Connect with us

TRENDING

कोलकाता पहुंचे नए राज्यपाल सीवी आनंद बोस, कल लेंगे पद की शपथ

Published

on


Image Source : ANI
पश्चिम बंगाल के नए राज्यपाल सीवी आनंद बोस

सीवी आनंद बोस पश्चिम बंगाल के नए राज्यपाल बनने जा रहे हैं। राज्य के नवनियुक्त राज्यपाल मंगलवार को कोलकाता पहुंचे। उनका शपथ ग्रहण समारोह बुधवार यानी 23 नवंबर को होगा। नेताजी सुभाष चंद्र बोस इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सुबह करीब 9.30 बजे पहुंचे। राज्य के नगरपालिका मामलों और शहरी विकास मंत्री और कोलकाता के मेयर फिरहाद हकीम और मुख्य सचिव एचके द्विवेदी ने उनका स्वागत किया। कोलकाता के पुलिस आयुक्त विनीत कुमार गोयल भी मौजूद थे।

नियुक्ति का ऐलान 17 नवंबर को हुई थी 

बोस को कलकत्ता हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश प्रकाश श्रीवास्तव शपथ दिलाएंगे। उनकी नियुक्ति का ऐलान राष्ट्रपति भवन ने 17 नवंबर को की थी। मीडिया से बातचीत के दौरान नए राज्यपाल ने यह स्पष्ट कर दिया है कि पश्चिम बंगाल सरकार और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ उनकी बातचीत राजनीतिक होने के बजाय प्रशासनिक होगी। उनके नाम की घोषणा के बाद बनर्जी ने फोन कर उन्हें बधाई दी थी।

नए राज्यपाल से बहुत उम्मीदें हैं: शुभेंदु

तृणमूल कांग्रेस के नेतृत्व के एक वर्ग ने राज्य सरकार या मुख्यमंत्री से परामर्श किए बिना बोस की नियुक्ति पर नाराजगी व्यक्त की है। इस बीच, पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने भी बोस का हार्दिक स्वागत किया। उन्होंने कहा, “हमें उनसे बहुत उम्मीदें हैं, क्योंकि हमने एक पूर्व नौकरशाह के रूप में उनकी उत्कृष्ट कार्यशैली के बारे में सुना है।”

शुभेंदु अधिका ने कहा कि अब सभी की निगाहें आने वाले दिनों में गवर्नर हाउस-राज्य सचिवालय के समीकरणों पर टिकी होंगी, जो जगदीप धनखड़ के राज्यपाल के कार्यकाल के दौरान दोनों संस्थानों के बीच लगातार खींचतान की खबरों के बाद सुर्खियों में रहे। खींचतान इस हद तक पहुंची कि मुख्यमंत्री ने धनखड़ को ट्विटर पर ब्लॉक तक कर दिया।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें पश्चिम बंगाल सेक्‍शन





Source link

TRENDING

Mainpuri ByPoll: डबल इंजन की सरकार पर भारी ‘नेताजी‘ की सहानुभूति लहर, डिंपल यादव जीत की ओर

Published

on

By


Image Source : FILE
Dimple Yadav

मैनपुरी उपचुनाव: उत्तर प्रदेश की प्रतिष्ठित मैनपुरी सीट से मुलायम सिंह यादव की बहू और अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव जीत की ओर अग्रसर हैं। वे इस समय सवादो लाख से अधिक वा मुलायम सिंह यादव यानी ‘नेताजी‘ के निधन के बाद यह सीट रिक्त हुई थी। इस सीट पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने अपनी पत्नी को चुनावी मैदान में उतारा था। 

चुनाव में आरजेडी, असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम जैसी पार्टियों ने मुलायम सिंह यादव की रही इस सीट पर सहानुभूति के रूप में अपने प्रत्याशी मैदान में नहीं उतारे थे। हालांकि बीजेपी ने इस सीट को जीतने की भरसक कोशिश की। बीजेपी ने रघुराज शाक्य को मैदान में उतारा, लेकिन यूपी की बीजेपी सरकार यानी बीजेपी की केंद्र और राज्य की डबल इंजन की सरकार पर ‘नेताजी‘ की सहानुभूति लहर भारी पड़ी।

मैनपुरी उपचुनाव की मतगणना में शुरू से ही डिंपल यादव ने अपने प्रतिद्वंद्वी बीजेपी के रघुराज शाक्य से बढ़त बनाए रखी। पहले 24 हजार, फिर 50 हजार से अधिक और फिर 1 लाख से अधिक वोट, फिर सवा दो लाख से अधिक वोटों से वे आगे रहीं। जैसे जैसे मतगणना आगे बढ़ती रही,ए डिंपल और शाक्य के वोटों का अंतर भी आगे बढ़ता रहा। 

सपा के लिए मुलायम सिंह यादव की सहानुभूति लहर

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने जिस तरह से अपनी पत्नी डिंपल को मैदान में उतारा और हाल ही में चाचा शिवपाल यादव ने भी अपनी बहू के लिए प्रचार में जितना जोर लगाया है, उससे सपा इस बात पर आश्वस्त थी कि मैनपुरी चुनाव का परिणाम उनके पक्ष में ही जाएगा। दरअसल, यूपी में मुलायम सिंह यादव, का राजनीतिक कद काफी बड़ा था। उनके निधन के बाद सहानुभूति की लहर में डिंपल यादव के पक्ष में ये सीट चली गई। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News News in Hindi के लिए क्लिक करें इलेक्‍शन सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

TRENDING

मंत्रियों को समझाएं कि कॉलेजियम पर ना बोलें, हम संसद के कानून खारिज कर दें तो क्या होगा: SC

Published

on

By



अदालत ने गुरुवार को अटॉर्नी जनरल आर. वेंकटरमानी से कहा कि वह केंद्रीय मंत्रियों को सलाह दें कि कॉलेजियम की व्यवस्था की सार्वजनिक आलोचना करने से बचें। कानून मंत्री ने कॉलेजियम पर टिप्पणी की थी।



Source link

Continue Reading

TRENDING

“कहीं ऐसा न हो, राहुल गांधी को ‘कांग्रेस खोजो’ यात्रा करनी पड़े…”, गुजरात नतीजों पर शिवराज चौहान ने कसा तंज़

Published

on

By


शिवराज सिंह चौहान ने राहुल गांधी पर कसा तंज

गुजरात में बीजेपी की प्रचंड जीत को लेकर बीजेपी खेमे में काफी उत्साह है. इस जीत के साथ ही कांग्रेस की जीत के दावे भी धूल हो गए. इस पर जब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कहा कि राहुल जी भारत जोड़ो यात्रा कर रहे हैं ऐसा ना हो बाद में उन्हें कांग्रेस खोजो यात्रा करनी पड़े. गुजरात के नतीजों में 20 के नीचे समिट जाना अपने आप में कांग्रेस की स्थिति बताता है. अब वे सोचे या ना सोचें, लेकिन सच में यह भारतीय जनता पार्टी के लिए यह विजय अद्भुत और अभूतपूर्व है. 

यह भी पढ़ें

वहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गुजरात में भाजपा की प्रचंड जीत गुजरात की जनता की भाजपा और पीएम मोदी के प्रति अटूट विश्वास और स्नेह की जीत है. गुजरात में भाजपा ने जो विकास की राजनीति की, जनता ने उस पर फिर एक बार मोहर लगाई है. इस विश्वास के लिए गुजरात की जनता का कोटि कोटि धन्यवाद. प्रधानमंत्री मोदी जी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री भुपेंद्रभाई पटेल, प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल समेत पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को हार्दिक बधाई.

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि गुजरात चुनावों में भाजपा की ऐतिहासिक विजय विकास, सुशासन और लोक कल्याण के प्रति पार्टी की प्रतिबद्धता की जीत है. इस विजय का सबसे बड़ा श्रेय पीएम मोदी  के नेतृत्व के प्रति जनविश्वास, उनकी लोकप्रियता और विश्वसनीयता को जाता है. उन्हें बधाई एवं जनता के प्रति आभार. वहीं सीआर पाटिल ने कहा कि यह केंद्र और गुजरात में भाजपा सरकार के सुशासन और विकास की जीत है.

बता दें कि गुजरात में तो बीजेपी की प्रचंड लहर दिखी लेकिन वह हिमाचल प्रदेश का किला नहीं बचा सकी. हिमाचल में कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है. 

 

Featured Video Of The Day

कांग्रेस अपने विधायकों को हिमाचल से कर सकती है शिफ्ट : सूत्र



Source link

Continue Reading