Connect with us

Sports

Pele Death: अपने पीछे बेशुमार दौलत छोड़ गए पेले, कभी फुटबॉल खरीदने के भी नहीं थे पैसे

Published

on


नई दिल्ली: एडसन अरांतेस डो नैसिमेंटो, जिन्हें दुनिया पेले के नाम से जानती है उनका 82 साल की उम्र में निधन हो गया। फुटबॉल जगत में ब्लैक पर्ल और किंग ऑफ फुटबॉल के नाम से मशहूर पेले ने 29 दिसंबर को अस्पताल में अंतिम सांस ली। पेले लंबे से पेट के कैंसर से पीड़ित थे। गुरुवार को उन्हें सांस लेने में तकलीफ हुई थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पेले के निधन की जानकारी उनकी बेटी ने केली नैसिमेंटो इंस्टाग्राम पर दी। इस खबर के साथ ही पूरा खेल जगत गम में डूब गया। ब्राजील के एक छोटे से इलाके से आए पेले ने सिर्फ 17 साल की उम्र में फुटबॉल की दुनिया में सनसनी मचा दी थी। इसके बाद तो उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और फुटबॉल की परिभाषा ही बदल कर रख दी थी।

पेले का जन्म 23 अक्टूबर 1940 में एक बेहद ही गरीब परिवार में हुआ था। बचपन में उनके पास खेलने के लिए फुटबॉल तक नहीं था लेकिन इस खेल के प्रति उनको इतना लगाव था कि वह कागज का गोला बनाकर खेला करते थे। फुटबॉल के प्रति उनका इसी जुनून उन्हें एक महान खिलाड़ी बनाया। इस खेल में पेले ने कई ऐसे बड़े रिकॉर्ड बना दिए जो आज तक नहीं टूट सका।

100 मिलियन डॉलर से अधिक का है नेट वर्थ

गरीबी और मुफलिसी में अपनी शुरुआत करने वाले पेले की हालात ऐसी थी कि उनके पास फुटबॉल खरीदने के पैसे नहीं थे। हालांकि इसी खेल से वह अपने समय में सबसे अधिक कमाई करने वाले फुटबॉलर भी बने। द सन के रिपोर्ट के मुताबिक महान फुटबॉलर अपने पीछे करीब 100 मिलियन डॉलर से भी अधिक की संपत्ति छोड़ कर गए। फुटबॉल के मैदान पर अपने विरोधियों की सांस फुलाने वाले पेले 29 नवंबर को कैंसर जैसी घातक बीमारी से हार गए।

1958 में हुआ इंटरनेशनल करियर का आगाज

पेले ने अपने इंटरनेशनल फुटबॉल की शुरुआत साल 1958 में की थी। उन्होंने 17 साल और 239 दिन की उम्र में अपने करियर का पहला गोल दागा। पेले ने 1958 वर्ल्ड कप में वेल्स के खिलाफ क्वार्टर फाइनल मैच में अपना पहला गोल दागा था। इस तरह वह इस टूर्नामेंट में गोल दागने वाले सबसे कम उम्र के फुटबॉलर भी बन गए थे। अपने पहले ही विश्व कप में सेमीफाइनल में उन्होंने हैट्रिक गोल दागकर सनसनी मचा दी थी। पेले का यह हैट्रिक गोल फ्रांस के खिलाफ आया था।

अपने पहले ही विश्व कप में धमाल मचाने वाले पेले का जादू लगातार जारी रहा। 1958 के बाद पेले 1962 में खेले गए विश्व कप में भी ब्राजील की टीम का हिस्सा रहे। इस साल भी ब्राजील ने अपने खिताब का बचाव कर लिया और टीम लगातार दूसरी बार चैंपियन बनी। इसके बाद पेले 1970 के विश्व कप के विजेता टीम हिस्सा रहे थे। इस तरह वो दुनिया के पहले ऐसे खिलाड़ी बने जो तीन विश्व कप जीतने वाली टीम का सदस्य रहे थे।

अपने करियर में पेले ने कुल 95 इंटरनेशनल मैच खेले जिसमें उन्होंने 77 गोल दागे। हालांकि हाल ही में समाप्त हुए कतर फीफा विश्व कप के दौरान ब्राजील के ही नेमार उनके रिकॉर्ड की बराबरी कर ली थी।

महान का पेले का फुटबॉल करियर

  1. फीफा विश्व कप में गोल दागने वाले पेले दुनिया के सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बने थे।
  2. 1958 फीफा वर्ल्ड कप में सूडान के खिलाफ विश्व कप फाइनल में उन्होंने दो गोल दागे थे।
  3. ब्राजील को तीन विश्वकप जिताने वाले इकलौते खिलाड़ी हैं पेले। 1958, 1962 और 1970 में ब्राजील को विश्व कप जिताया था
  4. अपने पूरे फुटबॉल करियर में पेले ने 1363 मैच खेला जिसमें उन्होंने कुल 1281 गोल दागे।
  5. ब्राजील के लिए पेले ने 92 मैच में 77 गोल किए।
  6. साल 1971 में पेले ने इंटरनेशनल करियर को कहा था अलविदा

Pele Passes Away: सही मायने में फुटबॉल के जादूगर थे पेले, ब्राजील को ज‍िताए थे रेकॉर्ड तीन विश्वकप
जब कोलकाता में चला था ‘ब्लैक पर्ल’ पेले का जादू, भारत के इस खिलाड़ी ने नहीं करने दिया गोल तो लगा लिया था गले
Pele Passes Away: ब्राजील के महान फुटबॉलर पेले का निधन, पिछले महीने से अस्पताल में थे भर्ती



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Sports

Harmanpreet Kaur Interview: जिस ब्रांड के जूते खरीदने को नहीं थे पैसे, बनीं उसकी एम्बेसडर

Published

on

By


नित्यानंद पाठक | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 31 Jan 2023, 8:08 am

Embed

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने नवभारत टाइम्स ऑनलाइन से खास बातचीत में बताया कि एक वक्त था कि उनके पास Puma के जूते खरीदने के पैसे नहीं थे। अब वह इस इंटरनेशनल ब्रांड की एम्बेसडर हैं।



Source link

Continue Reading

Sports

IND vs NZ 3rd T20I: दोनों टीमों के लिए करो या मरो का मुकाबला, यहां जानें कैसे देख सकेंगे Live मैच

Published

on

By


Image Source : AP
IND vs NZ 3rd T20I Live Streaming

IND vs NZ: भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीन मैचों की सीरीज का तीसरा और निर्णायक मैच अहमदाबाद में खेला जाएगा। पहले मैच में न्यूजीलैंड और दूसरे मैच में भारत को मिली जीत के बाद सीरीज 1-1 की बराबरी पर है। जो भी टीम यह मैच जीत जाती वह सीरीज अपने नाम कर लेगी। भारत ने हार्दिक पांड्या की कप्तानी में अभी तक एक भी सीरीज नहीं हारी है। ऐसे में हार्दिक अपने इस रिकॉर्ड को बरकरार रकना चाहेंगे। इस मैच से पहले आइए एक नजर लाइव स्ट्रीमिंग डिटेल पर डाले।

  • भारत बनाम न्यूजीलैंड तीसरा टी20 अंतरराष्ट्रीय कब खेला जाएगा?

भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीसरा टी20 मैच 1 फरवरी, बुधवार को खेला जाएगा।

  • भारत बनाम न्यूजीलैंड तीसरा टी20 अंतरराष्ट्रीय कहां खेला जाएगा?

भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीसरा टी20 मैच दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला जाएगा।

  • भारत बनाम न्यूजीलैंड तीसरा टी20 अंतरराष्ट्रीय कब शुरू होगा?

भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीसरा टी20 शाम 7:00 बजे (IST) शुरू होगा। जबकि मैच का टॉस आधे धंटे पहले शाम 6:30 बजे (IST) होगा।

  • भारत बनाम न्यूजीलैंड तीसरा टी20 मैत की लाइव स्ट्रीमिंग टीवी पर कहां देख सकते हैं?

भारत बनाम न्यूजीलैंड मैच के बीच तीसरे टी20 मैच की लाइव स्ट्रीमिंग स्टार स्पोर्ट्स नेटवर्क पर उपलब्ध होगी। आप स्टार स्पोर्ट्स के अलग-अलग चैनल पर इस मैच को देख सकते हैं।

  • भारत बनाम न्यूजीलैंड तीसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय की लाइव स्ट्रीमिंग ऑनलाइन कहां देख सकते हैं?

भारत बनाम न्यूजीलैंड मैच के बीच तीसरे टी20 मैच की लाइव स्ट्रीमिंग Disney+ Hotstar ऐप पर उपलब्ध होगी। इसके लिए आपके पास पेड सब्सक्रिप्शन होना चाहिए।

दोनों टीमों के स्क्वॉड

भारत: हार्दिक पांड्या (कप्तान), सूर्यकुमार यादव (उप-कप्तान), ईशान किशन, शुभमन गिल, दीपक हुडा, राहुल त्रिपाठी, जितेश शर्मा, वॉशिंगटन सुंदर, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, अर्शदीप सिंह, उमरान मलिक, शिवम मावी, पृथ्वी शॉ और मुकेश कुमार।

न्यूजीलैंड: मिचेल सैंटनर (कप्तान), फिन एलन, माइकल ब्रेसवेल, मार्क चैपमैन, डेवोन कॉन्वे (विकेटकीपर), जैकब टफी, लॉकी फर्ग्युसन, बेंजामिन लिस्टर, डेरिल मिचेल, ग्लेन फिलिप्स्, माइकल रिपन, हेनरी शिप्ले, ईश सोढी, ब्लेयर टिकनर।

Latest Cricket News





Source link

Continue Reading

Sports

IND vs NZ: ‘लखनऊ की पिच से कोई शिकायत नहीं’, हारकर भी क्यों खुश है न्यूजीलैंड का ये खिलाड़ी

Published

on

By


Image Source : PTI
माइकल ब्रेसवेल

IND vs NZ: भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया दूसरा वनडे मुकाबला खत्म तो हो गया। लेकिन मैच में बने पिच का मुद्दा शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसा कोई पहली बार नहीं हुआ है। भारत का दौरा करने वाली टीम अक्सर पिचों को लेकर शिकायतें करती रहती है। भारत की स्पिन वाली पिचों पर जब कोई विदेशी खिलाड़ी को खेलने में परेशानी होती है तो वह इन पिचों को क्रिकेट लिए खतरनाक और खराब बताने की कोशिश करते हैं। भारत और न्यूजीलैंड के बीच हुए मैच के बाद भारतीय कप्तान ने तो इन पिचों को लेकर शिकायत कि लेकिन न्यूजीलैंड का एक खिलाड़ी ऐसा भी है जिसे इन पिचों से कोई भी परेशानी नहीं है।

पिच से नहीं कोई शिकायत

न्यूजीलैंड के स्पिन ऑलराउंडर माइकल ब्रेसवेल ने लखनऊ में इकाना क्रिकेट स्टेडियम खेले गए दूसरे टी20 में भारत से हारने के बाद ऐसी कोई शिकायत नहीं की। इस पिच पर न्यूजीलैंड की टीम 20 ओवरों में 8 विकेट के नुकसान पर केवल 99 रन ही बना सकी, जिस पर गेंद काफी घुम रही थी। जवाब में, भारत ने पीछा करते हुए काफी संघर्ष किया, क्योंकि न्यूजीलैंड ने उन पर दबाव बनाने के लिए पांच स्पिनरों का इस्तेमाल किया। दो गेंदों पर तीन रनों की जरूरत के साथ, सूर्यकुमार यादव ने ब्लेयर टिकनर को मिड ऑफ पर चौका मारकर तीन मैचों की श्रृंखला 1-1 से बराबर कर दी। मैच में, दोनों टीमों के स्पिनरों ने 40 में से 30 ओवर फेंके, जिसमें दोनों टीमों के बल्लेबाजों ने कोई छक्का नहीं लगाया।

पिच से सिखने को मिला

जबकि भारत के पूर्व बाएं हाथ के बल्लेबाज गौतम गंभीर और न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर जेम्स नीशम लखनऊ की पिच की आलोचना की, लेकिन ब्रेसवेल ने पिच को लेकर सवाल पूछे जाने के बावजूद विकेट की शिकायत नहीं की। हालांकि उन्होंने कहा कि वह इस तरह की सतह पर नियमित रूप से नहीं खेलना चाहेंगे, उन्होंने कहा कि ऐसे मैचों से मैंने सबक सीखा है। ब्रेसवेल ने मैच के बाद कहा, यह शायद ऐसा विकेट नहीं है जिस पर आप टी-20 खेलना चाहेंगे, लेकिन कभी-कभी कुछ सीखने और अपने कौशल को बढ़ाने का एक रोमांचक अवसर है।

ब्रेसवेल ने कहा, हम शिकायत नहीं कर सकते। इन अलग-अलग विकेटों पर खेलने का तरीका तलाशना रोमांचक है। ब्रेसवेल ने कहा, अगर आप हर समय ऐसी विकेट पर खेलते हैं, जो हर समय सपाट रहती है, तो आपको अपने कौशल की सही परीक्षा नहीं मिलती है। मुझे लगता है कि दुनिया भर में विभिन्न प्रकार के विकेट एक सकारात्मक चीज है। उन्होंने कहा कि लखनऊ की पिच पर दोनों तरफ के स्पिनरों ने अच्छी गेंदबाजी की।

यह भी पढ़े-

Latest Cricket News





Source link

Continue Reading