Connect with us

TRENDING

गाड़ी के सामने आ गया विशाल सांप, शख्स ने नंगे हाथों से पकड़ा, जैसी ही उठाकर फेंकने चला और फिर…

Published

on


गाड़ी के सामने आ गया विशाल सांप, शख्स ने नंगे हाथों से पकड़ा

सड़क पार कर रहे सांप को नंगे हाथों से पकड़कर फेंकते हुए एक शख्स के वीडियो ने ट्विटर पर लोगों का ध्यान खींचा है. भारतीय वन सेवा (IFS) के अधिकारी परवीन कस्वां (Parveen Kaswan) द्वारा ट्विटर पर अपलोड की गई क्लिप में, शख्स को एक गाड़ी से उतरते और बेपरवाही से सांप की ओर जाते हुए देखा जा सकता है.

यह भी पढ़ें

फिर वह सांप को उसकी पूंछ से उठाता है और उसे जंगल की ओर फेंक देता है, वीडियो में आप गाड़ी में बैठे लोगों को चिल्लाते और उसे उसके पास जाने से मना करते हुए सुना जा सकता है. कुछ देर बाद, सांप जंगल की ओर चला जाता है.

देखें Video:

कस्वां के अनुसार, घटना दक्षिण भारत की है. अधिकारी ने कैप्शन में लिखा, “इस पर आपके विचार. वन्यजीवों के आवास में जाना और परेशान करना या सड़क दुर्घटना से बचाना. वीडियो दक्षिण भारत में आदतन महत्वपूर्ण वन्यजीवों का है.”

वीडियो को अबतक ट्विटर पर 23 हजार से अधिक बार देखा गया. कई लोगों के लिए शख्स ने सांप को दुर्घटना से बचाया क्योंकि वह एक वाहन के नीचे आ सकता था. एक यूजर ने लिखा, ‘लगता है कि वह उसे गाड़ी के नीचे आने से बचा रहा था.

एक अन्य ने लिखा, “वह शांति से चला, उसे ठीक से पकड़ लिया, उसे झाड़ियों में छोड़ दिया और वापस आ गया..उसने उस जानवर को बचा लिया.”

एक अन्य यूजर ने कहा, “मुझे लगता है कि बेहतर होगा कि आप अपनी हेडलाइट बंद कर दें और सांप के पार जाने का इंतजार करें. यह मेरे साथ एक बार हुआ था और हमने सांप के गुजरने का इंतजार किया था. वन प्रभागों के पास या अंदर की सभी सड़कों पर रात के समय प्रतिबंध नहीं हैं, इसलिए यह है एक सामान्य घटना.”

MP : बांधवगढ़ में मिले ऐतिहासिक धरोहरें, मंदिर-गुफाएं 2000 साल से भी पुरानी





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

Weather Updates: दिल्ली-NCR में आज बारिश के आसार, पंजाब-हरियाणा में कड़ाके की ठंड जारी; जानें यूपी-बिहार का हाल

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

Weather Updates: पहाड़ों से सटे देश के कुछ राज्यों में अभी भी कड़ाके की ठंड जारी है। वहीं, अधिकांश मैदानी इलाकों में तापमान तेजी से बदल रहे हैं। बिहार और उत्तर प्रदेश में दिन के दौरान तेज धूप निकलती है। हालांकि, शाम और सुबह के समय हवा के कारण लोगों को ठंड का सामना करना पड़ता है। मौसम विभाग द्वारा जारी ताजा बुलेटिन के मुताबिक, दिल्ली-NCR और आसपास के इलाकों में आज बारिश हो सकती है। इसके साथ ही यहां तापमान में भी वृद्धि देखने को मिल सकती है। 

दिल्ली के मौसम का हाल बताने वाले आईएमडी के सफदरजंग कार्यालय की रिपोर्ट के मुताबिक, शनिवार को न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री सेल्सियस था। रविवार को दिल्ली में अलग-अलग इलाकों में बारिश की उम्मीद की गई है। कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, “एक नए पश्चिमी विक्षोभ के कारण रविवार से तापमान में वृद्धि होगी और इन इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है।” 

आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार, रविवार को अधिकतम तापमान 17 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की उम्मीद है। वहीं, न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। दिन में आसमान में बादल छाए रहने के साथ हल्की बारिश और गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।

पंजाब और हरियाणा में कड़ाके की ठंड जारी

पंजाब और हरियाणा में शनिवार को भी कड़ाके की ठंड जारी रही तथा दोनों राज्यों में कई जगहों पर तापमान सामान्य से कुछ डिग्री कम दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, पंजाब में बठिंडा राज्य में सबसे ठंडा स्थान रहा जहां न्यूनतम तापमान 1.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह सामान्य से चार डिग्री कम है। इसके अलावा, अमृतसर, लुधियाना, पटियाला, पठानकोट, फरीदकोट और गुरदासपुर में न्यूनतम तापमान क्रमश: 3.3 डिग्री, आठ डिग्री, 5.6 डिग्री, 5.8 डिग्री, 2.6 डिग्री और 5.2 डिग्री सेल्सियस रहा। 

पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी एवं केंद्रशासित प्रदेश चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान सात डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हरियाणा के अंबाला में न्यूनतम तापमान आठ डिग्री सेल्सियस और हिसार में न्यूनतम तापमान में 3.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से पांच डिग्री कम है। वहीं, राज्य के करनाल, नारनौल, रोहतक, भिवानी और सिरसा में न्यूनतम तापमान क्रमश: 4.2 डिग्री, 2.6 डिग्री, 4.6 डिग्री, 3.5 डिग्री और 2.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

मौसम का ताजा हाल जानने के लिए क्लिक करें



Source link

Continue Reading

TRENDING

अनियंत्रित निर्माण के कारण धंस गई जोशीमठ की भूमि – एक्सपर्ट्स

Published

on

By



विशेषज्ञों ने स्वदेशी जागरण मंच (एसजेएम) द्वारा आयोजित राउंड टेबल मीटिंग में पारित एक प्रस्ताव में, बाढ़ प्रभावित जोशीमठ में मौजूदा स्थिति से निपटने के लिए उठाए गए कदमों को “अपर्याप्त” बताया. 

उन्होंने सरकार से समस्या के समाधान के लिए दीर्घकालिक उपाय करने पर विचार करने के लिए भी कहा. विशेषज्ञों के मुताबिक नैनीताल, मसूरी और गढ़वाल के अन्य क्षेत्रों में भी इसी तरह की स्थिति पैदा हो सकती है, अगर पहाड़ी राज्य में “मानव लालच से प्रेरित तथाकथित विकास” की जांच नहीं की गई.  

प्रस्ताव में कहा गया है, “हिमालय को एक पर्यावरण-संवेदनशील क्षेत्र घोषित करें. तबाही मचाने वाली बड़ी परियोजनाओं को विनियमित करें.” जबकि चार धाम सड़क चौड़ीकरण परियोजना के तहत सड़क की चौड़ाई को मध्यवर्ती मानक के लिए विनियमित किया जाना चाहिए ताकि इलाके को नुकसान कम हो सके, चार धाम रेलवे परियोजना का पुनर्मूल्यांकन किया जाना चाहिए और फिर से देखा जाना चाहिए. 

प्रस्ताव में कहा गया है, “चारधाम रेलवे एक अति महत्वाकांक्षी परियोजना है जो बहुत तबाही मचाएगी और पर्यटन केंद्रित राज्य उत्तराखंड पर और अधिक बोझ डालेगी. इस परियोजना का पुनर्मूल्यांकन और फिर से विचार किया जाना चाहिए.”

यह सुनिश्चित करने के लिए उत्तराखंड की विस्तृत वहन क्षमता का आकलन किया जाना चाहिए कि इन स्थानों पर आने वाले पर्यटकों की संख्या का हिसाब रखा जाए और यह भी सुनिश्चित किया जाए कि पर्यटकों के प्रवाह से पर्यावरण पर बोझ न पड़े.

‘इमीनेट हिमालयन क्राइसिस’ विषय पर विचार-विमर्श के लिए आयोजित इस बैठक में केंद्र की चार धाम परियोजना पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त समिति के पूर्व अध्यक्ष रवि चोपड़ा, इसके पूर्व सदस्य हेमंत ध्यानी और अन्य ने भाग लिया. एसजेएम के सह-संयोजक अश्वनी महाजन ने इस बात की जानकारी दी. 

महाजन ने कहा, “श्री आदि शंकराचार्य ने आठवीं शताब्दी में शहर की स्थापना की थी, जहाँ पवित्र ज्योतिर्लिंग स्थित है, जिसे जोशीमठ (ज्योतिर मठ) के नाम से जाना जाता है. आज यह मठ ढहने के कगार पर है. जोशीमठ के डूबने की खबर ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है.” उन्होंने कहा, “मौजूदा संकट को देखते हुए भले ही कुछ कदम उठाए गए हों, लेकिन विशेषज्ञों का मानना ​​है कि आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित इस पहले ज्योतिर मठ को डूबने से नहीं रोका जा सकता है.”

मौजूदा स्थिति से निपटने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों को “अपर्याप्त” करार देते हुए प्रस्ताव में कहा गया है कि जहां एक तरफ जोशीमठ के डूबने से बड़ी संख्या में लोग विस्थापित होने जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ इसका समाधान है. प्रभावित निवासियों के पुनर्वास के माध्यम से ही मांग की जा रही है. “वर्तमान में इस क्षेत्र में मेगा परियोजनाओं पर काम – नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (NTPC) जल विद्युत परियोजना, हेलंग बाईपास सड़क निर्माण जो चारधाम सड़क चौड़ीकरण परियोजना और रोपवे परियोजना का हिस्सा है, को स्थानीय विरोध के आगे जिला प्रशासन ने रोक दिया है.”

यह भी पढ़ें –

MP की शिवराज सरकार अब शुरू करेगी ‘लाडली बहना योजना’, हर महिला के खाते में आएगी इतनी राशि..

विपक्ष की आवाज दबाने के लिए संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग कर रहा केंद्र : सुखजिंदर सिंह रंधावा

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Featured Video Of The Day

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुईं प्रियंका गांधी और महबूबा मुफ्ती 



Source link

Continue Reading

TRENDING

सड़क किनारे खड़े लोगों पर ट्रक चढ़ा, कम से कम चार लोगों की मौत

Published

on

By


(प्रतीकात्मक तस्वीर)

लखीमपुर खीरी (उप्र):

शहर कोतवाली क्षेत्र के पांगी गांव के पास शनिवार की शाम खीरी-बहराइच राजमार्ग पर सड़क किनारे खड़े लोगों को एक तेज रफ्तार ट्रक ने कुचल दिया जिससे कम से कम चार लोगों की मौत हो गई और पांच अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए.

यह भी पढ़ें



Source link

Continue Reading