Connect with us

Tech

Instagram और Facebook अब टीनएजर्स के लिए होगा सेफ, जानिए क्या है Meta का नया प्राइवेसी अपडेट

Published

on


Image Source : FILE
Facebook Instagram

इंस्टाग्राम और फेसबुक का इस्तेमाल करने वाले किशोर अब खुद को ऑनलाइन रहते हुए ज्यादा सुरक्षित महसूस करेंगे। इंस्टाग्राम और फेसबुक पर टीनएजर्स के लिए एक नया अपडेट पेश किया गया है। यह अपडेट 13 से 18 साल के इन टीनएजर्स को अपनी प्राइवेसी को बेहतर तरीके से सिक्योर करने का मौका देंगे। 

क्या है नया अपडेट 

मेटा ने एक ब्लॉगपोस्ट में कहा, कुछ देशों में फेसबुक से जुड़ने वाला 16 या 18 साल से कम उम्र का कोई भी व्यक्ति अब ऑटोमैटिक रूप से अधिक प्राइवेसी सेटिंग्स प्राप्त करेगा। कंपनी फिलहाल नए फीचर की बीटा टेस्टिंग भी कर रही है, जिसकी मदद से किशोर उन व्यक्तियों को मैसेज नहीं भेज सकेगा, जिनसे वह जुड़ा नहीं है। इसके साथ ही प्लेटफ़ॉर्म किशोरों को उन लोगों में ‘पीपुल यू नो’ जैसे दूसरे नोटिफिकेशंस में भी डिस्प्ले नहीं करेगा।

असहज होने पर कर सकेंगे शिकायत 

अगर फेसबुक या इंस्टाग्राम एप्लिकेशन का उपयोग करते समय टीनएजर्स यदि कुछ असहज महसूस करते हैं तो वे इसके लिए कंपनी को कई अतिरिक्त टूल्स की मदद से सूचित कर सकते हैं। इसके अलावा मेटा ऐसे टूल्स भी विकसित कर रहा है, जिसकी मदद से नाबालिग की अनुमति के बिना कोई भी उनकी अंतरंग तस्वीरों को भी शेयर नहीं कर पाएंगे। इसके अतिरिक्त, मेटा शैक्षिक सामग्री बनाने के लिए थॉर्न और उनके नोफिल्टर ब्रांड के साथ काम कर रहा है।

गुमशुदा बच्चों को भी खोजेगा फेसबुक

मेटा अमेरिका के नेशनल सेंटर फ़ॉर मिसिंग एंड एक्सप्लॉइटेड चिल्ड्रन (NCMEC) के साथ काम कर रहा है ताकि ऐसे किशोरों के लिए एक वैश्विक मंच तैयार किया जा सके जो इस बात को लेकर चिंतित हैं कि कोई उनकी अंतरंग तस्वीरों को उनकी सहमति के बिना ऑनलाइन साझा कर दे। मंच का लक्ष्य मेटा को किशोरों की अंतरंग तस्वीरों को ऑनलाइन पोस्ट करने से रोकने में मदद करना है। मेटा का कहना है कि एक बार प्लेटफॉर्म बन जाने के बाद, इसे टेक उद्योग की अन्य कंपनियों द्वारा इस्तेमाल किया जा सकता है।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Tech News News in Hindi के लिए क्लिक करें टेक सेक्‍शन





Source link

Tech

Infinix HOT 20 5G Unboxing: सस्ते में 5G फोन खरीदने वालों की बल्ले-बल्ले, 11999 रुपये इतना कुछ

Published

on

By


साक्षी पण्ड्या | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: Dec 2, 2022, 6:02 PM

Embed

सस्ते में फोन खरीदने वाले लोगों की तो बल्ले-बल्ले हो गई। क्योंकि मार्केट में आ चुका है Infinix HOT 20 5G. फोन की कीमत एकदम आपके बजट में है। आप इसे 11,999 रुपये में खरीद पाएंगे। इस कीमत में आपको धांसू फीचर्स मिलेंगे। 4 जीबी रैम, 5000 एमएएच की बैटरी और 50 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा जैसे धाकड़ फीचर्स मौजूद हैं। ये तो बात रही फीचर्स की, लेकिन ये दिखने में कैसा है, ये हम आपको दिखा रहे हैं। चलिए करते हैं Infinix HOT 20 5G की Unboxing



Source link

Continue Reading

Tech

Amazfit Band 7 Review : सस्ती कीमत और शानदार फीचर वाला बैंड

Published

on

By


Amazfit Band 7 में 1.47 इंच की बड़ी डिस्प्ले दी गई है। इसका पिक्चर रेजोल्यूसन 194 x368 पिक्सल है। यह बैंड टैंपर्ड ग्लास, एंटी फिंगरप्रिंट कोटिंग के साथ आता है। इसमें 18 दिनों की बैटरी लाइफ मिलती है। इसकी कीमत 3,498 रुपये है। लेकिन क्या यह आपके लिए बेस्ट स्मार्ट बैंड है। आइए जानते हैं आज के रिव्यू में..



Source link

Continue Reading

Tech

Satellite Connectivity: ऐसे काम करती है सैटेलाइट कनेक्टिविटी, जानते हैं इसके फायदे और नुकसान

Published

on

By


Image Source : FILE
satellite connectivity

सैटेलाइट फोन को आप बिना किसी नेटवर्क के बिना किसी इंटरनेट के अपने लोगों से बात कर सकते हैं, लेकिन ये सैटेलाइट फोन या जिसे हम सैट फोन भी कहते हैं बहुत महंगे आते हैं जो आम लोगों के पहुंच से बाहर होते हैं। सैटेलाइट कनेक्टिविटी के जरिए यूजर का फोन मोबाइल टावर के बजाय सीधे सैटेलाइट से कनेक्ट हो जाता है। इसके बाद वो किसी भी मोबाइल या टेलीफोन पर कॉल कर सकता है। सैटेलाइट कनेक्टिविटी के बाद यूजर्स मोबाइल नेटवर्क के बिना कॉलिंग और इंटरनेट सुविधा का लाभ उठा पाएंगे। आइए जानते हैं कि सैटेलाइट कनेक्टिविटी कैसे काम करती है।

ऐसे काम करती है सैटेलाइट कनेक्टिविटी

सैटेलाइट कनेक्टिविटी सैटेलाइट्स के नेटवर्क के माध्यम से काम करती हैं, ये हमारे सेल फोन को डायरेक्ट सैटेलाइट से कनेक्ट कर देते हैं जिसको कंपनियों के द्वारा कंट्रोल किया जाता है।

सैटेलाइट कनेक्टिविटी 2 तरह की होती है

  1. लियो लो अर्थ आर्बिटिंग (Leo Low Earth Orbiting) :– लो अर्थ ऑर्बिट सैटेलाइट कनेक्टिविटी उन सैटेलाइट पर निर्भर होते हैं जो निचली ऑर्बिट में होते हैं और इंटरनेट बीम करने के लिए जाने जाते हैं।
  2. Geosynchronous Satellite :– ये कनेक्टिविटी geosynchronous satellite अर्थ ऑर्बिट का उपयोग करता है और ये लियो से बेहतर होता है।

जानते हैं क्या है सैटेलाइट फोन के फायदे और नुकसान:

सैटेलाइट फोन को यूज करने के लिए-

कोई सेल टावर की आवश्यकता नहीं है। पूरी दुनिया में बेहतरीन कनेक्टिविटी, सिक्योर कनेक्शन मिलता है। आपदा के समय सही से इस्तेमाल कर सकते हैं। वाइड नेटवर्क कवरेज, कोई ड्रॉप कॉल नहीं होता है। मोबाइल फोन की तुलना में अच्छा सिग्नल मिलता है। कोई इंस्टॉलेशन की जरूरत नहीं पड़ती है।

सैटेलाइट फोन के कई नुकसान भी है। आइए उसके बारे में जानते हैं।

सैटेलाइट फोन केवल बाहर काम करता है। खराब मौसम में सही से काम नहीं करता है। मोबाइल फोन से महंगा कॉल पड़ता है। स्थानीय सरकार के नियम के अनुसार किसी व्यक्ति को बिना अनुमति के सैटेलाइट फोन का उपयोग करने से रोका जा सकता है।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Tech News News in Hindi के लिए क्लिक करें टेक सेक्‍शन





Source link

Continue Reading