Connect with us

Business

हरियाणा में उच्च गुणवत्ता वाले रोजगार

Published

on


महेश व्यास /  09 29, 2022






हरियाणा में रोजगार के ढांचे में ही उसकी चुनौती है। दरअसल इस राज्य में वेतनभोगी कर्मचारियों का बड़ा हिस्सा है। ऐसे में हरियाणा वेतनभोगी नौकरी मुहैया कराकर अपने राज्य के लोगों को तो बड़ा फायदा पहुंचाता ही है, साथ ही भारत के अन्य हिस्सों से भी लोगों को आकर्षित करता है। इससे हरियाणा में बेहतर प्रवासी आते हैं।

इस राज्य में कमतर गुणवत्ता वाला रोजगार दिहाड़ी मजदूरी जैसा कम है। किसी भी अन्य बड़े राज्य की अपेक्षा हरियाणा में वेतनभोगी जैसी बेहतर नौकरियों की हिस्सेदारी अधिक है।

अर्थव्यवस्था के लिए वेतनभोगी नौकरियां सृजित करना कहीं मुश्किल होता है। ऐसे में लोगों को दिहाड़ी मजदूरों की फौज में शामिल होना पड़ता है। यह मुश्किल केवल हरियाणा तक सीमित नहीं है बल्कि इससे उसको नुकसान हुआ है। हरियाणा अमीर राज्य है और यहां प्रति व्यक्ति आय तुलनात्मक रूप से अधिक है।

दरअसल यहां के लोग असंगठित क्षेत्र में अनौपचारिक रोजगार के लिए स्पष्ट रूप से कम इच्छुक रहते हैं। हरियाणा को यह फायदा है कि वह अच्छी गुणवत्ता वाली नौकरियां मुहैया कराता है लेकिन यही इसके लिए चुनौती बन गया है।

महामारी शुरू होने से पहले हरियाणा में वेतनभोगी नौकरियों का दबदबा था। सितंबर 2018 से अप्रैल 2020 के बीच हरियाणा में कुल रोजगार में वेतनभोगी नौकरियां 31 फीसदी थीं। राज्य में किसी अन्य तरह के रोजगार की इतनी बड़ी हिस्सेदारी भी नहीं थी। हरियाणा के रोजगार में किसानों की हिस्सेदारी दूसरे नंबर पर 30 फीसदी से कम थी। फिर कारोबारियों की हिस्सेदारी 24 फीसदी थी और बाकी 14 फीसदी हिस्सेदारी में छोटे व्यापारी और दिहाड़ी मजदूर थे। देश की तुलना में हरियाणा में रोजगार की संरचना कहीं बेहतर है।

अखिल भारतीय स्तर पर छोटे व्यापारी और दिहाड़ी मजदूर की हिस्सेदारी का दबदबा है। अखिल भारतीय स्तर पर समान अवधि सितंबर 2018 से अप्रैल 2020 के बीच छोटे व्यापारी और दिहाड़ी मजदूर 32 फीसदी थे। इससे कम वेतनभोगी रोजगार की हिस्सेदारी 22 फीसदी से भी कम थी।

किसानों की हिस्सेदारी 28 फीसदी और कारोबारियों की हिस्सेदारी करीब 19 फीसदी थी। हरियाणा में महामारी की सबसे ज्यादा चोट वेतनभोगी कर्मचारियों को झेलनी पड़ी। इस राज्य में वेतनभोगी नौकरियां जनवरी-अप्रैल, 2020 में 23 लाख थीं। यह मई-अगस्त, 2020 में घटकर 16 लाख रह गईं। फिर सितंबर-दिसंबर, 2020 में और गिरकर 14 लाख पर पहुंच गईं। इससे एक वर्ष से कम अवधि के दौरान लगभग 39 प्रतिशत की संचयी गिरावट दर्ज हुई।

अखिल भारतीय स्तर पर वेतनभोगी नौकरियों में 13 फीसदी की शुरुआती गिरावट आई थी और बाद में दुरुस्त हो गई थी। लिहाजा पूरे देश में वेतनभोगी रोजगार में इतनी अधिक गिरावट दर्ज नहीं हुई और हरियाणा में वेतनभोगी नौकरियों में असाधारण गिरावट हुई। हरियाणा को वेतनभोगी नौकरियों में हुई कटौती से उबरने में अधिक समय लगा है। हालांकि अब तक हरियाणा नौकरियों की कटौती को काफी हद तक पूरा कर चुका है।

संयोग की बात है कि  हरियाणा में रोजगार के मामले में मई-अगस्त, 2022 के दौरान वेतनभोगी नौकरियां फिर शीर्ष पर आ गईं। इस अवधि के दौरान हरियाणा में 22 लाख वेतनभोगी लोग थे। इससे किसानों से अधिक वेतनभोगी लोगों की संख्या हो गई। राज्य में किसानों की संख्या तकरीबन 20 लाख से कुछ कम है।

राज्य में किसानों की संख्या 23 लाख से 24 लाख के बीच थी लेकिन उत्तर राज्यों में मॉनसून की अनिश्चितता के कारण किसानों की संख्या में गिरावट आई है। इसी दौरान वेतनभोगी नौकरियों में निरंतर बढ़ोतरी कायम रही। इससे राज्य में रोजगार का सबसे बड़ा जरिया वेतनभोगी नौकरी हो गई।

हरियाणा में कुल रोजगार में वेतनभोगी नौकरियां 31 फीसदी हैं। वेतनभोगी नौकरियों के मामले में छोटे राज्यों जैसे दिल्ली, गोवा, चंडीगढ़ और पुदुच्चेरी का प्रदर्शन बेहतर है। इन राज्यों में कुल रोजगार में वेतनभोगी कर्मचारियों की हिस्सेदारी 50-60 फीसदी है और खेती के लिए जमीन भी बहुत कम है।

हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जम्मू-कश्मीर में वेतनभोगी कर्मचारियों की हिस्सेदारी 40-50 फीसदी है और इन राज्यों में खेती के लिए कम जमीन उपलब्ध है। इनके अलावा बाकी बचे राज्यों में हरियाणा वेतनभोगी कर्मचारियों के मामले में  शीर्ष पर है।

हरियाणा में किसानों और वेतनभोगी कर्मचारियों का स्वस्थ मिश्रण है। यह प्रदर्शित करता है कि हरियाणा ने कृषि अर्थव्यवस्था के पारंपरिक आधार के साथ-साथ तेजी से बढ़ती आधुनिक अर्थव्यवस्था को भी अपनाया है। हाल के समय में सेवा क्षेत्र में भी तेजी से उछाल आई है। दिल्ली के करीब गुरुग्राम होने से भी फायदा हुआ है।

यह रोचक है कि पांरपरिक औद्योगिक शक्तियां जैसे महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल के कुल रोजगार में वेतनभोगी रोजगार की हिस्सेदारी हरियाणा की तुलना में कम है। हरियाणा की सफलता यह है कि वह संगठनात्मक बदलाव करके खेती से दृढ़ रूप से आगे बढ़ रहा है लेकिन दिहाड़ी मजदूर के स्रोत का पता लगाना चुनौती बन गई है।  

दिहाड़ी मजदूरों, खेत मजदूरों या छोटे व्यापारियों के रूप में अनौपचारिक रोजगार आसानी से श्रम में शामिल हो जाता है। ऐसे रोजगार व बेरोजगारी के बीच बारीक अंतर है और इससे अलग-अलग करना मुश्किल है। अच्छी बात यह है कि हरियाणा से मजदूर पलायन नहीं करते हैं या हम यह कह सकते हैं कि हरियाणा के लोग कम वेतन वाले विकल्प को स्वीकार नहीं करते हैं।

हरियाणा के लोग अन्य विकल्पों के अलावा वेतनभोगी नौकरियों को प्राथमिकता देते हैं। हरियाणा में रोजगार चाहने वाले लोगों को जब कामधंधा नहीं मिलता है तो राज्य में बेरोजगारी की दर बढ़ जाती है। ऐसा अन्य राज्यों विशेषकर कृषि प्रधान राज्यों में नहीं होता है। अन्य राज्यों में लोगों को खेती-किसानी और अंशकालिक नौकरियों में रोजगार मिल जाता है। इससे बेरोजगारी की दर कम रहती है।

हालांकि जब पूरी अर्थव्यवस्था की वृद्धि एक समान न हो और नए संयंत्रों ने मशीनों में निवेश या अन्य उत्पादक क्षमताएं सीमित हों तो नए वेतनभोगी रोजगार को सृजित करना टेढ़ी खीर हो जाता है। भारत में जब पूंजीगत व्यय का पहिया पूरी गति से घूमेगा तो हरियाणा को स्वाभाविक रूप से लाभ मिलेगा। देश की राजधानी के करीब हरियाणा है। हरियाणा के पास बड़ा व अच्छी गुणवत्ता वाला श्रम बल है जो अपनी इच्छा के अनुकूल नौकरी नहीं मिलने पर अर्थव्यवस्था की हालत बदलने तक बेरोजगार रहना पसंद करता है।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Business

सेंसेक्स 400 अंक से अधिक गिर गया, निफ्टी 17,900 के नीचे बंद हुआ

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) गिरावट के साथ बंद हुआ। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही लाल निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 452.90 अंक यानी कि 0.75% की गिरावट के साथ 59,900.37 के स्तर पर बंद हुआ।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 132.70 अंक यानी कि 0.74% की गिरावट के साथ 17,859.45 के स्तर पर बंद हुआ।

आपको बता दें कि, सुबह बाजार सपाट स्तर पर खुला था। इस दौरान सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला था।

जबकि बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था और गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

सेंसेक्स में 77 अंकों की मामूली बढ़त, निफ्टी 18 हजार के पार खुला

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) भी सपाट स्तर पर खुला। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही हरे निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला।

शुरुआती कारोबार के दौरान करीब 1205 शेयरों में तेजी आई, 679 शेयरों में गिरावट आई और 115 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ।

आपको बता दें कि, बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था इस दौरान सेंसेक्स 44.66 अंक यानी कि 0.07% बढ़कर 60702.11 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 17 अंक यानी कि 0.09% ऊपर 18060.00 के स्तर पर खुला था। 

जबकि, शाम को बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

पेट्रोल- डीजल की कीमतें हुईं अपडेट, जानें आज बढ़े दाम या मिली राहत

Published

on

By



डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पेट्रोल- डीजल (Petrol- Diesel) की कीमतों को लेकर लंबे समय से कोई बढ़ा अपडेट देखने को नहीं मिला है। जबकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कई बार जबरदस्त तरीके से गिर चुकी हैं। हालांकि, जानकारों का मानना है कि, आने वाले दिनों में कच्चा तेल महंगा होने पर इसका असर देश में दिखाई दे सकता है। फिलहाल, भारतीय तेल विपणन कंपनियों (इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम) ने वाहन ईंधन के दाम में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया है।

बता दें कि, आखिरी बार बीते साल में 22 मई 2022 को आमजनता को महंगाई से राहत देने केंद्र सरकार द्वारा एक्‍साइज ड्यूटी में कटौती की गई थी। जिसके बाद पेट्रोल 8 रुपए और डीजल 6 रुपए प्रति लीटर तक सस्‍ता हो गया था। इसके बाद लगातार स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है। आइए जानते हैं वाहन ईंधन के ताजा रेट…

महानगरों में पेट्रोल-डीजल की कीमत
इंडियन ऑयल (Indian Oil) की वेबसाइट के अनुसार आज देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 96.72 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। वहीं बात करें डीजल की तो दिल्ली में कीमत 89.62 रुपए प्रति लीटर है। आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल 106.35 रुपए प्रति लीटर है, तो एक लीटर डीजल 94.27 रुपए में उपलब्ध होगा। 

इसी तरह कोलकाता में एक लीटर पेट्रोल के लिए 106.03 रुपए चुकाना होंगे जबकि यहां डीजल 92.76 प्रति लीटर है। चैन्नई में भी आपको एक लीटर पेट्रोल के लिए 102.63 रुपए चुकाना होंगे, वहीं यहां डीजल की कीमत 94.24 रुपए प्रति लीटर है।   

ऐसे जानें अपने शहर में ईंधन की कीमत
पेट्रोल-डीजल की रोज की कीमतों की जानकारी आप SMS के जरिए भी जान सकते हैं। इसके लिए इंडियन ऑयल के उपभोक्ता को RSP लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। वहीं बीपीसीएल उपभोक्ता को RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर भेजना होगा, जबकि एचपीसीएल उपभोक्ता को HPPrice लिखकर 9222201122 नंबर पर भेजना होगा, जिसके बाद ईंधन की कीमत की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

 



Source link

Continue Reading