Connect with us

TRENDING

दिल्ली: JNU के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को झटका, दिल्ली हाई कोर्ट ने जमानत याचिका खारिज की

Published

on


Image Source : FILE
Umar Khalid

Umar Khalid News: जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को बड़ा झटका लगा है। दिल्ली दंगा मामले में साजिश और UAPA के तहत गिरफ्तार जेएनयू के पूर्व  छात्र उमर खालिद की जमानत याचिका को दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया है। बता दें कि फरवरी 2020 के दंगे के पीछे की कथित साजिश से जुड़े UAPA मामले में उमर खालिद की जमानत अर्जी पर दिल्ली हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा था।

इसके बाद जस्टिस सिदार्थ मृदुल और जस्टिस रजनीश भटनागर की बेंच ने फैसला सुनाया। उमर खालिद ने निचली अदालत में जमानत अर्जी खारिज करने के फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती देते हुए अर्जी दाखिल की थी।

क्या है पूरा मामला

दिल्ली पुलिस द्वारा सितंबर 2020 में गिरफ्तार खालिद ने जमानत का अनुरोध करते हुए अपनी अर्जी में कहा था कि उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा में उसकी कोई ‘आपराधिक भूमिका’ नहीं थी और मामले के अन्य आरोपियों के साथ उसका किसी तरह का ‘षड्यंत्रकारी संपर्क’ भी नहीं था। 

दिल्ली पुलिस ने खालिद की जमानत अर्जी का विरोध किया है। खालिद, शर्जील इमाम और कई अन्य के खिलाफ यूएपीए और भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। इन सभी पर फरवरी 2020 के दंगों का कथित ‘षडयंत्रकारी’ होने का आरोप है। इन दंगों में 53 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 700 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। 


संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के समर्थन एवं विरोध में हुए प्रदर्शनों के दौरान दंगे हुए थे। दंगों को लेकर खालिद के अलावा, कार्यकर्ता खालिद सैफी, जेएनयू की छात्रा नताशा नरवाल और देवांगना कलिता, जामिया कोऑर्डिनेशन कमिटी की सदस्य सफूरा जरगर, आम आदमी पार्टी (आप) के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन और कई अन्य लोगों के खिलाफ कड़े कानूनों के तहत मामला दर्ज किया गया है।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें दिल्ली सेक्‍शन





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

पीएम मोदी आज गुजरात में करेंगे 4 ताबड़तोड़ रैलियां, जानें पूरा शेड्यूल

Published

on

By


Image Source : ANI
पीएम मोदी गुजरात में करेंगे आज चार रैलियां

गुजरात विधानसभा चुनाव: गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में अब दो दिन का समय बाकी है। चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में सभी राजनीतिक दलों ने पूरी ताकत झोंक दी है। सियासी दलों के दिग्गज नेताओं ने चुनाव प्रचार के लिए गुजरात में डेरा डाला हुआ है। इसी के मद्देनजर पीएम मोदी आज भावनगर के पीतलाना, कच्छ के अंजार, जामनगर और राजकोट में रैलियां करेंगे। 

जानकारी के लिए बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग के लिए प्रचार कल शाम को थम जाएगा और फिर एक दिन बाद यानी 1 दिसंबर को पहले चरण की वोटिंग होगी। यही वजह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात में ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं।

पाटीदारों के गढ़ में हैं पीएम मोदी की चारों रैलियां

खास बात ये है कि पीएम की चारों रैली पाटीदारों के गढ़ में है, जहां पिछली बार बीजेपी को भारी नुकसान उठाना पड़ा था। वही कल प्रधानमंत्री ने खेड़ा, नेत्रंग के बाद सूरत में चुनाव प्रचार किया। पीएम ने कल की रैली में कांग्रेस पर आतंकवाद को लेकर बड़ा हमला बोला था। बता दें कि 24 घंटे बाद गुजरात में पहले चरण की वोटिंग के लिए प्रचार का शोर थम जाएगा। लेकिन ठीक उससे पहले पीएम मोदी ने गुजरात में डेरा डाल दिया है और ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं।

यह है पीएम मोदी की आज की रैलियों का शेड्यूल 

आज चुनाव प्रचार के सुपर मंडे को पीएम मोदी ताबड़तोड़ चार चुनावी सभाएं करने वाले हैं। जिसमें पहले विजय संकल्प सम्मेलन के तहत पीएम मोदी आज दोपहर सवा बारह बजे पालिताना में चुनाव प्रचार करेंगे फिर दोपहर 2.45 बजे अंजर में रैली को संबोधित करेंगे। इसके बाद वो साढ़े चार बजे जामनगर पहुंचेंगे और आज आखिर में वो राजकोट के लोगों को साधने की कोशिश करेंगे। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News News in Hindi के लिए क्लिक करें इलेक्‍शन सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

TRENDING

किरोड़ी लाल पूर्व केंद्रीय मंत्री नमोनारायण से मिले, बोले-अपमान का बदला लेंगे; जानें मामला

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

kirodilala meena latest news: राजस्थान में पूर्व केंद्रीय मंत्री नमोनारायण मीना को सीएम के काफिले की गाड़ी में जगह नहीं मिलने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। बीजेपी सांसद किरोड़ी लाल  मीना आज उनके आवास पर मिलने के लिए गए। दोनों नेताओं की मुलाकात के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। हालांकि, किरोड़ी लाल ने वीडियो जारी कर मुलाकात के बारे में मीडिया को बताया है। बीजेपी सांसद ने कहा- पिछले दिनों मुख्यमंत्री गंगापुर गए थे। जिसमें कांग्रेस के सभी नेता पहुंचे थे। जिनमें नमोनारायण भी शामिल थे। कांग्रेस के स्थापित नेता है। 10 साल तक केंद्र में मंत्री रहे। उनका गंगापुर में कांग्रेस के विधायक और मंत्रियों द्वारा। मैं उनका नाम नहीं लेना चाहता। नमोनारायण ने बैठने के लिए 3-3 गाड़ी रोकी। लेकिन इनको बैठाकर नहीं लाए। इनका घोर अपमान किया।

मैं अपमान सहन नहीं कर पा रहा हूं 

बीजेपी सांसद ने कहा कि उसकी वेदना मुझे बहुत ज्यादा हुई। दुख हुआ। मैं आज नमोनारायण के बंगले पर आकर उनसे मिला हूं। मैंने नमोनारायण से कहा है कि यह अपमान मैं सहन नहीं कर पा रहा हूं। ना इलाका सहन कर पा रहा है। सब लोग इस बात से चिंतित है। यह भावना जन बन गई है कि जो कांग्रेस में मंत्री बन गए है। विधायक बन गए है। नमोनारायण की मेहरबानी से ही बने हैं। वो लोग इतन बड़े आदमी का अपमान करें। वह असहनीय है, समय पर अपमाना का बदला नमो नारायण ले या नहीं ले। हम जरूर लेंगे। यह बिलकुल निंदनीय है। 



Source link

Continue Reading

TRENDING

यूक्रेन का सनसनीखेज दावा, 11 हजार बच्चों को जबरन उठा ले गया रूस

Published

on

By


Image Source : AP
रूस-यूक्रेन युद्ध (प्रतीकात्मक फोटो)

Russia Vs Ukraine War Update: रूस-यूक्रेन युद्ध को 9 महीने से अधिक हो चुके हैं। अभी भी दोनों देशों के बीच भीषण बमबारी जारी है। यूक्रेन और रूस दोनों ही देश एक दूसरे पर घातक हमले कर रहे हैं। इस बीच यूक्रेन ने रूस पर एक बेहद सनसनीखेज दावा करके पूरी दुनिया के सामने खलबली मचा दी है। यूक्रेन का आरोप है कि रूस उसके देश के 11 हजार से अधिक बच्चों को जबरन उठा ले गया है। जबकि वह रूस नहीं जाना चाहते थे।

यूक्रेन के अभियोजक जनरल एंड्री कोस्टिन ने यह भी आरोप लगाया कि रूस युद्धग्रस्त देश में महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे पर हमले करना जारी रखा है। यह नरसंहार के बराबर है। उन्होंने कहा कि 11 हजार यूक्रेनी बच्चों को जबरन रूस भेज दिया गया था। शीर्ष अधिकारी ने कहा कि 24 फरवरी से रूसी आक्रमण के बाद उनका कार्यालय 49 हजार से अधिक युद्ध अपराधों की जांच कर रहा है। उन्होंने  बताया कि रूसी सेना के कब्जे वाली हर यूक्रेन की बस्ती में आचरण का एक ही पैटर्न देखा जा रहा है।

भयंकर बिजली कटौती झेल रहा यूक्रेन


रूस द्वारा यूक्रेन के खिलाफ युद्ध छेड़ने के बाद युद्ध अपराध के मामलों में 260 लोगों को आरोपी बनाया गया और यूक्रेनी अदालतों द्वारा 13 फैसले किए गए। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय तदर्थ न्यायाधिकरण के गठन का आह्वान किया। रूसी हमलों के बाद पूरे यूक्रेन में लाखों लोग ठंड के मौसम में बिजली कटौती का सामना कर रहे हैं। रविवार को राष्ट्र को संबोधित करते हुए आंतरिक मामलों के प्रथम उप मंत्री येवेनी येनिन ने कहा कि रूसी हमलों में अब तक लगभग 32 हजार नागरिक संपत्तियों और 700 से अधिक महत्वपूर्ण बुनियादी सुविधाएं नष्ट हो गईं। येनिन के अनुसार नागरिक संपत्ति मुख्य रूप से निजी घर और आवासीय अपार्टमेंट थे। हमलों में से केवल 3 प्रतिशत सैन्य प्रतिष्ठानों पर हुए। महत्वपूर्ण अवसंरचना सुविधाओं में हवाई क्षेत्र, पुल, तेल डिपो, बिजली स्टेशन आदि प्रभावित हुए। मंत्री ने यह भी बताया कि सात क्षेत्रों की 524 बस्तियों में वर्तमान में बिजली आपूर्ति की समस्या है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading