Connect with us

TRENDING

लवलीना और निकहत ने नेशनल बॉक्सिंग में जीता गोल्ड, टीम ट्रॉफी पर रेलवे का कब्जा

Published

on

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

WPL 2023 को लेकर बड़ा ऐलान, जानिए कब से कब तक और कहां खेला जाएगा टूर्नामेंट

Published

on

By



वुमेंस प्रीमियर लीग यानी WPL को लेकर आईपीएल के चेयरमैन अरुण धूमल ने बड़ा ऐलान कर दिया है। उन्होंने इस बात की जानकारी दे दी है कि टूर्नामेंट कब से कब तक और कहां खेला जाएगा।



Source link

Continue Reading

TRENDING

सलमान रुश्दी बोले- टाइपिंग और लिखने में हो रही दिक्कत

Published

on

By


Image Source : INDIA TV/IANS
सलमान रुश्दी बोले- टाइपिंग करने और लिखने में हो रही दिक्कत

मशहूर लेखक और उपन्यासकार सलमान रुश्दी पर बीते दिनों अमेरिका में जानलेवा हमला हुआ था। इस हमले में उनकी एक आंख की रोशनी चली गई। रुश्दी ने इस मामले पर कहा था कि वे भाग्यशाली हैं जो बच गएं। उन्होंने कहा कि मैं भाग्यशाली था, मैं कृतज्ञ हूं। मुझे अब ठीक लग रहा है। लेकिन मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि मैं इतना बुरा भी नहीं हूं। उन्होंने द न्यूयॉर्कर के पत्रकार से बातचीत में बताया कि आंखों की रोशनी चली जाने के कारण उन्हें अब टाइपिंग करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि लिखने में भी अब काफी परेशानी हो रही है।

बता दें कि सलमान रुश्दी पर यह हमला पिछले साल अगस्त महीने में हुआ था जब वे न्यूयॉर्क राज्य में एक कार्यक्रम में मंच पर थे। इस दौरान उनपर हमला हुआ जिसमें उनके एक आंख की रोशनी चली गई। इस घटना के बाद उन्हें कई दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ा। हमले में उन्हें काफी चोट आई थी, जिसके बड़े घाव भर गएं। रुश्दी ने कहा कि फिजियोथिरेपी के बाद अंगूठे, तर्जनी और हथेली के निचले आधे हिस्से ने काम करना शुरू कर दिया है। मुजे बताया गया है कि अब मैं ठीक हूं। रुश्दी ने कहा कि उनकी कुछ उंगलियों में महसूस करने की कमी के कारण टाइप करने व लिखने में दिक्कत हो रही है।

रुश्दी ने कहा कि यह एक बड़ा हमला था। मैं खुद से चल सकता हूं और ठीक हूं। मैं जब कहता हूं कि मैं ठीक हूं इसका मतलब है कि मेरे शरीर के कुछ हिस्सों में लगातार जांच की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमले से उन्हें मानसिक चोटें बी आई हैं और उन्हें सुरक्षा के प्रति अपने दृष्टिकोण पर फिर से विचार करना पड़ रहा है। बता दें कि सलमान रुश्दी अपने लेखनी के कारण विवादों में बने रहते हैं। पिछले दो दशक से वे बिना किसी सुरक्षा के अपना जीवन जी रहे हैं। उन्होंने बताया कि जब मैं लिखने बैठता हूं तब मैं लिख नहीं पाता। कभी कभी खालीपन सा लगता है। मैं जो लिखता हूं, उसे अगले दिन मिटा देता हूं। मैं हकीकत में अबतक उस हमले से उबर नहीं पाया हूं।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

TRENDING

72 साल के दादाजी करते हैं पावर लिफ़्टिंग, 115Kg भार उठाते हैं, राष्ट्रीय स्तर पर जीते हैं कई मेडल

Published

on

By


सोचिए, अगर कोई पूरी ज़िंदगी नौकरी करने के बाद जब रिटायर होते हैं तो क्या करते हैं? यही न कि आराम से परिवार के साथ ज़िदगी गुजारते हैं. घूमते हैं, बच्चों के साथ समय बिताते हैं. मगर केरल के एल ऐसे शख्स हैं, जिन्होंने रिटायरमेंट के बाद एक अलग काम चुना. उन्होंने  पावर लिफ़्टिंग को अपना करियर बनाया. आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि  पावर लिफ़्टिंग करने की सही उम्र 20-25 साल है. मगर 72 साल के एक शख्स की कहानी ज़रा हटके है.

यह भी पढ़ें

कौन हैं?

इनका नाम के सी श्रीनिवासन है. ये केरल के रहने वाले हैं. वैसे तो 19 साल की उम्र से ही इन्होंने बॉडी बिल्डिंग शुरु कर दी थी, मगर नौकरी के कारण इसपर ज़्यादा ध्यान नहीं दे पाए. हालांकि newindianexpress की रिपोर्ट के अनुसार, 1972 से 1984 के बीच उन्होंने कई बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया.

रिटायरमेंट के बाद पावर लिफ़्टिंग की शुरुआत

रिटायर होने के बाद एक बार  के सी श्रीनिवासन ने अपना पैशन फॉलो किया. उन्होंने 60 साल की उम्र में बॉडी बिल्डिंग की शुरुआत की. उस समय उनके परिजन और दोस्त मना कर रहे थे, मगर उन्होंने इसे एक चैलेंज के तौर पर लिया. आज वो एक सफल प्रोफेशन पावर लिफ्टर हैं. 

कई राष्ट्रीय पावरलिफ़्टिंग प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले चुके हैं

जिस उम्र में लोग शरीर से रिटायर हो जाते हैं उस उम्र में के सी श्रीनिवासन ने पूरी दुनिया को एक अलग ही राह दिखाई है. सोशल मीडिया पर लोग इनकी कहानी को जानकर बेहद खुश हैं. newindianexpress से बात करते हुए श्रीनिवासन बताते हैं वे कई राष्ट्रीय पावरलिफ़्टिंग प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले चुके हैं. उन्होंने आंध्र प्रदेश, झारखंड, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर जाकर कई मेडल्स जीते हैं. इस उम्र में यह बहुत बड़ी उपलब्धि है.

2017 में श्रीनिवासन ने केरल में हुए एशियन पावरलिफ़्टिंग चैंपियनशिप में हिस्सा लेकर सबको चौंका दिया था. इस प्रतियोगिता में श्रीनिवासन ने गोल्ड मेडल जीता. उन्होंने स्क्वॉट और बेंचप्रेस में 85Kg और डेडलिफ़्ट में 115Kg भार उठाकर सबको पूरी तरह से हैरान कर दिया था.

बॉडी ऐसी की आज के युवा शरमा जाए

72 साल की उम्र में श्रीनिवासन की बॉडी बहुत ही ज्यादा फिट है. ऐसा लगता है कि कोई 25 साल के युवा की बॉडी है. खान-पान के बारे में वो बताते हैं कि वो बिल्कुल घर का खाना खाते हैं. 

Featured Video Of The Day

सोनिया गांधी ने कहा- “गरीबों पर मोदी सरकार का ‘मौन प्रहार’ है बजट”



Source link

Continue Reading