Connect with us

International

British Pilots into Chinese Army: ब्रिटेन के इतने सैनिकों को चीन ने अपनी सेना में कर लिया भर्ती, जिनपिंग की साजिश से लंदन में भूचाल

Published

on


Image Source : INDIA TV
British Pilots into Chinese Army

Highlights

  • शी जिनपिंग की साजिश खुलने से लिज ट्रस के खेमे में हड़कंप
  • ब्रिटेन सरकार ने सैनिकों को वापस बुलाने की शुरू की कार्रवाई
  • ब्रिटेन के 30 पूर्व सैनिकों को चीन ने अपनी सेना में शुरू कर दी थी भर्ती

British Pilots into Chinese Army: तीसरी बार चीन के राष्ट्रपति बनने को बेताब शी जिनपिंग की चाल ने ब्रिटेन में भूचाल ला दिया है। जिनपिंग जो करने जा रहे हैं ब्रिटेन ने उसकी कल्पना सपने में भी नहीं की रही होगी। मगर जब मामला खुला तो ब्रिटिश प्रधानमंत्री लिज ट्रस भी हरकत में आ गई। शी जिनपिंग एक तरह से ब्रिटिश की सेना में सेंध लगा दी है। उन्होंने ब्रिटेन के कई सैन्य पायलटों को अपनी सेना में भर्ती की प्रक्रिया शुरू कर दी है। वह तो गनीमत है कि ब्रिटेन को इसकी जानकारी समय रहते मिल गई। हालांकि तब तक ब्रिटेन के करीब 30 मौजूदा व सेवानिवृत्त सैन्य पायलट चीन पहुंच चुके हैं और उन्होंने चीनी सेना के जवानों को प्रशिक्षण देना भी शुरू कर दिया है। इससे लंदन में खलबली मच गई है। अब ब्रिटेन की सरकार जिनपिंग के इस अभियान को रोकने के लिए कड़ा कदम उठाने जा रही है।

दरअसल शी जिनपिंग ने कई ब्रिटिश जवानों को अपनी सेना में भर्ती करने का ऑफर दे दिया। उन्होंने ब्रिटेन के 30 जवानों को हायर करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी। मगर ब्रिटेन को इसकी कानों-कान खबर नहीं थी। इधर जिनपिंग जल्द से जल्द अपने इस मिशन को कामयाब करने में जुट गए थे। हालांकि इसी दौरान ड्रैगन की इस बड़ी साजिश का भंडाफोड़ हो गया। यह जानकर ब्रिटेन के भी होश फाख्ते हो गए। अगर जिनपिंग अपने इस मिशन में पूरी तरह कामयाब हो गए होते तो वह ब्रिटेन की सेना में बड़ी सेंध लगा सकते थे। अब ब्रिटेन सरकार जिनपिंग की साजिशों को विफल करने के लिए ठोस कार्रवाई करने जा रही है।

ब्रिटेन की सरकार ने ये कहा


ब्रिटेन की सरकार ने मंगलवार को कहा कि वह चीन में पीपल्स लिबरेशन आर्मी के जवानों को प्रशिक्षित करने के लिए सेवारत और पूर्व ब्रिटिश सैन्य पायलटों की भर्ती की चीन की कोशिशों को रोकने के लिए निर्णायक कदम उठा रही है। खबरों के अनुसार ब्रिटेन के 30 पूर्व सैन्य पायलट चीन की सेना के सदस्यों को प्रशिक्षित करने गये हैं और इस तरह के भर्ती अभियानों के खिलाफ रॉयल एयर फोर्स (आरएएफ) तथा अन्य सशस्त्र बल के अधिकारियों को गोपनीय सूचना देकर सतर्क किया जा रहा है। भर्ती प्रक्रिया ब्रिटेन के मौजूदा कानूनों का उल्लंघन नहीं करती, लेकिन रक्षा मंत्रालय के अनुसार नया राष्ट्रीय सुरक्षा विधेयक इस तरह की ‘सुरक्षा चुनौतियों’ से निपटने के लिए अतिरिक्त उपाय उपलब्ध कराएगा। मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम चीन में पीपल्स लिबरेशन आर्मी के जवानों को प्रशिक्षित करने के लिए सेवारत और पूर्व ब्रिटिश सैन्य पायलटों की भर्ती की चीन की कोशिशों को रोकने के लिए निर्णायक कदम उठा रहे हैं।

गोपनीयता के दायरे में आते हैं मौजूदा और पूर्व ब्रिटिश सैन्य कर्मी

ब्रिटेन का कहना है कि ‘‘सभी सेवारत और पूर्व अधिकारी पहले ही सरकारी गोपनीयता कानून के दायरे में आते हैं और हम रक्षा क्षेत्र में गोपनीयता अनुबंधों तथा खुलासा नहीं करने संबंधी समझौतों की समीक्षा कर रहे हैं। वहीं नया राष्ट्रीय सुरक्षा विधेयक मौजूदा समेत समकालिक चुनौतियों से निपटने के लिए अतिरिक्त उपाय उपलब्ध कराएगा।’’ सशस्त्र बल मंत्री जेम्स हीप्पे ने ‘स्काई न्यूज’ से कहा कि चीन के पायलटों को प्रशिक्षित करने के लिए ब्रिटिश पायलटों की भर्ती कई साल से रक्षा मंत्रालय के लिए चिंता का सबब बनी हुई है।

लिज ट्रस के लिए जिनपिंग की चुनौती

शी जिनपिंग की इस चाल से ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस के सामने कड़ी चुनौती पेश हो चुकी है। ब्रिटिश सेना के सैन्य पायलट चीनी सेना के जवानों को प्रशिक्षित करने के लिए बीजिंग पहुंच चुके हैं और उन्होंने अपना कार्य भी शुरू कर दिया है। ऐसे में चीन ब्रिटेन के सैन्य ठिकानों और सैन्य अभियानों की गुप्त जानकारी भी हासिल कर सकता है। अब चीन गए अपने 30 पायलटों को वापस बुलाना ब्रिटेन के लिए टेंढ़ी खीर है। चाहे वह पूर्व पायलट हों या मौजूदा। ब्रिटेन को खतरा दोनों ही स्थिति में है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

International

इजराइल के पूर्व पीएम नेतन्याहू ने राष्ट्रपति से सरकार बनाने के लिए और समय मांगा

Published

on

By



इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन पूर्व नेतन्याहू।

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने राष्ट्रपति इसाक हजरेग से नई गठबंधन सरकार बनाने के लिए और समय की मांग की है। उनकी लिकुड पार्टी ने बताया कि, लिकुड पार्टी ने गठबंधन सरकार बनाने के लिए औपचारिक रूप से हजरेग को 14 दिनों का समय मांगने के लिए पत्र लिखा था। राष्ट्रपति ने अभी तक अपने फैसले की घोषणा नहीं की है। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, अगर वह अनुरोध को स्वीकार करने से इनकार करते हैं, तो नेतन्याहू का 28 दिनों का शासनादेश शनिवार और रविवार की मध्यरात्रि को समाप्त हो जाएगा।

राष्ट्रपति से और समय मांगा

नेतन्याहू ने अनुरोध में लिखा, “बातचीत तेजी से चल रही है और इसमें काफी प्रगति हुई है। उन्होंने कहा कि उन्हें नई सरकार बनाने के लिए अभी और समय चाहिए।” उन्होंने कहा कि, कुछ और समय चाहिए ताकि कुछ मंत्रियों की नियुक्ति के लिए बाकी मुद्दों को सुलझा लिया जाए। इससे पहले गुरुवार को, लिकुड पार्टी ने घोषणा की कि, उसने 120 सीटों वाली संसद में 64 सीटों का बहुमत हासिल किया है। इजराइल के सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले नेता, नेतन्याहू के सत्ता से बाहर होने के लगभग डेढ़ साल बाद फिर से सत्ता में लौटने की उम्मीद है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

International

टेक ऑफ से पहले रनवे पर फटा एयर इंडिया फ्लाइट का टायर, 173 लोग थे सवार

Published

on

By


Image Source : PTI
टायर फटने से रद्द की गई एयर इंडिया की फ्लाइट(फाइल फोटो)

काठमांडू: नेपाल(Nepal) की राजधानी काठमांडू में शुक्रवार को नई दिल्ली जाने वाले विमान(Air India) के उड़ान भरने से पहले उसका टायर फट गया, जिसके चलते फ्लाइट को रद्द कर दिया गया। अधिकारी ने बताया कि विमान में कुल 173 लोग सवार थे, जिनमें 164 यात्री और नौ चालक दल के सदस्य थे। जानकारी के मुताबिक फिलहाल एयर इंडिया की इस फ्लाइट को री-शिड्यूल किया गया है। 

शाम साढ़े चार बजे की है घटना

अधिकारी ने बताया कि विमान स्थानीय टाइम के मुताबिक शाम साढ़े चार बजे काठमांडू के त्रिभुन एयरपोर्ट से नई दिल्ली के लिए रवाना होना था। तभी एआई के एक ड्यूटी ऑफिसर ने विमान संख्या एआई 216 के टायर फटने की सूचना दी। जिसके बाद विमान को पार्किंग क्षेत्र में ले जाया गया। 

फ्लाइट को री-शिड्यूल किया गया

एयर इंडिया के अधिकारी ने कहा कि टायर फटने की सूचना मिलने के बाद Airbus 320 विमान को रनवे से हटाकर पार्किंग क्षेत्र में ले जाया गया। अधिकारी ने कहा कि जरूरी मेंटिनेंस और मरम्मत का काम पूरा होने के बाद एयर इंडिया की यह उड़ान शनिवार को रवाना की जाएगी। 

 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

International

सरकार के खिलाफ प्रदर्शन पर मौत की सजा, संयुक्त राष्ट्र ने जताई आपत्ति

Published

on

By


Image Source : AP
ईरान की प्रतीकात्मक फोटो

Protest in Iran:संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष मानवाधिकार कार्यकर्ता ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन के दौरान किये गये एक कथित अपराध को लेकर ईरान द्वारा दोषी व्यक्ति को पहली बार मौत की सजा दिया जाना बहुत परेशन करने वाला है। उन्होंने कहा कि ईरान मौत की सजा देकर बाकी प्रदर्शनकारियों को हतोत्साहित करना चाहता है। उन्होंने कहा कि यह भविष्य के सरकार विरोधी प्रदर्शनों को रोकने के लिए किया गया तेहरान का एक प्रयास है।

जिनेवा में प्रेसवार्ता में वोल्कर तुर्क ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ईरानी सरकार का मौत की सजा देने का फैसला स्पष्ट रूप से बाकी प्रदर्शकारियों को हतोत्साहित करने के मकसद से लिया गया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं केवल अधिकारियों से मौत की सजा पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने, विरोध प्रदर्शनों के संबंध में गिरफ्तार किए गए लोगों को रिहा करने और मौत की सजा को खत्म करने की दिशा में काम करने की अपील कर सकता हूं।

मोहसिन शेखरी को दी गई मौत की सजा की विदेशों में व्यापक रूप से निंदा की गई। ईरान में विरोध प्रदर्शनों में शामिल होने के लिए अन्य बंदियों को भी मौत की सजा होने की आशंका का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि, जर्मनी के राष्ट्रपति फ्रैंक-वाल्टर स्टेनमीयर ने शुक्रवार को ईरान के प्रदर्शनकारियों की प्रशंसा की और तेहरान के अधिकारियों से अपने ही लोगों के खिलाफ ‘अमानवीय’ कार्रवाई को समाप्त करने की अपील की।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading