Connect with us

Entertainment

Khesari Lal Yadav: खेसारी के गाने ‘हसीना’ में यामिनी सिंह ने लगाया बोल्डनेस का तड़का, देखें बेहतरीन अदाएं

Published

on


Image Source : KHESARI LAL YADAV
Khesari Lal Yadav

Khesari Lal Yadav: खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) भोजपुरी इंडस्ट्री का जाना माना नाम है वह इंडस्ट्री में अपनी दिल छू लेने वाली आवाज और दमदार अदाकारी के लिए जाने जाते हैं। खेसारी लाल का गाना हो या कोई फिल्म रिलीज होने से पहले ही इटरनेट पर धमाल मचा देती है। ऐसे में अब उनका नया गाना ‘हसीना’ (Haseena) रिलीज किया जा चुका हैं। जो अब इंटरनेट पर धमाल मचा रहा है। खेसारी लाल यादव के गाने लोगों के मुहं में मिश्री की तरह खुल जाता है। 

सुपरस्टार खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) और एक्ट्रेस यामिनी सिंह (Yamini Singh) का गाना ‘हसीना’ (Haseena) का लोगों को बेसब्री से इंतजार था। इसका टीजर वीडियो बीते दिन ही रिलीज किया गया है, जिसने फैंस की एक्साइटमेंट को और भी बढ़ा दिया था। ऐसे में अब उनका नया वीडियो सॉन्ग ‘हसीना’ को रिलीज कर दिया गया है। इसे लोगों की ओर से अच्छा रिस्पांस मिल रहा है, वीडियो रिलीज होते ही इंटरनेट पर छा गया है। इसमें यामिनी सिंह (Yamini Singh) ने गजब का बोल्डनेस का तड़का लगाया है। खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) के नये गाने ‘हसीना’ को सारेगामा हम भोजपुरी के यूट्यूब चैनल पर रिलीज किया गाया हैं।

बता दें गाना ‘हसीना’ को खेसारी लाल यादव ने सिंगर अनुपमा यादव के साथ मिलकर गाया है। इसके राइटर छोटू यादव हैं, म्यूजिक विक्की कोक्स हैं। वीडियो को डायरेक्टर और कोरियोग्राफर गीता तमता (जेनिथ) हैं। इसके असिस्टेंट कोरियोग्राफर जपनीत हैं, कंपोजिशन शुभम तिवारी का है प्रोडक्शन अभय पांडे का है। खेसारी का ‘तबला’ गाना ब्लॉकबस्टर रहा है।

ये भी पढ़ें-

Bigg Boss 16: शालीन भनोट के कारण आया सुंबुल को पैनिक अटैक, इस कंटेस्टेंट के पिता से लड़े शालीन-टीना के पेरेंट्स

Ratan Tata पर बनेगी बायोपिक? इस साल होगी शूटिंग शुरू, जानें कौन निभाएगा रतन टाटा किरदार

Avneet Kaur: शॉर्ट ड्रेस में आफत लग रही हैं एक्ट्रेस, फोटो देख हो जाएगे क्लिन बोल्ड

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Bhojpuri News in Hindi के लिए क्लिक करें मनोरंजन सेक्‍शन





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Entertainment

मुकेश छाबड़ा बोले- सलमान- शाहरुख को देखते हुए हम जवान हो रहे थे, इन्होंने हमें बिगाड़ दिया था

Published

on

By


कास्टिंग डायरेक्शन के क्षेत्र को शोहरत और स्टारडम पाने वाले वे मुकेश छाबड़ा ही हैं, जिन्हें आम लोगों को स्टार बनाने के बाद ड्रीम मैन ऑफ बॉलिवुड के नाम से भी जाना जाता है। गैंग्स ऑफ वासेपुर से अपने करियर की शुरुआत करने वाले मुकेश छाबड़ा अब तक बॉलिवुड की रंग दे बसंती, दंगल, काय पो चे ,चेन्नई एक्सप्रेस, 83 जैसी कई फिल्मों की कास्टिंग के लिए सराहे जाते हैं। एक समय अपने काम के लिए फिल्म वालों के ऑफिसों के चक्कर लगाने वाले मुकेश के ऑफिस के बाहर कलाकार बनने का सपना देखने वालों का हुजूम साफ देखा जा सकता है। उनसे एक खास मुलाकात।

वो कौन-सा मोमेंट था जब आपको सिनेमा के जादू ने प्रभावित किया ?

बचपन से ही मुझे सिनेमा के जादू ने जकड़ लिया था। सलमान खान- शाहरुख खान को देखते हुए हम जवान हो रहे थे। इन लोगों ने हम लोगों को इतना बिगाड़ दिया था की हमारा जी ही नहीं लगता था सिनेमा के बिना। चाहे आप मिडिल क्लास हों या अपर क्लास फिल्म एक ऐसा माध्यम है जो सबको खुश रखता है क्योंकि 10 रुपए की भी टिकट मिलती थी, 100 रुपए की भी मिलती थी, 5 रुपए की भी मिलती थी तो वो एक ऐसा मनोरंजन का माध्यम था, जो हर किसी की सहज और सरल रूप से उपलब्ध था। ऐसी कई फिल्में हैं, जो मुझे पूरी की पूरी याद है। मुझे बाजी, पत्थर के फूल, सनम बेवफा जो नाम लीजिए मैं आपको सारी कहानी बता दूंगा। सलमान और शाहरुख का मैं बहुत फैन हूं। उनके (सलमान खान) साथ बहुत सारा मौका मिला है। सलमान के साथ बजरंगी भाईजान, जय हो और शाहरुख खान खान के साथ भी काम किया है। मैं शाहरुख सर से दिल्ली में मिला था बचपन में दिल से के सेट पर मिला था। आमिर सर के साथ रंग दे बसंती और सलमान सर के साथ चिल्लर पार्टी के दौरान इंट्रोडक्शन हुआ। तो मुझे ये सब मोमेंट्स अच्छे से याद हैं।

आपने अभिनय का डिप्लोमा लिया, मगर आप कास्टिंग डायरेक्टर जैसे अनकन्वेंशनल फील्ड को चुना?
मुझे लगता है ये जिंदगी की पसंद होती है और फिर जिंदगी आपको जहां लेकर जाती है आप उसी तरफ चले जाते हैं। मुझे लगता है आप अपने दिल से नहीं लड़ सकते हैं। मैं हमेशा ही फिल्म मेकर बनना चाहता था। मेरा जो डिप्लोमा है वो भले ऐक्टिंग का है, मगर मुझे एक्टिंग की बारीकियां समझना बहुत जरूरी था। जब मैं एनएसडी (नैशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा) में नौकरी करता था, तब भी ऐक्टिंग मेरे कोर्स का हिस्सा था। मुझे हमेशा फिल्म मेकर ही बनना था। मुझे लगता था कि मुझसे बहुत अच्छे लोग हैं, जो अच्छी एक्टिंग कर रहे हैं, तो उनको मौका मिलना चाहिए। जिस काम के आप मास्टर नहीं हो वो काम नहीं करना चाहिए और जिस काम में ज्यादा मन लगता है वो काम करना चाहिए। और मुझे लगता है इस काम में मेरा ज्यादा मन लगता है तो मैं ये काम करने लगा।

आप कास्टिंग डायरेक्शन की ओर कब मुड़े?
मैं बहुत सारी फिल्मों में असिस्टेंट के रूप में कास्टिंग तो कर ही रहा था। हां, जहां से मुझे लगा की इस जॉब को थोड़ा और गंभीरता से लिया जा सकता है, वो फिल्म थी, गैंग्स ऑफ वासेपुर’। उसके पहले मैंने रिची मेहता के साथ असिस्ट किया था, चिल्लर पार्टी भी हो चुका था, बहुत सारा काम दिल्ली में भी हुआ था, लेकिन जो अटेंशन मिला इस डिपार्टमेंट को मेरे हिसाब से वो गैंग्स ऑफ वासेपुर से मिला जहां लोगों ने देखा कि फर्स्ट क्रेडिट से लेकर ऐक्टर के बोलने तक सभी में, कास्टिंग डायरेक्टर को अहमियत मिली।उसके बाद लगा कि इसको थोड़ा और पेशेवर तरीके से कर सकते हैं। फिर एक छोटा-सा ऑफिस खोला, जो आज इतना बड़ा हो गया।

इस अलग से प्रोफेशन के लिए आपको संघर्ष तो खूब करना पड़ा होगा? जाहिर सी बात है, कास्टिंग डायरेक्टर तो पहले इतने प्रचलित नहीं थे?
ये सच है, जब मैंने शुरुआत की थी, तब लोग कास्टिंग डायरेक्टर के जॉब को ऐसे सीरियसली नहीं लेते थे। बहुत रिजेक्शन मिला है मुझे कि तेरी क्या जरूरत है? हम खुद कर लेंगे। एक बार एक फिल्म मेकर के पास में 2-3 घंटे तक वेट कर रहा था तो उन्होंने मुझे पूछा कि क्या करते हो? तो मैंने कहा, कास्टिंग। फिर उन्होंने पूछा कि क्या होती है कास्टिंग तो उस वक्त मेरा दिल बैठ गया। लेकिन वक्त बदला आज वही डायरेक्टर साथ में काम करते हैं। जब पहली दिवाली थी बॉम्बे में तब मेरा एक दोस्त था देवेंद्र, उस वक्त मेरी जेब मुश्किल से 50 रुपए भी नहीं थे। बॉम्बे में आप दिल्ली से आए हैं, जहां पर दिवाली ही सबसे बड़ा त्योहार होता है। घर में आप बता नहीं सकते कि आपकी जेब में 50 रुपए हैं, वरना वो कहेंगे, वापिस आ जाओ। मैंने वो दिन भी देखे हैं, जब मैं तिग्मांशु धूलिया के ऑफिस के बाहर घूमता रहता था ताकि वे मुझे लंच के लिए पूछ लें। गोरेगांव में 8-10 लोगों के साथ रहता था। तब 350 रुपए में हमको एक बेड मिलता था। मैं समझता हूं, संघर्ष तो हम सभी को करना पड़ता है, मगर जब आपको कामयाबी मिल जाती है, तो संघर्ष की वो कहानियां प्रेरणादायी लगने लगती हैं।आपका शहर में टिकना सबसे जरुरी है। दिल लगा कर बिना नकारात्मक हुए आपको कमा करना पड़ेगा। अगर आप शांति से काम करेंगे, तो शहर आपको अपना लेगा।

कास्टिंग में आपके लिए सबसे ज्यादा चैलेंजिंग कौन-सी फिल्म रही ?
हर फिल्म चैलेंजिंग होती है। दंगल ने बहुत समय लिया था, वासेपुर ने बहुत समय लिया था। दंगल में डेढ़ साल लगा, चिल्लर पार्टी में अलग बच्चे ढूंढ़ने थे तो बहुत समय लग गया। काई पो चे में तीन नए लड़के खोजने में बहुत वक्त लग गया। सबसे ज्यादा समय वासेपुर में लगा था, क्योंकि नया दौर था और हम खुद भी तो सीख रहे थे उसमें। अब तो खैर लोग कास्टिंग के बारे में जानने लगे हैं, तो थोडा आसान हो गया है सब लेकिन जब आपको पता ही नहीं है तो दिक्कत तो होती है। पीके और डी डे में भी काफ़ी समय देना पड़ा था। दिल्ली क्राइम की कास्टिंग बहुत जल्दी हो गई थी। रिची मेहता के साथ काम करते हुए बहुत अच्छी ट्यूनिंग हो गई थी। मैं दिल्ली से हूं तो इतना दिल्ली के लोगों को देखा है मैंने, तो उसकी कास्टिंग सिर्फ 5 दिन में हो गई थी।

कास्टिंग निर्देशक के रूप में आपका काम किस तरह से होता है?
हमको डायरेक्ट एक स्क्रिप्ट देता है, हम वो स्क्रिप्ट पढ़ते हैं। उस डायरेक्ट के विजन को समझ कर हम तलाश करते हैं कि डायरेक्ट क्या चाह रहा है, कयोंकि उनकी अपनी पसंदीदा कहानी होती है किस तरह के किरदार उसको चाहिए, किस तरह के लोगों को वो देखना चाहता है। उनके ब्रीफ के हिसाब से हम अपना ब्रीफ बनाते हैं और उस ब्रीफ के हिसाब से हम लोगों की तलाश शुरू करते हैं। वो तलाश फिर इस शहर में करनी है या किसी और शहर में ये तो डिपेंड करता है कि कहानी कहां पर सेट है। उन कलाकारों को ढूढने का सोर्स ऐसे होता है जैसे हम लोकल ग्रुप में हम पोस्ट डालते हैं और लोग खुद आ जाते हैं हमसे कॉन्टैक्ट करके। जहां भी लोग कला से जुड़े हुए हैं वो सब आ जाते हैं फिर वो कोई भी शहर हो तो ऐसे लोग जुड़ते हैं। हाल-फिलहाल मेरी टीम में में 70 लोग हैं।

जितना इस काम में मेहनत है उतना पैसा मिल पाता है आपको?
नहीं मिलता, लेकिन एक पल के बाद लगता है आपके पास था ही क्या? जब कुछ था ही नहीं तो जितना मिला, वो बहुत ही है। दुख तब होना चाहिए जब आपके पास बहुत था और खत्म हो गया जब था ही कम तो को मिला है, उसमें खुश रहिए। जब मैं अपने माता-पिता के पास जाता हूं, तो बोलते हैं जब था ही नहीं तो जो है बस सही है और क्या चाहिए।

वो कौन-सा दौर था, जब आपको लगा कि आप अपने माता-पिता के लिए कुछ कर पाए?
जब मैं अपने मां -बाप को मुंबई ले कर आया उस वक्त लगा कि एक बेटे के रूप में कुछ कर पाया हूं। मैं यहां मुंबई आ गया था, भाई शादी करके अपने घर और माता- पिता अकेले हो गए है, तो मैं इंतजार कर रहा था कि कम मैं अपने पैरों पर खड़ा हो जाऊं, सेटल हो जाऊं ताकि अपने मां -बाप को यहां बुला सकूं। मैं 9 साल पहले उनको यहां पर ले आया। तो अब मेरे पास गाड़ी है, बंगला है और मां-बाप भी हैं। घरवाली अभी नहीं है, लेकिन पेरेंट्स के रूप में दो बच्चे हैं, 72 और 75 साल के।

आपने कास्टिंग डायरेक्टर को नाम, रिस्पेक्ट और स्टारडम दिलाया, मगर हमारी इंडस्ट्री में एक शब्द है, कास्टिंग काउच वो हमेशा विवादों में रहा है, उस पर आपका क्या कहना है ?

वो हमेशा विवादों में ही रहेगा। मगर मैं यही कहना चाहता हूं कि हम सुबह से रात तक काम करते हैं, बहुत मेहनत करते हैं। हमारा काम काफी जटिल है, अब सारी इंडस्ट्री खराब नहीं होती, तो पता नहीं ये परसेप्शन कब ठीक होगा? या ठीक नहीं होगा, क्योंकि आप इसका कुछ कर नहीं सकते।

मगर आपको लगता है, इंडस्ट्री में ऐसे लोग हैं, जिनके कारण ये बातें होती हैं?
मुझे लगता है, हर फील्ड के बारे में कोई तीन -चार बातें तो ऐसे बनाएगा ही और उसके बारे में कुछ ना कुछ बोलेगा ही।

अपको आपके पेशे के कारण कभी डर या डिस्कम्फ़र्ट हुआ है?

डिसकम्फ़र्ट होता ही है, क्योंकि आप इतनी मेहनत करते हो और कोई भी आकर कुछ भी बोलकर चला जाए, दुख तो होता ही है। लेकिन ऐसे में सिर्फ आप अपना काम करते रहिए। मेरे लिए कास्टिंग काम नहीं है जिंदगी है। मैं बहुत मेहनत करता हूं, सुबह से लेकर रात तक ऑफिस में ही होते हैं हम लोग।24 घंटे यही करते हैं।

आपकी ऐसी कौन-सी खोज है, जिस पर आपको नाज है?

हर वो बच्चा जो अच्छा कर रहा है उस पर मुझे नाज है। जैसे राज कुमार राव, सुशांत सिंह, सान्या मल्होत्रा, फातिमा सना शेख, प्रतीक आदि। मुझे लगता है हर वो ऐक्टर जो आम इंसान से जाना-माना स्टार बन गया है, तो अच्छा है,लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि बाकी लोग जिनको खोजा है, वो अच्छे नहीं थे। बाकी जितने लोग हैं फिर चाहे वो फैमिली मैन के हों या दिल्ली क्राइम से हों, सभी पर मुझे बहुत गर्व है। सब अच्छा कर भी रहे हैं।

आप पर तो फिल्मों में रोल दिलाने का काफी प्रेशर रहता होगा?
बहुत प्रेशर होता है, क्योंकि सबको एक्टर बनना है। इनफ्लूंसर, ब्यूरोक्रेट हर तरह के लोग आपको फोन करते हैं। जो रिटायर डॉक्टर हैं, उनको भी ऐक्टिंग करनी है, तो वो प्रेशर तो होता ही है, लेकिन मैं तो सिर्फ उनको यही बोलता हूं कि सही होगा तो मैं आपको जरूर बताऊंगा। फिर जब वो लोग फिल्म देखते हैं, तो चुप हो जाते हैं,क्योंकि वो समझ जाते हैं कि इसमें हमारे लिए कुछ था नहीं। मगर समझाने के बावजूद कई लोग नाराज हो जाते हैं।



Source link

Continue Reading

Entertainment

जॉर्जिया एंड्रियानी ने अरबाज खान संग शादी पर तोड़ी चुप्पी, बताया क्या है फ्यूचर प्लान

Published

on

By


मॉडल और डांसर जॉर्जिया एंड्रियानी पिछले चार सालों से मलाइका अरोड़ा के एक्स हसबैंड और एक्टर अरबाज खान को डेट कर रही हैं। दोनों अक्सर साथ में स्पॉट भी किए जाते हैं और खूब चर्चा भी बटोरते हैं। हालांकि दोनों ही अपने-अपने रिश्तों पर चुप्पी साधे रहते हैं। वह बिल्कुल भी बोलने से कतराते हैं। लेकिन हालिया एक इंटरव्यू में एक्ट्रेस ने रिलेशनशिप से लेकर शादी तक, हर सवाल का खुलकर जवाब दिया है।

अरबाज खान (Arbaaz Khan) ने पहले मलाइका अरोड़ा से शादी की थी, जो अभी अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) को डेट कर रही हैं। दोनों ने 2017 में तलाक ले लिया था और अपने रास्ते अलग कर लिए थे। हालांकि ये बेटे अरहान खान की परवरिश में साथ-साथ नजर आते हैं और भरपूर योगदान भी देते हैं। रही बात जॉर्जिया एंड्रियानी की तो वह कई दफे मलाइका और अरबाज के परिवार से मिल चुकी हैं। सभी से इनके रिश्ते अच्छे हैं।

Arbaaz Khan: अरबाज खान को सलमान का भाई या मलाइका का पति कहे जाने से होती थी दिक्कत, इंटरव्यू में कह गए ये सब
कब करेंगे अरबाज और जॉर्जिया शादी?
अब ‘बॉलीवुड हंगामा’ को दिए एक इंटरव्यू में जॉर्जिया एंड्रियानी (Giorgia Andriani) ने अरबाज से शादी के प्लान के सवाल पर कहा, ‘जैसा कि मैंने पहले भी कहा है कि हम अच्छे दोस्त हैं। लेकिन शादी-ब्याह पर आने से पहले मैं ईमानदारी से एक बात कहना चाहती हूं कि ये एक ऐसी चीज है जिसके बारे में हमने कभी नहीं सोचा।’ वह मानती हैं कि महामारी ने अरबाज के साथ उनके रिश्ते को बदल दिया और कहा, ‘लॉकडाउन ने हमें सोचने पर मजबूर कर दिया है। वास्तव में, इसने लोगों को या तो करीब ला दिया है या अलग कर दिया है।’

Arhaan Khan: मलाइका अरोड़ा और अरबाज के बेटे अरहान ने करण जौहर को किया है असिस्ट, आलिया भट्ट की थी फिल्म
अरबाज और जॉर्जिया के बीच उम्र का फासला
अरबाज और जॉर्जिया की उम्र में 20 साल का अंतर है। दोनों इस वजह से भी अक्सर सुर्खियों में बने रहते हैं। अरबाज ने पहले सिद्धार्थ कन्नन से कहा था, ‘हमारे बीच उम्र का बहुत बड़ा फासला है, लेकिन हम दोनों में से किसी ने भी इसे महसूस नहीं किया है।’ कुल मिलाकर ये साफ हो गया कि अभी ये दोनों शादी नहीं कर रहे और ये बात 99 पर्सेंट तक तय भी है कि कभी नहीं करेंगे।

Malaika Arora: मलाइका अरोड़ा और अर्जुन कपूर करनेवाले हैं शादी? एक्ट्रेस ने शरमाते हुए कहा- मैंने हां कह दी
अरबाज खान और उनकी फिल्में-वेब सीरीज
बता दें कि अरबाज खान को आखिरी बार वेब सीरीज ‘तनाव’ में देखा गया था। इसके अलावा वह ‘पटना शुक्ला’ बना रहे हैं, जो अगले साल रिलीज होगी। इसमें रवीना टंडन, सतीश कौशिक, मानव विज, चंदन रॉय सान्याल, जतिन गोस्वामी और अनुष्का कौशिक हैं। दूसरी ओर, जॉर्जिया ने हाल ही में गुरमीत चौधरी के साथ म्यूजिक वीडियो ‘दिल जिससे जिंदा है’ में अभिनय किया था।



Source link

Continue Reading

Entertainment

Circus Teaser out: रणवीर सिंह की फिल्म ‘सर्कस’ का टीजर आउट, फिल्म में दिखेगा सितारों का तांता

Published

on

By


Image Source : RANVEER INSTAGRAM
Circus Teaser out

Circus Teaser out: रणवीर सिंह की शानदार एंटरटेनिंग फिल्म ‘सर्कस’ की पहली झलक आज फैंस के सामने आ गई है। बता दें फिल्म में रणवीर के साथ पूजा हेगड़े, जैकलीन फर्नांडीस और बहुत से सितारे नजर आ रहे हैं। रोहित शेट्टी की आने वाली फिल्म ‘सर्कस’ के निर्माताओं ने सोमवार को इसका टीजर रिलीज किया। ‘सिम्बा’ और ‘सर्यूवंशी’ के बाद सुपरस्टार बॉलीवुड निर्देशक रोहित शेट्टी के साथ रणवीर सिंह का तीसरा कोलैबोरेशन है। टीजर में संजय मिश्रा, अश्विनी कालसेकर, मुकेश तिवारी, मराठी अभिनेता सिद्धार्थ जाधव के साथ-साथ जैकलीन फर्नांडीस, पूजा हेगड़े और वरुण शर्मा जैसे सितारे शामिल हैं। फिल्म में रणवीर और वरुण दोनों ही डबल रोल निभाते नजर आ रहे हैं।

‘Urfi Javed लड़कों को भटका रही हैं’, चेतन भगत के बयान पर एक्ट्रेस ने कसा तंज, फिर लेखक ने दी ये सफाई

इस दिन रिलीज होगी फिल्म 

टीजर में न केवल ट्रेलर रिलीज होने की तारीख (2 दिसंबर) की घोषणा की गई है, बल्कि यह भी कहा गया है कि फिल्म इस साल क्रिसमस के दौरान रिलीज होगी। 48 सेकंड के रनटाइम के साथ, टीजर मनोरंजन से पैक है। यह उनकी फिल्मों के पिछले संदर्भों को बनाता है। यह भी संकेत देता है कि फिल्म 1960 के दशक में सेट की जाएगी।

Pakistani Girl Dance Video: पाकिस्तानी गर्ल आयशा ने ‘मेरा दिल ये पुकारे आजा’ में किया था जबरदस्त डांस, अब दूसरा वीडियो हो रहा वायरल

इन फिल्मों में नजर आएंगे रणवीर 

यह फिल्म रणवीर के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि उनकी पिछली दो फिल्में, ’83’ और ‘जयेशभाई जोरदार’ बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाईं। साथ ही रणवीर के पास करण जौहर निर्देशित ‘रॉकी और रानी की प्रेम कहानी’ भी है, जिसमें वह धर्मेंद्र, ‘गली बॉय’ की सह-कलाकार आलिया भट्ट, जया बच्चन और शबाना आजमी के साथ स्क्रीन साझा करेंगे।

Latest Bollywood News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Bollywood News in Hindi के लिए क्लिक करें मनोरंजन सेक्‍शन





Source link

Continue Reading