Connect with us

TRENDING

गुजरात में सुनाई दी श्रद्धा मर्डर की गूंज, सरमा बोले- मोदी PM नहीं रहेंगे तो हर शहर में पैदा होगा आफताब

Published

on


ऐप पर पढ़ें

दिल्ली की श्रद्धा वॉकर दिल दहला देने वाली हत्या की गूंज गुजरात चुनाव में भी सुनाई देने लगी है। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कच्छ में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि अगर देश में कोई मजबूत नेता नहीं होता तो आफताब (अमीन पूनावाला) हर शहर में पैदा होगा और हम अपने समाज की रक्षा नहीं कर पाएंगे।

सरमा इस बात पर जोर दे रहे थे कि नरेंद्र मोदी को केंद्र में तीसरा कार्यकाल देने की जरूरत है। हिमंत सरमा ने इस हत्या का विवरण देते हुए इसे लव जिहाद करार दिया। 

सरमा ने कहा, “आफताब ने मुंबई से श्रद्धा बहन को लाया और लव जिहाद के नाम पर उसके 35 टुकड़े कर दिए। और उसने शव को कहां रखा? फ्रिज में। जब श्रद्धा का शव फ्रिज में था तो वह एक और महिला को घर लाया था। उसे डेट करना शुरू कर दिया।” सरमा ने आगे कहा, “अगर देश में एक शक्तिशाली नेता नहीं होता, जो राष्ट्र को अपनी मां मानता है, तो ऐसे आफताब हर शहर में पैदा होंगे। हम अपने समाज की रक्षा नहीं कर पाएंगे।”

उन्होंने आगे कहा, “इसलिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि नरेंद्र मोदी को 2024 में तीसरी बार फिर से पीएम बनाया जाए।”

आपको बता दें कि श्रद्धा और आफताब दोनों कॉल सेंटर में नौकरी करते थे। दोनों मई में मुंबई से दिल्ली चले आए। चार दिन बाद ही आफताब ने उसकी हत्या कर दी। उसने उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और बाद में शरीर को 35 टुकड़ों में काट दिया जिसे उसने एक फ्रिज रखा था। पुलिस ने यह जानकारी दी है।

श्रद्धा के पिता ने मई 2021 से उससे बात नहीं की थी, क्योंकि वह आफताब के साथ उसके संबंधों से खुश नहीं थे। पिछले महीने वह पुलिस के पास पहुंचे। वो और श्रद्धा के कई दोस्त बीते कुछ महीनों से उससे बात नहीं कर पा रहे थे। आफताब फिलहाल पुलिस हिरासत में है। उसका नार्को टेस्ट भी होना है।



Source link

TRENDING

फरीदाबाद : बल्लभगढ़ में महिला के साथ दुष्कर्म तथा वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने वाला गिरफ्तार

Published

on

By


बल्लभगढ़ में महिला के साथ दुष्कर्म तथा वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने वाला गिरफ्तार.

फरीदाबाद:

बल्लभगढ़ थाना क्षेत्र की रहने वाली एक महिला के साथ रेप करने और रेप का वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने के आरोप में पुलिस ने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के रहने वाले एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. उसके पास से पुलिस ने वीडियो वाला मोबाइल फोन भी बरामद कर लिया है.

यह भी पढ़ें

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम प्रदीप (28) है. यह यूपी के सहारनपुर का रहने वाला है. आरोपी के खिलाफ सिटी थाना बल्लभगढ़ में दुष्कर्म की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था. आरोपी ने एक महिला के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम देकर उसकी फोटो तथा वीडियो बनाकर उसे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया और बार-बार उसके साथ दुष्कर्म करता रहा.

पुलिस को दी अपनी शिकायत में महिला ने बताया कि पिछले वर्ष उसकी मुलाकात आरोपी के साथ हुई थी. अप्रैल 2021 में आरोपी ने बहला-फुसलाकर महिला के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया और उसकी फोटो तथा वीडियो बना ली. इसके पश्चात आरोपी बार-बार उसे अपने पास बुलाता रहा और नहीं आने पर उसकी फोटो तथा वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल करता.

इस प्रकार आरोपी ने कई बार महिला के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया. महिला ने बताया कि आरोपी ने उसे ब्लैकमेल करके उससे 3 लाख रुपये भी लिए. इसकी अभी जांच की जा रही है. महिला की शिकायत के आधार पर आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके मामले में कार्रवाई शुरू की गई. पुलिस ने आरोपी को 29 नवंबर को गिरफ्तार कर लिया. मामले में गहनता से पूछताछ करने के लिए आरोपी को अदालत में पेश करके 2 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया.

पुलिस पूछताछ के दौरान सामने आया कि आरोपी पहले फरीदाबाद में एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करता था. किसी व्यक्ति के माध्यम से उसकी मुलाकात पीड़ित महिला के साथ हुई. इसके पश्चात उसने बहला-फुसलाकर महिला के साथ दुष्कर्म करके उसकी फोटो व वीडियो बना ली और उसे बार-बार ब्लैकमेल करके उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम देता रहा. पुलिस ने आरोपी के कब्जे से वारदात में उपयोग मोबाइल फोन बरामद किया है. पुलिस पूछताछ पूरी होने के पश्चात आरोपी को कल अदालत में पेश करके जेल भेजा जाएगा.

यह भी पढ़ें-

       

दिल्ली, वाराणसी और बेंगलुरु हवाई अड्डे से अब करें पेपरलेस यात्रा, ‘डिजियात्रा’ के लिए बस यह करना होगा
शादी बचाने के लिए पत्नी पूरा कर रही थी मन्नत, पति ने 1.90 करोड़ रुपये की बीमा राशि पाने के लिए करवा दी हत्या  
“क्या हमारे देश के मुसलमानों और ईसाइयों को हिंदू मुसलमान और हिंदू ईसाई कहा जाएगा?” : शिवानंद तिवारी 

Featured Video Of The Day

मतदान करने आए वोटरों ने बताया आखिर क्या सोचकर डाल रहे हैं वोट: NDTV की रिपोर्ट



Source link

Continue Reading

TRENDING

पीएम मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- उनके नेताओं में मुझे गाली देने की होड़ मची है

Published

on

By


Image Source : PTI
गुजरात के कलोल में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी के नेताओं में होड़ मची है कि मुझे सबसे गंदी गाली कौन देगा। पीएम ने कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खरगे के ‘रावण’ वाले बयान का जिक्र करते हुए गुरुवार को कहा कि प्रमुख विपक्षी दल के नेताओं के बीच उन्हें गाली देने की होड़ मची है। मोदी ने कहा कि अभद्र शब्दों का इस्तेमाल करने के बावजूद उन्होंने माफी मांगने की बात तो दूर, पाश्चाताप भी नहीं किया। बता दें कि खरगे से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मधुसूदन मिस्त्री ने मोदी के खिलाफ ‘औकात’ बता देने का बयान दिया था। 

‘क्या आप रावण की तरह 100 सिर वाले हैं?’

गुजरात में सोमवार को एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए खरगे ने कहा था कि प्रधानमंत्री सभी चुनावों में लोगों से ‘उनका चेहरा देखकर वोट करने’ के लिए कहते हैं। खरगे ने पूछा था, ‘क्या आप रावण की तरह 100 सिर वाले हैं?’ खरगे के इस बयान को भारतीय जनता पार्टी ने गुजरात के लोगों का अपमान करार दिया है। पंचमहल जिले के कलोल में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘कांग्रेस के नेताओं में होड़ मची है कि कौन मोदी को सबसे गंदी गाली देगा।’
https://twitter.com/narendramodi/status/1598191761809018881
‘अभद्र भाषा के बावजूद उन्होंने पश्चाताप नहीं किया’
मोदी ने कहा, ‘जिन्होंने भगवान राम के अस्तित्व पर कभी यकीन नहीं किया वे अब रामायण के ‘रावण’ को लेकर आए हैं। मुझे आश्चर्य है कि मेरे लिए ऐसे अभद्र शब्दों का इस्तेमाल करने के बावजूद उन्होंने पश्चाताप नहीं किया, माफी मांगने के बारे में तो भूल ही जाओ।’ गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए गुरुवार सुबह 8 बजे से राज्य विधानसभा की कुल 182 सीटों में से 89 सीटों पर मतदान हो रहा है। इस चरण में सौराष्ट्र-कच्छ और दक्षिण हिस्से के 19 जिले शामिल हैं। कलोल सहित बाकी की 93 सीटों पर 5 दिसंबर को दूसरे चरण में मतदान होगा।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News News in Hindi के लिए क्लिक करें इलेक्‍शन सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

TRENDING

क्यों जिनपिंग सरकार के लिए चीन का मिडल क्लास है बड़ा खतरा, इसलिए बढ़ रहा असंतोष

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

दुनिया में चीन दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के तौर पर जाना जाता है और बीते कुछ दशकों में उसने तेजी से ग्रोथ हासिल की है। लेकिन उसकी एक पहचान संचार माध्यमों पर रोक लगाने वाले एक ऐसे तानाशाही शासन की भी है, जहां के बारे में ज्यादा जानकारी दुनिया को नहीं मिलती। इसके अलावा दुनिया में हो रहे बदलावों से भी चीनी परिचित नहीं होते। फेसबुक, ट्विटर, गूगल जैसी सोशल मीडिया और टेक कंपनियां चीन में बैन हैं। चीन के अपने ही सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म हैं, जिनका लोग इस्तेमाल करते हैं। इस तरह चीन में सूचना की अपनी एक अलग दुनिया है, जो शेष विश्व से कटी रहती है। माना जाता है कि इसी वजह से चीन में कभी आंदोलन नहीं हो पाते।

हालांकि बीते कुछ दिनों में चीन में जिस तरह से पाबंदियों के खिलाफ लोग सड़कों पर उतरे और शी जिनपिंग के खिलाफ नारेबाजी की, उससे जरूर कुछ सवाल खड़े हुए हैं। चीन ने कोरोना काल से ही अपने यहां जीरो कोविड पॉलिसी लागू की थी, जिसके तहत हर शहर में लाखों लोगों के मूवमेंट पर पाबंदी लगा दी गई। यह अब तक जारी है, लेकिन बीते दिनों लोग सड़कों पर उतर आए और प्रदर्शन शुरू हो गए। बीजिंग से लेकर शंघाई तक शहर दर शहर आंदोलन हुए, जिससे चीन की सरकार पर सवाल खड़े हुए हैं। 

चीन के मामलों के जानकार मानते हैं कि शी जिनपिंग सरकार की संख्तियों पर अब वहां का मिडिल क्लास ऐतराज जाहिर करने लगा है। चीन के मध्य वर्ग का एक बड़ा तबका अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में रहने लगा है। इसके चलते वहां के उदार नियमों के बारे में उन्हें जानकारी मिली है और वे अब चीन की नीतियों को घुटन भरा मानते हैं। यही वजह है कि इस वर्ग में अब गुस्सा है। मार्च के बाद से अब तक चीन में ऐसे कई आंदोलन हो चुके हैं, जिन्होंने शी जिनपिंग सरकार की टेंशन बढ़ाई है। हाल ही में हुए आंदोलनों का असर तो ऐसा था कि एक तरफ चीन के अंदर प्रदर्शन हो रहे थे तो वहीं अमेरिका और तुर्की देशों में भी चीनियों के समर्थन में प्रदर्शन किए गए। 

बीते करीब दो दशकों में चीन में मिडिल क्लास की आबादी तेजी से बढ़ी है। फिलहाल मध्य वर्ग की आबादी में चीन 22 करोड़ से ज्यादा है, जो वर्ष 2000 में महज 50 लाख ही थी। यह आकांक्षी वर्ग ही अब चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के तानाशाही शासन के लिए सबसे बड़ा खतरा बन सकता है। चीन में तेजी से गैरबराबरी बढ़ी है और मिडिल क्लास की आबादी में भी इजाफा हुआ है। दरअसल चीन ने बाजार खोला है और इसके चलते अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों से निवेश आया है, लेकिन वहां की संस्कृति भी पहुंची है। ऐसे में उदारवाद के प्रभाव में आए चीनी अब सरकार की सख्त पाबंदियों को घुटन भरा मान रहे हैं।



Source link

Continue Reading