Connect with us

Business

पीएम मोदी ने 600 मेगावाट की कामेंग पनबिजली परियोजना देश को समर्पित की

Published

on


 












कामेंग पनबिजली परियोजना को पश्चिम कामेंग जिले में 80 किलोमीटर से अधिक क्षेत्र में 8,450 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से विकसित किया गया है
भाषा / नई दिल्ली November 19, 2022






प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम कामेंग जिले में 600 मेगावाट की कामेंग पनबिजली परियोजना राष्ट्र को समर्पित की।

कामेंग पनबिजली परियोजना को पश्चिम कामेंग जिले में 80 किलोमीटर से अधिक क्षेत्र में 8,450 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से विकसित किया गया है।

इससे अरुणाचल प्रदेश को बिजली अधिशेष राज्य बनाने और राष्ट्रीय ग्रिड को स्थिरता एवं एकीकरण के मामले में लाभ होने की उम्मीद है।

Keyword: Districts of India, Subdivisions of India, Geography of India, Kameng, Arunachal Pradesh, West Kameng district, Rupa, Arunachal Pradesh, Kameng River, Narendra Modi,


























Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Business

रीपो दर में 0.35 फीसदी से अधिक की वृद्धि नहीं करे रिजर्व बैंक : Assocham

Published

on

By


 












भाषा / नई दिल्ली 12 02, 2022






उद्योग मंडल एसोचैम (Assocham) ने शुक्रवार को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) से अगले सप्ताह पेश होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा में प्रमुख नीतिगत दर रीपो में बढ़ोतरी को कम रखने को कहा है। उद्योग मंडल का कहना है कि ब्याज दरों में अधिक वृद्धि होने पर इसका आर्थिक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है। RBI इस साल मई से अबतक रीपो दर में 1.90 फीसदी की वृद्धि कर चुका है। 

केंद्रीय बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता वाली छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक सोमवार से शुरू होगी। मौद्रिक नीति की घोषणा सात दिसंबर (बुधवार) को की जाएगी। एसोचैम ने RBI को लिखे पत्र में कहा है, ‘रेपो दर में 0.25 से 0.35 फीसदी से ज्यादा की वृद्धि नहीं होनी चाहिए।’ पत्र में उद्योग के समक्ष अन्य मुद्दों का भी जिक्र किया गया है। उद्योग मंडल ने पत्र में अन्य सुझाव भी दिये हैं। इसमें इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने के लिये खुदरा कर्ज को रियायती ब्याज दर के साथ प्राथमिक क्षेत्र के अंतर्गत लाने का सुझाव शामिल है। 

उल्लेखनीय है कि RBI ने 30 सितंबर को मौद्रिक नीति समीक्षा में महंगाई को काबू में लाने के लिये रीपो दर में 0.50 फीसदी की वृद्धि की थी। महंगाई इस साल जनवरी से ही छह फीसदी से ऊपर बनी हुई है। यह केंद्रीय बैंक के संतोषजनक स्तर से ऊंचा है। यह लगातार तीसरी बार है जब RBI ने रीपो दर में 0.50 फीसदी की वृद्धि की। सितंबर से पहले जून और अगस्त में भी रीपो दर में 0.50 फीसदी तथा मई में 0.40 फीसदी की वृद्धि की गयी थी। 

Keyword: Repo Rate, RBI, Assocham, MPC, Inflation,


























Source link

Continue Reading

Business

ONGC, IOC और वेदांता के 1.9 अरब डॉलर के बॉन्ड होंगे परिपक्वः मूडीज

Published

on

By


 












भाषा / नई दिल्ली 12 02, 2022






तेल एवं गैस क्षेत्र की तीन बड़ी कंपनियों- ओएनजीसी (ONGC), आईओसी (IOC) और वेदांता रिसोर्सेज लिमिटेड के करीब 1.9 अरब डॉलर के बॉन्ड अगले वित्त वर्ष में परिपक्व होने जा रहे हैं। रेटिंग एजेंसी मूडीज ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। 

रिपोर्ट के मुताबिक इन बॉन्ड में अकेले वेदांता की हिस्सेदारी करीब 47 फीसदी है। उसका 40 करोड़ डॉलर का बॉन्ड (आठ फीसदी कूपन दर) अगले साल 23 अप्रैल को परिपक्व होगा जबकि 50 करोड़ डॉलर का एक और बॉन्ड (7.125 फीसदी कूपन दर) 31 मई को परिपक्व होने वाला है।

मूडीज के मुताबिक ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ONGC) का 50 करोड़ डॉलर का बॉन्ड (3.75 फीसदी) अगले साल एक अगस्त को परिपक्व होगा जबकि इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) का 50 करोड़ डॉलर का बॉन्ड (5.75 फीसदी) सात मई, 2023 को परिपक्व होने वाला है।

रेटिंग एजेंसी ने कहा है कि पूंजी बाजारों में उतार-चढ़ाव बने रहने और निवेशकों में सतर्कता की धारणा से वेदांता जैसे कंपनी के उच्च-प्रतिफल वाले बॉन्डों के लिए पुनर्वित्त का जोखिम बना रहेगा। इसके अलावा डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी भी भारतीय कंपनियों की साख के लिए नकारात्मक है। इसका प्रभाव उन कंपनियों पर अधिक होगा जो घरेलू मुद्रा में राजस्व पाने के बावजूद अपने परिचालन के लिए वित्त जुटाने के वास्ते अमेरिकी डॉलर वाले कर्ज पर निर्भर हैं।

Keyword: ONGC, IOC, Vedanta, Bonds,Moody’s,


























Source link

Continue Reading

Business

Rupee vs Dollar: रुपया नौ पैसे की गिरावट के साथ 81.35 प्रति डॉलर पर

Published

on

By


डॉलर के कमजोर होने के बावजूद स्थानीय बाजारों में गिरावट और कच्चे तेल की कीमतों में तेजी की वजह से शुक्रवार को अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया नौ पैसे की गिरावट के साथ 81.35 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ। 

संबंधित खबरें

बाजार सूत्रों ने कहा कि विदेशी पूंजी की बाजार से निकासी बढ़ने के कारण भी निवेशकों की कारोबारी धारणा प्रभावित हुई। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.11 पर खुला। कारोबार के दौरान रुपये का लाभ लुप्त हो गया और कारोबार के अंत में यह नौ पैसे की गिरावट दर्शाता 81.35 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान रुपये ने 81.08 के उच्चस्तर और 81.35 के निचले स्तर को छुआ। 

पिछले सत्र में रुपया चार पैसे की तेजी के साथ 81.26 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। इस बीच, दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की कमजोरी या मजबूती को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.18 फीसदी की गिरावट के साथ 104.53 पर आ गया। वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.17 फीसदी बढ़कर 87.03 डॉलर प्रति बैरल हो गया।

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 415.69 अंक घटकर 62,868.50 अंक पर बंद हुआ। शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) पूंजी बाजार में शुद्ध बिकवाल रहे और उन्होंने गुरुवार को 1,565.93 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे। 



Source link

Continue Reading