Connect with us

Business

मौद्रिक नीति समिति को सताती रही महंगाई, लेकिन वृद्धि पर आंच नहीं

Published

on


भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) को 2022 में करीब पूरे साल तक महंगाई ने परेशान रखा, लेकिन उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर संभवतः 2023 में आर्थिक वृद्धि के लिए चिंता का विषय नहीं रहेगी। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित महंगाई दर की ओर से उम्मीद की किरण आई है। नवंबर में खुदरा महंगाई रिजर्व बैंक के महंगाई के ऊपरी लक्ष्य के नीचे रही। साथ ही थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर का व्यवहार भी अनुकूल है। अब यह देखना है कि खुदरा महंगाई दर नवंबर के बाद भी 6 प्रतिशत के नीचे बनी रहती है या नहीं। अगर बाहरी झटके नहीं लगते तो थोक महंगाई दर भी इस तरह के संकेत दे रही है। नवंबर में थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर 21 माह के निचले स्तर 5.85 प्रतिशत पर रही है।

महंगाई दर के संकेतक

पूर्व मुख्य सांख्यिकीविद प्रणव सेन ने कहा, ‘डब्ल्यूपीआई प्रमुख संकेतक है। डब्ल्यूपीआई में उल्लेखनीय कमी आई है। इसे सीपीआई से भी बल मिल रहा है। ऐसा इस साल के शुरुआती वक्त में भी हुआ था, जब डब्ल्यूपीआई दो अंकों में लंबे समय से स्थिर थी और सीपीआई 6 प्रतिशत से ऊपर थी। अब डब्ल्यूपीआई तेजी से नीचे आई है और यह सीपीआई को भी नीचे लाएगी। इसलिए अब मैं महंगाई को लेकर चिंतित नहीं हूं।’ उन्होंने कहा कि इसमें एक व्यवधान यह है कि अगर जिंसों के दाम का झटका लगता है तो परिदृश्य बदल सकता है। कोविड-19 की वजह से पहले ही एक्टिव फार्मा इन्ग्रेडिएंट्स (एपीआई) के दाम बढ़ गए हैं, भारत में इनका आयात चीन से होता है।

डॉ बीआर अंबेडकर स्कूल आफ इकनॉमिक्स में कुलपति एनआर भानुमूर्ति ने कहा, ‘थोक महंगाई से प्रमुख महंगाई में बदलाव एक प्रक्रिया है। अगर आप देखें कि थोक महंगाई कम हो रही है तो यह इनपुट यानी कच्चे माल की कीमतों में गिरावट की वजह से होती है। इससे प्रमुख महंगाई पर असर होता है।’ बहरहाल इक्रा में मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि उत्पादकों पर पड़ी इनपुट लागत की बढ़ी कीमत ग्राहकों पर डालना लंबित रहने और सेवाओं की बढ़ी मांग बने रहने के कारण प्रमुख महंगाई दर वित्त वर्ष 23 के शेष महीनों में बढ़े स्तर पर बनी रहने की संभावना है, भले ही हाल के समय में वैश्विक जिंसों की कीमतों में कुछ कमी आई है। जनवरी से अक्टूबर तक लगातार 10 महीने सीपीआई महंगाई दर 6 प्रतिशत से ऊपर रही है। सरकार ने रिजर्व बैंक द्वारा इस सिलसिले में दिए गए स्पष्टीकरण वाले पत्र को सार्वजनिक नहीं किया है। संसद में वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने 1934 के आरबीआई ऐक्ट का हवाला देते हुए कहा कि रिजर्व बैंक के पत्र को सार्वजनिक नहीं किया जाएगा।

अनाज की चिंता

नवंबर महीने में खाद्य वस्तुओं की कीमतों में कमी आई है और खाद्य महंगाई दर 11 माह के निचले स्तर 4.67 प्रतिशत पर पहुंच गई है। लेकिन अनाज की कीमतों में इस महीने में बढ़ोतरी हुई है और इसकी महंगाई दर 12.96 प्रतिशत रही, जो अक्टूबर में 12.08 प्रतिशत थी। नवंबर महीने में गेहूं की खुदरा महंगाई दर 19.67 प्रतिशत रही, जो अक्टूबर में 17.64 प्रतिशत थी। साल की शुरुआत में यह 5.1 प्रतिशत थी, जो वित्त वर्ष की शुरुआत में 9.59 प्रतिशत पर पहुंच गई। इसके बाद से नवंबर तक यह दोगुने से ज्यादा पर पहुंच गई है। नवंबर महीने में चावल की महंगाई दर 10.51 प्रतिशत रही, जो अक्टूबर में 10.21 प्रतिशत थी। जनवरी में इसकी महंगाई दर महज 2.8 प्रतिशत और अप्रैल में 3.96 प्रतिशत थी। गेहूं और मक्के की आपूर्ति की समस्या हुई है, जिसकी वजह से दूध के दाम भी बढ़े हैं। नवंबर में दूध की महंगाई दर 8.23 प्रतिशत रही है, जो 2022 में सबसे ज्यादा है। साथ ही गायों को हुए लंपी रोग से भी दूध की कीमत बढ़ी है।

मौद्रिक नीति समिति की कार्रवाई

ज्यादातर विशेषज्ञों का कहना है कि महंगाई दर संभवतः अब आर्थिक वृद्धि के लिए चिंता का विषय नहीं रहेगी, लेकिन एमपीसी के भावी रुख पर चर्चा जारी है। क्या अब रिजर्व बैंक रुख पलटेगा और वृद्धि को प्रोत्साहन देने के लिए रीपो रेट में कटौती करेगा? सेन ने कहा, ‘अभी फिलहाल नहीं। इस समय खुदरा महंगाई दर 6.25 प्रतिशत रीपो रेट से थोड़ा ही कम है। रियल रीपो रेट धनात्मक है। मेरा व्यक्तिगत रूप से मानना है कि जब महंगाई दर 4.5 प्रतिशत से नीचे आ जाएगी, उस समय रीपो रेट में कटौती होनी चाहिए।

मैं कम से कम इसके लिए एक तिमाही वक्त दूंगा।’ भानुमूर्ति का कहना है कि महंगाई दर में उतार चढ़ाव नीतिगत दर में उतार चढ़ाव के रूप में नहीं दिखना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘संभवतः एक और नीतिगत बढ़ोतरी हो सकती है। उसके बाद आप लंबा ठहराव देख सकते हैं।’ वहीं नायर का कहना है कि रीपो रेट पर फरवरी 2023 में एमपीसी का फैसला आंकड़ों से संचालित होगा। उन्होंने कहा, ‘वित्त वर्ष 23 की चौथी तिमाही और वित्त वर्ष 24 की पहली तिमाही में खुदरा महंगाई कैसी रहती है, इस पर एमपीसी का रुख निर्भर होगा।’



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Business

सेंसेक्स 400 अंक से अधिक गिर गया, निफ्टी 17,900 के नीचे बंद हुआ

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) गिरावट के साथ बंद हुआ। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही लाल निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 452.90 अंक यानी कि 0.75% की गिरावट के साथ 59,900.37 के स्तर पर बंद हुआ।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 132.70 अंक यानी कि 0.74% की गिरावट के साथ 17,859.45 के स्तर पर बंद हुआ।

आपको बता दें कि, सुबह बाजार सपाट स्तर पर खुला था। इस दौरान सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला था।

जबकि बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था और गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

सेंसेक्स में 77 अंकों की मामूली बढ़त, निफ्टी 18 हजार के पार खुला

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) भी सपाट स्तर पर खुला। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही हरे निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला।

शुरुआती कारोबार के दौरान करीब 1205 शेयरों में तेजी आई, 679 शेयरों में गिरावट आई और 115 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ।

आपको बता दें कि, बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था इस दौरान सेंसेक्स 44.66 अंक यानी कि 0.07% बढ़कर 60702.11 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 17 अंक यानी कि 0.09% ऊपर 18060.00 के स्तर पर खुला था। 

जबकि, शाम को बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

पेट्रोल- डीजल की कीमतें हुईं अपडेट, जानें आज बढ़े दाम या मिली राहत

Published

on

By



डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पेट्रोल- डीजल (Petrol- Diesel) की कीमतों को लेकर लंबे समय से कोई बढ़ा अपडेट देखने को नहीं मिला है। जबकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कई बार जबरदस्त तरीके से गिर चुकी हैं। हालांकि, जानकारों का मानना है कि, आने वाले दिनों में कच्चा तेल महंगा होने पर इसका असर देश में दिखाई दे सकता है। फिलहाल, भारतीय तेल विपणन कंपनियों (इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम) ने वाहन ईंधन के दाम में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया है।

बता दें कि, आखिरी बार बीते साल में 22 मई 2022 को आमजनता को महंगाई से राहत देने केंद्र सरकार द्वारा एक्‍साइज ड्यूटी में कटौती की गई थी। जिसके बाद पेट्रोल 8 रुपए और डीजल 6 रुपए प्रति लीटर तक सस्‍ता हो गया था। इसके बाद लगातार स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है। आइए जानते हैं वाहन ईंधन के ताजा रेट…

महानगरों में पेट्रोल-डीजल की कीमत
इंडियन ऑयल (Indian Oil) की वेबसाइट के अनुसार आज देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 96.72 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। वहीं बात करें डीजल की तो दिल्ली में कीमत 89.62 रुपए प्रति लीटर है। आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल 106.35 रुपए प्रति लीटर है, तो एक लीटर डीजल 94.27 रुपए में उपलब्ध होगा। 

इसी तरह कोलकाता में एक लीटर पेट्रोल के लिए 106.03 रुपए चुकाना होंगे जबकि यहां डीजल 92.76 प्रति लीटर है। चैन्नई में भी आपको एक लीटर पेट्रोल के लिए 102.63 रुपए चुकाना होंगे, वहीं यहां डीजल की कीमत 94.24 रुपए प्रति लीटर है।   

ऐसे जानें अपने शहर में ईंधन की कीमत
पेट्रोल-डीजल की रोज की कीमतों की जानकारी आप SMS के जरिए भी जान सकते हैं। इसके लिए इंडियन ऑयल के उपभोक्ता को RSP लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। वहीं बीपीसीएल उपभोक्ता को RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर भेजना होगा, जबकि एचपीसीएल उपभोक्ता को HPPrice लिखकर 9222201122 नंबर पर भेजना होगा, जिसके बाद ईंधन की कीमत की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

 



Source link

Continue Reading