Connect with us

International

फ्रांस के किन हथियारों का इस्तेमाल करता है भारत, यहां देखें विमान से लेकर मिसाइलों तक की पूरी लिस्ट

Published

on


Priyesh Mishra | Navbharat Times | Updated: 25 Jan 2023, 10:30 pm

फ्रांस ने भारत के साथ रक्षा सहयोग को और मजबूत करने की इच्छा जताई है। नई दिल्ली में फ्रांसीसी राजदूत इमैनुएल लेनिन ने कहा कि उनका देश रणनीतिक रक्षा परियोजनाओं पर भारत के साथ साझेदारी करने को तैयार है। फ्रांस ने पहले भी भारत को कई महत्वपूर्ण मिलिट्री हार्डवेयर की डील की है। फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों भी भारत के साथ रक्षा संबंधों को मजबूत करने की बात कर चुके हैं।

 



Source link

International

Turkey Earthquake: होठों पर पीर, आंखों में नीर, तुर्की के महाविनाशक भूकंप ने छीन लीं 2,300 जिंदगियां, पूरा अपडेट

Published

on

By


अजमरीन: दक्षिण पूर्वी तुर्किये और दक्षिणी सीरिया में सोमवार को आए 7.8 की तीव्रता के शक्तिशाली भूकंप में 2300 से अधिक लोगों की मौत हो गई। भूकंप से सैकड़ों इमारतों को नुकसान पहुंचा है। हताहतों की संख्या बढ़ने की आशंका है, क्योंकि बचावकर्मी अब भी प्रभावित इलाकों में मलबे में फंसे लोगों की तलाश में जुटे हैं। सीमा के दोनों ओर भूंकप का झटका सूर्योदय से पहले महसूस हुआ और लोगों को सर्दी और बारिश के बावजूद बाहर आना पड़ा। भूकंप से कई इमारतें ध्वस्त हो गई हैं और भूकंप के बाद झटके अब भी महसूस किए जा रहे हैं। विभिन्न शहरों में बचावकर्मी और निवासी ध्वस्त हुई इमारतों से जिंदा लोगों को निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

भूकंप में ध्वस्त हुए तुर्किये के एक अस्पताल और सीरिया के गिने-चुने अस्पतालों से नवजातों सहित मरीजों को सुरक्षित बाहर निकालना पड़ा। तुर्किये के शहर अदाना के एक निवासी ने बताया कि उसके आसपास की तीन इमारतें ध्वस्त हो गई हैं। पत्रकारिता के छात्र मुहम्मद फतीह यवुज ने बताया कि मलबे में जिंदा फंसे एक व्यक्ति ने बचावकर्मियों द्वारा निकाले जाने की कोशिश के दौरान कहा, ‘‘अब मुझमें कोई ताकत नहीं बची है।’’ तुर्किये के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने कहा, ‘‘भूकंप वाले क्षेत्र में कई इमारतों का मलबा को हटाने का काम जारी है, हम नहीं जानते कि मृतकों और घायलों की संख्या कितनी बढ़ेगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है कि हम इस विपदा वाले दिन को हमारी एकता और देश के प्रति एकजुटता पीछे छोड़ देगी।’’

दूर तक महसूस हुए झटके

भूकंप का केंद्र तुर्किये का दक्षिण पूर्वी प्रांत कहरमनमारस था और झटके दूर काहिरा तक महसूस किए गए। दमिश्क में भी लोगों को भूकंप की वजह से सड़कों पर आना पड़ा और बेरूत में जब झटके महसूस हुए, तब लोग सो रहे थे। भूकंप सीरिया के उस क्षेत्र में आया, जहां एक दशक से अधिक समय से गृह युद्ध जारी है और प्रभावित इलाका सरकार और विद्रोहियों में बंटा हुआ तथा उनके चारों ओर रूस समर्थित सरकारी सेनाएं तैनात हैं। वहीं, तुर्किये वाले इलाके में संघर्ष की वजह से लाखों शरणार्थी बसे हुए हैं। विरोधियों के कब्जे वाले सीरियाई इलाके में लड़ाई की वजह से विस्थापित 40 लाख लोग रह रहे हैं। इनमें से कई उन इमारतों में रह रहे थे, जो पहले से ही बमबारी की वजह से क्षतिग्रस्त थे।

turkey earthquake (6)

तुर्की में भूकंप से तबाही।

भूकंप में गई थी 18 हजार लोगों की जान

व्हाइट हेलमेट नामक विपक्षी आपात संगठन ने एक बयान में कहा कि सैकड़ों परिवार मलबे में दबे हैं। बचावकर्मियों ने बताया कि पहले ही संसाधनों की किल्लत से जूझ रहे चिकित्सा केंद्र और अस्पताल जल्द घायलों से भर गए। एसएमएस चिकित्सा संगठन के मुताबिक सैन्य अस्पताल सहित कई अस्पतालों को खाली कराया गया है। यह इलाका प्रमुख भूकंप संभावित क्षेत्र में पड़ता है और वर्ष 1999 में उत्तर पश्चिमी तुर्की में आए इसी तरह के शक्तिशाली भूकंप में करीब 18 हजार लोगों की मौत हुई थी।

अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार, भूकंप का केंद्र गजियांतेप से करीब 33 किलोमीटर दूर 18 किलोमीटर की गहराई पर था। प्रांतों में इसके झटके महसूस किए गए। सर्वेक्षण के मुताबिक, कुछ घंटे के बाद 7.5 तीव्रता का एक और भूकंप महसूस किया गया, जिसका केंद्र पूर्व के केंद्र से महज 100 किलोमीटर दूर था। तुर्किये की आपदा प्रबंधन एजेंसी ने बताया कि यह अलग भूकंप था और झटके के बाद दर्जनों और झटके आने की आशंका है। एजेंसी के ओरहान ततार ने संवाददाताओं को बताया कि दो झटकों के बाद सैकड़ों झटकों की आशंका है। सीरिया के अलेप्पो और हामा शहर से लेकर तुर्किये के दियारबाकीर तक हजारों इमारतों के ध्वस्त होने की सूचना है। राष्ट्रपति ने बताया कि भूकंप से करीब 3000 इमारतें ध्वस्त हो गई हैं।

turkey earthquake (7)

तुर्की की मदद को आगे आई दुनिया

उपराष्ट्रपति ने बताया कि भूमध्य सागरीय तटीय शहर इस्कानदेरोन में एक अस्पताल ध्वस्त हो गया, लेकिन हताहतों की संख्या की तत्काल जानकारी नहीं मिली है। तुर्किये के टेलीविजन स्टेशन ने तस्वीरें प्रसारित की हैं, जिनमें उनके स्टूडियो में रखी टीवी की स्क्रीन चार या पांच टुकड़ों में बट गई। कहरमनमारस शहर में बचाव कर्मियों ने दो बच्चों को जिंदा मलबे से निकाला है और तस्वीरों में दिख रहा है कि बर्फ से ढके मैदान में उन्हें स्ट्रेचर पर लिटाया गया है। अब तक तुर्किये की मदद के लिए दर्जनों देशों के अलावा यूरोपीय संघ और नाटो ने पेशकश की है और तलाशी व बचाव दल से लेकर चिकित्सा और धन भेज रहे हैं। नॉटिंघम ट्रेंट यूनिवर्सिटी में प्राकृतिक खतरे के विशेषज्ञ डॉ. स्टीवन गॉडबाई ने कहा कि प्रभावित इलाकों से जो तस्वीरें आ रही हैं, उससे प्रतीत होता है कि उल्लेखनीय जान की हानि हुई है, इलाके में सर्दी और गृह युद्ध ने बचाव कार्य में लगे कर्मियों की जटिलता बढ़ा दी है।

turkey (9)

भूकंप वाले इलाके से भाग रहे लोग

तुर्किये में लोग भूकंप प्रभावित इलाकों को छोड़कर बाहर जाना चाहते हैं जिसकी वजह से यातायात जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई है और आपात टीम को घटनास्थलों पर पहुंचने में मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। अधिकारियों ने लोगों से सड़कों पर नहीं आने की अपील की है। इलाके की मस्जिदों को उन लोगों के लिए खोल दिया गया है जिनके घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं, क्योंकि इलाके में तापमान शून्य के करीब है। भूकंप की वजह से गैजियांतेप की पहाड़ी पर स्थित ऐतिहासिक कैसल को नुकसान पहुंचा है। किले की दीवार और निगरानी स्तंभों को भारी नुकसान पहुंचा है। वहीं, उत्तर-पश्चिमी सीरिया में कब्जे वाले इदलिब प्रांत में भूकंप ने एक नया संकट खड़ा कर दिया, जो पहले ही कई वर्षों से रूसी और सरकार के हवाई हमलों को झेल रहा है। यह क्षेत्र भोजन से लेकर चिकित्सकीय आपूर्ति तक हर चीज के लिए तुर्किये पर निर्भर है। सभी राहत सामग्री तुर्किये के रास्ते ही इदलिब पहुंचती है।

turkey earthquake

अपनों की तलाश करते परिजन।

सीरिया में मलबे में दबे लोग

उत्तर पश्चिमी सीरिया में विपक्ष के ‘सीरियन सिविल डिफेंस’ ने विद्रोहियों के कब्जे वाले क्षेत्र में स्थिति को ‘‘विनाशकारी’’ बताते हुए कहा कि इमारतें ढहने से कई लोग मलबे में दब गए हैं। तुर्किये की सीमा के नजदीक सीरियाई विद्रोहियों के कब्जे वाले छोटे शहर अजमरिन में कई बच्चों के शव कंबल में लपेटकर अस्पताल लाए गए हैं। सीरिया के पुरातत्व व संग्रहालय महानिदेशक ने बताया कि भूकंप की वजह से ईसाई धर्मयोद्धाओं की ओर से निर्मित मरकब या निगरानी दुर्ग की दीवारें, मीनार और कुछ अन्य दीवारें ध्वस्त हो गईं, जिनसे प्राचीन काल में भूमध्य सागर पर नजर रखी जाती थी।

तुर्की में 1,500 से ज्यादा लोगों की मौत

तुर्किये के मुताबिक, भूकंप से देश के 10 प्रांतों में 1500 से अधिक लोगों की मौत हुई है और 8500 से अधिक लोग घायल हुए हैं। सीरिया के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, सीरिया में भूकंप से मारे गए लोगों की संख्या बढ़कर 430 हो गई है और करीब 1280 अन्य घायल हुए हैं। व्हाइट हेलमेट के मुताबिक, सीरिया में विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके में कम से 380 लोगों की मौत हुई है। हालांकि, एसएएमएस ने मृतकों की संख्या 135 बताई है। दोनों संगठनों ने घायलों की संख्या सैकड़ों बताई है। सीरिया की राजधानी दमिश्क में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए और लोग भय के चलते सड़कों पर आ गए।

40 सेकंड तक महसूस हुए झटके

लेबनान में भी लोगों ने करीब 40 सेकंड तक कंपन महसूस किया। लेबनान की राजधानी बेरूत में कई लोग घरों से बाहर निकल आए और कार की मदद से इमारतों से दूर चले गए। तुर्किये के हतय प्रांत के विधायक हुसैन यायमन ने बताया कि उनके परिवार के कई सदस्य ध्वस्त मकान के मलबे में दब गए हैं। उन्होंने हबेरतुर्क टेलीविजन चैनल को बताया, ‘‘कई लोग मलबे में दबे हैं। कई इमारतें ध्वस्त हो गई हैं। और लोग बारिश व सर्दी के बीच सड़कों पर हैं।’’



Source link

Continue Reading

International

तुर्की में अब लाशों का हिसाब रखना हो रहा मुश्किल, मौत का आकंड़ा 2,300 के पार

Published

on

By


Image Source : AP
तुर्की और सीरिया में भयानक भूकंप

तुर्की और सीरिया में आज विनाशकारी भूकंप के ऐसे झटके आए कि लाशों का हिसाब रखना मुश्किल हो रहा है। 100 साल बाद पूरी दुनिया ने ऐसा भयंकर भूकंप देखा है। तुर्की में आज एक के बाद एक तीन जबरदस्त भूकंप आए। भूकंप का पहला जबरदस्त झटका 7.8 की तीव्रता का आया, दूसरा झटका 7.6 का और तीसरा झटका 6.0 तीव्रता का आया। इस भूकंप में अब तक 2300 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई, जबकि 5 हजार से ज्यादा लोग घायल हो गए। मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है।

ताश के पत्तों की तरह ढह गईं इमारतें


इस विनाशकारी भूकंप में कई इमारतें ताश के पत्तों की तरह ढह गईं और कई शहर मलबे के ढेर में तब्दील हो गए। हर तरह मौत का मंजर ही नजर आ रहा है। माना जा रहा है कि सैकड़ों लोग अभी भी मलबे के नीचे फंसे हुए हैं, और मरने वालों की संख्या और बढ़ने की उम्मीद है क्योंकि बचाव दल पूरे क्षेत्र के शहरों और कस्बों में मलबे में फंसे लोगों की खोज कर रहा है। बॉर्डर के दोनों तरफ, अलसुबह आए भयानक भूकंप से डरकर लोग ठंडी, बरसाती और बर्फीली रात में घरों से बाहर निकल आए। इमारतें फर्श पर पड़े ढेर में बदल गईं। 

लेबनान, सीरिया, साइप्रस, इजराइल और फ़िलिस्तीन तक झटके

तुर्की के दक्षिण में सीरियाई सीमा के पास स्थानीय समयानुसार सुबह 4:17 बजे भूकंप का एक शक्तिशाली झटका महसूस किया गया और पहले झटके के कुछ मिनट बाद दूसरा और फिर तीसरा शक्तिशाली झटका महसूस किया गया। तुर्की में 7.8, 7.6 और 6.0 तीव्रता के लगातार तीन विनाशकारी भूकंप आए। अभी काफी लोग इमारतों के मलबों में भी फंसे हुए हैं, जिन्हें राहत और बचाव दलों के सदस्य बाहर निकालने की कोशिशों में लगे हुए हैं। ये भूकंप के झटके तुर्की समेत लेबनान, सीरिया, साइप्रस, इजराइल और फ़िलिस्तीन में भी महसूस किए गए हैं

तुर्की में भूकंप से पहले भी मारे गए हैं हजारों लोग

आज तुर्की में 7.8 की तीव्रता वाला भूकंप आया था, इससे पहले 1939 में 7.8 की तीव्रता वाला भूकंप आया था जिसमें 32 हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। 1999 में तुर्की के इजमित में भूकंप आया था, जिसमें 17 हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। 1784 को एरजिनकान में इसी पैमाने का भूकंप आया था, जिसमें 5 हजार से ज्याद लोग मारे गए थे।

ये भी पढ़ें-

ये हैं दुनिया के सबसे विनाशकारी भूकंप, लाखों लोगों की गई जानें, सुनामी ने मचाई भारी तबाही

भूकंप के तेज झटकों से कांपा तुर्की, वायरल Videos में देखिए मातम, आंसू और दर्द का मंजर

Latest World News





Source link

Continue Reading

International

Earthquake Prediction: भूकंप वाला नास्त्रेदमस! तुर्की में आएगा भूचाल, तीन दिन पहले ही हो गई थी भविष्यवाणी

Published

on

By


Turkey Earthquake Prediction: तुर्की में आए भूकंप ने इसकी भविष्यवाणियों की सटीकता पर बहस छेड़ दी है। ऐसा इसलिए क्योंकि फ्रैंक नाम के एक शोधकर्ता ने तीन दिन पहले इसकी भविष्यवाणी कर दी थी। हालांकि कई लोग कह रहे हैं कि यह एक तुक्का है, क्योंकि उनकी ही कई भविष्यवाणियां अभी तक गलत साबित हो चुकी हैं।

 



Source link

Continue Reading