Connect with us

Business

राज्यों का बचेगा काफी धन

Published

on


केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) के तहत एक साल के लिए राशन की दुकानों पर मुफ्त गेहूं और चावल देने का फैसला किया है। इससे सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत खाद्य आपूर्ति पर अतिरिक्त सब्सिडी देने वाले राज्यों को वित्त वर्ष 2024 में भारी बचत हो सकती है। केंद्र सरकार एनएफएसए के तहत राज्यों को 3 रुपये किलो चावल और 2 रुपये किलो गेहूं मुहैया कराती है। तमाम राज्य सस्ते गल्ले की दुकान पर इससे अतिरिक्त सब्सिडी भी देते हैं। आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, ओडिशा और तेलंगाना जैसे राज्य चावल पर 1 रुपये किलो अतिरिक्त सब्सिडी देते हैं, जबकि झारखंड, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल चावल और गेहूं राशन की दुकानों पर मुफ्त देते हैं।

राज्यों द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी में खाद्य सब्सिडी का बड़ा हिस्सा है। राज्यों द्वारा दी जाने वाली खाद्य सब्सिडी का सटीक आंकड़ा उपलब्ध नहीं है, लेकिन आंध्र प्रदेश अपने कुल सब्सिडी का करीब 40 प्रतिशत खाद्य सब्सिडी पर खर्च करता है, जबकि केरल की कुल सब्सिडी में खाद्य सब्सिडी 86 प्रतिशत है। भारतीय रिजर्व बैंक की हाल की वित्तीय रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 23 में राज्यों ने सब्सिडी के मद में 2.48 लाख करोड़ रुपये बजट रखा था।

15वें वित्त आयोग के चेयरमैन एनके सिंह ने कहा कि खाद्य सब्सिडी में बचत होने पर राज्यों को राजकोषीय लचीलापन मिलेगा, जिसका वे कई तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘मात्रा बढ़ाकर पीडीएस योजना की पहुंच बढ़ाई जा सकती है। स्वास्थ्य और शिक्षा पर बजट बढ़ाया जा सकता है। खासकर स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च बढ़ाया जा सकता है, मेरी नजर में यह क्षेत्र हमेशा उपेक्षा का शिकार रहा है। इसकी सिफारिश वित्त आयोग ने भी की थी। यह राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजना का हिस्सा है। मेरे विचार से यह प्राथमिकता में शामिल होना चाहिए।’

भारत के पूर्व मुख्य सांख्यिकीविद प्रणव सेन ने कहा कि राज्य सरकारों का बहुत ज्यादा धन बचेगा, लेकिन उन्हें केंद्र से राजनीतिक लाभ गंवाना पड़ेगा। उन्होंने कहा, ‘राज्यों के राजनीतिक खेल में खाद्य सब्सिडी अहम है। इसे अब उनसे छीन लिया गया है, क्योंकि मुफ्त खाद्यान्न का पूरा श्रेय अब केंद्र सरकार ले लेगी। अब सवाल यह है कि राजनीतिक फायदा के लिए राज्य सरकारें उस धन का इस्तेमाल किस तरीके से करेंगी।’

ईवाई इंडिया में मुख्य नीति सलाहकार डीके श्रीवास्तव ने कहा कि राज्यों के पास अपने नागरिकों की मदद करने के लिए हमेशा संभावना रहेगी। उन्होंने कहा, ‘इस समय पीडीएस के तहत सीमित खाद्यान्न मुहैया कराया जाता है। राज्य अन्य अनाज भी इसमें शामिल कर सकते हैं, जिन पर सब्सिडी नहीं है। यह राज्यवार अलग अलग हो सकता है, जो उनके नागरिकों की भौगोलिक स्थिति पर निर्भर होगा।’

बहरहाल सेन को यह डर है कि केंद्र सरकार संभवतः राज्यों को पीडीएस के तहत खाद्यान्न की मात्रा बढ़ाने की अनुमति नहीं देगी। उन्होंने कहा, ‘मुझे भरोसा है कि अगर राज्य 5 किलो की जगह 7 किलो खाद्यान्न वितरण की अनुमति मांगेंगे तो केंद्र सरकार राज्यों को अतिरिक्त अनाज का आवंटन नहीं करेगी। राज्यों को भारतीय खाद्य निगम की नीलामी के माध्यम से अनाज लेना पड़ सकता है, जो उनके लिए खर्चीला पड़ सकता है।’

केरल के पूर्व मंत्री थॉमस आइजक ने कहा कि राज्यों पर वित्तीय बोझ कम होगा, लेकिन केंद्र को अतिरिक्त खाद्यान्न देना बंद नहीं करना चाहिए था, जो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मिल रहा था। उन्होंने कहा, ‘केरल में हम पहले से मुफ्त अनाज दे रहे हैं। केंद्र सरकार ने अब अतिरिक्त अनाज देना बंद कर दिया है। ऐसे में केरल के लोगों की स्थिति खराब होगी।’



Source link

Business

सेंसेक्स 400 अंक से अधिक गिर गया, निफ्टी 17,900 के नीचे बंद हुआ

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) गिरावट के साथ बंद हुआ। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही लाल निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 452.90 अंक यानी कि 0.75% की गिरावट के साथ 59,900.37 के स्तर पर बंद हुआ।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 132.70 अंक यानी कि 0.74% की गिरावट के साथ 17,859.45 के स्तर पर बंद हुआ।

आपको बता दें कि, सुबह बाजार सपाट स्तर पर खुला था। इस दौरान सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला था।

जबकि बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था और गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

सेंसेक्स में 77 अंकों की मामूली बढ़त, निफ्टी 18 हजार के पार खुला

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) भी सपाट स्तर पर खुला। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही हरे निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला।

शुरुआती कारोबार के दौरान करीब 1205 शेयरों में तेजी आई, 679 शेयरों में गिरावट आई और 115 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ।

आपको बता दें कि, बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था इस दौरान सेंसेक्स 44.66 अंक यानी कि 0.07% बढ़कर 60702.11 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 17 अंक यानी कि 0.09% ऊपर 18060.00 के स्तर पर खुला था। 

जबकि, शाम को बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

पेट्रोल- डीजल की कीमतें हुईं अपडेट, जानें आज बढ़े दाम या मिली राहत

Published

on

By



डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पेट्रोल- डीजल (Petrol- Diesel) की कीमतों को लेकर लंबे समय से कोई बढ़ा अपडेट देखने को नहीं मिला है। जबकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कई बार जबरदस्त तरीके से गिर चुकी हैं। हालांकि, जानकारों का मानना है कि, आने वाले दिनों में कच्चा तेल महंगा होने पर इसका असर देश में दिखाई दे सकता है। फिलहाल, भारतीय तेल विपणन कंपनियों (इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम) ने वाहन ईंधन के दाम में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया है।

बता दें कि, आखिरी बार बीते साल में 22 मई 2022 को आमजनता को महंगाई से राहत देने केंद्र सरकार द्वारा एक्‍साइज ड्यूटी में कटौती की गई थी। जिसके बाद पेट्रोल 8 रुपए और डीजल 6 रुपए प्रति लीटर तक सस्‍ता हो गया था। इसके बाद लगातार स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है। आइए जानते हैं वाहन ईंधन के ताजा रेट…

महानगरों में पेट्रोल-डीजल की कीमत
इंडियन ऑयल (Indian Oil) की वेबसाइट के अनुसार आज देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 96.72 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। वहीं बात करें डीजल की तो दिल्ली में कीमत 89.62 रुपए प्रति लीटर है। आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल 106.35 रुपए प्रति लीटर है, तो एक लीटर डीजल 94.27 रुपए में उपलब्ध होगा। 

इसी तरह कोलकाता में एक लीटर पेट्रोल के लिए 106.03 रुपए चुकाना होंगे जबकि यहां डीजल 92.76 प्रति लीटर है। चैन्नई में भी आपको एक लीटर पेट्रोल के लिए 102.63 रुपए चुकाना होंगे, वहीं यहां डीजल की कीमत 94.24 रुपए प्रति लीटर है।   

ऐसे जानें अपने शहर में ईंधन की कीमत
पेट्रोल-डीजल की रोज की कीमतों की जानकारी आप SMS के जरिए भी जान सकते हैं। इसके लिए इंडियन ऑयल के उपभोक्ता को RSP लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। वहीं बीपीसीएल उपभोक्ता को RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर भेजना होगा, जबकि एचपीसीएल उपभोक्ता को HPPrice लिखकर 9222201122 नंबर पर भेजना होगा, जिसके बाद ईंधन की कीमत की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

 



Source link

Continue Reading