Connect with us

TRENDING

श्रद्धा मर्डर केस: शातिर है आफताब, बदल रहा बयान, किसी एक थ्योरी पर यकीन करना मुश्किल, लगातार छानबीन जुटी है दिल्ली पुलिस

Published

on


Image Source : FILE
श्रद्धा मर्डर केस

महरौली में हुई श्रद्धा हत्याकांड की जांच प्रोफेशनल तरीके से की जा रही है। आफताब को पुलिस​ रिमांड पर लिए जाने के बाद उसका नार्को टेस्ट भी किया जाएगा। क्योंकि वह बयान से बार बार पलट रहा है। कभी कहता है कि उसने श्रद्धा के 35 टुकड़े नहीं बल्कि 15—20 टुकड़े ही किए थे। कई सबूतों को भी उसने शातिर दिमाग की मदद से छोड़ा नहीं। पुलिस इस मामले में लगातार छानबीन में लगी हुई है। 

दरअसल, 9 नवंबर को दिल्ली पुलिस की इस बात की जानकारी मिली जब मुंबई पुलिस ने महरौली थाने पहुंचकर दिल्ली पुलिस को संपर्क किया और लापता श्रद्धा के बारे में जानकारी दी। उससे जुड़े तमाम दस्तावेज दिल्ली पुलिस को सौंपे। मुंबई पुलिस की तरफ से दिल्ली पुलिस को जानकारी दी गई कि श्रद्धा महरौली इलाके में आफताब नाम के एक शख्स के साथ छतरपुर पहाड़ी के एक फ्लैट में रह रही थी।

3 साल से लिव इन रिलेशनशिप में थे आफताब और श्रद्धा

श्रद्धा के पिता ने जानकारी दी कि वह आफताब अमीन पुणे वाला जो कि मुंबई का रहने वाला है उसके साथ पिछले 3 साल से लिव इन रिलेशनशिप में थी और आफताब लगातार पिछले कई सालों से उनकी बेटी के साथ प्रताड़ना करता रहा था। इस जानकारी के बाद दिल्ली पुलिस ने महरौली थाने में किडनैपिंग का मामला दर्ज किया और तफ्तीश शुरू की। जांच के दौरान आफताब को हिरासत में लिया गया और जब उससे पूछताछ शुरू की गई। शुरुआत में उसने पुलिस को गुमराह करते हुए यह बताया कि श्रद्धा उसके साथ लिव इन रिलेशनशिप में रह रही थी, लेकिन कुछ दिन पहले वह जिस किराए के मकान में रह रहे थे उस मकान को छोड़कर चली गई।

लगातार सवालों की बौछार से टूट गया था आफताब, फिर कुबूल किया था गुनाह

इसके अलावा पूछताछ में आफताब ने यह भी बताया कि वह इस केस को लेकर मुंबई पुलिस के सामने भी पेश हो चुका है और उनको भी यह तमाम सारी जानकारी मुहैया करा चुका है। लेकिन दिल्ली पुलिस उसके जवाबों से संतुष्ट नहीं थी। इसलिए पुलिस ने उसको साइंटिफिक तरीके से उससे पूछताछ की। उससे सवाल जवाब किए गए इसके बाद वो टूट गया और उसने श्रद्धा के कत्ल का गुनाह कुबूल कर लिया।

17 नवंबर को मिली पांच दिन की रिमांड

उसके मुताबिक मई 2022 से वह श्रद्धा के साथ छतरपुर के इसी फ्लैट में रह रहा था। 18 मई 2022 को उसने श्रद्धा का गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद उसने श्रद्धा की लाश को अलग-अलग टुकड़ों में काटकर और ठिकाने लगा दिया। उसके कुबूलनामे से जुड़े तमाम सबूत इकट्ठा करने के लिए 12 नवंबर को आफताब को गिरफ्तार किया गया। उसको 5 दिन की रिमांड पर लिया गया और 17 तारीख को फिर से 5 दिन की रिमांड अदालत से मिली।

श्रद्धा के पिता और भाई के लिए गए डीएनए सैंपल

तफ्तीश के  दौरान दिल्ली पुलिस ने किराए पर लिए गए छतरपुर के उस फ्लैट का FSL की मदद से मुआयना किया। तमाम सबूत इकट्ठा किए गए उस जगह से पुलिस ने कई अन्य चीजें भी बरामद किए हैं। आरोपी आफताब की निशानदेही पर महरौली के जंगलों से भी कुछ हड्डियां बरामद की गई हैं। इन्हें जांच के लिए भेज दिया गया है। ये जांचने के लिए जो हड्डियां बरामद हुई हैं उसके लिए श्रद्धा के पिता और भाई के डीएनए सैंपल भी लिए गए हैं।

डिजिटल डिवाइस बरामद, फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा

इसके अलावा मौके से कुछ डिजिटल डिवाइस भी जब्त किए गए हैं जिनको फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया है ताकि उनका डिलीट किया गया डाटा वापस लाया जा सके।तमाम जानकारियां जो अब तक आरोपी के द्वारा मुहैया कराई गई हैं उनकी तस्दीक के लिए कोर्ट के आदेश के बाद उसका नारको टेस्ट करवाया जाएगा।

जांच के लिए कई टीमें अलग अलग राज्यों में जुटा रहीं जानकारी

जांच के लिए कई टीमें अलग-अलग राज्यों में मौजूद हैं ताकि आरोपी और श्रद्धा की जिंदगी से जुड़े कई जरूरी बातें पता चल सके। इसके अलावा कई टीमें श्रद्धा के सर की तलाश में लगी हैं लेकिन अभी तक भी पुलिस को सिर नहीं मिल पाया है।

24 घंटे छानबीन कर रही है दिल्ली पुलिस

तमाम पुलिस की टीमें 24 घंटे इस केस से जुड़े कागजात को तैयार करने के अलावा जो अलग-अलग तथ्य इस केस को लेकर सामने आ रहे हैं, उनकी जांच कर रही है। दिल्ली पुलिस के मुताबिक केस अभी शुरुआती जांच में है ऐसे में किसी एक थ्योरी पर यकीन कर लेना काफी मुश्किल है। लिहाजा ऐसे में दिल्ली पुलिस के बेस्ट अधिकारियों की मदद ली जा रही है और इस केस को सुलझा ने की पूरी कोशिश की जा रही है।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

Mainpuri ByPoll: डबल इंजन की सरकार पर भारी ‘नेताजी‘ की सहानुभूति लहर, डिंपल यादव जीत की ओर

Published

on

By


Image Source : FILE
Dimple Yadav

मैनपुरी उपचुनाव: उत्तर प्रदेश की प्रतिष्ठित मैनपुरी सीट से मुलायम सिंह यादव की बहू और अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव जीत की ओर अग्रसर हैं। वे इस समय सवादो लाख से अधिक वा मुलायम सिंह यादव यानी ‘नेताजी‘ के निधन के बाद यह सीट रिक्त हुई थी। इस सीट पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने अपनी पत्नी को चुनावी मैदान में उतारा था। 

चुनाव में आरजेडी, असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम जैसी पार्टियों ने मुलायम सिंह यादव की रही इस सीट पर सहानुभूति के रूप में अपने प्रत्याशी मैदान में नहीं उतारे थे। हालांकि बीजेपी ने इस सीट को जीतने की भरसक कोशिश की। बीजेपी ने रघुराज शाक्य को मैदान में उतारा, लेकिन यूपी की बीजेपी सरकार यानी बीजेपी की केंद्र और राज्य की डबल इंजन की सरकार पर ‘नेताजी‘ की सहानुभूति लहर भारी पड़ी।

मैनपुरी उपचुनाव की मतगणना में शुरू से ही डिंपल यादव ने अपने प्रतिद्वंद्वी बीजेपी के रघुराज शाक्य से बढ़त बनाए रखी। पहले 24 हजार, फिर 50 हजार से अधिक और फिर 1 लाख से अधिक वोट, फिर सवा दो लाख से अधिक वोटों से वे आगे रहीं। जैसे जैसे मतगणना आगे बढ़ती रही,ए डिंपल और शाक्य के वोटों का अंतर भी आगे बढ़ता रहा। 

सपा के लिए मुलायम सिंह यादव की सहानुभूति लहर

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने जिस तरह से अपनी पत्नी डिंपल को मैदान में उतारा और हाल ही में चाचा शिवपाल यादव ने भी अपनी बहू के लिए प्रचार में जितना जोर लगाया है, उससे सपा इस बात पर आश्वस्त थी कि मैनपुरी चुनाव का परिणाम उनके पक्ष में ही जाएगा। दरअसल, यूपी में मुलायम सिंह यादव, का राजनीतिक कद काफी बड़ा था। उनके निधन के बाद सहानुभूति की लहर में डिंपल यादव के पक्ष में ये सीट चली गई। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News News in Hindi के लिए क्लिक करें इलेक्‍शन सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

TRENDING

मंत्रियों को समझाएं कि कॉलेजियम पर ना बोलें, हम संसद के कानून खारिज कर दें तो क्या होगा: SC

Published

on

By



अदालत ने गुरुवार को अटॉर्नी जनरल आर. वेंकटरमानी से कहा कि वह केंद्रीय मंत्रियों को सलाह दें कि कॉलेजियम की व्यवस्था की सार्वजनिक आलोचना करने से बचें। कानून मंत्री ने कॉलेजियम पर टिप्पणी की थी।



Source link

Continue Reading

TRENDING

“कहीं ऐसा न हो, राहुल गांधी को ‘कांग्रेस खोजो’ यात्रा करनी पड़े…”, गुजरात नतीजों पर शिवराज चौहान ने कसा तंज़

Published

on

By


शिवराज सिंह चौहान ने राहुल गांधी पर कसा तंज

गुजरात में बीजेपी की प्रचंड जीत को लेकर बीजेपी खेमे में काफी उत्साह है. इस जीत के साथ ही कांग्रेस की जीत के दावे भी धूल हो गए. इस पर जब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कहा कि राहुल जी भारत जोड़ो यात्रा कर रहे हैं ऐसा ना हो बाद में उन्हें कांग्रेस खोजो यात्रा करनी पड़े. गुजरात के नतीजों में 20 के नीचे समिट जाना अपने आप में कांग्रेस की स्थिति बताता है. अब वे सोचे या ना सोचें, लेकिन सच में यह भारतीय जनता पार्टी के लिए यह विजय अद्भुत और अभूतपूर्व है. 

यह भी पढ़ें

वहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गुजरात में भाजपा की प्रचंड जीत गुजरात की जनता की भाजपा और पीएम मोदी के प्रति अटूट विश्वास और स्नेह की जीत है. गुजरात में भाजपा ने जो विकास की राजनीति की, जनता ने उस पर फिर एक बार मोहर लगाई है. इस विश्वास के लिए गुजरात की जनता का कोटि कोटि धन्यवाद. प्रधानमंत्री मोदी जी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री भुपेंद्रभाई पटेल, प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल समेत पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को हार्दिक बधाई.

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि गुजरात चुनावों में भाजपा की ऐतिहासिक विजय विकास, सुशासन और लोक कल्याण के प्रति पार्टी की प्रतिबद्धता की जीत है. इस विजय का सबसे बड़ा श्रेय पीएम मोदी  के नेतृत्व के प्रति जनविश्वास, उनकी लोकप्रियता और विश्वसनीयता को जाता है. उन्हें बधाई एवं जनता के प्रति आभार. वहीं सीआर पाटिल ने कहा कि यह केंद्र और गुजरात में भाजपा सरकार के सुशासन और विकास की जीत है.

बता दें कि गुजरात में तो बीजेपी की प्रचंड लहर दिखी लेकिन वह हिमाचल प्रदेश का किला नहीं बचा सकी. हिमाचल में कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है. 

 

Featured Video Of The Day

कांग्रेस अपने विधायकों को हिमाचल से कर सकती है शिफ्ट : सूत्र



Source link

Continue Reading