Connect with us

TRENDING

Russia News: पुतिन के इस आदेश के बाद रूस में मची भगदड़, देश छोड़ रहे युवाओं ने कहा-‘बेमतलब की जंग में नहीं मरना चाहते‘, जानें पूरा मामला

Published

on


Image Source : PTI
Vladimar Putin, Russia President

Russia News: रूस और यूक्रेन की जंग के बीच रूसी नागरिक अब जंग से परेशान हो गए हैं। जहां पुतिन अब यूक्रेन पर ‘बड़ा‘ हमला करने की सोच रहे हैं, वहीं रूस की जनता अब परेशान हैं। खासतौर पर अपने सैनिकों की संख्या बढ़ाने के लिए युवाओं की बड़ी संख्या में भर्ती का आदेश दिया है, तब से युवाओं में काफी हड़कंप है। दरअसल, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने आदेश दिया है कि युवाओं को सेना में मिलिट्री सेवा देने के लिए इकट्ठा किया जाए। इसके विरोध में कई युवाओं ने देश छोड़ दिया है। वहां युवाओं के बीच भगदड़ मच गई है।

यक्रेन से रूस की जंग के बीच रूस में माहौल अफरातफरी का है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यहां कई युवा बिना कोई सामान लिए अलग अलग जगहों पर भाग गए हैं।  इन्हीं में से एक युवा दमित्री अरमेनिया पुहंचे। वह महज एक छोटा सा बैग लेकर पत्नी और बच्चों को छोड़कर यहां भाग आए। यह युवा यूक्रेन से जंग नहीं लड़ना चाहते। दमित्री ने कहा- ‘मैं जंग के लिए नहीं जाना चाहता, मैं इस अर्थहीन युद्ध में मरना नहीं चाहता। यह भाई का कत्ल करने जैसा है।‘

रूस में आखिर क्यों है अफरातफरी का माहौल?

दरअसल, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने आदेश दिया है कि युवाओं को सेना में मिलिट्री सेवा देने के लिए इकट्ठा किया जाए। इसके विरोध में कई युवाओं ने देश छोड़ दिया है। युवाओं की भगदड़ के बीच एक 44 वर्षीय युवक सर्गेई अपने बेटे के साथ्ज्ञ आए हैं। उन्होंने कहा कि आज रूस की परिस्थिति बड़ी विकट हो गई है। इस वजह से हर व्यक्ति वहां से निकलना चाह रहा है। अरमेनिया एयरपोर्ट पर सर्गेई बदहवास स्थिति में थे। वे इतने डरे हुए थे कि उन्होंने रूस में भगदड़ वाली बात की पुष्टि जरूर की, लेकिन अपना पूरा नाम बताने से मना कर दिया। 

सर्गेई के बेटे 17 वर्षीय निकोलई ने कहा कि हमने सरकारी आदेश का इंतजार नहीं किया। उन्होंने कहा कि मैं डार हुआ नहीं हूं, लेकिन मुझे अनिश्चितता दिखाई दे रही है। इस जंग का क्या और कब अंत होगा, नहीं पता। और अब तो बड़ी संख्या में देश के युवाओं की सैनिकों में भर्ती के आदेश से युवाओं में अजीब सी हताशा है। येरेवान की एक ही फ्लाइट में पहुंचे कई रूसी नागरिकों का करीब-करीब यही कहना था। 39 साल के एलेक्सेई ने कहा कि 21वीं सदी में जंग बेतुकी बात है। उन्होंने कहा कि अब वे शायद ही कभी रूस लौट सकें। यह सब परिस्थितियों पर निर्भर करेगा।

येरवान बना रूसी युवाओं के लिए अहम पनाहगार

इस साल फरवरी माह से छिड़ी यूक्रेन और रूस की जंग के बाद रूस छोड़ने वालों के लिए येरवान एक अहम पनाहगार बन गया है। अरमेनिया एडमिनिस्ट्रेशन का इस बारे में कहना है कि तब से लेकर अब तक 40 हजार रूसी नागरिक उनके देश में आ चुके हैं। इसके अलावा करीब 50 हजार रूसी नागरिक जॉर्जिया जैसे पड़ोसी देशों में चले गए हैं। ह

युवाओं के भागने की खबरें झूठीं. सरकार

जहां एक ओर रूसी लोग पड़ोसी देशों की ओर रूख कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर रूसी सरकार का कहना है जंग से बचने युवाओं के देश छोड़ने की खबरें झूठी और भ्रामक हैं। सरकारी प्रवक्ता डिमित्री पेस्कोव ने कहा कि इस बारे में कई गलत जानकारियां सामने आ रही हैं। 

पीएम मोदी ने भी पुतिन को कही यही बात कि ‘जंग ठीक नहीं‘ 

उज्बेकिस्तान के समरकंद में हाल ही में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन ‘एससीओ‘ के इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बातचीत की थी। इस दौरान पीएम मोदी ने पुतिन से कहा था कि आधुनिक दौर युद्ध का युग नहीं है।‘

Latest World News





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

TRENDING

भारत जोड़ो यात्रा में हिस्सा लेने मैसूर पहुंची सोनिया गांधी, 6 अक्टूबर को होंगी शामिल

Published

on

By


Image Source : FILE
Sonia Gandhi

Highlights

  • इन दिनों यात्रा कर्नाटक में है
  • यात्रा का समापन अगले साल की शुरुआत में कश्मीर में होगा
  • इस यात्रा में कुल 3570 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी

Bharat Jodo Yatra: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सोमवार को कर्नाटक के मैसूरु पहुंच गईं। वह आगामी छह अक्टूबर को ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल होंगी। पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने नयी दिल्ली में संवाददाताओं को बताया कि सोनिया गांधी बृहस्पतिवार को यात्रा में शामिल होंगी। 

भारत जोड़ो यात्रा के बारे बात करते हुए उन्होंने कहा कि, “दशहरे के कारण चार और पांच अक्टूबर को यात्रा को विश्राम दिया जाएगा और फिर छह अक्टूबर की सुबह यात्रा प्रारंभ होगी। लंबे समय बाद सोनिया गांधी पार्टी के किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में भाग लेंगी। स्वास्थ्य कारणों के चलते वह पिछले कुछ चुनावों में प्रचार भी नहीं कर सकी हैं।”

राहुल गांधी और कांग्रेस के कई अन्य नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने गत सात सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की शुरुआत की थी। इन दिनों यात्रा कर्नाटक में है। यात्रा का समापन अगले साल की शुरुआत में कश्मीर में होगा। इस यात्रा में कुल 3570 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी।

Bharat Jodo Yatra

Image Source : PTI

Bharat Jodo Yatra

कर्नाटक में राहुल ने मंदिर में किए दर्शन

कर्नाटक में यात्रा के तीसरे दिन रविवार को राहुल गांधी ने नंजनगुड स्थित प्रसिद्ध प्राचीन श्रीकांतेश्वर स्वामी मंदिर में दर्शन किए। इस दौरान उनके साथ पार्टी के अन्य कार्यकर्ता भी मौजूद रहे। इससे पहले राहुल गांधी ने महात्मा गांधी(Mahatma Gandhi) की जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने यहां खादी ग्रामोद्योग केंद्र का दौरा किया। आपको बता दें कि सन 1927 और 1932 में महात्मा गांधी ने भी दौरा किया था।

काले झंडे दिखाने की योजना बना रही भाजपा

कर्नाटक में कांग्रेस ने रविवार को आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी अपने (भाजपा के) कार्यकर्ताओं को काले झंडे बांट रही है, जिन्हें शहर में विपक्षी दल की भारत जोड़ो यात्रा के पहुंचने पर राहुल गांधी को दिखाये जाने की योजना है। यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुए, कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष डी के शिवकुमार ने कहा, ‘‘मुझे पता चला है कि भाजपा नेताओं ने मैसुरु में सभी जगह काले झंडे बांटे हैं। मैं पुलिस आयुक्त से बात करूंगा। काले झंडे दिखाना, पत्थर और अंडे फेंकना हमें डराएगा नहीं, उन्हें जो करना है करने दीजिए। मैं उन्हें भविष्य में परिणाम दूंगा।’’ कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री प्रियांक खड़गे ने दावा किया कि राज्य में राहुल गांधी के नेतृत्व वाली ‘भारत जोड़ो यात्रा’ को मिल रही प्रतिक्रिया से भाजपा ‘चिंतित’ है।

Bharat Jodo Yatra

Image Source : PTI

Bharat Jodo Yatra

Latest India News





Source link

Continue Reading

TRENDING

छह राज्यों की 7 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा, 3 नवंबर को चुनाव और 6 को आएगा रिजल्ट

Published

on

By


Image Source : FILE
ByElections

Highlights

  • उपचुनाव में होगा ईवीएम और वीवीपैट का उपयोग
  • तारीखों के एलान के साथ लागू हुई आदर्श आचार संहिता
  • कोविड-19 को लेकर दिशा निर्देशों का करना होगा पालन

ByElections: भारतीय चुनाव आयोग ने सोमवार को 6 राज्यों की 7 विधानसभाओं की सीटों पर उपचुनाव की घोषणा कर दी है। चुनाव आयोग के अनुसार छह राज्यों की सात विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव 3 नवंबर को होंगे। परिणाम 6 नवंबर को घोषित किए जाएंगे।

चुनाव आयोग के नोटिफिकेशन के अनुसार, छह राज्यों की जिन सात सीटों पर विधानसभा के चुनाव होने हैं। वो महाराष्ट्र में अंधेरी पूर्व, बिहार में मोकामा और गोपालगंज विधानसभा सीट हैं। इसके साथ ही हरियाणा में उदमपुर और तेलंगाना में मुनुगोड विधानसभा सीट पर उपचुनाव की घोषणा हुई है। वहीं, चुनाव आयोग द्वारा उत्तर प्रदेश में गोला गोकरनाथ और ओडिशा में धामनगर सीट में उपचुनाव का ऐलान किया गया है।

14 अक्टूबर को किया जा सकेगा नामांकन 

आयोग के नोटिफिकेशन के अनुसार, इन विधानसभा उपचुनाव की अधिसूचना की तारीख सात अक्टूबर को जारी की जायेगी। यहां नामांकन की तारीख 14 अक्टूबर है। 17 अक्टूबर को नामांकन वापस लेने की तारीख है। सभी सातों विधानसभाओ की सीटों पर 3 नवंबर को मतदान होंगे और छह नवंबर को मतगणना के बाद उपचुनाव के परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। 

उपचुनाव में होगा ईवीएम और वीवीपैट का उपयोग

चुनाव आयोग के मुताबिक उपचुनाव 1 जनवरी 2022 को तैयार मतदाता सूची के आधार पर कराया जाएगा। इसके अलावा उपचुनाव में EVM और वीवीपैट का उपयोग होगा। मतदाता उपचुनाव में वोटर आईडी के अलावा 12 अन्य वैकल्पिक पहचान पत्रों का उपयोग कर सकेंगे। जिसमें आधार कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट समेत अन्य दस्तावेज शामिल है।

तारीखों के ऐलान के साथ लागू हुई आदर्श आचार संहिता 

चुनाव आयोग द्वारा अधिसूचना के साथ ही इन क्षेत्रों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गया है। जिसके तहत इन निर्वाचन क्षेत्रों में सभी राजनीतिक दलों और सरकार को आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा।

कोविड-19 को लेकर दिशा निर्देशों का करना होगा पालन

उपचुनाव में कोविड-19 को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय और आपदा प्रबंधन प्राधिकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन करना होगा। इसे लेकर सभी निर्वाचन पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किया गया है।

Latest India News





Source link

Continue Reading

TRENDING

लोग नहीं खरीद रहे अब इस कंपनी की कार, 6 महीने में कंपनी खुद 3 मॉडल करने वाली है बंद

Published

on

By


होंडा कार्स ने सितंबर सेल्स का डेटा जारी कर दिया है। कंपनी ने पिछले महीने 8,714 गाड़ियां बेचीं। उसे ईयरली बेसिस पर 28.81% की ग्रोथ मिली। सितंबर 2021 में उसने 6,765 कार बेची थीं। इस तरह उसने पिछले महीने 1,949 यूनिट्स ज्यादा बेचीं। हालांकि, इस आंकड़े को जब 2022 के तीसरे क्वार्टर (Q3) में देखा जाता है, तो कंपनी को 3.04% की डिग्रोथ का सामना करना पड़ा है। वैसे, पिछले कुछ महीनों से होंडा कार्स के लिए सेल्स के आंकड़े बेहत नहीं आ रहे हैं। होंडा अमेज और सिटी को छोड़कर कंपनी के दूसरे मॉडल की सेल्स में भारी गिरावट देखी गई है। होंडा कार्स अपने डीजल मॉडल को बंद करने की बात भी कह चुकी है।

होंडा सिटी, जैज और WRV को बंद करेगी

होंडा कार्स इंडिया इस फाइनेंशियल ईयर के आखिर तक यानी मार्च 2023 तक अपनी 3 कारों को बंद कर देगी। ये कार 4th जनरेशन सिटी सेडान, जैज हैचबैक और WRV क्रॉसओवर हैं। इनमें से भी जैज को सबसे पहले बंद किया जाएगा। होंडा जैज का प्रोडक्शन अक्टूबर 2022 में बंद हो जाएगा। उसके बाद, होंडा दिसंबर 2022 में 4th जनरेशन सिटी सेडान का प्रोडक्शन और आखिर में मार्च 2023 में WRV क्रॉसओवर का प्रोडक्शन बंद कर देगी। इसका मतलब है कि मार्च 2023 के बाद होंडा कार्स इंडिया केवल भारत में 5th जनरेशन सिटी, सिटी हाइब्रिड और अमेज सेडान ही बेचेगी।

फेस्टिवल सीजन में इस कंपनी ने ग्राहकों को दिया झटका, सबसे ज्यादा डिमांड वाली कार को महंगा किया

ऑल्टो, स्विफ्ट से सेलेरियो, वैगनआर तक; दीवाली से पहले खरीद लो मारुति ये 9 मॉडल, फिर हो जाएंगे बजट से बाहर

अमेज और सिटी कंपनी की ताकत

होंडा जल्द ही भारतीय बाजार में अपनी SUV उतारने वाली है। माना जा रहा है कि इसका सीधा मुकाबला हुंडई क्रेटा, किआ सेल्टॉस, स्कोडा कुशाक और फॉक्सवैगन टाइगुन जैसी कॉम्पैक्ट C-सेगमेंट SUVs से होगा। इनता ही नहीं, मारुति ग्रैंड विटारा और टोयोटा हाईराइडर से भी इसका मुकाबला होगा। इस समय होंडा के लिए रीढ की हड्डी होंडा अमेज और सिटी है। होंडा के कुल मार्केट शेयर में इनका क्रमशः 50% और 30% योगदान है। वहीं, WR-V 12% और जैज 8% योगदान देती है। होंडा के पास कोई SUV नहीं है, जिसके चलते भी कंपनी को नुकसान हो रहा है। भारत में कुल कार बिक्री में SUV का 32% योगदान है। होंडा के मुताबिक, ये आंकड़ा बढ़कर 40% होने की उम्मीद है।



Source link

Continue Reading