Connect with us

Sports

पीएम मोदी ने भरी हुंकार, दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में बोले- खेलों से परिवारवाद को जड़ से उखाड़ा

Published

on


अहमदाबाद: खिलाड़ियों की कामयाबी का देश के विकास से सीधा संबंध बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 36वें राष्ट्रीय खेलों का उद्घाटन करते हुए कहा कि पिछले आठ साल में खेलों से भ्रष्टाचार और परिवारवाद को मिटाकर युवाओं में उनके सपनों को लेकर भरोसा जगाया गया है। खेलों को देश के युवाओं की ऊर्जा का स्रोत बताते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि खिलाड़ियों की जीत और उनका दमदार प्रदर्शन अन्य क्षेत्रों में भी देश की जीत का रास्ता बनाती है।

उन्होंने कहा,‘खेल की दुनिया में यह सामर्थ्य दिखाने की क्षमता देश में पहले भी थी और ये विजय अभियान पहले भी शुरू हो सकता था लेकिन खेलों में पेशेवरपन की जगह परिवारवाद और भ्रष्टाचार ने ले रखी थी। हमने व्यवस्था की सफाई भी की और युवाओं में उनके सपनों को लेकर भरोसा भी जगाया।’

गुजरात के विभिन्न शहरों में 30 सितंबर से 12 अक्टूबर तक चलने वाले राष्ट्रीय खेलों का नरेंद्र मोदी स्टेडियम पर भव्य रंगारंग कार्यक्रम में उद्घाटन करते हुए मोदी ने कहा ,‘‘ ये दृश्य, ये तस्वीर, ये माहौल शब्दों से परे है।विश्व का सबसे बड़ा स्टेडियम , विश्व का इतना युवा देश और देश का सबसे बड़ा खेल उत्सव , जब आयोजन इतना अद्वितीय हो तो उसकी ऊर्जा ऐसी ही असाधारण होगी।’

उन्होंने कहा ,‘देश के 36 राज्यों से 7000 से ज्यादा एथलीट और 15000 से ज्यादा प्रतिभागी, 35000 से ज्यादा कॉलेज, विश्वविद्यालय और विद्यालयों की सहभागिता और 50 लाख से ज्यादा छात्रों का राष्ट्रीय खेलों से सीधा जुड़ाव अभूतपूर्व है।राष्ट्रीय खेलों का यह मंच आप सभी के लिये एक नये लांचिंग पैड का काम करेगा।’

उन्होंने कहा ,‘किसी भी देश की प्रगति उसके सम्मान का खेलों में उसकी सफलता से सीधा संबंध होता है। राष्ट्र को नेतृत्व देश का युवा देता है और खेल उस युवा की ऊर्जा का, उसके जीवन निर्माण का प्रमुख स्रोत है। दुनिया में जो देश विकास और अर्थव्यवस्था में शीर्ष पर हैं, उनमें से ज्यादातर खेलों की पदक तालिका में भी शीर्ष पर होते हैं।’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा,‘खेल के मैदान में खिलाड़ियों की जीत, उनका दमदार प्रदर्शन अन्य क्षेत्रों में देश की जीत का भी रास्ता बनाता है। खेलों की साफ्ट पावर देश की छवि को कई गुना ज्यादा बेहतर बना देती है। आजादी के अमृतकाल में देश ने इसी हौसले के साथ नये भारत के निर्माण की शुरूआत की है। एक समय हमारे यहां खेल बरसों तक सिर्फ सामान्य ज्ञान के विषय तक समेट दिये गए थे लेकिन अब मिजाज बदला है , मूड नया है और माहौल नया है।’

उन्होंने कहा,‘2014 से फर्स्ट और बेस्ट का जो सिलसिला शुरू हुआ है, युवाओं ने वह जलवा खेलों में भी कायम रखा है। आठ साल पहले तक भारत के खिलाड़ी सौ से भी कम अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में भाग लेते थे लेकिन अब 300 से भी ज्यादा में भाग ले रहे हैं। भारत के पदकों की संख्या भी बढ रही है और दमक भी।’

उन्होंने कहा कि आज फिट इंडिया और खेलों इंडिया जैसे प्रयास एक जन आंदोलन बन गए हैं और पिछले आठ साल में देश का खेल बजट करीब 70 प्रतिशत बढा है। उन्होंने खिलाड़ियों से जीत हार की परवाह किये बिना खेलभावना से खेलने का आग्रह करते हुए कहा ,‘आप सभी खिलाड़ियों को मैं एक मंत्र और देना चाहता हूं। अगर आपको ‘काम्पीटिशन’ जीतना है तो आपको ‘कमिटमेंट’ और ‘कंटिन्यूटी’ में जीना सीखना होगा। हार जीत को आखिरी नहीं माने और खेलभावना को जीवन का हिस्सा बनाये।’

राष्ट्रीय खेलों के शुभंकर ‘सावज’ की सराहना करते हुए उन्होंने कहा,‘गिर के शेरों को प्रदर्शित करता राष्ट्रीय खेलों का शुभंकर सावज भारत के युवाओं की निडरता को दिखाता है। वैश्विक परिदृश्य में तेजी से उभरते भारत के सामर्थ्य का भी प्रतीक है।’

पहली बार कलारियापट्टू और योगासन जैसे भारतीय खेल भी राष्ट्रीय खेलों का हिस्सा है। प्रधानमंत्री ने इनका विशेष तौर पर जिक्र करते हुए कहा ,‘‘ खेल हजारों वर्षों से भारत की सभ्यता और संस्कृति का हिस्सा रहा है। अब कलारियापट्टू और योगासन जैसे भारतीय खेलों को भी महत्व मिल रहा है। इन खेलों के खिलाड़ियों से मैं कहना चाहता हूं कि आने वाले समय में जब इन खेलों को वैश्विक मान्यता मिलेगी तो इन क्षेत्रों में आपका नाम लिया जायेगा।’

National Games 2022: नरेंद्र मोदी स्टेडियम में पीएम आज करेंगे खेलों के महाकुंभ का शुभारंभ36वें राष्ट्रीय खेलों का उद्घाटन, अहमदाबाद मेट्रो को दिखाएंगे हरी झंडी, पीएम मोदी के गुजरात दौरे के बारे में जानिए सबकुछ



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Sports

T20 के लिए नरक पिच… हार्दिक पर भड़के गंभीर, बताई कप्तानी की ये भयानक गलती

Published

on

By


नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम ने न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय के लिए अंतिम एकादश में एक बड़ा बदलाव करते हुए उमरान मलिक की जगह युजवेंद्र चहल को शामिल किया था। हालांकि, ‘स्पिन-अनुकूल’ सतह पर विकेट प्रदान करने के लिए लाए जाने के बावजूद, चहल ने मैच में केवल 2 ओवर फेंके। जब भारत के पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर से कप्तान हार्दिक पंड्या के फैसले के बारे में पूछा गया तो उन्होंने यह हैरान करने वाला है। मैं इसका जवाब कैसे दे सकता हूं?

उन्होंने कहा- हार्दिक के इस फैसले ने सबसे अधिक हैरान किया है। मैं इस सवाल का जवाब नहीं दे सकता। चहल टी20 प्रारूप में आपके नंबर 1 स्पिनर हैं। उन्होंने दो ओवर किए और इस दौरान फिन एलन का महत्वपूर्ण विकेट हासिल किया। बचे हुए दो ओवरों का भी उपयोग हाना चाहिए था। बता दें कि मैच के बाद हार्दिक पंड्या ने पिच को टी-20 खेलने लायक नहीं बताया था। इसके बाद लखनऊ के भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेई इकाना क्रिकेट स्टेडियम के क्यूरेटर पर सवाल उठने लगे हैं।

गंभीर हालांकि इस बात से सहमत थे कि अर्शदीप सिंह और शिवम मावी जैसे युवा खिलाड़ियों को मौका दिया जाना चाहिए, लेकिन उनका यह भी मानना है कि अगर चहल ने अपने ओवरों का पूरा कोटा पूरा कर लिया होता तो न्यूजीलैंड 80 या 85 रन पर आउट हो जाता। दूसरी ओर, हार्दिक ने चहल की बजाय दीपक हुड्डा को 4 ओवर गेंदबाजी करने को प्राथमिकता दी, जो हैरान करने वाली है।

Harmanpreet Kaur Interview: जिस ब्रांड के जूते खरीदने को नहीं थे पैसे, बनीं उसकी एम्बेसडर

उन्होंने कहा- हां, आप युवा अर्शदीप सिंह या शिवम मावी को और मौका देना चाहते हैं, लेकिन तब आप चहल को आखिरी में या उससे पहले पूरे 4 ओवर करा सकते थे। इसलिए मुझे लगता है कि वह रणनीति बनाने में चूक गए। वह न्यूजीलैंड को इससे पहले भी आउट कर सकते थे। स्कोर 80 या 85 भी हो सकता है। बड़े आश्चर्य की बात है कि हुड्डा को चार ओवर डालने के लिए कहना, लेकिन चहल को नहीं।

Women U19 T20 World Cup 2023: दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में होगा धूम-धड़ाका, खुद ‘भगवान’ करेंगे बेटियों का सम्मानVirat Kohli: विराट कोहली ऑस्ट्रेलिया सीरीज से पहले धार्मिक यात्रा पर, पत्नी अनुष्का संग PM मोदी के गुरु के आश्रम पहुंचे



Source link

Continue Reading

Sports

पाकिस्तान के बल्लेबाज को PSL से किया गया नजरअंदाज तो कहा- मेरे प्रदर्शन में समस्या क्या है?

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान सुपर लीग यानी पीएसएल में बल्लेबाज अहमद शहजाद को किसी टीम ने पिक नहीं किया है। ऐसे में अपनी घरेलू टी20 लीग से नजरअंदाज किए जाने पर पाकिस्तान के बल्लेबाज अहमद शहजाद नाखुश हैं और उन्होंने पूछा है कि उन्हें पीएसएल की किसी फ्रेंचाइजी ने पिक क्यों नहीं किया है, जबकि उनके प्रदर्शन में किसी भी तरह की कमी नहीं है। पाकिस्तान सुपर लीग के 8वें सीजन की शुरुआत 13 फरवरी से हो रही है, जिसका फाइनल 19 मार्च को खेला जाएगा। 

अहमद शहजाद ने स्वीकार किया कि चोट से उबरने के लिए उन्हें कुछ समय बाहर बिताना पड़ा, लेकिन उन्होंने धमाकेदार वापसी की और उन्होंने घरेलू क्रिकेट और दुनिया भर के अन्य क्रिकेट टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन किया। उन्होंने हाल ही में पाकिस्तान कप में सेंट्रल पंजाब का प्रतिनिधित्व किया, जो देश की 50 ओवर की प्रतियोगिता है। इसके 11 मैचों में उन्होंने 42 से ज्यादा के औसत से 422 रन बनाए, जिसमें छह अर्धशतक शामिल थे।

अश्विन बोले- हम रोहित और विराट की बात करते हैं, लेकिन ये खिलाड़ी भी दिग्गज है

उस टूर्नामेंट में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद 31 वर्षीय बल्लेबाज को नजर अंदाज किया। उनका प्रदर्शन किसी भी टीम को PSL 8 के लिए अपनी टीम में लेने के लिए राजी करने के लिए पर्याप्त नहीं था। उन्होंने क्रिकेट पाकिस्तान से बात करते हुए कहा, “मुझे नहीं लगता कि मेरे प्रदर्शन में कोई समस्या है। हां, चोट के कारण मैं कुछ समय के लिए क्रिकेट एक्शन से बाहर था, लेकिन फिर मैं घरेलू क्रिकेट में लौटा, कुछ लीग में खेला और आप मेरा प्रदर्शन देख सकते हैं।” 



Source link

Continue Reading

Sports

Harmanpreet Kaur Interview: जिस ब्रांड के जूते खरीदने को नहीं थे पैसे, बनीं उसकी एम्बेसडर

Published

on

By


नित्यानंद पाठक | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 31 Jan 2023, 8:08 am

Embed

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने नवभारत टाइम्स ऑनलाइन से खास बातचीत में बताया कि एक वक्त था कि उनके पास Puma के जूते खरीदने के पैसे नहीं थे। अब वह इस इंटरनेशनल ब्रांड की एम्बेसडर हैं।



Source link

Continue Reading