Connect with us

Sports

Australian Open: सानिया मिर्जा 36 की उम्र में भी मचा रहीं धमाल, अपने आखिरी ग्रैंड स्लैम के फाइनल में पक्की की जगह

Published

on


मेलबर्न: अपने करियर का अंतिम ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट खेल रही सानिया मिर्जा ने हमवतन भारतीय रोहन बोपन्ना के साथ मिलकर ऑस्ट्रेलियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट के मिक्स्ड डबल्स फाइनल में पहुंच गई हैं। जहां उनकी नजरें सातवें मेजर खिताब पर टिकी हैं। गैरवरीय भारतीय जोड़ी ने एक घंटे और 52 मिनट चले सेमीफाइनल में डेसिरे क्रॉसिक और नील स्कुपस्की की तीसरी वरीय जोड़ी को कड़े मुकाबले में 7-6, 6-7, 10-6 से हराया।

मैच का बाद क्या बोलीं सानिया

शुरुआती सेट जीतने और फिर दूसरा सेट गंवाने के बाद भारतीय जोड़ी ने सुपर टाईब्रेकर में अच्छी शुरुआत की। सानिया ने बैकहैंड विनर के साथ तीन मैच प्वाइंट हासिल किए और फिर अगले अंक पर मुकाबला जीत लिया जब क्रॉसिक ड्राइव वॉली को लौटाने में नाकाम रहीं। सानिया ने मैच के बाद कहा, ‘यह शानदार मैच था, काफी नर्वस थे। यह मेरा आखिरी ग्रैंडस्लैम है और रोहन के साथ खेलना विशेष है। वह मेरा पहला मिक्स्ड डबल्स जोड़ीदार था जब मैंने 14 साल की उम्र में उसके साथ जोड़ी बनाई थी और अब मैं 36 और वह 42 साल का है। हम अब भी खेल रहे हैं और हमारा रिश्ता बहुत मजबूत है।’

सानिया ने घोषणा की है कि फरवरी में दुबई में होने वाला डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट उनके करियर का आखिरी टूर्नामेंट होगा। उन्होंने अमेरिका और इंग्लैंड के अपने प्रतिद्वंद्वियों के संदर्भ में कहा, ‘हम यहां पर एक बार फिर उतरकर और खुद को एक और मौका देने को लेकर उत्साहित हैं। हम टूर पर सर्वश्रेष्ठ मिक्स्ड डबल्स जोड़ी से खेल रहे थे और हमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना था।’ हमवतन महेश भूपति के साथ 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन के रूप में अपना पहला ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने वाली सानिया ने कहा, ‘मैं पिछले 18 साल से यहां खेलने के प्यार को महसूस कर सकती हूं। यह मेरे लिए घर की तरह है, यहां मेरा परिवार है, मैं घर में खाना खाती हूं और इतने सारे भारतीय मेरा समर्थन करते आते हैं।’

2016 में जीता था आखिरी ग्रैंड स्लैम

सानिया ने इसके बाद 2016 में स्विट्जरलैंड की दिग्गज मार्टिना हिंगिस के साथ मिलकर मेलबर्न पार्क में महिला युगल खिताब भी जीता। फ्रेंच ओपन में कनाडा की गैब्रिएला दाब्रोवस्की के साथ मिलकर मिक्स्ड डबल्स खिताब के रूप में अपने करियर का एकमात्र ग्रैंडस्लैम जीतने वाले बोपन्ना ने कहा कि टाईब्रेक में मौकों का फायदा उठाना महत्वपूर्ण था। उन्होंने कहा,‘जैसा कि सानिया ने कहा था कि हम कड़ी टीम के खिलाफ खेल रहे थे। दूसरा सेट गंवाने के बाद लय बनाए रखना आसान नहीं था लेकिन हम मजबूत बने रहे और शुरुआती बढ़त हासिल की जिससे हमें लय मिली।’

सानिया के छह ग्रैंडस्लैम खिताब में से तीन मिक्स्ड डबल्स हैं जो उन्होंने महेश भूपति (2209 ऑस्ट्रेलियन ओपन, 2012 फ्रेंच ओपन) और ब्राजील के ब्रूनो सोरेस (2014 अमेरिकी ओपन) के साथ जीते। सानिया ने अपने तीनों मीहिला युगल ग्रैंडस्लैम खिताब हिंगिस (विंबलडन 2015, अमेरिकी ओपन 2015 और ऑस्ट्रेलियन ओपन 2016) के साथ मिलकर जीते।

Australian Open: करियर के आखिरी ग्रैंड स्लैम में सानिया मिर्जा की निराशाजनक शुरुआत, विमेंस डबल्स में खत्म हुआ सफरHockey World cup 2023: रोमांचक मुकाबले में न्यूजीलैंड से हारा भारत, विश्व कप में थम गया सफर



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Sports

Elena Rybakina: हद ग्लैमरस हैं एलेना रायबाकिना, ऑस्ट्रेलियन ओपन का फाइनल हारने के बाद भी हो रहे चर्चे

Published

on

By


ऑस्ट्रेलियन ओपन को महिला सिंगल्स में नया चैंपियन मिल गया है। खिताबी मुकाबले में बेलारूस की एरिना सबालेंका ने एलेना रायबाकिना को 4-6, 6-3, 6-4 से हराया। रायबाकिना भले ही टूर्नामेंट का खिताब नहीं जीत पाई हैं लेकिन उनकी खूबसूरती के चर्चे हो रहे हैं।

रूस में हुआ था जन्म

23 साल की एलेना रायबाकिना का जन्म 17 जून 1999 को रूस के मास्को में हुआ था। लेकिन 2018 में उन्होंने कजाकिस्तान की नागरिकता ले ली थी।

2022 की विंबलडन चैंपियन

2022-

रायबाकिना ने पिछले साल रायबाकिना विंबलडन में महिला सिंगल्स का खिताब जीता था। फाइनल मुकाबले में रायबाकिना ने ओन्स जैबुर को तीन सेट तक गए मुकाबले में हराया था। उन्होंने पहला सेट हारने के बाद मुकाबला जीता था।

ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली कजाकिस्तानी खिलाड़ी

ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली कजाकिस्तानी खिलाड़ी

एलेना रायबाकिना ग्रैंड स्लैम जीतने वाली कजाकिस्तान की पहली खिलाड़ी हैं। वह डब्ल्यूटीए रैंकिंग के टॉप-15 में पहुंचने वाली भी कजाकिस्तान की पहली खिलाड़ी हैं। वह दो डब्ल्यूटीए टाइटल भी जीत चुकी हैं।

फाइनल में दी कड़ी टक्कर

फाइनल में दी कड़ी टक्कर

एलेना रायबाकिना ने फाइनल मुकाबले में सबालेंका को कड़ी टक्कर दी थी। उन्होंने मैच के पहले सेट को भी अपने नाम किया। अंत में भी सबालेंका को गेम जीतने के लिए काफी जूझना पड़ा। लेकिन अंत में रायबाकिना हार गईं।

3.5 मिलियन डॉलर का नेटबर्थ

3-5-

एलेना रायबाकिना का नेट बर्थ 2022 में करीब 3.5 मिलियन डॉलर था। प्राइज मनी के साथ के साथ ही एंडोर्समेंट से भी कमाई करती हैं।

हारने के बाद भी मिले 9.3 करोड़ रुपये

-9-3-

ऑस्ट्रेलियन ओपन के महिला सिंगल्स का खिताबी मुकाबला हारने के बाद भी रायबाकिना को 9.3 करोड़ रुपये प्राइज मनी के रूप में मिले।



Source link

Continue Reading

Sports

कौन हो सकते हैं भारत के फ्यूचर कप्तान?, पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने दो नाम चुने

Published

on

By



आकाश चोपड़ा ने भारत की लंबी अवधि की कप्तानी के लिए शुभमन गिल और ऋषभ पंत को अपना उम्मीदवार चुना है। चोपड़ा को यह भी उम्मीद है कि टी20 विश्व कप 2024 में हार्दिक टीम के कप्तान होंगे।



Source link

Continue Reading

Sports

धोनी का कीवी चेला दे रहा टीम इंडिया को जख्म, मैच से पहले स्टेडियम में ही लिया था गुरुमंत्र

Published

on

By


रांची: भारत के खिलाफ आखिरी वनडे इंटरनेशनल में शतकीय पारी खेलने वाले डेवोन कॉनवे ने अपनी लय बरकरार रखते हुए एक और उम्दा पारी खेली। इस कीवी ओपनर ने सीरीज के पहले टी-20 इंटरनेशनल मैच में 35 गेंदों पर 52 रन बनाकर टीम के लिए मजबूत नींव रखी। इसके बाद आखिरी ओवर्स में ऑलराउंडर डेरिल मिचेल ने ताबड़तोड़ रन बनाते हुए टीम को 176 रन के चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंचाया। न्यूजीलैंड ने 10 ओवर्स में दो विकेट पर 79 रन बना लिए थे। कॉनवे ने कुलदीप यादव और दीपक हुड्डा के खिलाफ चौके जड़े, जिससे न्यूजीलैंड ने 13वें ओवर में रनों का शतक पूरा किया। कॉनवे ने ने 16वें ओवर में अपना अर्धशतक पूरा किया, लेकिन जल्द ही अर्शदीप की गेंद पर दीपक को कैच देकर पविलियन लौट गए।

मैच से पहले धोनी का गुरुमंत्र
माही इससे पहले गुरुवार को टीम इंडिया के प्रैक्टिस सेशन में भी पहुंचे थे। यहां भारतीय खिलाड़ियों के साथ-साथ न्यूजीलैंड के प्लेयर्स से भी मुलाकात की थी। डेवोन कॉनवे आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स के ही प्लेयर हैं। धोनी को अपना मेंटॉर मानते हैं। प्रैक्टिस सेशन के दौरान वह माही का बल्ला चेक करते हुए पाए गए थे।


स्टेडियम भी आए थे धोनी
मैच के दौरान ‘रांची के राजकुमार’ महेंद्र सिंह धोनी भी स्टेडियम में मौजूद थे। बिग स्क्रीन पर जैसे ही धोनी और उनकी पत्नी साक्षी नजर आए, पूरा मैदान उनके नाम से गूंज उठा। लंबे समय तक टीम इंडिया की कप्तानी और फिर विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभालने वाले माही नेशनल एंथम के दौरान खड़े होकर देश के प्रति अपना सम्मान दिखा रहे थे। इस दौरान की तस्वीरें भी वायरल हो रही हैं। मैच के दौरान जब उन्हें इस बात का अहसास हुआ कि कैमरा उन पर फोकस है तो वह हाथ हिलाकर फैंस का अभिवादन करते नजर आए।

IND vs NZ: हम भी इंसान हैं…चार ओवर में 51 रन लुटाने वाले अर्शदीप के बचाव में उतरा ये इंडियन प्लेयर



Source link

Continue Reading