Connect with us

Sports

सूर्यकुमार के लिए सपने जैसा रहा 2022, खुद बताया साल का सबसे अच्छा पल

Published

on


Image Source : PTI
Suryakumar Yadav

भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव के लिए ये साल किसी सपने से कम नहीं रहा है। टी20 क्रिकेट में इस साल के सबसे घातक बल्लेबाज बनकर सामने आने वाले सूर्या ने दुनियाभर के रिकॉर्ड्स को तोड़ा। सूर्या इस साल सबसे ज्यादा टी20 रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बने। इसके अलावा वो इसी साल अपने करियर में पहली बार दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज भी बने। अब सूर्या ने पहली बार नंबर एक बल्लेबाज बनने पर एक बड़ा बयान दिया है। 

सूर्या ने दिया बड़ा बयान 

भारतीय क्रिकेट की नई सनसनी सूर्यकुमार यादव को टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में विश्व का नंबर एक खिलाड़ी बनना अब भी सपने जैसा लगता है, लेकिन वह सीमित ओवरों के फॉर्मेट तक ही सीमित नहीं रहना चाहते हैं और उनकी टेस्ट क्रिकेट में भी अपना जलवा दिखाने दिली तमन्ना है।

सूर्या ने दुनिया का नंबर एक बल्लेबाज बनने पर कहा, ”यह अब भी सपने जैसा लगता है। अगर सालभर पहले किसी ने मुझे टी20 क्रिकेट का नंबर एक बल्लेबाज कहा होता तो मुझे नहीं पता कि मैं कैसे प्रतिक्रिया करता। जब मैंने इस फॉर्मेट में खेलना शुरू किया तो मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहता था और इसके लिए मैंने कड़ी मेहनत की थी।” 

क्या ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलेंगे सूर्या?

सूर्या से जब पूछा गया कि क्या उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी टेस्ट सीरीज में चुने जाने की उम्मीद है तो उन्होंने कहा, ”मैंने लाल गेंद से आयु वर्ग के राष्ट्रीय स्तर पर खेलना शुरू किया, इसलिए इसका उत्तर इसी में निहित है। टेस्ट मैचों में आपके सामने पेचीदा लेकिन रोमांचक परिस्थितियां होती हैं और आप चुनौती का सामना करना चाहते हैं। हां, यदि मुझे मौका मिलता है तो मैं तैयार हूं। मैं यही कहूंगा कि यह कभी असंभव नहीं होता है लेकिन निश्चित तौर पर मुश्किल होता है। इसके लिए आपका रवैया अच्छा होना चाहिए। मैं अधिक अभ्यास करने के बजाय बेहतर अभ्यास करने पर ध्यान देता हूं। मैंने और मेरे परिवार ने काफी बलिदान दिए हैं। भारत की तरफ से पदार्पण करने से पहले मैं 10 साल तक प्रथम श्रेणी क्रिकेट में खेलता रहा हूं।”

लंबे समय के बाद मिला मौका

सूर्या ने अपने इंटरनेशनल करियर के शुरू होने से पहले लंबे समय तक घरेलू क्रिकेट और आईपीएल में अपना जलवा दिखाया। इस खिलाड़ी को अपने डेब्यू के लिए काफी इंतजार करना पड़ा, लेकिन फिर भी सूर्या को कभी गुस्सा नहीं आया। उन्होंने कहा, ”मैं यह नहीं कहूंगा कि मैं खीझ जाता था लेकिन हमेशा मैं यह सोचता था कि अगले स्तर पर जाने के लिए अलग से क्या करना होगा। इसलिए मैंने कड़ी मेहनत करना जारी रखा और आपको इसके साथ ही अपने खेल का भी आनंद लेना होता है। आप इसीलिए क्रिकेट खेलना शुरू करते हैं। मैं जानता था कि अगर मैं परिणाम पर ध्यान न दूं और अपने खेल पर ध्यान केंद्रित करूं तो मैं किसी दिन राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने में सफल रहूंगा।”

Latest Cricket News





Source link

Sports

IND vs AUS: बुमराह के खराब स्पेल से जब कोहली का मूड हुआ था खराब, उठाने जा रहे थे यह कदम, फिर ईशांत ने संभाला

Published

on

By


नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह चोट से उबरकर वापसी के लिए तैयार हैं। पिछले कुछ सालों में बुमराह टीम इंडिया के लिए तेज गेंदबाजी के अगुआ बन चुके हैं। हालांकि चोट के कारण उनका करियर भी काफी प्रभावित रहा है। बुमराह ने उस समय टीम इंडिया में अपने पैर जमाए जब ईशांत शर्मा जैसे अनुभवी खिलाड़ी के हाथ में तेज गेंदबाजी की कमान थी। विराट कोहली की कप्तानी में अपने करियर को संवारने वाले बुमराह की शुरुआती समय कुछ खास नहीं था।

इसी को लेकर ईशांत शर्मा ने क्रिकबज से बात करते हुए एक रोचक किस्सा शेयर किया है जब टीम के कप्तान कोहली बुमराह की गेंदबाजी से काफी निराश थे। दरअसल यह घटना साल 2018 की है जब भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई थी। इस दौरान बुमराह का एक स्पेल बहुत खराब रहा था।

इसके बाद कप्तान कोहली बुमराह से उनकी गेंदबाजी को लेकर बात करने वाले थे लेकिन ईशांत की सालह मानकर उन्होंने ऐसा नहीं किया। ईशांत ने बताया कि, ‘कोहली काफी परेशान थे, उन्होंने मुझसे कहा मैं बुमराह से बात करना चाहता हूं लेकिन मैंने उसे मना कर दिया और समझाया कि उसे अपने हाल पर छोड़ दो। वह एक स्मार्ट गेंदबाज है। उसे छोड़ दो उसको पता है कि क्या करना है और क्या नहीं।’

सीरीज में बुमराह ने लिए 21 विकेट

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चार टेस्ट मैचों की उस सीरीज में जसप्रीत बुमराह सबसे बेहतरीन गेंदबाज साबित हुए। उन्होंने चार मैचों में 21 अपने नाम किए जिसमें पांच विकेट हॉल भी शामिल था। बुमराह की दमदार गेंदबाजी के बदौलत ही टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में 2-1 से हराकर इतिहास रचा था।

घरेलू टेस्ट सीरीज में अब ऑस्ट्रेलिया की चुनौती

वहीं भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीम बॉर्डर-गावस्कर टेस्ट सीरीज के लिए पूरी तरह से तैयार है। ऑस्ट्रेलियाई टीम को लंबे समय से भारत में जीत का इंतजार है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सीरीज का पहला टेस्ट मैच 9 से 13 फरवरी के बीच नागपुर में खेला जाएगा। इसके अलावा दूसरा टेस्ट मैच में 17 से 21 फरवरी के बीच दिल्ली में खेला जाएगा। वहीं 1 से 5 मार्च के बीच तीसरा टेस्ट मैच हिमाचल के धर्मशाला में खेला जाना जबकि आखिरी टेस्ट मैच 9 से 13 मार्च के बीच अहमदाबाद में खेला जाएगा।

WI vs ZIM: शिवनारायण चंद्रपॉल के बेटे ने जिम्बाब्वे के खिलाफ जड़ी डबल सेंचुरी, बना डाला गजब रिकॉर्ड
IND vs AUS: ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का डर तो देखिए…नागपुर टेस्ट से पहले पूरी टीम में घबराहट का माहौल
Javed Miandad: भाड़ में जाए… जावेद मियांदाद ने फिर उगला भारत के खिलाफ जहर, बदमिजाजी की इंतहा तो देखिए



Source link

Continue Reading

Sports

‘भाड़ में जाओ’ वाली बात पर वेंकटेश प्रसाद ने कर दी जावेद मियांदाद की बोलती बंद, किया ये ट्वीट

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान टीम के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने एशिया कप 2023 को लेकर चल रहे विवाद पर अपने मौजूदा रुख को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) पर जोरदार हमला किया। एशिया कप 2023 की मेजबानी को लेकर पूरा मसला खड़ा हुआ है, क्योंकि इसकी मेजबानी पाकिस्तान के पास है, लेकिन बीसीसीआई ने स्पष्ट कर दिया है कि वह पाकिस्तान के दौरे पर टीम नहीं भेजेंगे। ऐसे में एशियन क्रिकेट काउंसिल यानी एसीसी ने टूर्नामेंट को न्यूट्रल वेन्यू पर आयोजित करने का फैसला किया है, जिससे पाकिस्तान खफा है। यही कारण है कि पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर भारत पर हमलावर हैं। 

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने एक कमेंट किया है, जिस पर भारत के दिग्गज क्रिकेटर वेंकटेश प्रसाद ने तीखी प्रतिक्रिया दी है और उनकी बोलती बंद कर दी है। शनिवार को बहरीन में हुई मीटिंग को लेकर उनका कहना था कि आईसीसी को बीसीसीआई के खिलाफ कड़ा एक्शन लेना चाहिए कि वे पाकिस्तान क्यों नहीं आना चाहते। उन्होंने एक पब्लिक इवेंट में कहा था, “मैं तो पहले भी कहा था कि अगर नहीं आना (पाकिस्तान) तो भाड़ में जाएं। हमें कोई फर्क नहीं पड़ता।” 

मियांदाद ने कहा था, “मैंने हमेशा पाकिस्तान का समर्थन किया है और मैं कभी भी इंडिया को छोड़ नहीं सकता है, जब भी कोई भी बात हो, लेकिन अब हमें हमारी तरफ देखना है और हमें इसके लिए लड़ाई लड़नी है। हमें किसी की परवाह नहीं हैं, क्योंकि हम अपनी क्रिकेट की मेजबानी कर रहे हैं। यह आईसीसी का काम है। यदि आईसीसी इस मुद्दे को नियंत्रित नहीं कर सकती तो इस निकाय का कोई काम नहीं है। उन्हें हर टीम के लिए समान नियम लागू करने की जरूरत है। अगर इस तरह की टीमें नहीं आती हैं तो उन्हें प्रतिबंधित कर दिया जाना चाहिए। इंडिया होगा, अपने लिए होगा। हमारे लिए नहीं है।”

वॉर्मअप मैच में बुरी तरह हारा भारत, ऑस्ट्रेलिया ने 44 रनों से जीता लो स्कोरिंग मैच

इसी आर्टिकल को रिट्वीट करते हुए वेंकटेश प्रसाद ने लिखा है, “लेकिन वे नरक में जाने से इनकार कर रहे हैं।” वेंकटेश प्रसाद ने इशारों ही इशारों में बता दिया है कि पाकिस्तान नरक है। ऐसा इसलिए भी कहा जा सकता है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड द्वारा आयोजित किए जा रहे पाकिस्तान सुपर लीग यानी पीएसएल के मैच को भी कैंसिल करना पड़ा था, क्योंकि रविवार को बम धमाके हो गए थे। 

बता दें कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने इस बात की भी धमकी दे दी है कि अगर भारत की टीम एशिया कप 2023 के लिए पाकिस्तान नहीं आएगी तो पाकिस्तान की टीम भी भारत में होने वाले वर्ल्ड कप में हिस्सा नहीं लेगी। यहां तक कि रिपोर्ट्स की मानें पीसीबी आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 को भारत से बाहर आयोजित कराने के लिए मांग कर रही है। इस पर फैसला अगले महीने होगा, जब दोनों देशों के क्रिकेट बोर्ड के प्रमुख आईसीसी और एसीसी की मीटिंग का हिस्सा होंगे। 



Source link

Continue Reading

Sports

Ashes से बड़ी है भारत दौरे की चुनौती, ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने Video में खुद कबूला सच

Published

on

By


Image Source : GETTY
बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी को लेकर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने दिया बड़ा बयान

IND vs AUS: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मैच गुरुवार से नागपुर में खेला जाएगा। WTC के फाइनल के मध्यनजर यह सीरीज दोनों टीमों के अहम है। लेकिन ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए यह सीरीज और भी अहम है क्योंकि पिछले तीन बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी से उन्हें हार का सामना करना पड़ रहा है। इसमें से दो सीरीज उन्होंने तो अपने घर पर गंवाई है। पिछले बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में गाबा मिली हार ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी आज भी नहीं भूल सके हैं। वहीं भारत में उन्होंने 18 सालों से एक भी टेस्ट सीरीज नहीं जीती है। इसी बीच ऑस्ट्रेलिया के स्टार खिलाड़ी स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर ने इस सीरीज को लेकर बड़ा बयान दे दिया है।

क्या बोले ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी

स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर समेत ऑस्ट्रेलिया के टॉप खिलाड़ियों का मानना है कि भारत में टेस्ट सीरीज में जीत एशेज जीतने से बड़ी उपलब्धि है। क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने भारत दौरे की चुनौतियों के बारे में बात की। इस वीडियो में स्मिथ ने कहा ‘‘सीरीज की बात छोड़िए, भारत में टेस्ट जीतना भी चुनौतीपूर्ण है। हम अगर ऐसा करने में सफल रहे तो यह काफी बड़ी बात होगी। मुझे लगता है कि अगर आप भारत में टेस्ट सीरीज जीतते हैं तो यह एशेज जीत से बड़ी सफलता है।’’ 

ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने कहा कि वह दुनिया के बेस्ट स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ खेलने के लिए काफी ज्यादा उत्सुक हैं। उन्होंने कहा, ‘‘पिछली एशेज का हिस्सा बनना शानदार था लेकिन भारत जाना और भारत को भारत में हराना हमारे लिए टेस्ट क्रिकेट में सबसे कठिन चुनौती है। मैं दौरे के लिए उत्सुक हूं, यह हमेशा एक कठिन परीक्षा होती है। इस दौरे पर मैं दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्पिनरों के खिलाफ खुद को परखने के लिए तैयार हूं।’’ 

तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड ने कहा, ‘‘ काफी समय हो गया जब ऑस्ट्रेलिया ने भारत में टेस्ट सीरीज अपने नाम की हो। वर्ल्ड क्रिकेट में यह हर किसी का लक्ष्य भारत में कोशिश करना और जीतना होता है।’’ मिचेल स्टार्क ने भी कहा कि ‘‘भारत में सीरीज जीतना किसी भी टीम के लिए सिर पर ताज के समान है। अगर हम भारत दौरे और इंग्लैंड दौरे पर एशेज में जीत दर्ज करते हैं तो यह शानदार उपलब्धि होगी। 

क्या बोले कप्तान

कमिंस ने कहा, ‘‘ भारत में श्रृंखला जीतना इंग्लैंड में एशेज जीतने की तरह है। मैं हालांकि इसे एशेज से बड़ी उपलब्धि मानूंगा। अगर हम यहां जीतते हैं तो यह करियर की बड़ी उपलब्धि होगी।’’

Latest Cricket News





Source link

Continue Reading