Connect with us

TRENDING

रूस पर US की ‘सर्जिकल स्ट्राइक’, कई अहम व्यक्तियों और कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध

Published

on


अमेरिका ने रूस की ओर से यूक्रेन के कुछ हिस्से के विलय को फर्जी करार देते हुए खारिज कर दिया है। इसके साथ-साथ अमेरिका ने रूस के 1000 से अधिक लोगों और कंपनियों पर प्रतिबंध भी लगा दिया है। जिनमें सेंट्रल बैंक गवर्नर और राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के सदस्यों के परिवार भी शामिल हैं। यूक्रेन के चार क्षेत्रों को अपने देश में शामिल करने के ऐलान के साथ ही पुतिन ने यूक्रेन के साथ बातचीत के लिए बैठने का आग्रह भी किया, लेकिन आगाह किया कि मास्को रूस में शामिल किए गए उसके हिस्से को नहीं छोड़ेगा।

अमेरिकी वाणिज्य विभाक ने अपनी सूची में 57 कंपनियों को शामिल किया है तो वहीं विदेश विभाग ने 900 लोगों के नाम वीजा पाबंदी सूची में जोड़े हैं। वित्त मंत्री जेनेट येलेन ने कहा, ‘हम पुतिन के साथ खड़े नहीं होंगे क्योंकि वह धोखे से यूक्रेन के कुछ हिस्सों पर कब्जा करने का प्रयास कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘वित्त मंत्रालय और अमेरिकी सरकार रूस के पहले से ही खराब हो चुके सैन्य औद्योगिक परिसर को और कमजोर करने तथा इसके अवैध युद्ध छेड़ने की क्षमता को कमजोर करने के लिए आज व्यापक कार्रवाई कर रहे हैं।’

पुतिन ने अंतरराष्ट्रीय कानूनों को बताया धता

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अंतरराष्ट्रीय कानूनों को धता बताते हुए यूक्रेन के कुछ हिस्सों को रूस में मिलाने की घोषणा की। क्रेमलिन के भव्य श्वेत और सुनहरे सेंट जॉर्ज हॉल में विलय समारोह में पुतिन और यूक्रेन के चार क्षेत्रों के प्रमुख, रूस में शामिल होने के लिए संधियों पर हस्ताक्षर किए। इसके साथ ही सात महीनों से चल रहे युद्ध में और तेजी आने की आशंका है।

रूस द्वारा यूक्रेन के कब्जे वाले क्षेत्रों को अपने में मिलाने के लिए किए गए जनमत संग्रह के तीन दिनों बाद चार क्षेत्रों को मिलाने का ऐलान किया गया। यूक्रेन और पश्चिमी देशों ने इसे सीधे-सीधे जमीन कब्जाना करार देते हुए कहा कि यह बंदूक के बल पर झूठी कवायद है। 

कुछ इलाके पहले से ही रूस के समर्थक रहे

पूर्वी यूक्रेन के अलगाववादी दोनेत्स्क और लुहांस्क क्षेत्र को 2014 में आजादी की घोषणा के बाद से ही रूस का समर्थन मिला था। यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप के विलय के कुछ हफ्तों बाद ही रूस ने यह कदम उठाया था। यूक्रेन में 24 फरवरी को रूसी सैनिकों के हमले के कुछ दिनों बाद ही दक्षिणी खेरसान क्षेत्र और पड़ोसी जापोरिज्जिया के कुछ क्षेत्रों पर रूस ने कब्जा कर लिया था। 

यूक्रेन के खिलाफ रूस ने तेज किए हमले

क्रेन के जापोरिज्जिया शहर पर रूस के ताजा हमले में कम से कम 23 लोगों की मौत हो गई और 28 घायल हुए हैं। जापोरिज्जिया के क्षेत्रीय गवर्नर ओलेक्सांद्र स्तारुख ने शुक्रवार को एक ऑनलाइन बयान जारी कर यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रूस की सेना ने रूस के कब्जे वाले क्षेत्र की ओर मानवीय सहायता लेकर जा रहे एक काफिले पर हमला किया।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

FIFA World Cup 2022: फुटबॉल विश्व कप में बड़ा उलटफेर, ब्राजील को हराकर सेमीफाइनल में क्रोएशिया

Published

on

By



क्रोएशियाई गोलकीपर डॉमिनिक ने रोड्रिगो और मार्किन्होस के गोल बचाए। नेमार ने पहले हाफ के अतिरिक्त समय में ब्राजील को बढ़त दिलाई थी, लेकिन क्रोएशिया ने ब्रुनो पेतकोविच के गोल से बराबरी हासिल की।



Source link

Continue Reading

TRENDING

पुरानी पेंशन व्यवस्था को अपनाना राज्यों के लिए नासमझी भरा कदम: 15वें वित्त आयोग के चेयरमैन

Published

on

By


नई दिल्ली:

15वें वित्त आयोग के चेयरमैन एनके सिंह ने शुक्रवार को कहा कि बहुत विचार-विमर्श के बाद लागू की गई नई पेंशन योजना को छोड़ना राज्यों के लिये ‘नासमझी’ भरा कदम होगा और यह उन्हें ‘कठिनाइयों और दबाव’ में डाल देगा. भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के कार्यक्रम के दौरान अलग से बातचीत में सिंह ने कहा कि व्यापक विचार-विमर्श के बाद नई पेंशन योजना को अपनाया गया था.

यह भी पढ़ें

कांग्रेस और आप जैसे राजनीतिक दल मतदाताओं से पुरानी पेंशन योजना लागू करने का वादा कर रहे हैं. राजस्थान और छत्तीसगढ़ जैसे कुछ राज्यों में कांग्रेस पहले ही पुरानी पेंशन योजना को बहाल कर चुकी है. वहीं आम आदमी पार्टी (आप) ने पंजाब में पुरानी पेंशन को लागू करने की बात कही है.

कांग्रेस ने हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने का वादा किया है. यह पार्टी का बड़ा चुनावी वादा था और कांग्रेस गुरुवार को घोषित नतीजों में बहुमत हासिल करने में सफल रही.

यह पूछे जाने पर कि राज्य पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल कर रहे हैं, सिंह ने कहा, ‘‘नई पेंशन योजना को छोड़ना और पुरानी व्यवस्था को अपनाना नासमझी भरा कदम है.” उन्होंने कहा कि पिछली सरकार के दौरान इस पर बहुत सावधानी के साथ चर्चा हुई थी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह इसके पक्ष में थे.

सिंह ने कहा, ‘‘मेरे सहयोगी मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने इस विषय पर विस्तार से टिप्पणी की है कि नई पेंशन योजना से पीछे हटना और पुरानी पेंशन योजना को अपनाना राज्य के लिए वित्तीय आपदा होगी. कुछ राज्य जो इसे लागू कर रहे हैं, वास्तव में वे प्रदेश की वित्तीय स्थिति को ‘बड़ी कठिनाइयों और दबाव में’ डाल रहे हैं. नई पेंशन योजना के पीछे ठोस आर्थिक तर्क हैं.”

Featured Video Of The Day

TMC नेता साकेत गोखले को मिली बेल, गुरुवार को दोबारा हुई थी गिरफ्तारी



Source link

Continue Reading

TRENDING

FIFA World Cup 2022: फीफा वर्ल्ड कप के क्वार्टर फाइनल में बड़ा उलटफेर, क्रोएशिया ने ब्राजील को किया बाहर

Published

on

By


Image Source : PTI
Brazil vs Croatia

FIFA World Cup 2022: फीफा वर्ल्ड कप 2022 के पहले ही क्वार्टर फाइनल में एक बड़ा उलटफेर हो गया है। इस मुकाबले में क्रोएशिया के सामने 5 बार की चैंपियन टीम ब्राजील थी। दोनों टीमें 90 मिनट तक 0-0 से बराबरी पर रहीं और इसके बाद खेल एक्ट्रा टाइम में पहुंचा। वहां दोनों टीमों ने एक-एक गोल किया। लेकिन जब बात पेनल्टी शूटआउट की आई तो बाजी क्रोएशिया ने मार ली।

पेनल्टी में भारी पड़ी क्रोएशिया की टीम

क्रोएशिया ने शुक्रवार को फीफा विश्व कप क्वार्टरफाइनल में पांच बार की चैम्पियन ब्राजील को पेनल्टी शूटआउट में 4-2 से हराकर उलटफेर करते हुए बाहर कर दिया। क्रोएशियाई गोलकीपर डॉमिनिक लिवाकोविच ने रोड्रिगो और मार्किन्होस के गोल बचाये। नेमार ने पहले हाफ के अतिरिक्त समय में ब्राजील को बढ़त दिलायी थी लेकिन क्रोएशिया ने ब्रुनो पेतकोविच के 117वें मिनट में किये गये गोल से बराबरी हासिल की। क्रोएशिया का सामना अब अर्जेंटीना और नीदरलैंड के बीच होने वाले क्वार्टरफाइनल की विजेता से होगा। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Other Sports News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन





Source link

Continue Reading