Connect with us

TRENDING

सर्वे: हिमाचल में AAP का खाता खुलना मुश्किल, 6% ही वोट; पर एक गुड न्यूज

Published

on


हिमाचल प्रदेश में चुनाव तारीखों का ऐलान हो चुका है। चुनाव आयोग ने शुक्रवार को बताया कि पहाड़ी राज्य में 12 नवंबर को वोटिंग होगी और 8 दिसंबर को नतीजे घोषित होंगे। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सामने सरकार दोहराने की बड़ी चुनौती है, क्योंकि पिछले 37 सालों में यह सरकार बदलने की परंपरा है। हालांकि, कांग्रेस पार्टी के बड़े नेताओं के भारत जोड़ो यात्रा में व्यस्त होने और राज्य में नेताओं के बीच गुटबाजी की वजह से कांग्रेस के लिए सत्ता पाना आसान नहीं होगा। चुनावी दंगल में इस बार आम आदमी पार्टी (आप) भी है। इस बीच सी-वोटर ने ताजा सर्वे पेश किया है। 

एबीपी न्यूज पर प्रसारित सी वोटर के सर्वे के मुताबिक, राज्य में एक बार फिर भाजपा की सरकार बन सकती है। सर्वे में अनुमान लगाया गया है कि 68 सीटों वाली विधानसभा में भाजपा को 38-46 सीटें मिल सकती हैं। कांग्रेस के ‘हाथ’ में 20-28 सीटें आ सकती हैं। वोट शेयर की बात करें तो भाजपा को 46 फीसदी और कांग्रेस को 35.2 फीसदी वोट शेयर मिलने का अनुमान है। 

हिमाचल में टूट जाएगा 37 सालों का रिकॉर्ड? सर्वे में जनता ने बताया मूड

AAP का क्या हाल?

सर्वे का अनुमान है कि सभी सीटों पर अकेले लड़ने की तैयारी कर चुकी आम आदमी पार्टी को 0-1 सीट से ही संतोष करना पड़ सकता है। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली पार्टी को 6.3 फीसदी वोट शेयर मिलने का अनुमान लगाया गया है। 

एक खुशखबरी भी है

सर्वे के मुताबिक भले ही उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी का खाता खुलना मुश्किल है। लेकिन पार्टी को एक फायदा होता दिख रहा है। ‘आप’ को 6.3 फीसदी वोट शेयर मिलने की भविष्यवाणी की गई है। यदि पार्टी हिमाचल में इतना वोट शेयर हासिल कर लेती है तो उसे राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल सकता है। ‘आप’ को दिल्ली के अलावा पंजाब और गोवा में प्रादेशिक पार्टी का दर्ज मिल चुका है। यदि हिमाचल में भी पार्टी को 6 फीसदी से अधिक वोट शेयर मिलता है तो उसे एक और राज्य में मान्यता मिल जाएगी। नियम के मुताबिक, 4 राज्यों में मान्यता मिलने से स्वत: ही राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल जाता है।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

प्रधानमंत्री मोदी ‘प्रबंधन गुरु’ हैं, हमारे ‘हेडमास्टर’ हैं: गिरिराज सिंह

Published

on

By


आणंद:

 केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘प्रबंधन गुरु’ और देश में मीठी क्रांति लाने वाले ‘हेडमास्टर’ की संज्ञा दी. केंद्र की मोदी सरकार में ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग संभालने वाले सिंह गुजरात में यहां ग्रामीण प्रबंधन संस्थान आणंद (आईआरएमए) के 42वें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे. मंत्री ने कहा कि हरित क्रांति को कृषि वैज्ञानिक एम. एस. स्वामीनाथन से जोड़ने के साथ-साथ पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को भी इसका श्रेय दिया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें

उन्होंने कहा, ‘‘स्वामीनाथन एक वैज्ञानिक थे, हरित क्रांति की शुरुआत करने में अहम भूमिका उनकी थी. लेकिन लाल बहादुर शास्त्री ही थे, जिनके पास ऐसी क्रांति लाने की इच्छाशक्ति थी… जब भी हम शास्त्री को याद करेंगे, हमें स्वामीनाथन की याद अपने आप आएगी… आज उस पहल के लिए धन्यवाद, हम खाद्यान्न निर्यात करते हैं.”

उन्होंने शहद उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए मधुमक्खी पालन को बढ़ावा देने संबंधी मोदी सरकार के प्रयासों का जिक्र करते हुए कहा कि वर्गीज कुरियन के नेतृत्व में दुग्ध उत्पादन में श्वेत क्रांति हुई और अब तीसरी क्रांति हुई है. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता ने कहा, ‘‘(कोरोना वायरस) महामारी के बाद, मोदी को एक प्रबंधन गुरु के रूप में जाना जाता है और पूरी दुनिया उनके सामने सम्मान से सिर झुकाती है.” सिंह ने स्नातक छात्रों से ग्रामीण भारत के लिए काम करने और गांवों में रहने वाले लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाधान खोजने का आग्रह किया.

ये भी पढ़ें – 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Continue Reading

TRENDING

जयशंकर ने दक्षिण अफ्रीका और सऊदी अरब के विदेश मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय वार्ता की

Published

on

By


केपटाउन:

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बृहस्पतिवार को दक्षिण अफ्रीका और सऊदी अरब के विदेश मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठकें कीं और वैश्विक हालात पर विचार-विमर्श करने के साथ-साथ संबंधों में प्रगति की समीक्षा की. पांच देशों- ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के समूह ब्रिक्स के एक सम्मेलन में भाग लेने यहां आए जयशंकर ने समूह के विदेश मंत्रियों की बैठक से इतर दोनों नेताओं से बातचीत की. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘दक्षिण अफ्रीका की विदेश मंत्री नालेदी पांडोर के साथ अच्छी मुलाकात हुई. केपटाउन में हमारे स्वागत के लिए उनका आभार. हमारी रणनीतिक साझेदारी की प्रगति की समीक्षा की और हमारे राजनयिक संबंधों की 30वीं वर्षगांठ यथोचित तरीके से मनाने पर सहमति बनी.”

यह भी पढ़ें

दोनों नेताओं ने ब्रिक्स, इब्सा (भारत, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका), जी20 और संयुक्त राष्ट्र संबंधी विषयों पर विचारों का आदान-प्रदान किया. इन सभी मंचों पर दोनों पक्षों की घनिष्ठ सहयोग की परंपरा है. सऊदी अरब के विदेश मंत्री फैसल बिन फरहान के साथ मुलाकात में जयशंकर ने वैश्विक परिस्थिति पर बातचीत की. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘विदेश मंत्री प्रिंस फैसल बिन फरहान से मिलकर अच्छा लगा. वैश्विक परिस्थिति पर सकारात्मक बातचीत हुई. रणनीतिक साझेदारी परिषद के माध्यम से द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ाने की आशा है.”

ये भी पढ़ें – 

 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Continue Reading

TRENDING

जॉर्डन के क्राउन प्रिंस हुसैन बिन अब्दुल्ला ने सऊदी आर्किटेक्ट से की शादी, देखें खूबसूरत तस्वीरें

Published

on

By


क्राउन प्रिंस अल हुसैन बिन अब्दुल्ला द्वितीय और रजवा खालिद बिन मुसैद की शादी मिड-सेंचुरी ज़हरान पैलेस में हुई.

अम्मान:

जॉर्डन के 28 साल के क्राउन प्रिंस अल हुसैन बिन अब्दुल्ला द्वितीय की 28 साल की सऊदी आर्किटेक्ट रजवा खालिद बिन मुसैद बिन सैफ बिन अब्दुल्लाजीज अल सैफ से गुरुवार को शादी हो गई. यह शादी दुनियाभर में चर्चा का विषय बनी हुई है. दोनों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं.

lqahhae

शादी समारोह जॉर्डन की राजधानी अम्मान में मिड-सेंचुरी ज़हरान पैलेस में हुआ. इस समारोह में किंग अब्दुल्ला द्वितीय से लेकर क्वीन रानिया और शाही परिवार के सदस्य शामिल हुए. जॉर्डन के गायक हुसैन सलमान ने शादी में स्पेशल परफॉर्मेंस दी. शादी में शाही परिवार समेत कुल 140 मेहमानों ने शिरकत की. अमेरिका की फर्स्ट लेडी जिल बाइडेन, वेल्स के प्रिंस और प्रिंसेस भी शादी में शामिल हुए.

0haip22o

इस शादी के लिए पूरे जॉर्डन में गुरुवार को पब्लिक हॉलिडे का ऐलान किया गया है, ताकि लोगों की भीड़ नए कपल के काफिले पर फूल बरसाने के लिए इकट्ठा हो सके. शाही परिवार शादी की पार्टी और डिनर के बाद आगे के समारोहों के लिए अल हुसैनिया पैलेस जाएंगे. क्राउन प्रिंस हुसैन बिन अब्दुल्ला की सगाई रजवा खालिद बिन सैफ के साथ पिछले साल जुलाई में हुई थी.

auga58f

देश भर में इस शादी को लाइवस्ट्रीम किया गया है. विशाल स्क्रीन पर शादी की रस्में देखी जा सकती हैं. इस मौके पर लोगों को र सफेद और लाल चेक वाले स्कार्फ पहने देखा जा सकता है. यह स्कार्फ जॉर्डन के शासक परिवार का राजचिन्ह है.

61 साल के किंग अब्दुल्ला द्वितीय 1999 से राजगद्दी पर हैं. उन्होंने अपने सबसे बड़े बेटे हुसैन बिन अब्दुल्ला को उत्तराधिकारी बनाने के लिए लंबे समय से तैयार किया. किंग ने क्राउन प्रिंस को महत्वपूर्ण यात्राओं और बैठकों में अपने साथ रखा. प्रिंस हुसैन 2009 में सिंहासन के उत्तराधिकारी बने. जब उनके पिता ने 2004 में अपने सौतेले भाई हमजा से उपाधि हटा दी.



Source link

Continue Reading