड्डा, हार्दिक पांड्या, वॉशिंगटन सुंदर, शिवम मावी, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, अर्शदीप सिंह

यह भी पढ़े-

Latest Cricket News





Source link

Continue Reading

TRENDING

बजट से पहले IMF का अनुमान, 2023 में तेजी के साथ आगे बढ़ेगी इंडियन इकोनॉमी, चीन और अमेरिका बहुत पीछे

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

कल यानी एक फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भारत सरकार का अगला आम बजट पेश करेंगी। बजट में होने वाले ऐलान को लेकर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। बजट और इकोनॉमिक सर्वे से पहले आईएमएफ ने झटका दिया है। आईएमएफ (IMF) की डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर गीता गोपीनाथ ने रिपोर्ट को ट्वीट करते हुए बताया है कि ग्लोबल इकोनॉमी में इस साल पिछले वर्ष की तुलना में गिरावट देखने को मिल सकती है। भारत के लिए अच्छी बात यह है कि मौजूदा साल में देश की ग्रोथ रेट चीन और अमेरिका से अधिक रहने की उम्मीद है। हालांकि, पिछले साल के मुकाबले ग्रोथ रेट में गिरावट देखने को मिल सकती है।

आईएमएफ ने अपने अनुमान में जताया है, “भारत की ग्रोथ रेट 2022 के 6.8 प्रतिशत से घटकर 6.1 प्रतिशत 2023 में रह सकती है। हालांकि, यह एक बार फिर इसे 2024 में 6.8 प्रतिशत तक जाने की संभावना जताई जा रही है।” वहीं, आईएमएफ के चीफ इकोनॉमिस्ट और रिसर्च डायरेक्टर ने कहा, “चालू वित्त वर्ष के लिए हमने अक्टूबर के अनुमान को बरकरार रखा है। लेकिन मार्च के बाद ग्रोथ रेट में गिरावट देखने को मिल सकती है। वित्त वर्ष 2023 भारत की अर्थव्यवस्था की रफ्तार 6.1 प्रतिशत रह सकती है। ग्रोथ रेट में गिरावट की वजह वैश्विक अस्थिरता है।”

सरकारी कंपनी ने डिविडेंड का किया ऐलान, रिकॉर्ड डेट 10 फरवरी से पहले

अमेरिका और चीन से तेज रहेगी भारत की रफ्तार 

आईएमएफ ने अपने प्रोजेक्शन में कहा है कि साल 2023 के अमेरिकी अर्थव्यवस्था की ग्रोथ रेट 1.4 प्रतिशत, चीन की 5.2 प्रतिशत रह सकती है। जोकि भारत की तुलना में कम है। बता दें, चीन के लिए पिछला साल काफी चुनौती पूर्ण रहा है। जीरो कोविड पॉलिसी ने चीनी अर्थव्यस्था के लिए बुरा साल साबित हुआ था। लेकिन नया वर्ष भारत के पड़ोसी के लिए राहत भरा हो सकता है। 

भारत की सबसे तेज रहेगी ग्रोथ रेट 

जहां चीन कोविड की मार झेल रहा है। तो वहीं, रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध ने अमेरिका और यूरोपिय देशों पर बुरा असर डाला है। संकट के दौर में भी भारत सबसे तेज ग्रोथ रेट दर्ज करेगा। 2023 ही नहीं 2024 में भी भारत की इकोनॉमी चीन,अमेरिका जैसे देशों की तुलना में अधिक तेजी के साथ बढ़ेगी। 



Source link

Continue Reading

TRENDING

IMF ने भारत की वृद्धि दर 2023 में 6.1 फीसदी रहने का अनुमान रखा बरकरार

Published

on

By


IMF ने 2023 के लिए भारत की विकास दर 6.1% रहने का अनुमान जताया

इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) ने साल 2023 में ग्लोबल इकोनॉमी ग्रोथ का अनुमान जारी किया है. आईएमएफ ने भारत की वृद्धि दर 2023 में 6.1 फीसदी रहने के अनुमान को बरकरार रखा है. IMF (अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष) ने भारत के लिए 2023 की इकोनॉमिक ग्रोथ 6.1 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. आईएमएफ के मुताबिक भारत तेजी से वृ​द्धि करने वाली अर्थव्यवस्था बनी रहेगी. 

यह भी पढ़ें





Source link

Continue Reading