Connect with us

International

यूरोपीय संघ के साथ एसोसिएशन समझौते के तहत 107 नियमों को लागू करेगा यूक्रेन

Published

on



डिजिटल डेस्क, कीव। यूक्रेन को यूरोपीय और यूरो-अटलांटिक एकीकरण के लिए देश के उप प्रधानमंत्री, यूरोपीय संघ (ईयू) के साथ एसोसिएशन समझौते के तहत 107 नियमों और निर्देशों को लागू करना है।

यूक्रेन की उप प्रधानमंत्री स्टेफनिश्ना ने गुरुवार को सरकारी प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि यूरोपीय संघ के साथ यूक्रेन के एकीकरण के लिए जरूरी विधायी अधिनियमों को संसद को विचार के लिए सौंप दिया गया है।

उन्होंने कहा कि नियमों और निर्देशों के चलते यूक्रेन यूरोपीय संघ से अपने रिश्तों को और मजबूत कर सकेगा। साथ ही ब्लॉक में संभावित परिग्रहण पर वार्ता की शुरुआत का मार्ग भी खुलेगा।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेन और यूरोपीय संघ के बीच एसोसिएशन समझौता 1 सितंबर, 2017 को लागू हुआ। यह समझौते कीव और ब्रुसेल्स को व्यापार, रक्षा, कराधान, सीमा नियंत्रण और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जैसे क्षेत्रों में सहयोग करने में सक्षम बनाता है। 23 जून को, यूरोपीय संघ के नेताओं ने ब्लॉक में सदस्यता के लिए यूक्रेन को एक उम्मीदवार के रूप में अपना समर्थन दिया।

 

आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.



Source link

International

ब्रिटेन ने अब यूक्रेन को भेजी ब्राइमस्‍टोन-2 मिसाइल, रूसी टैकों का बनेगी काल, जानें ताकत

Published

on

By


कीव: रूस और यूक्रेन युद्ध अब 10वें महीने में प्रवेश कर गया है और नाटो देश लगातार घातक हथियार और मिसाइलें यूक्रेन को भेज रहे हैं। इसी के तहत ब्रिटेन ने अब अत्‍याधुनिक ब्राइमस्‍टोन-2 मिसाइल को यूक्रेन को भेजा है। इस घातक मिसाइल में यह क्षमता है कि वह रूसी टैंकों को तबाह कर सकती है और खुद ही अपने लक्ष्‍य का चुनाव कर सकती है। यूक्रेन युद्ध में अब रूस की सेना यूक्रेन के बिजली संयंत्रों को निशाना बना रही है जिससे भीषण ठंड के बीच यूक्रेनी जनता के मनोबल को तोड़ा जा सके।

यूक्रेन की सरकार ने एक बयान जारी करके कहा है कि फरवरी में जंग शुरू होने के बाद रूस ने अब तक 32 हजार नागरिक लक्ष्‍यों को मिसाइलों और तोप के गोलों से निशाना बनाया है। उसने कहा कि केवल 3 प्रतिशत सैन्‍य ठिकानों पर हमला हुआ है। रूस के भीषण हमलों के बीच ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने ऐलान किया है कि उसने यूक्रेन की सेना को ब्राइमस्‍टोन-2 मिसाइल दी है। ब्रिटेन ने कहा कि हमारी सैन्‍य मदद ने रूसी सेना की बढ़त को रोकने में अहम भूमिका निभाई है।
यूक्रेन को 18वीं सदी में धकेल देंगे पुतिन, अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन को चुकानी पड़ेगी कीमत… रूसी सांसद की धमकीमिसाइल की मारक क्षमता 60 किमी तक
यूक्रेन इन मिसाइलों से रूस के टैंकों और अन्‍य हथियारों को निशाना बना रहा है। ब्रिटेन के इन मिसाइलों को भेजने की तस्‍वीरें पिछले द‍िनों सोशल मीडिया में वायरल हो गई थीं। इससे पहले ब्रिटेन ब्राइमस्‍टोन 1 मिसाइल को भेजा था। यूक्रेन की सेना दुश्‍मन के लक्ष्‍यों को तबाह करने के लिए मिसाइलों और लॉन्‍चर्स की तैनाती कर रही है। ब्रिटेन की इस ब्राइमस्‍टोन-2 मिसाइल में अत्‍याधुनिक एयरफ्रेम और अपडेटेट साफ्टवेयर लगाया गया है। यह मिसाइल एक एयरक्राफ्ट से अगर दागी जाती है तो उसकी मारक क्षमता करीब 60 किमी तक रहती है।

ब्राइमस्‍टोन और अन्‍य मिसाइलें रूसी सेना के किसी भी आक्रामक अभियान को करारा जवाब दे सकती हैं। यह लेजर की मदद से या फिर पहले से निर्धारित लक्ष्‍य को तबाह कर सकती है। इसमें एक रेडॉर लगा होता है जो लक्ष्‍य की पहचान करने में मदद करता है। यह रेडॉर मिसाइल को युद्धक्षेत्र को स्‍कैन करने की सुविधा देता है। साथ ही यह सटीक लक्ष्‍य को पहचान करने और उसे तबाह करने में मदद देता है। इस मिसाइल को खासतौर पर जमीनी लक्ष्‍यों को नष्‍ट करने के लिए डिजाइन किया गया है।



Source link

Continue Reading

International

फुटबॉल देखने आए ब्राजील के एक परिवार ने कतर में कबूल किया इस्‍लाम, मौलवी के साथ बांटी अपनी खुशी

Published

on

By


दोहा: कतर की राजधानी दोहा में फुटबॉल के प्रशंसक वर्ल्‍ड कप का आनंद लेने के लिए जुटे हैं। इस वर्ल्‍ड कप के बीच ही यहां पर ब्राजील के एक परिवार के इस्‍लाम कुबूल करने की भी खबरें हैं। ब्राजील के छह लोगों के एक परिवार ने इस्‍लाम धर्म स्‍वीकार कर लिया और अपने फैसले पर परिवार को काफी गर्व है। इस परिवार में माता-पिता और चार बच्‍चों ने इस्‍लाम कबूला है। मौलवी के सामने इन्‍होंने धर्म स्‍वीकारा और इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। कतर पर फुटबॉल वर्ल्‍ड कप के बहाने इस्‍लाम के प्रचार के आरोप लग रहे हैं। पहले मैक्सिकन और अब ब्राजील के परिवार की तरफ से इस्‍लाम के कबूलनामे ने सभी खबरों पर मोहर लगा दी है।

बुर्के में कबूला इस्‍लाम
मां के अलावा उनकी तीनों बेटियों ने बुर्का पहना था और वीडियो में काफी खुश नजर आ रही थीं। पिछले दिनों एक खबर आई थी जिसमें कहा गया था कि कतर में किस तरह से वर्ल्‍ड कप के बहाने इस्‍लाम का प्रचार किया जा रहा है। मौलवी ने मां इस्‍लाम कबूल करने के बाद उनकी भावनाओं के बारे में पूछा। इस पर उनका जवाब था, ‘मुझे नहीं मालूम कि कैसे अपनी खुशी का इजहार करूं। यह बहुत ही मुश्किल है क्‍योंकि इसने मेरे दिल को छू लिया है।’

इसके बाद मौलवी ने बेटी से पूछा, ‘किसी ने उन पर इस्‍लाम कबूल करने का दबाव तो नहीं डाला?’ उनका जवाब न था और उन्‍होंने कहा कि किसी के कहने या डराने पर उन्‍होंने यह धर्म नहीं चुना है बल्कि यह उनका अपना फैसला है।

कतार में बनाई गई मस्जिद
ब्राजील के इस परिवार से पहले मैक्सिको के एक परिवार ने भी इस्‍लाम स्‍वीकार किया था। कतर के इस्‍लामिक मामलों पर बने मंत्रालय की तरफ से कतार सांस्‍कृतिक गांव मस्जिद जिसे दोहा में स्‍थापित किया गया है, वह इस समय ऐसे वर्ल्‍ड कप फैंस के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है जो इस्‍लाम के बारे में जानना चाहते हैं। इस्‍लाम के बारे में इलेक्‍ट्रॉनिक बोर्ड्स 30 भाषाओं में लगे हैं। इन बोर्ड्स को एंट्री गेट पर इस तरह से लगाया गया है कि विजिटर्स को फोन से इन्‍हें देख सकें।

बुकलेट्स देकर प्रचार
साथ ही इस्‍लाम के बारे में बताने वाली बुकलेट्स भी अलग-अलग भाषाओं में छपी है और इन्‍हें लोगों के बीच बांटा जा रहा है।एक पैवेलियन बनाई गई। इस पैवेलियन का मकसद फुटबॉल वर्ल्‍ड कप के दौरान लोगों को इस्‍लाम और इसकी बातों के बारे में बताना है। वर्ल्‍ड कप फैंस को वर्ल्‍ड कप के दौरान पैंगबर मोहम्‍मद के शब्‍दों, उनके कामों और आदतों के बारे में बताया जा रहा है। इन बातों को सड़कों के किनारे दीवारों पर लिखा गया है।



Source link

Continue Reading

International

बेंजामिन नेतन्याहू ने किया दक्षिणपंथी नोआम पार्टी से गठबंधन, अब पीएम बनने का रास्ता हुआ और करीब

Published

on

By


Image Source : AP
इजरायल के पूर्व पीएम बेंजामिन नेतन्याहू (फाइल फोटो)

Benjamin Netanyahu Israel: इजरायल के भावी प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की लिकुड पार्टी ने घोर दक्षिणपंथी नोआम पार्टी के साथ गठबंधन किया है। दोनों पार्टियों ने गठबंधन के बाद एक समझौता पत्र पर हस्ताक्षर भी किया। इससे नेतन्याहू इजरायल के इतिहास में सबसे घोर दक्षिणपंथी सरकार बनने की ओर एक कदम और आगे बढ़ गए हैं। लिकुड पार्टी ने रविवार को यह घोषणा की है। समझौते के तहत नोआम के नेता और इसके एकमात्र विधायक एवी माओज प्रधान मंत्री कार्यालय में उप मंत्री के रूप में काम करेंगे और राष्ट्रीय यहूदी पहचान प्राधिकरण नामक एक नई एजेंसी के प्रभारी होंगे।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार माओज नेटिव के प्रभारी भी होंगे, जो एक सरकारी ब्यूरो है। यह पूर्व सोवियत गणराज्यों में यहूदियों के साथ संपर्क बनाए रखता है और उन्हें इजरायल में प्रवास करने के लिए प्रोत्साहित करता है। माओज इजराइल की यहूदी पहचान के एक मजबूत समर्थक हैं और विश्वविद्यालयों, संगीत कार्यक्रमों और सार्वजनिक परिवहन सहित सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं व पुरुषों के बीच लिंग भेद जैसे यहूदी धार्मिक कानूनों के समर्थक हैं।

इजरायल में सबसे लंबे समय तक पीएम रहकर नेतन्याहू ने की सेवा


नवंबर के मध्य में नेतन्याहू को एक नई गठबंधन सरकार बनाने के लिए अनिवार्य किए जाने के बाद यह लिकुड पार्टी का दूसरा गठबंधन समझौता है। सप्ताहांत में लिकुड पार्टी ने एक बयान में कहा कि उसने इतामार बेन-गवीर के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं, जो एक चरमपंथी राजनीतिज्ञ हैं, जिनके नेतन्याहू की सरकार में राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्री बनने की उम्मीद है। नेतन्याहू, इजरायल के सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले प्रधान मंत्री हैं, जिन्हें सिर्फ डेढ़ साल पहले हटा दिया गया था और भ्रष्टाचार के आरोपों पर मुकदमा चल रहा है। उनकी गठबंधन सरकार में शामिल होने के बारे में तीन अन्य दलों के साथ बातचीत चल रही है। लगभग चार वर्षों के पांच चुनावों के बाद 1 नवंबर को हुए संसदीय चुनावों में नेतन्याहू और उनके सहयोगियों ने 120 में से 64 सीटों पर जीत हासिल की।

इजराइली कानून के तहत नेतन्याहू को दिसंबर के मध्य की समय सीमा से पहले सरकार का गठन करना होगा।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading