Connect with us

TRENDING

“गृहयुद्ध का आह्वान करना होगा”: चंद्रबाबू नायडू के बेटे ने पिता के खिलाफ भ्रष्टाचार के केस पर NDTV से कहा

Published

on


आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री के चंद्रबाबू नायडू के पुत्र नारा लोकेश ने कहा कि उनके पिता को बिना किसी सबूत के रिमांड पर भेजा गया.

नई दिल्ली:

चंद्रबाबू नायडू के बेटे ने शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री का बचाव करते हुए एनडीटीवी से कहा, “मुझे (सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस के) भ्रष्ट शासन के खिलाफ गृहयुद्ध का आह्वान करना होगा.” नायडू के बेटे नारा लोकेश ने जोर देकर कहा कि उनके पिता – ऐसे राजनेता हैं जिन पर भ्रष्टाचार के आरोप नहीं हैं लेकिन उनको “बिना किसी सबूत के” रिमांड पर भेजा गया.

चंद्रबाबू नायडू को राज्य के कौशल विकास निगम से जुड़े कथित 371 करोड़ रुपये के घोटाले में गिरफ्तार किया गया और दो सप्ताह की न्यायिक हिरासत में राजमुंदरी जेल भेज दिया गया है. अगले साल होने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनावों से पहले तेलुगु देशम पार्टी के प्रमुख की गिरफ्तारी से आंध्र प्रदेश की राजनीति में भूचाल आ गया है.

लोकेश ने शुक्रवार को दोपहर में दिल्ली में एनडीटीवी से कहा, “पूर्ण बहुमत की सत्ता बिल्कुल भ्रष्ट करती है… और भ्रष्ट लोग ईमानदार लोगों को सलाखों के पीछे डाल देते हैं. आंध्र प्रदेश में ठीक यही हो रहा है.” उन्होंने मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता के रूप में अपने पिता के “शानदार रिकॉर्ड” पर जोर देते हुए यह बात कही.

उन्होंने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी पर निशाना साधते हुए कहा, “यदि आप रिमांड रिपोर्ट को पढ़ेंगे तो यह बहुत स्पष्ट है कि पैसे का कोई लेन-देन नहीं है… क्योंकि नायडू ने कुछ भी गलत नहीं किया है. यह बिल्कुल स्पष्ट है कि यह प्रतिशोध की राजनीति है…”

हर उपलब्ध कानूनी विकल्प के जरिए लड़ेंगे

अपने पिता के लिए समर्थन जुटाने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में आए लोकेश ने कहा कि वे हर उपलब्ध कानूनी विकल्प के माध्यम से आरोपों के खिलाफ लड़ने का इरादा रखते हैं. उन्होंने कहा, न्याय में देरी हो रही है लेकिन न्याय से इनकार नहीं किया जा सकता.न्याय में देरी हो रही है लेकिन न्याय से इनकार नहीं किया जा सकता.

उन्होंने कहा, “नायडू का रिकॉर्ड शानदार है… वे 15 साल तक मुख्यमंत्री रहे और 15 साल तक विपक्ष के नेता रहे. उनका ट्रैक रिकॉर्ड अद्भुत है… एक ऐसे राजनेता हैं जिन पर भ्रष्टाचार के कोई आरोप नहीं हैं और ऐसे ईमानदार व्यक्ति को बिना किसी सबूत के न्यायिक हिरासत में भेजा जा रहा है.” लोकेश ने “सभी भारतीयों से नायडू के पक्ष में एकजुट होने का आह्वान किया”.

गुरुवार को अभिनेता और राजनेता पवन कल्याण ने मुख्यमंत्री और उनकी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि उनकी जन सेना ने नायडू की टीडीपी के साथ गठबंधन किया है. उन्होंने कहा, “यह हमारे (उनकी पार्टी)  के राजनीतिक भविष्य के बारे में नहीं है… बल्कि आंध्र प्रदेश के भविष्य के बारे में है.” 

विपक्षी दलों के गठबंधन ‘इंडिया’ के समर्थन का स्वागत किया

लोकेश ने 28 विपक्षी दलों के गठबंधन ‘इंडिया’ के समर्थन का स्वागत किया. इस गठबंधन के कई सदस्यों ने चंद्रबाबू नायडू का समर्थन किया है, भले ही टीडीपी इस गठबंधन का हिस्सा नहीं है.

चंद्रबाबू के बेटे ने कहा, “इंडिया का समर्थन बहुत मायने रखता है… नायडू ने एक या दो दिन में नहीं बल्कि 42 वर्षों में एक अद्भुत विश्वसनीयता बनाई है… और मुझे दुख है कि इस तरह की विश्वसनीयता वाला एक नेता झूठे आरोप पर आज न्यायिक रिमांड की इस स्थिति में है.” 



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

महाराष्ट्र में गणेश विसर्जन की धूम, भक्तों की लगी भीड़

Published

on

By


Image Source : INDIA TV
महाराष्ट्र में गणेश विसर्जन की धूम

महाराष्ट्र: पूरे देश में बड़े ही धूम-धाम के साथ गणेश विसर्जन का त्योहार मनाया जा रहा है। महाराष्ट्र की सड़कों पर भी भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। विसर्जन के दौरान अभिनेता और नेता से लेकर आम आदमी, हर कोई धूम-धाम के साथ अपने प्यारे गणपति को विदाई देता है और उनसे अगले साल फिर से आने के लिए आग्रह करता है।

मुंबई में विसर्जन की धूम

आज अनंत चतुर्दशी है और ऐसे पावन मौके पर पूरे महाराष्ट्र में गणपति बप्पा को विदाई देने के लिए लोग अपने घरों से निकलकर चौपाटी पहुंच रहे हैं। इस दौरान लोग बड़े मंडलों समेत ङर घर में विराजे गणपति बप्पा की मूर्तियां लेकर चौपाटी में विसर्जन के लिए पहुंच रहे हैं। इस दौरान चौपाटी पर भक्तों की काफी भारी भीड़ देखने को मिल रही है।

चौपाटी पर भक्तों की भारी भीड़ को देखते हुए पुलिस ने एंट्रेंस पर बैरिकेंडिंग कर दी है। इसके अलावा पुलिस ने दादर चौपाटी पर नजर रखने के लिए एक वाच टावर भी बनाया है। मूर्तियों के विसर्जन के लिए चौपाटी पर लाइफ गार्ड और वालंटियर मौजूद हैं। 

महाराष्ट्र के पूर्व CM भी विसर्जन करने पहुंचे

गणपति बप्पा को विदाई देने के लिए हर कोई चौपाटी पहुंच रहा है। इस दौरान महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चौहान भी अपने परिवार के साथ गणपति बप्पा का विसर्जन करने पहुंचे। अशोक चौहान ने अपने परिवार के साथ गणपति बप्पा के जयकारे लगाते हुए उन्हें विदाई दी।

आपको बता दें कि गणपति बप्पा को विदाई देने के बाद उन्होंने मीडिया से कहा कि, बप्पा को विदाई देते समय काफी दुख हो रहा है।

नागपुर में विसर्जन शुरू

नागपुर शहर में प्रशासन ने गणपति विसर्जन के लिए लोगों को 2 बजे का समय दिया था। 2 बजते ही पूरे शहर में गाना और बाजे के साथ सभी भक्त भगवान गणेश की विदाई के लिए निकल गए। 

इस साल नागपुर में करीब 3 लाख घरों में भगवान गणेश विराजमान थे। इसके अलावा करीब 1212 सार्वजनिक मंडलों में भगवान गणेश की स्थापना की गई थी। 

नागपुर के राजा रेशम बाग से विसर्जन के लिए निकले

जिस तरह एक राजा शहर का भ्रमण करने के लिए निकलता है और उसे देखने के लिए जनता सड़क किनारे खड़ी रहती है, कुछ इसी तरह का दृश्य दिखा जब रेशम बाग के पंडाल से नागपुर के राजा विसर्जन के लिए निकलें। 1 बजे शुरू हुई इस यात्रा के दौरान नागपुर के राजा करीब 22 किमी की यात्रा तय कर विसर्जन के लिए जाएंगे।

आपको बता दें कि नागपुर के राजा की विशेषता यह है कि हर साल उनकी ऊंचाई एक इंच बढ़ा दी जाती है। यह उनका 26वां वर्ष है। नागपुर के राजा का स्वर्ण आभूषणों से श्रृंगार किया जाता है और अगले बरस तू जल्दी आ के नारों के साथ लोग हाथ जोड़कर उन्हें विदाई देते हैं।

ये भी पढ़ें-

मुंबई में मराठी महिला को घर न देने पर बवाल, संजय राउत ने सीएम शिंदे से पूछा- इतनी हिम्मत कहां से आई

महाराष्ट्र में सरकारी कर्मचारियों को पांच दिन का अवकाश, जानिए क्या है इसकी वजह

 





Source link

Continue Reading

TRENDING

First Aid for Heart Attack | हार्ट अटैक आने पर ऐसे करें फस्ट एड | हार्ट अटैक का प्राथमिक उपचार क्या है?

Published

on

By



दिल का दौरा पड़ने पर 15 मिनट या इससे ज्यादा देर तक चेस्ट पेन हो सकता है. कुछ लोगों को यह दर्द हल्का होता है जबकि कुछ लोग तेज दर्द महसूस करते हैं. यह असहजता आम तौर पर लोगों को दिल पर दबाव या भारीपन के रूप में महसूस होती है. हालांकि कुछ लोगों को इस तरह के कोई लक्षण महसूस नहीं होते हैं. औरतों में लक्षण और भी अलग किस्म के जैसे उल्टी या बैक पेन के रूप में सामने आते हैं.

Read this also: World Heart Day 2023: दिल की बीमारी के क्या हैं संकेत? जानिए कारण और बचाव के उपाय

क्या होता है जब हार्ट अटैक आता है (Symptoms of Heart attack)


किसी को जब दिल का दौरा (Heart attack) पड़ता है तो सामान्य तौर पर छाती में दर्द, दबाव, टाइटनेस या छाती के सेंटर में भिंचे जाने या तेज दर्द का अनुभव होता है. दर्द और डिसकफंर्टनेस कंधों, बाहें पीठ, गर्दन, जबड़े, दांतों और कभी कभी पेट के ऊपरी भाग में फैलता महसूस होता है. उलटी, अपच, हार्ट में जलन या पेट में दर्द महसूस हो सकता है. सांस उखड़ने लगती है. पसीना आने लगता है और चक्कर या बेहोशी महसूस होती है.

Read this also: World Heart Day 2023: कब है वर्ल्ड हार्ट डे, जानिए इतिहास, इस साल की थीम और महत्व

क्या करें जब किसी को दिल का दौरा पड़े (First Aid for Heart attack)

1. आपातकालीन नंबर पर कॉल करें (Call Emergency Number)

अगर आप में या किसी और में हार्ट अटैक लक्षण नजर आएं तो उनकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए, सबसे पहले आपातकालीन नंबर पर कॉल कर मेडिकल सेवा या एंबुलेंस बुलानी चाहिए. ऐसी सुविधा नहीं न तो तो किसी दोस्त, परिचित या पड़ोसी की मदद से तत्काल नजदीकी अस्पताल पहुंचने की व्यवस्था करें

2. एस्प्रिन चबाएं और निगल लें (Chew Aspirin)

आपातकालीन सेवा के आप तक पहुंचने तक  एस्प्रिन ब्लड को क्लॉट होने से रोकने में मदद कर सकती है. यह हार्ट अटैक के डैमेज को कम कर सकती है. हालांकि एस्प्रिन से एलर्जी होने के मामले में इसे नहीं लेना चाहिए.

3. नाइट्रोग्लिसरीन लें (Take Nitroglycerin)

अगर आपको लगता है कि आपको हार्ट अटैक आया है और आपके डॉक्टर ने आपको नाइट्रोग्लिसरीन प्रिस्क्राइब किया है तो तत्काल नाइट्रोग्लिसरीन लें.

4. अगर पीड़ित बेहोश है तो सीपीआर दें (Being CPR if person is unconscious)

अगर पीड़ित बेहोश् हो गया हो, सांस नहीं ले पा रहा हो या उसकी पल्स नहीं चल रही हो तो तो उसे सीपीआर देना चाहिए.

5. एइडी का उपयोग( Use AED)

अगर एइडी उपलब्ध हो तो डिवाइस के इंस्ट्रक्शन को फॉलो करते हुए उसे उपयोग करना चाहिए.

Gym से पहले कर लिया ये काम, तो कोसों दूर रहेगा Heart Attack | Dr Vikas Thakran (Cardiology), Watch Video- 

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)



Source link

Continue Reading

TRENDING

MP में भाजपा ने क्यों उतारे बड़े-बड़े दिग्गज? कैलाश विजयवर्गीय ने खुद बताया ‘अपराजेय’ वाला फॉर्मूला

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

MP chunav news: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सोमवार को उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी की। 39 सीटों पर कई दिग्गजों को चुनावी मैदान में उतारा गया है। इनमें तीन केंद्रीय मंत्री, चार सांसद और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय शामिल हैं। भाजपा सूत्रों के मुताबिक, दूसरी लिस्ट देखकर राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी आश्चर्यचकित हो गए थे। एक सूत्र ने बताया कि अब अगला सीएम कौन बनेगा यह बताया नहीं जा सकता। पहली लिस्ट में 39 और दूसरी में भी 39 सीटें पर नाम के ऐलान के बाद पार्टी के अंदर और बाहर खुसुर-फुसुर तेज हो गई है। ऐसे में भाजपा के दिग्गज नेता कैलाश विजयवर्गीय ने खुद बताया कि पार्टी ने यह फैसला क्यों लिया है।

भाजपा का अपराजेय’ वाला फॉर्मूला

कैलाश विजयवर्गीय ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ को दिए इंटरव्यू में बताया कि यह फैसला पार्टी नेतृत्व का है। दूसरी लिस्ट में जिन 8 सीनियर नेताओं (तीन केंद्रीय मंत्री, चार सांसद और कैलाश विजयवर्गीय) के नाम का ऐलान किया गया है वो कभी भी चुनाव नहीं हारे हैं। पार्टी ने हम लोगों को इसलिए चुनावी मैदान में उतारा है कि हम भाजपा की जीत को सुनिश्चित कर सकें।

बताया 2024 का भी प्लान

कैलाश विजयवर्गीय ने आगे कहा कि इससे यह पता चल रहा है कि भाजपा इस चुनाव को बेहद गंभीरता से ले रही है। चुनाव में हम सब एक टीम की तरह मैदान में उतरेंगे और सरकार बनने के बाद भी एक टीम की तरह ही काम करेंगे। फिर हम लोग अगले साल होने जा रहे लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत सुनिश्चित करेंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक बार फिर पीएम बनाएंगे।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में भाजपा ने दो लिस्ट में कुल 78 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया है। दूसरी लिस्ट जारी होने के बाद नरेंद्र सिंह तोमर, प्रहलाद पटेल, कैलाश विजयवर्गीय और सीएम शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री पद के लिए प्रबल दावेदार माने जा रहे हैं। भाजपा ने यही प्लान त्रिपुरा चुनाव में भी अपनाया था जहां माणिक साहा और प्रतिमा भौमिक दोनों को चुनावी समर में उतारा गया था।



Source link

Continue Reading