Connect with us

TRENDING

पद्म अवार्ड का ऐलान, मुलायम सिंह यादव और डॉ. दिलीप महालनाबीस सहित 6 को पद्मविभूषण

Published

on


यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव को पद्मविभूषण से नवाजा गया है

नई दिल्‍ली :

गणतंत्र दिवस के अवसर पर सरकार ने प्रतिष्ठित पद्म पुरस्‍कारों का ऐलान कर दिया है. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव, यूपीए सरकार में विदेश मंत्री रह चुके एसएम कृष्णा और तबला वादक जाकिर हुसैन सहित छह लोगों को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिए चुना गया है. 6 हस्तियों को पद्म विभूषण, 9 को पद्म भूषण और 91 को पद्म श्री सम्मान देने का ऐलान किया गया है.गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर जारी एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई है. मुलायम सिंह यादव के साथ ही डॉक्टर दिलीप महालनाबिस और मशहूर वास्तुकार बालकृष्ण दोशी को मरणोपरांत पद्म विभूषण सम्मान के लिए चुना गया है. इस साल, देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न के लिए किसी नाम की घोषणा नहीं की गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पद्म पुरस्कार पाने वालों को ट्वीट कर बधाई दी. उन्होंने कहा, ‘भारत के लिए उनके समृद्ध और विविध योगदान और विकास पथ को बढ़ाने के उनके प्रयासों को देश स्वीकार करता है.’

यह भी पढ़ें

अमेरिका स्थित गणितज्ञ श्रीनिवास वर्धन को भी पद्म विभूषण सम्मान के लिए चुना गया है. बयान के अनुसार प्रसिद्ध उद्योगपति कुमार मंगलम बिड़ला, उपन्यासकार एस एल भैरप्पा और लेखिका सुधा मूर्ति सहित नौ लोगों को पद्म भूषण के लिए चुना गया है.राकेश झुनझुनवाला (मरणोपरांत), अभिनेत्री रवीना टंडन, मणिपुर भाजपा अध्यक्ष टी चौबा सिंह सहित 91 लोगों को पद्म श्री सम्मान के लिए चुना गया है. पद्म पुरस्कारों के लिए घोषित नामों में महाराष्ट्र से 12, कर्नाटक और गुजरात से आठ-आठ व्यक्ति शामिल हैं.

राष्ट्रपति द्वारा ये सम्मान औपचारिक समारोहों में प्रदान किए जाते हैं जिनका आयोजन आमतौर पर हर साल मार्च या अप्रैल में राष्ट्रपति भवन में किया जाता है. राष्ट्रपति ने 2023 के लिए 106 पद्म पुरस्कारों के लिए मंजूरी दी है. पुरस्कार पाने वालों में 19 महिलाएं हैं. सात लोगों को मरणोपरांत इस सम्मान के लिए चुना गया है.पद्म सम्मान देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों में से एक हैं और यह तीन श्रेणियों- पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री में प्रदान किए जाते हैं.

ये भी पढ़ें-



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

रूस से युद्ध में यूक्रेन की बड़ी मदद कर रहा यूपी का यह शख्स, सेना से मिला अवॉर्ड

Published

on

By



यूक्रेन में युद्ध के दौरान यूपी के रहने वाले बृजेंद्र राणा सेना की बड़ी मदद कर रहे हैं। वह मेडसिन सप्लाई करते हैं। इसके लिए यूक्रेनी सेना ने उन्हें प्रतिष्ठित पुरस्कार दिया है।



Source link

Continue Reading

TRENDING

Happy Rose Day 2023: वैलेंटाइन वीक का पहला दिन, आज है रोज डे, जानिए गुलाब के सेहत और चेहरे के लिए 8 गजब फायदे

Published

on

By


1) मुहांसों से छुटकारा दिला सकता है

एंटीबैक्टीरियल गुलाब में फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो रोगाणुओं और जीवाणुओं को नष्ट करने में प्रभावी हैं. अगर आप मुंहासों से पीड़ित हैं और इससे निपटने के लिए कुछ प्राकृतिक उपायों की तलाश कर रहे हैं, तो गुलाब जल आपकी मदद कर सकता है. इसके अलावा, इसमें एंटीसेप्टिक यौगिक, फेनिल इथेनॉल होता है जो गुलाब जल को मुंहासे के खिलाफ प्रभावी बनाता है.

सफेद बालों को फिर से काला करने के लिए 4 कारगर देसी जुगाड़, मिलेगी नेचुरल काले, घने बालों की सौगात

2) वजन कम करने का गुलाबी तरीका

किसने सोचा होगा कि अपने नाश्ते के सलाद में कुछ गुलाब की पंखुड़ियां डालने से दिन में बाद में खाने की इच्छा कम हो जाएगी? माना जाता है कि गुलाब की पंखुड़ियों में ऐसे यौगिक होते हैं जो मेटाबॉलिज्म में सुधार करते हैं. गुलाब की पंखुड़ियां शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करती हैं, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है. एक गिलास पानी उबालें और उसमें कुछ (15-20) गुलाब की पंखुड़ियां डालें. जब पानी गुलाबी हो जाए तो गैस बंद कर दें. एक चुटकी दालचीनी पाउडर और एक चम्मच शहद मिलाएं. इस चाय को नियमित रूप से पिएं.

3) उम्र बढ़ने के लक्षणों को कम करने में मददगार

ब्यूटी प्रोडक्ट्स में गुलाब मिलाया जाता है. गुलाब का इसेंशियल ऑयल स्वभाव से एंटी-ऑक्सीडेंट है और उम्र बढ़ने के संकेतों का मुकाबला करने में बेहद प्रभावी है. यह फ्री रेडिकल्स को हटा देता है जो यूवी डैमेज को कम करने में आपकी मदद करते हुए फाइन लाइन्स और झुर्रियां को भी हटाने में सहायता कर सकता है. गुलाब का तेल त्वचा की नमी को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है.

हेल्दी ब्रेन, हार्ट और हड्डियों के साथ Vitamin B12 से शरीर में पूरे होते हैं ये 12 काम, इन फूड्स को खाकर बढ़ाएं लेवल

4) विटामिन सी का स्रोत

कहते हैं, गुलाब का पौधा विटामिन सी का एक शानदार स्रोत है. विटामिन सी त्वचा की उम्र बढ़ने से लड़ने में मदद करता है क्योंकि यह फ्री रेडिकल्स के खिलाफ स्किन सेल्स को सपोर्ट करता है. गुलाब की पंखुड़ियां कोलेजन उत्पादन को बढ़ाकर त्वचा की उम्र बढ़ने से भी लड़ती हैं.

5) कामोत्तेजक

गुलाब एक प्राकृतिक कामोत्तेजक भी माना जाता है और जुनून को बढ़ाता है. कहते हैं आयुर्वेद गुलाब को एक औषधीय जड़ी बूटी के रूप में मानता है जो हमारे शरीर को यौन रूप से सक्रिय महसूस करने में मदद करता है.

सुबह की ये 6 आदतें बढ़ा देती हैं आपका वजन, अचानक निकलने लगेगा पेट और बिगड़ जाएगा शेप

6) गुलाबी होठों के लिए 

एक चम्मच दूध की मलाई और शहद की कुछ बूंदों में गुलाब की पंखुड़ियों को पीसकर लिप मास्क बनाएं. हर बार एक ताजा पेस्ट तैयार करें. होठों पर लगाएं 15-20 मिनट के लिए लगा रहने दें. सादे पानी से धो लें.

7) तनाव को कम करने में मददगार

गुलाब की पंखुड़ियां स्ट्रेस को दूर करने और दिमाग को शांत करने में मदद कर सकती हैं. शोध से पता चलता है कि गुलाब की पंखुड़ी को नहाने के पानी में डालने से इन लक्षणों को काफी हद तक कम करने में मदद मिल सकती है.

बालों का झड़ना रोकने, डैंड्रफ हटाने और Hair Growth के लिए रामबाण है मेथी, यूं करें इस्तेमाल

8) सुगंध के लिए

गुलाब की पंखुड़ियों को भाप से डिस्टिल करके गुलाब जल बनाया जाता है. गुलाबजल सुगंधित होता है और इसे कभी-कभी केमिकल से भरे परफ्यूम के विकल्प के रूप में हल्की प्राकृतिक सुगंध के रूप में उपयोग किया जाता है.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

Featured Video Of The Day

आगरा में जी-20 की बैठक को लेकर तैयारी, मेहमान करेंगे ताजमहल का दीदार



Source link

Continue Reading

TRENDING

8 गुना बढ़ सकती है तुर्की में भूकंप से मरने वालों की संख्या, WHO ने किया दावा

Published

on

By


Image Source : AP
तुर्की और सीरया में हजारों लोगों की भूकंप की वजह से मौ

अंकारा: तुर्की और सीरया में सोमवार को आए भूकंप से हाहाकार मचा हुआ है। खबर लिखे जाने तक मरने वालों का आंकड़ा 4 हजार पार कर चुका है। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का दावा सामने आया है, जिसमें कहा गया है कि तुर्की में भूकंप की वजह से मरने वालों की संख्या 8 गुना बढ़ सकती है। 

बता दें कि बचावकर्मी ठंड और बर्फीली परिस्थितियों में मलबे के पहाड़ों के बीच जीवित बचे लोगों को खोजने के लिए तलाशी अभियान चला रहे हैं। भूकंप की वजह से हजारों लोग लापता हैं और हजारों घायल हैं। हॉस्पिटलों में घायलों का इलाज तो चल रहा है लेकिन हॉस्पिटल भी फुल चल रहे हैं, जिसकी वजह से सभी पीड़ितों को एडमिट भी नहीं किया जा सका है।

कब आया था भूकंप?

बता दें कि तुर्की और सीरिया में सोमवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 7.8 थी। भूकंप का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कई बड़ी इमारतें ताश के पत्तों की तरह बिखर गईं और हजारों लोग मारे गए। 

मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से तुर्की प्रशासन का एक बयान सामने आया है, जिसमें उसने बताया है कि 5 हजार से ज्यादा इमारतों को इस भूकंप की वजह से नुकसान पहुंचा है। 

ये भी पढ़ें- 

तुर्की नहीं बल्कि चीन में आया था इतिहास का सबसे भयानक भूकंप, 8 लाख से ज्यादा लोगों की हुई थी मौत

संकट के समय में तुर्की के साथ खड़ा भारत, मदद के लिए भेजी NDRF की टीम

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading