Connect with us

TRENDING

महिलाओं ने लूटा बिहार में नगर निगम चुनाव का माहौल, 17 में 16 मेयर और 11 उप-महापौर पद पर औरतें जीतीं

Published

on


ऐप पर पढ़ें

बिहार नगर निकाय चुनाव के नतीजे जारी हो गए हैं। नगर निगमों में महिलाओं का खासा दबदबा देखा गया है। राज्य के 17 नगर निगमों में से 16 में मेयर पद पर महिला उम्मीदवारों की जीत हुई है, जबकि महज सात जगहों पर ही ये पद महिलाओं के लिए आरक्षित थे। कुछ नगर निगमों में महिलाओं ने पुरुष उम्मीदवारों को हराकर बाजी मारी है। सिर्फ गया नगर निगम में पुरुष उम्मीदवार ने जीत दर्ज की। इसके अलावा 17 में से 11 नगर निगमों में उप महापौर यानी डिप्टी मेयर के पद पर भी महिला प्रत्याशी विजयी हुई हैं।

पटना नगर निगम में महिला आरक्षित मेयर सीट पर सीता साहू ने जीत दर्ज की, जबकि डिप्टी मेयर पद पर रेशमी चंद्रवंशी विजयी हुईं। आरा में इंदु देवी महापौर बनी हैं, जबकि पूनम देवी उपमहापौर पद पर जीती हैं। भागलपुर नगर निगम की कमान बसुंधरा लाल के हाथों में गई है। इसी तरह समस्तीपुर में अनिता राम मेयर बनी हैं। दरभंगा में अंजुम आरा मेयर, तो नाजिया हसन डिप्टी मेयर पद पर निर्वाचित हुई हैं।

सासाराम नगर निगम में काजल कुमारी ने महापौर पद पर जीत दर्ज की, तो सत्यवंती देवी उपमहापौर बनी हैं। मुजफ्फरपुर में निर्मला साहू ने पुरुष उम्मीदवारों को मात देते हुए मेयर पद पर कब्जा जमाया है, जबकि डिप्टी मेयर पद पर मोनालिसा ने जीत दर्ज की है। छपरा में भी महिलाओं का जलवा देखने को मिला, यहां राखी गुप्ता महापौर तो रागिनी गुप्ता उपमहापौर बनी हैं। 

पूर्णिया में मेयर पद पर विभा कुमारी ने कब्जा जमाया है, पल्लवी गुप्ता की उप मेयर पद पर जीत हुई। बेगूसराय में भी पिंकी देवी ने मेयर और अनिता देवी ने डिप्टी मेयर चुनाव में जीत दर्ज की। बिहार शरीफ नगर निगम की कमान अनिता देवी के हाथों में गई है, जबकि डिप्टी पद पर आयशा शाहीन निर्वाचित हुई हैं। बेतिया में गरिमा देवी ने मेयर पद पर जीत दर्ज की और डिप्टी मेयर गायत्री देवी बनी हैं। 

सीतामढ़ी में रौनक जहां ने मेयर चुनाव में जीत दर्ज की। मुंगेर नगर निगम की कमान कुमकुम देवी के हाथों में गई है। कटिहार नगर निगम में उषा अग्रवाल महापौर निर्वाचित हुई हैं। 

21 साल की स्टूडेंट ने पांच बार के सांसद की पत्नी को हराया

सिर्फ सात नगर निगमों में मेयर पद महिलाओं के लिए आरक्षित

पटना समेत बिहार के सात नगर निगमों में ही मेयर पद महिलाओं के लिए आरक्षित थे। मगर 17 में से 16 नगर निगमों पर औरतों ने अपना झंडा गाढ़ा है। सिर्फ गया नगर निगम में बिरेंद्र कुमार मेयर बने हैं, जो खुद वार्ड पार्षद का चुनाव हार गए लेकिन महापौर पद पर जीत गए। इसके अलावा वार्ड पार्षदों के भी करीब दो तिहाई पदों पर महिला उम्मीदवार विजयी हुई हैं। 


 



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

तुर्की में बीते 24 घंटे में आए तीन शक्तिशाली भूकंप, 1900 से अधिक लोगों की मौत, 10 बातें

Published

on

By


झटकों से सन्न तुर्की के लोग बर्फ से ढके गलियों में पजामे में भागते दिखे.

इस्तांबुल:
तुर्की और सीरिया में सोमवार की अहले सबुह अत्यधिक शक्तिशाली भूकंप आया. भूकंप के कारण 1,904 लोग जो सो रहे थे के मारे जाने की खबर है. तेज झटकों के कारण इमारतें ध्वस्त हो गईं. ग्रीनलैंड तक झटको को महसूस किया गया. 

मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :

  1. रात को आए भूकंप की तीव्रता 7.8 मैग्निट्यूड की थी. वहीं इसके कुछ घंटे बाद दो और शक्तिशाली भूकंप आए, जिसने सीरिया और अन्य संघर्षों में गृह युद्ध से भागे लाखों लोगों से भरे क्षेत्र तुर्की के प्रमुख शहरों के तहस नहस कर दिया. 

  2. सीरिया के राष्ट्रीय भूकंप केंद्र के प्रमुख रायद अहमद ने इसे “केंद्र के इतिहास में दर्ज सबसे बड़ा भूकंप” कहा. स्टेट मीडिया और मेडिकल सूत्रों ने कहा कि सीरिया के बागी और सरकार शासित क्षेत्रों में कम से कम 783 लोगों के मारे जाने की सूचना है. 

  3. इधर, राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन के अनुसार, तुर्की में 1,121 लोगों की मौत हो गई, जो सत्ता में अपने दो दशकों की सबसे बड़ी आपदाओं को झेल रहे हैं. 

  4. प्रारंभिक भूकंप के बाद 50 से अधिक आफ्टरशॉक्स आए, जिनमें 7.5 और 6-तीव्रता के झटके शामिल थे. इसने सोमवार दोपहर सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन के बीच क्षेत्र को झटका दिया. 

  5. एएफपी के संवाददाताओं और प्रत्यक्षदर्शियों ने दूसरे भूकंप के झटकों को तुर्की की राजधानी अंकारा और इरबिल के इराकी कुर्दिस्तान शहर तक में महसूस किया. 

  6. झटकों से सन्न तुर्की के लोग बर्फ से ढके गलियों में पजामे में भागते दिखे. इस दौरान उन्होंने बचावकर्मियों को क्षतिग्रस्त घरों के मलबे को अपने हाथों से खोदते हुए देखा. 

  7. तुर्की के कुर्द शहर (अस्पष्ट) दियारबकीर में जीवित बचे मुहित्तिन ओराकसी ने एएफपी को बताया, “मेरे परिवार के सात सदस्य मलबे में दबे हुए हैं.” उन्होंने कहा, “मेरी बहन, उसके तीन बच्चे, उसका पति और सास-ससुर सारे वहीं दबे हुए हैं.”

  8. बता दें कि सर्दियों के बर्फ़ीले तूफ़ान से बचावकार्य में बाधा आ रही थी. लगातर हुए बर्फबारी ने प्रमुख सड़कों को बर्फ से ढक दिया था.

  9. अधिकारियों ने कहा कि भूकंप ने क्षेत्र में तीन प्रमुख हवाईअड्डों को निष्क्रिय कर दिया, जिससे महत्वपूर्ण सहायता की डिलीवरी और मुश्किल हो गई है. 

  10. एर्दोगन ने अपनी सहानुभूति व्यक्त की और राष्ट्रीय एकता का आग्रह करते हुए कहा, “हमें उम्मीद है कि हम इस आपदा से एक साथ जल्द से जल्द और कम से कम क्षति के साथ रिकवर करेंगे.”

Featured Video Of The Day

कर्नाटक में एक युवक को पुलिस ने गोली मारी. वो आम लोगों को चाकू से धमका रहा था



Source link

Continue Reading

TRENDING

WPL 2023 को लेकर बड़ा ऐलान, जानिए कब से कब तक और कहां खेला जाएगा टूर्नामेंट

Published

on

By



वुमेंस प्रीमियर लीग यानी WPL को लेकर आईपीएल के चेयरमैन अरुण धूमल ने बड़ा ऐलान कर दिया है। उन्होंने इस बात की जानकारी दे दी है कि टूर्नामेंट कब से कब तक और कहां खेला जाएगा।



Source link

Continue Reading

TRENDING

सलमान रुश्दी बोले- टाइपिंग और लिखने में हो रही दिक्कत

Published

on

By


Image Source : INDIA TV/IANS
सलमान रुश्दी बोले- टाइपिंग करने और लिखने में हो रही दिक्कत

मशहूर लेखक और उपन्यासकार सलमान रुश्दी पर बीते दिनों अमेरिका में जानलेवा हमला हुआ था। इस हमले में उनकी एक आंख की रोशनी चली गई। रुश्दी ने इस मामले पर कहा था कि वे भाग्यशाली हैं जो बच गएं। उन्होंने कहा कि मैं भाग्यशाली था, मैं कृतज्ञ हूं। मुझे अब ठीक लग रहा है। लेकिन मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि मैं इतना बुरा भी नहीं हूं। उन्होंने द न्यूयॉर्कर के पत्रकार से बातचीत में बताया कि आंखों की रोशनी चली जाने के कारण उन्हें अब टाइपिंग करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि लिखने में भी अब काफी परेशानी हो रही है।

बता दें कि सलमान रुश्दी पर यह हमला पिछले साल अगस्त महीने में हुआ था जब वे न्यूयॉर्क राज्य में एक कार्यक्रम में मंच पर थे। इस दौरान उनपर हमला हुआ जिसमें उनके एक आंख की रोशनी चली गई। इस घटना के बाद उन्हें कई दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ा। हमले में उन्हें काफी चोट आई थी, जिसके बड़े घाव भर गएं। रुश्दी ने कहा कि फिजियोथिरेपी के बाद अंगूठे, तर्जनी और हथेली के निचले आधे हिस्से ने काम करना शुरू कर दिया है। मुजे बताया गया है कि अब मैं ठीक हूं। रुश्दी ने कहा कि उनकी कुछ उंगलियों में महसूस करने की कमी के कारण टाइप करने व लिखने में दिक्कत हो रही है।

रुश्दी ने कहा कि यह एक बड़ा हमला था। मैं खुद से चल सकता हूं और ठीक हूं। मैं जब कहता हूं कि मैं ठीक हूं इसका मतलब है कि मेरे शरीर के कुछ हिस्सों में लगातार जांच की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमले से उन्हें मानसिक चोटें बी आई हैं और उन्हें सुरक्षा के प्रति अपने दृष्टिकोण पर फिर से विचार करना पड़ रहा है। बता दें कि सलमान रुश्दी अपने लेखनी के कारण विवादों में बने रहते हैं। पिछले दो दशक से वे बिना किसी सुरक्षा के अपना जीवन जी रहे हैं। उन्होंने बताया कि जब मैं लिखने बैठता हूं तब मैं लिख नहीं पाता। कभी कभी खालीपन सा लगता है। मैं जो लिखता हूं, उसे अगले दिन मिटा देता हूं। मैं हकीकत में अबतक उस हमले से उबर नहीं पाया हूं।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading