Connect with us

International

म्यांमार की नेता आंग सान सूकी को अब 33 साल रहना होगा जेल में, दुनिया भर में निंदा

Published

on


Image Source : AP
आंग सान सूकी, म्यांमार की नेता और नोबल पुरस्कार विजेता (फाइल)

Aung San Suu Kyi jailed For 33 Years: नोबल पुरस्कार विजेता और म्यांमार की नेता आंग सान सूकी को अब 33 वर्ष तक जेल में रहना होगा। म्यांमार की सैन्य अदालत जुंटा ने एक अन्य मामले में शुक्रवार को 7 वर्षों के जेल की अतिरक्त सजा सुनाई है। इससे उनकी जेल की कुल अवधि अब 33 वर्ष की हो चुकी है। 

आपको बता दें कि आंग सान सूकी को वर्ष 2020 के चुनाव में म्यांमार की जनता ने एकतरफा बहुमत दे दिया था, लेकिन सेना ने तख्तापलट कर दिया और वर्ष 2021 में उन्हें गिरफ्तार कर लिया। तब से सूकी जेल में हैं। अदालत के ताजे फैसले ने सूकी की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं। अभी पिछले हफ्ते संयुक्त राष्ट्र ने सूकी को शीघ्र रिहा किए जाने को कहा था। मगर ऐसा नहीं हुआ। सूकी को अवैध तरीके से जेल में रखने की दुनिया भर में निंदा हो रही है। 77 वर्षीय सूकी को उनके खिलाफ लगाए गए कई आरोपों में दोषी ठहराया गया है। जिसमें भ्रष्टाचार से लेकर अवैध रूप से वॉकी-टॉकी रखने और COVID-19 प्रतिबंधों का उल्लंघन शामिल है। इसके अलावा उन्हें हेलिकॉप्टर किराए पर लेने, खरीदने और उसके रखरखाव से संबंधित भ्रष्टाचार के पांच मामलों में दोषी पाया गया, जिससे “राज्य को नुकसान” होने का दावा किया गया है। 

आंग सान सूकी को अब 33 साल रहना होगा जेल में


आंग सान सू की  जो अब 18 महीने के परीक्षण के बाद 33 साल के लिए जेल में रखा गया है। अधिकार समूहों ने इस फैसले को ढोंग बताते हुए खारिज कर दिया है और कहा है कि उनके ऊपर कोई आरोप सिद्ध नहीं होते। पत्रकारों को अदालती सुनवाई में भाग लेने से रोक दिया गया है और आंग सान सू की के वकीलों को मीडिया से बात करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है।  सैन्य-निर्मित राजधानी नेप्यीडॉ में आंग सान सू की की जेल की ओर जाने वाली सड़क पर फैसले से पहले यातायात साफ कर दिया गया है। क्योंकि देश भर में इसके खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं। 

आंग सान सूकी करेंगी फैसले के खिलाफ अपील

सूत्र ने कहा कि आंग सान सू की ताजा फैसले के खिलाफ अपील करेंगी। जब से उनका परीक्षण शुरू हुआ, उन्हें केवल एक बार खुली अदालत में देखा गया है। वह दुनिया को संदेश देने के लिए अपने वकीलों पर निर्भर रही हैं। म्यांमार में लोकतंत्र को लेकर हुई कई संघर्ष में दशकों से आंग सान सूकी का वर्चस्व रहा है। मगर अब इस घटना के बाद उनकी पार्टी ने अहिंसा के अपने मूल सिद्धांत को छोड़ दिया है, “पीपुल्स डिफेंस फोर्सेज” देश भर में सेना के साथ नियमित रूप से टकरा रही है।  पिछले हफ्ते, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने तख्तापलट के बाद से म्यांमार की स्थिति पर अपने पहले प्रस्ताव में आंग सान सू की को रिहा करने के लिए जुंटा को बुलाया था। स्थायी सदस्यों और करीबी जून्टा सहयोगियों के बाद यह परिषद द्वारा सापेक्ष एकता का क्षण था, चीन और रूस ने शब्दों में संशोधन के बाद वीटो का इस्तेमाल नहीं करने का विकल्प चुना। 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

International

यूक्रेन युद्ध में बड़ा उलटफेर, अमेरिका के कहने पर किमजोंग ने दिया अपने दोस्त पुतिन को झटका!

Published

on

By


Image Source : FILE
किम जोंग उन व रूसी राष्ट्रपति पुतिन

Russia_Ukraine war Update: रूस-यूक्रेन युद्ध में सबसे बड़े उलटफेर की खबर सामने आ रही है। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने ऐसा काम कर दिया है कि जिसकी कल्पना रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने सपने में भी नहीं की रही होगी। अमेरिका के एक आरोप से घबराकर उत्तर कोरिया ने रूस को करारा झटका दे दिया है। यूक्रेन में भीषण युद्ध लड़ रहे रूस के वैगनर समूह को उत्तर कोरिया ने हथियार देने से इनकार कर दिया है। इससे पुतिन भी हैरान रह गए हैं। किम जोंग उन ने अमेरिका की ओर से उत्तर कोरिया पर लगाए गए आरोपों के बाद यह कदम उठाया है। जबकि किम जोंग उन पुतिन के पक्के दोस्त हैं।

दरअसल अमेरिका ने उत्तर कोरिया पर रूसी सैन्य कंपनी वैगनर समूह को रॉकेट और मिसाइलों की आपूर्ति करने का  बड़ा आरोप लगाया था। संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा प्योंगयांग पर रूसी वैगनर समूह को रॉकेट और मिसाइलों की आपूर्ति करने और यूक्रेन में मास्को की सेना को मजबूत करने में मदद करने का आरोप लगाने के बाद उत्तर कोरिया ने रूस को हथियार उपलब्ध कराने से इनकार कर दिया है। इससे रूसी खेमे में खलबली मच गई है, क्योंकि आमतौर पर किमजोंग उन अमेरिका के हर आदेशों और चेतावनियों को नजरंदाज करने के लिए जाने जाते हैं।

उत्तर कोरिया ने अमेरिका के आरोपों को नकारा


उत्तर कोरिया के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को एक बयान में अमेरिका के इन आरोपों को  “आधारहीन अफवाह” बताया और वाशिंगटन की ओर से यूक्रेन को अपनी सैन्य सहायता को सही ठहराने के उद्देश्य से लगाया गया आरोप करार दिया। अमेरिका ने इस महीने की शुरुआत में रूस के वैगनर समूह को उत्तर कोरिया के साथ निजी सैन्य समूह के कथित हथियारों के सौदे का हवाला देते हुए एक  “पारंपरिक आपराधिक संगठन” के रूप में नामित किया था, जिसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों द्वारा निषिद्ध भी किया गया है।

रूसी रेल में अमेरिकी खुफिया तस्वीरें होने का आरोप

व्हाइट हाउस ने यह भी आरोप लगाया है कि जब रूसी रेल कार उत्तर कोरिया से पैदल सेना के रॉकेट और मिसाइलों लेकर रूस लौट रही थीं, तो उसमें अमेरिकी खुफिया तस्वीरें भी थीं। हालांकि अमेरिकी मामलों के उत्तर कोरियाई विभाग के महानिदेशक, क्वोन जोंग गन ने रविवार को इन आरोपों को खारिज कर दिया। साथ ही धमकी भरी चेतावनी भी दी कि अगर अमेरिका “स्व-निर्मित अफवाह” फैलाने में लगा रहता है तो उसे “वास्तव में अवांछनीय परिणाम” का सामना करना पड़ेगा। क्वोन जोंग गन ने कहा, “एक गैर-मौजूद चीज को गढ़कर [उत्तर कोरिया] की छवि को धूमिल करने की कोशिश करना एक गंभीर उकसावा है, जिसकी कभी अनुमति नहीं दी जा सकती है और यह प्रतिक्रिया को ट्रिगर किए बिना नहीं हो सकता है।”

अमेरिका इस वजह से लगा रहा आरोप

क्वोन जोंग गन ने कहाकि उत्तर कोरिया पर यह आरोप लगाने का अमेरिकी कदम “यूक्रेन को हथियारों की अपनी पेशकश को सही ठहराने का एक मूर्खतापूर्ण प्रयास” था। इस हफ्ते की शुरुआत में, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने कीव को मास्को के आक्रमण से लड़ने में मदद करने के लिए अमेरिकी सेना के सबसे शक्तिशाली और परिष्कृत हथियारों में से एक 31 अब्राम्स टैंक का वादा किया था। अमेरिका के इस निर्णय को लेकर उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन की शक्तिशाली बहन किम यो जोंग ने शुक्रवार को यह कहकर फटकार लगाई थी कि वाशिंगटन ने यूक्रेन में टैंक भेजकर “रेड लाइन को और पार करने” प्रयास किया है। क्ववोन जोंग ने भी अमेरिका द्वारा यूक्रेन को टैंक देने को अनैतिक अपराध कहा।

उत्तर कोरिया का सबसे बड़ा मददगार है रूस

उत्तर कोरिया ने भले ही रूस के वैगनर को युद्धक हथियारों की सप्लाई को रोक दिया है, मगर रूस संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से एक है, जो लंबे समय से परमाणु-सशस्त्र उत्तर कोरिया पर बढ़ते दबाव के खिलाफ खड़ा है, यहां तक ​​कि मानवीय कारणों से अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों से राहत के लिए भी कह रहा है। हालांकि इस बीचसीरिया और रूस के अलावा उत्तर कोरिया एकमात्र ऐसा देश है, जिसने पूर्वी यूक्रेन में दो रूसी समर्थित अलगाववादी क्षेत्रों लुहांस्क और दोनेत्स्क की स्वतंत्रता को मान्यता दी है। नवंबर में, व्हाइट हाउस ने कहा था कि प्योंगयांग रूस को “महत्वपूर्ण” तोपों के गोले के साथ गुप्त रूप से आपूर्ति कर रहा था। जवाब में उत्तर कोरिया ने कहा कि उसका रूस के साथ कभी भी हथियारों का सौदा नहीं था और ऐसा करने की उसकी कोई योजना नहीं थी।

Latest World News





Source link

Continue Reading

International

Pakistan Earthquake News : पाकिस्तान में जोरदार भूकंप से कांपा इस्लामाबाद और पंजाब, रिक्टर स्केल पर 6.3 मापी गई तीव्रता

Published

on

By


Earthquake in Pakistan : पाकिस्तान में भूकंप के तगड़े झटके महसूस हुए हैं। 6.3 तीव्रता का यह भूकंप बेहद जोरदार था जिसके झटके इस्लामाबाद और पंजाब में महसूस किए गए। इससे पहले ईरान में 5.9 तीव्रता का भूकंप आया था जिसमें 400 से अधिक घायल और 7 लोगों की मौत हो गई थी।

 



Source link

Continue Reading

International

Pakistan Petrol Price: पाकिस्‍तान में शहबाज ने फोड़ा पेट्रोल बम, कीमतों में 35 रुपए तक का इजाफा, कंगाल हो गया जिन्‍ना का मुल्‍क!

Published

on

By


कराची: भयानक आर्थिक संकट में घिरे पाकिस्‍तान से अब जो ताजा तस्‍वीरें आ रही हैं, वो अब डराने लगी हैं। यहां पर शहबाज सरकार ने मुश्किलों में घिरी आवाम के सिर पर पेट्रोल बम फोड़ दिया है। देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 35 रुपए तक का इजाफा कर दिया गया है। देश के कई हिस्‍सों में पेट्रोल की कमी हो गई है। मेलसी, कुसुर और शबावी में तो पेट्रोल पंप तक बंद कर दिए गए हैं। कई जगहों पर पेट्रोल पंपों पर लंबी लाइनें लगी हुई हैं। पाकिस्‍तान में पेट्रोल और डीजल की कीमतों के बढ़ने की आशंका के चलते लोग पेट्रोल और डीजल भरवाने के लिए पहुंच रहे हैं। अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक देश के कई हिस्‍सों में पेट्रोल पंप पर यह नजारा देखा जा सकता है।

कितना महंगा हुआ पेट्रोल
जो जानकारियां आ रही हैं उसके मुताबिक देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 35 रुपए की मूल्‍य वृद्धि को तत्‍काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है केरोसिन ऑयल और हल्‍के डीजल की कीमतों में 18 रुपए तक का इजाफा किया गया है। केरोसिन ऑयल और हल्‍के डीजल की कीमतों में 18 रुपए तक का इजाफा किया गया है। इस नए ऐलान के बाद देश में पेट्रोल की कीमत 249 रुपए 80 पैसे तक पहुंच गई है। वहीं डीजल की कीमत 262 रुपए 80 पैसे तक पहुंच गई है।

कई पेट्रोल पंप बंद
देश के कई पेट्रोल पंप बंद हो गए हैं। फैसलाबाद और मेलसी में पेट्रोल ही नहीं मिल रहा है। पेट्रोल न मिलने से जनता खासी परेशान है। जनता का कहना है कि सरकार ने उन्‍हें दोहरी परेशानी में लाकर खड़ा कर दिया है। शनिवार को पाकिस्‍तानी रुपए में एतिहासिक गिरावट हुई थी और इसके बाद से ही देश की आर्थिक स्थिति के चौपट होने के कयास लगाए जाने लगे थे। पाकिस्‍तान का मुद्रा भंडार गिरता जा रहा है।
Pakistan Inflation Today: कश्‍मीर मांगने वाले पाकिस्‍तान के लिए प्‍याज खाना भी मुश्किल, एक किलो के दाम 300 के पार, बिजली-पेट्रोल भी होंगे महंगे!
सिर्फ 20 फीसदी ईधन

देश के पास सिर्फ 3.68 अरब डॉलर का ही विदेशी मुद्रा भंडार बचा है। ऐसे में सिर्फ तीन हफ्तों तक ही आयात हो सकता है। अंतरराष्‍ट्रीय मुद्राकोष (IMF) की तरफ से एक अरब डॉलर की रकम रिलीज करनी है। यह रकम बेलआउट पैकेज के तहत होगी और माना जा रहा है कि इसके आने से पाकिस्‍तान को राहत मिल सकेगी। जियो न्‍यूज की तरफ से बताया गया है कि गुंजरावाला के सिर्फ 20 फीसदी पेट्रोल पंपों पर ही पेट्रोल बचा है। वहीं रहीम यार खान, बहावलपुर, सियालकोट और फैसलाबाद में भी पेट्रोल और डीजल की भारी कमी की खबरें हैं।

श्रीलंका जैसे हालात
सरकार की तरफ से हालांकि इन रिपोर्ट्स को खारिज कर दिया गया था। सरकार का कहना था कि अगले दो हफ्तों के लिए कीमतों में किसी बदलाव की तैयारी नहीं की गई है। जून 2022 में श्रीलंका में इसी तरह से पेट्रोल पंप पर लाइनें लगनी शुरू हुईं और विद्रोह भड़क गया था। उसके बाद ही दुनिया को पता लगा कि यह देश पूरी तरह से कंगाल हो गया है।



Source link

Continue Reading