Connect with us

TRENDING

दिल्ली के जंगल में मिले दो बच्चों के शव, राजस्थान के भिवाड़ी से अगवा किए थे तीन भाई

Published

on



पुलिस ने बताया कि 15 अक्टूबर को अलवर जिले के भिवाड़ी शहर से अगवा किए गए तीन में से दो नाबालिग भाइयों की मंगलवार को दिल्ली में हत्या कर दी गई थी। मामले के दो आरोपितों को पुलिस ने हिरासत में लिया है।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

गुरुग्राम में सील किए गए तीन फार्महाउस, अधिकारियों ने कहा- अवैध रूप से बनाए गए

Published

on

By


प्रतीकात्मक फोटो.

गुरुग्राम:

गुरुग्राम में अधिकारियों ने सोहना में दमदमा झील के पास तीन फार्महाउस को यह कहते हुए सील कर दिया कि उनका निर्माण अवैध रूप से किया गया है. जिला टाउन प्लानर (डीटीपी) अमित मधोलिया ने मंगलवार को कहा, “ये झील के जलाशय क्षेत्र में अनधिकृत फार्महाउस हैं. तीनों फार्महाउस को सील कर दिया गया है. इन्हें अरावली रेंज में बिना किसी अनुमति के विकसित किया गया था.”

यह भी पढ़ें

सोन्या घोष बनाम हरियाणा राज्य के मामले की सुनवाई के बाद नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों के अनुपालन में पुलिस की मदद से सीलिंग की गई.

मधोलिया के नेतृत्व में एक टीम ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट सोहना के नायब तहसीलदार लच्छीराम की उपस्थिति में आदेश का पालन किया.

       

इस मौके पर सदर सोहना के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) और एक पुलिस टीम वहां तैनात थी.

Featured Video Of The Day

आफताब का नार्को टेस्ट हुआ पूरा, बताया कहां फेंके श्रद्धा के कपड़े और मोबाइल



Source link

Continue Reading

TRENDING

ओसामा बिन लादेन पालतू कुत्तों पर करता था केमिकल हथियारों का परीक्षण, बेटे ने किया दावा

Published

on

By


बिन लादेन के चौथे सबसे बड़े बेटे उमर ने क़तर की यात्रा के दौरान ‘द सन’ समाचार पत्र के साथ एक साक्षात्कार में दावा किया कि वह “पीड़ित” था और वो अपने पिता के साथ “बुरे समय” को भूलने की कोशिश कर रहा है. 

41 वर्षीय, उमर जो अब फ्रांस के नॉर्मंडी में पत्नी ज़ैना के साथ रहता है, बिन लादेन को याद करते हुए कहता है कि वह उनके काम को आगे बढ़ाने के लिए चुना गया बेटा था. हालांकि, उन्होंने न्यूयॉर्क में 11 सितंबर के आतंकवादी हमलों से कुछ महीने पहले अप्रैल 2001 में अफगानिस्तान छोड़ दिया था. 

उन्होंने अखबार को बताया, “मैंने उन्हें अलविदा कहा और उन्होंने भी मुझे अलविदा कहा. मैं उस दुनिया में पर्याप्त जी चुका था. हालांकि, मेरे पिता खुश नहीं थे कि मैं जा रहा था.” 

अपने पिता के गुर्गे द्वारा किए गए रासायनिक प्रयोगों के संदर्भ में बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैं सब देख चुका था. उन्होंने कहा, “उन्होंने इसे मेरे कुत्तों पर परीक्षण किया. मैं खुश नहीं था. मैं जितना हो सके सभी बुरे समय को भूलने की कोशिश करता हूं. यह बहुत मुश्किल है. आप हर समय पीड़ित रहते हैं.”

अब एक पेंटर, उमर का मानना ​​है कि उनकी कला चिकित्सा की तरह है और उनका पसंदीदा विषय “अफगानिस्तान में पांच साल रहने के बाद पहाड़” है. कथित तौर पर उनकी कलाकृति GBP 8,500 एक कैनवास तक बिकती है.

मार्च 1981 में बिन लादेन की पहली पत्नी नजवा से सऊदी अरब में पैदा हुए उमर ने कहा, “वे मुझे एक सुरक्षित एहसास देते हैं, जैसे मैं अछूता हूं.”

“मेरे पिता ने कभी भी मुझे अल-क़ायदा में शामिल होने के लिए नहीं कहा, लेकिन उन्होंने मुझे बताया कि मैं उनके काम को आगे बढ़ाने के लिए चुना गया बेटा था. जब मैंने कहा कि मैं उस जीवन के अनुकूल नहीं था, तो वह निराश हो गए.”

जब उनसे पूछा गया कि उन्हें क्यों लगता है कि उनके पिता ने उन्हें अपना उत्तराधिकारी चुना है, तो उन्होंने अखबार से कहा: “मुझे नहीं पता, शायद इसलिए कि मैं अधिक बुद्धिमान था, यही वजह है कि मैं आज जीवित हूं.” उनकी 67 वर्षीय पत्नी ज़ैना ने अखबार को बताया कि उमर उनके “आत्मा साथी” हैं और उनका मानना ​​है कि वह “बहुत बुरे आघात, तनाव और आतंक के हमलों” से पीड़ित हैं. 

वह कहती हैं, ”उमर ओसामा से प्यार करता है और उससे नफरत भी करता है. वह उससे प्यार करता है क्योंकि वह उसका पिता है लेकिन उसने जो किया है उससे नफरत करता है.

‘सन’ रिपोर्ट के मुताबिक, उमर 2 मई, 2011 को कतर में थे, जब उन्होंने यह खबर सुनी कि अमेरिकी नेवी सील्स ने उनके पिता की हत्या कर दी है, जो पाकिस्तान के एक सुरक्षित घर में छिपे हुए थे. आधिकारिक अमेरिकी खाता यह है कि बिन लादेन के शरीर को उसकी मौत के 24 घंटे के भीतर सुपरकैरियर यूएसएस कार्ल विंसन से समुद्र में दफन कर दिया गया था. 

हालांकि, उमर को संदेह है: “मेरे पिता को दफनाना और यह जानना बेहतर होगा कि उनका शरीर कहां है. लेकिन उन्होंने हमें मौका नहीं दिया.”

“मुझे नहीं पता कि उन्होंने उसके साथ क्या किया. वे कहते हैं कि उन्होंने उसे समुद्र में फेंक दिया लेकिन मुझे विश्वास नहीं होता. मुझे लगता है कि वे लोगों को देखने के लिए उसके शरीर को अमेरिका ले गए.”

       

यह भी पढ़ें –

“हिंदू आम तौर पर दंगों में शामिल नहीं होते” , NDTV से बोले हिमंत बिस्वा सरमा

“राहुल गांधी ग्लैमरस हैं, लेकिम सद्दाम हुसैन की तरह दिखते हैं” – CM हिमंत बिस्व

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Featured Video Of The Day

मुमताज पटेल ने कहा- ” पिता अहमद पटेल की याद आ रही है, लड़ाई बीजेपी और कांग्रेस के बीच”



Source link

Continue Reading

TRENDING

FIFA World Cup: मोरक्को की टीम 36 साल बाद प्री-क्वॉर्टरफाइनल में, क्रोएशिया ने बेल्जियम को किया बाहर

Published

on

By


Image Source : FIFA
क्रोएशिया और मोरक्को

FIFA World Cup: फुटबॉल वर्ल्ड कप 2022 के ग्रुप एफ के मैच में गत उप-विजेता क्रोएशिया ने दुनिया की दूसरे नंबर की टीम बेल्जियम और मोरक्को की टीम ने कनाडा को हराकर बाहर कर दिया है। क्रोएशिया ने बेल्जियम के साथ मुकाबले को बराबरी पर खत्म किया और प्री-क्वॉर्टरफाइनल में जगह बनाने में सफल रही। वहीं मोरक्को की टीम ने कनाडा को 2-1 से हराकर 36 साल बाद ग्रुप स्टेज से आगे बढ़ने में कामयाब रही। मोरक्को की टीम इससे पहले 1986 में नॉकआउट दौर में पहुंची थी।

ग्रुप एफ से मोरक्को की टीम 3 मैच खेलकर सात अंकों के साथ शीर्ष पर रही वहीं क्रोएशिया की टीम 3 मैचों में 5 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रही। कई स्टार खिलाड़ियों से सजी बेल्जियम को अगले दौर में पहुंचने के लिए हर हार में जीत हासिल करनी थी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया और वह उसका टूर्नामेंट में सफर समाप्त हो गया।

मैच की बात करें तो अहमद बिन अली स्टेडियम में दुनिया की दूसरे नंबर की टीम बेल्जियम ने हैरानी भरा फैसला करते हुए शुरुआती एकादश में रोमेलू लुकाकू और एडेन हेजार्ड जैसे अनुभवी खिलाड़ियों को मौका नहीं दिया। टीम को 21 साल के मिडफील्डर अमादू ओनाना की भी कमी खली। दो पीले कार्ड मिलने के कारण ओनाना निलंबित थे। बेल्जियम के पास हालांकि नियमित समय के अंतिम तीन मिनट में दो बार गोल दागने का स्वर्णिम मौका था लेकिन दोनों बार लुकाकू चूक गए।

वहीं दोहा के अल थुमामा स्टेडियम में दुनिया की 22वें नंबर की टीम मोरक्को ने हाकिम जियेच (चौथे मिनट) और यूसुफ एन नेसरी (23वें मिनट) के पहले हाफ में दागे गोल से 1986 के बाद पहली बार नॉकआउट चरण में प्रवेश किया। कनाडा का गोल नोएफ एग्वेर्ड (40वें मिनट) की ओर से आया जिन्होंने आत्मघाती गोल दागा। मोरक्को और कनाडा की टीम इससे पहले सिर्फ एक बार एक दूसरे के आमने-सामने थी। मोरक्को ने 2016 में इस मैत्री मैच में 4-0 से जीत दर्ज की थी।

चार साल पहले फाइनल में पहुंचने वाला क्रोएशिया एक जीत और दो ड्रॉ से पांच अंक जुटाकर ग्रुप एफ से अंतिम 16 में जगह बनाने वाली दूसरी टीम बना। रूस में 2018 में हुए पिछले विश्व कप में तीसरे स्थान पर रहा बेल्जियम इस बार एक जीत, एक ड्रॉ और एक हार से चार अंक जुटाकर ग्रुप स्टेज में तीसरे स्थान पर ही रहा। अंतिम मैच से पहले ही टूर्नामेंट से बाहर हो चुका कनाडा कोई अंक नहीं जुटा सका और अंतिम स्थान पर रहा।

मोरक्को का सामना अब पांच दिसंबर को होने वाले प्री क्वार्टर फाइनल में ग्रुप ई में दूसरे स्थान पर रहने वाली टीम से होगा जबकि इसी दिन क्रोएशिया की टीम ग्रुप ई में शीर्ष पर रहने वाली टीम से भिड़ेगी।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Other Sports News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन





Source link

Continue Reading