Connect with us

Sports

Sanju Samson-Hardik Pandya: संजू सैमसन को इस कारण नहीं मिली टीम में जगह, कप्तान हार्दिक पंड्या ने किया बड़ा खुलासा

Published

on


Image Source : GETTY IMAGES
हार्दिक पंड्या और संजू सैमसन

Sanju Samson-Hardik Pandya: टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज 1-0 से अपने नाम कर ली है। भारतीय टीम ने सीरीज जरूर जीती लेकिन कई बातों पर चर्चा जारी रही, जिसमें से सबसे बड़ा विषय था युवा उमरान मलिक और संजू सैमसन को मौका नहीं मिलना। संजू को लेकर सोशल मीडिया पर लगातार फैंस की गुस्से वाली कई प्रतिक्रियाएं भी देखने को मिल रही हैं। इसी बीच इस दौरे पर टीम के टी20 कप्तान के तौर पर गए हार्दिक पंड्या ने अब चुप्पी तोड़ते हुए बड़ा खुलासा कर दिया है।

दरअसल हर कोई यह जानना चाहता था कि आखिरकार क्यों संजू सैमसन के साथ भेदभाव हो रहा? क्यों उन्हें टीम में जगह नहीं दी जा रही? इन सभी मुद्दों पर न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के बाद हार्दिक पंड्या ने जवाब दिया है। पंड्या ने यह माना है कि, संजू की जगह होना इस वक्त काफी मुश्किल है और वह उनकी जगह खुद को रखकर सोच भी सकते हैं। लेकिन कई कारणों की वजह से दुर्भाग्यवश उन्हें जगह नहीं मिल पाई। साथ ही उमरान मलिक को लेकर भी पंड्या ने बातें कहीं हैं।

हार्दिक पंड्या ने बताए कारण

हार्दिक पंड्या ने संजू सैमसन और उमरान मलिक को जगह नहीं देने के सवाल पर कहा कि,’अभी बहुत समय बाकी है और हर किसी को पर्याप्त मौके मिलेंगे। अगर यह सीरीज बड़ी होती या तीनों मैच भी होते तो शायद उन खिलाड़ियों को आप टीम में देख सकते थे। लेकिन मैं छोटी सीरीज में ज्यादा बदलाव करने में विश्वास नहीं रखता। आगे भी मेरी सोच इस विषय में ऐसी ही रहेगी। हालांकि, किसी भी खिलाड़ी के लिए लगातार बेंच पर रहना मुश्किल रहता है लेकिन विश्वास मानिए इसमें कुछ भी व्यक्तिगत नहीं रहता है और यह सिर्फ टीम कॉम्बिनेशन पर ही निर्भर करता है।’

पंड्या ने आगे कहा कि,”मैं हमेशा इस मामले में या खुद कोच भी खिलाड़ियों को जवाब देने के लिए तैयार रहते हैं। अगर किसी को कुछ भी गलत लगता है तो वो खुद मुझसे आगे बात कर सकते हैं। मैं उनकी फीलिंग्स को समझ सकता हूं। संजू सैमसन का मुद्दा दुर्भाग्यशाली है। हम उन्हें खिलाना चाहते थे लेकिन कुछ स्ट्रैटिजिक कारणों से वह नहीं खेल पाए. मैं समझ सकता हूं अगर उनकी जगह कोई भी होगा तो यह आसान नहीं होता है बेंच पर बैठना। लेकिन ऐसा करना पड़ता है और मैं उनसे हमेशा इस पर बात करने को तैयार भी रहता हूं। अगर उन्हें बुरा लगता है तो वह मुझसे बात कर सकते हैं या फिर कोच से। लेकिन अगर आगे भी मैं कप्तान रहा तो इस मामले में मेरी यही सोच रहेगी।”

गौरतलब है कि संजू सैमसन ने 2014 में भारत के लिए टी20 डेब्यू किया था लेकिन अभी तक वह सिर्प 16 टी20 इंटरनेशनल ही खेल पाए हैं। इस साल भी उनका प्रदर्शन अच्छा रहा है। आईपीएल में उन्होंने अपनी टीम राजस्थान रॉयल्स को अपनी कप्तानी में रनर अप भी बनाया। उनके नाम टी20 क्रिकेट में साढ़े पांच हजार से ज्यादा रन दर्ज हैं। केएल राहुल, ईशान किशन, ऋषभ पंत सभी ने उनके बाद इंटरनेशनल डेब्यू किया लेकिन फिर भी सभी के आंकड़े आप नीचे लिंक में देख सकते हैं। लेकिन सैमसन के लिए फिर वही सवाल उठता है कि आखिर उनके साथ ही ऐसा भेदभाव क्यों?

यह भी पढ़ें:-

Latest Cricket News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Cricket News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Sports

पूर्व ओपनर ने कहा- ऋषभ पंत को मिल रहे मौके का फायदा नहीं उठा रहे हैं, इससे मैं बहुत निराश हूं

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

ऋषभ पंत सीमित ओवरों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं और इससे उनकी आलोचना हो रही है। टेस्ट क्रिकेट में वे सफल नजर आते हैं, लेकिन लिमिटेड ओवर्स की क्रिकेट में वे सभी को निराश कर रहे हैं। एक बिग हिटर के रूप में उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा था, लेकिन काफी मौके मिलने के बावजूद उन्होंने सभी को निराश किया है। फिर भी भारतीय टीम प्रबंधन उन्हें सपोक्ट कर रहा है। वहीं, पूर्व ओपनर क्रिस श्रीकांत का कहना है कि वह मौकों को भुना नहीं पा रहे हैं, जिससे मैं निराश हूं। 

हालांकि, T20I में उनके स्कोर पर एक नजर डालने से पता चलता है कि वह मौकों को भुनाने में नाकाम रहे हैं। भारत के लिए सबसे छोटे प्रारूप में अपनी पिछली 10 पारियों में पंत ने केवल एक बार 40 रन बनाए हैं। एकदिवसीय मैचों में उनकी पिछली 10 पारियों में एक शतक और तीन अर्धशतक जरूर हैं, लेकिन ओवरऑल रिकॉर्ड उतना अच्छा नहीं है। यह देखते हुए कि संजू सैमसन जैसा खिलाड़ी बेंच पर है। ऐसे में ऋषभ पंत की असफलताएं अधिक स्पष्ट दिखाई देती हैं।

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और विश्व कप विजेता श्रीकांत का मानना है कि पंत को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने से ब्रेक देने का समय आ गया है, लेकिन जिस तरह से उनका समर्थन टीम मैनेजमेंट किया है। उसके लिए उन्होंने टीम प्रबंधन की भी आलोचना की है। अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, “हो सकता है कि आप उसे (पंत) एक ब्रेक दे सकते हैं और उससे कह सकते हैं कि ‘थोड़ा इंतजार करो, भारत में आओ और घरेलू क्रिकेट खेलो’, उन्होंने उसे अच्छी तरह से हैंडल नहीं किया है।’ क्या आप उसे ब्रेक देने से पहले कुछ मैचों का इंतजार करेंगे या एक या दो गेम के बाद उसे हटा देंगे?” 

उन्होंने आगे कहा, “हां, ऋषभ पंत मिल रहे मौके का फायदा नहीं उठा रहे हैं। मैं बहुत निराश हूं।” श्रीकांत का सुझाव है कि पंत को अपने खेल को फिर से शुरू करने की जरूरत है और उन्हें मैदान पर कुछ समय बिताना चाहिए। श्रीकांत ने कहा, “आप इन अवसरों को खराब कर रहे हैं। यदि आप ऐसे मैचों में तोड़-फोड़ करते हैं, तो यह अच्छा होगा, क्योंकि विश्व कप आ रहा है। पहले से ही बहुत से लोग कह रहे हैं कि पंत रन नहीं बना रहे हैं इसलिए यह आग में घी डालेगा। वह खुद पर दबाव बना रहे हैं। उन्हें खुद को रीइनवेंट करने की जरूरत है। उसे कुछ सही करना है। क्रीज पर टिकना है, क्योंकि वह हर समय अपना विकेट फेंक रहा है।”   



Source link

Continue Reading

Sports

FIFA World Cup में मोरक्को से मिली हार के बाद नाराज हुए बेल्जियम के फैंस, कई इलाकों में भाड़की हिंसा; देखें Video

Published

on

By


Image Source : GETTY IMAGES, TWITTER
बेल्जियम की हार के बाद हुई हिंसा

FIFA World Cup 2022: कतर में फीफा वर्ल्ड कप में मोरक्को से मिली 2-0 की शर्मनाक हार के बाद बेल्जियम और नीदरलैंड के कई शहरों में दंगे भड़क उठे। बेल्जियम को मिली हार के बाद उनके लिए टूर्नामेंट से बाहर होने का खतरा और भी बड़ गया है। बेल्जियम को ग्रुप स्टेज में अपना अंतिम मैच 2018 वर्ल्ड कप की उपविजेता टीम क्रोएशिया से खेलना है। टूर्नामेंट के अगले राउंड में जाने के लिए बेल्जियम को किसी भी कीमत पर यह मैच जीतना होगा, जोकी उनके लिए आसान नहीं होगा। फैंस मोरक्को की जीत के बाद गुस्से में आ गए और सार्वजनिक स्थानों और सड़कों पर जमकर तोड़-पोड़ कर दिया।

ब्रसेल्स में भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछारें और आंसू गैस के गोले छोड़े जाने के बाद पुलिस ने करीब एक दर्जन लोगों को हिरासत में लिया। दर्जनों दंगाइयों ने कारों को पलट दिया और आग लगा दी, इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लगा दी और ईंटों से कारों पर पथराव किया। ब्रसेल्स की पुलिस प्रवक्ता इलसे वान डी कीरे ने कहा कि एक व्यक्ति के चेहरे पर चोट लगने के बाद पुलिस हरकत में आई। ब्रसेल्स के मेयर फिलिप क्लोज ने लोगों से शहर के केंद्र से दूर रहने का आग्रह किया और कहा है कि अधिकारी सड़कों पर व्यवस्था बनाए रखने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। यहां तक ​​कि पुलिस के आदेश पर मेट्रो और ट्राम यातायात भी बाधित कर दी गई है। उन्होंने कहा कि“वे प्रशंसक नहीं हैं, वे दंगाई हैं। ”

एंटवर्प और लीज शहर में भी गड़बड़ी हुई। आंतरिक मंत्री एनेलिस वर्लिंडन ने कहा कि, “यह देखकर दुख होता है कि कैसे कुछ लोग स्थिति का दुरुपयोग कर आपा खो देते हैं।” पड़ोस के देश नीदरलैंड में पुलिस ने कहा कि रॉटरडैम के बंदरगाह शहर में हिंसा भड़क उठी, अधिकारियों ने दंगा रोकने के लिए आतिशबाजी और कांच के साथ पुलिस पर पथराव करने वाले 500 फुटबॉल समर्थकों के एक ग्रुप को तोड़ने का प्रयास किया। मीडिया ने राजधानी एम्स्टर्डम और हेग में अशांति की सूचना दी। मोरक्को की जीत वर्ल्ड कप में एक बड़ी उलटफेर थी और कई बेल्जियम और डच शहरों में मोरक्को के अप्रवासी मूल के फैंस ने टीम की जीत को उत्साहपूर्वक मनाया।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Other Sports News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

Sports

हवा में जंप और सिर से करारा प्रहार, सिर्फ 68 सेकंड में दाग दिया सबसे तेज गोल

Published

on

By


रेयान (कतर): लियोनेल मेसी, क्रिस्टियानो रोनाल्डो और रॉबर्ट लेवांडोव्स्की जैसे धाकड़ फुटबॉलरों का जलवा तो देख ही लिया होगा आपने, लेकिन ये खिलाड़ी जो काम नहीं कर सके उसे अलफोंसो डेविस ने कर दिखाया। बायर्न म्यूनिख के स्टार खिलाड़ी ने फीफा वर्ल्ड कप 2022 का सबसे तेज गोल दागा। उन्होंने मैदान पर उतरने के सिर्फ 68वें सेकंड में ही हेड किक से गेंद को जाल में उलझा दिया। हालांकि, उनकी टीम को करारी हार झेलनी पड़ी, क्योंकि विपक्षी टीम क्रोएशिया ने इसके बाद बैक टू बैक 4 गोल दागे।

क्रोएशिया की दमदार वापसी, आंद्रेज क्रैमारिच ने दागे 2 गोल
क्रोएशिया ने मजबूत वापसी करते हुए आंद्रेज क्रैमारिच के दो गोल की मदद से फीफा विश्व कप मैच में कनाडा को 4-1 से हराकर बाहर कर दिया। कनाडा की टीम 36 साल में पहली बार विश्व कप में खेल रही थी लेकिन कतर में दो मैचों के बाहर ही टूर्नामेंट से बाहर हो गई। अलफोंसो डेविस ने दूसरे ही मिनट में कनाडा के लिए विश्व कप का पहला गोल दागा और अपनी टीम को बढ़त दिलाई।

शुरुआती मैच में मोरक्को से गोलरहित ड्रॉ खेलने वाली क्रोएशिया ने वापसी कर चार गोल दाग दिए। रूस में 2018 विश्व कप की उप विजेता रही क्रोएशिया के लिए खलीफा अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में क्रैमारिच (36वें और 70वें मिनट) के अलावा मार्को लिवाजा (44वें मिनट) और लोवरो माएर (90+4वें मिनट) ने भी गोल किए। कप्तान लुका मौद्रिच (37 वर्ष) टूर्नामेंट में अपने पहले गोल की तलाश में थे लेकिन सफल नहीं हुए।

यह संभवत: उनका अंतिम विश्व कप है। क्रोएशिया और बेल्जियम को 2-0 से हराकर उलटफेर करने वाली मोरक्को के ग्रुप एफ में चार चार अंक हैं। बेल्जियम के तीन अंक हैं और उसके पास अब भी अगले दौर में पहुंचने का मौका है। कनाडा को पहले दो मैचों में कोई अंक नहीं मिला और गुरुवार को मोरक्को के खिलाफ मुकाबले में जीत भी उसे अगले दौर में नहीं पहुंचा पाएगी। क्रोएशिया का सामना बेल्जियम से होगा। कनाडा इससे पहले 1986 में विश्व कप में पहुंची थी और तब भी ग्रुप चरण में ही बाहर हो गई थी।
Fifa: मोरक्को का गोलकीपर मैच से ठीक पहले रहस्यमयी तरीके से गायब, वर्ल्ड कप में मच गया हंगामाMessi World Cup: वाह मेसी वाह! झन्नाटेदार किक को रोकने में औंधे मुंह गिरा गोलकीपर, 7 प्लेयर्स को चीरते हुए जाल में समाई गेंदFifa World Cup: वाह रोनाल्डो… इतिहास रच दिया, 5 वर्ल्ड कप में गोल मारने वाले दुनिया के पहले आदमी



Source link

Continue Reading