Connect with us

TRENDING

‘कांग्रेस भारत का मजाक बना रही है’, जयराम रमेश के ‘कफ सीरप’ बयान पर भड़की BJP

Published

on


Image Source : FILE
बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी और कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश।

नयी दिल्ली: ‘मेड इन इंडिया’ कफ सीरप को लेकर दिए गए जयराम रमेश के बयान पर बीजेपी बुरी तरह भड़क गई है। गाम्बिया और उज्बेकिस्तान में कथित तौर पर भारतीय दवा कंपनियों के सीरप पीने के कारण बच्चों की मौत के मामले को लेकर गुरुवार को कांग्रेस और बीजेपी में जमकर जुबानी जंग हुई। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने कहा कि सरकार को ‘डींग हांकना’ छोड़कर इस मामले मे कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। दूसरी तरफ, भारतीय जनता पार्टी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति ‘नफरत’ के चलते कांग्रेस भारत का मजाक बना रही है।

CDSCO कर रही बच्चों की मौत के मामले की जांच

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) ने उज्बेकिस्तान में 18 बच्चों की कथित तौर पर एक भारतीय कंपनी द्वारा निर्मित खांसी की दवा पीने से हुई मौत के मामले में जांच शुरू कर दी है। उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दावा किया है कि इन बच्चों ने नोएडा स्थित मैरियन बायोटेक द्वारा निर्मित खांसी के सीरप ‘डॉक-1 मैक्स’ का सेवन किया था। उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय के इस दावे के बाद कांग्रेस हरकत में आ गई और पार्टी के महासचिव जयराम रमेश ने मोदी सरकार पर हमला बोल दिया।

‘भारत में बनी सीरप खतरनाक लग रही है’
पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने इस मामले को लेकर ट्वीट किया, ‘भारत में बनी सीरप खतरनाक लग रही हैं। पहले गाम्बिया में 70 बच्चों की मौत हुई और अब उज्बेकिस्तान में 18 बच्चों की मौत हुई। मोदी सरकार को यह डींग हांकना बंद कर देना चाहिए कि भारत दुनिया की फार्मेसी है। सरकार को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।’ रमेश के बयान पर पलटवार करते हुए बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने दावा किया कि गाम्बिया और उज्बेकिस्तान में ‘गलत दवा पीने’ से बच्चों की मौत हुई न कि ‘मेड इन इंडिया’ दवाओं की वजह से।

‘गलत दवाओं के कारण हुई बच्चों की मौत’
त्रिवेदी ने कहा, ‘इससे पता चलता है कि भारत को बदनाम करने के लिए कांग्रेस किस हद तक जा सकती है। वहां की सरकारें कह चुकी हैं कि गलत दवाइयों के कारण बच्चों की मौत हुई है। कोविड महामारी के बाद के दौर में फार्मा इंडस्ट्री में भारत ने बहुत तेजी से छलांग लगाई है और वह टॉप 10 में से एक हो गया है जबकि चीन से दवाओं के निर्यात में 68 प्रतिशत तक गिरावट आई है। इस तरह के बयान देकर, भारत को बदनाम करके, भारत के आर्थिक हितों पर चोट करके कांग्रेस किसके आर्थिक हितों की रक्षा करने की कोशिश कर रही है।’

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

वित्त मंत्री आज संसद में पेश करेंगी आर्थिक सर्वेक्षण, देश की अर्थव्यवस्था की सेहत का मिलेगा लेखा-जोखा

Published

on

By


Photo:FILE आर्थिक सर्वेक्षण

संसद का बजट सत्र आज से शुरू हो रहा है। 11 बजे राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के के अभिभाषण के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आर्थिक सर्वेक्षण (इकोनॉमिक सर्वे) पेश करेंगी। इस आर्थिक सर्वेक्षण में देश की अर्थव्यवस्था की सेहत का लेखा-जोखा मिलेगा। आपको बता दें कि हर साल बजट से ठीक एक दिन पहले देश में आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाता है। इसमें अर्थव्यवस्था के प्रमुख घटक की ग्रोथ रफ्तार, और चिंता के बारे में विस्तृत ब्योरा पेश किया जाता है। आर्थिक विशेषज्ञों का कहना है कि वैश्विक मंदी के बीच इस आर्थिक सर्वेक्षण में वित्त वर्ष 2023-24 में ग्रोथ की रफ्तार तीन साल में सबसे कम रह सकती है। आर्थिक सर्वेक्षण में देश की जीडीपी वृद्धि की रफ्तार 6 से 6.8 फीसदी रहने की संभावना है। 

क्या होता है आर्थिक सर्वेक्षण 

इकोनॉमिक सर्वे मौजूदा वित्त वर्ष का एक लेखा-जोखा होता है। इसके लिए विभिन्न सेक्टर्स, इंडस्ट्री, एग्रीकल्चर, इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन, रोजगार, महंगाई, एक्सपोर्ट जैसे डेटा का सहारा लिया जाता है। आसान भाषा में समझें तो यह सरकार का रिपोर्ट कार्ड होता है। सरकार को कहां से आय होगी, कहां खर्च होगा, महंगाई कितनी रहेगी, कौन सा सेक्टर पास हुआ कौन सा फेल हुआ, इस सब की जानकारी आर्थिक सर्वेक्षण में होती है। एक तरह से अगले दिन आने वाले आम बजट की एक बाहरी तस्वीर आर्थिक सर्वेक्षण से सामने आ जाती है। इसी सर्वे से आकलन लगाया जाता है कि कहां पर नुकसान हुआ और कहां पर फायदा हुआ है।

घर बैठे देख सकते हैं आर्थिक सर्वेक्षण

आप घर बैठे संसद में पेश होने वाले आर्थिक सर्वेक्षण का देख सकते हैं। आर्थिक सर्वेक्षण का लाइवस्ट्रीम सरकार के सभी ऑफिसियल चैनल जैसे संसद टीवी, पीआईबी इंडिया आदि पर किया जाएगा। आप इस लिंक की मदद से भी आर्थिक सर्वेक्ष्ण देख सकते हैं: https://www.youtube.com/@pibindia/videos केंद्रीय वित्त मंत्रालय के फेसबुक पेज का लिंक: https://www.facebook.com/finmin.goi ट्विटर पर लाइव अपडेट का लिंक: https://twitter.com/FinMinIndia

2 बजे प्रेस कांफ्रेंस कर दी जाएगी जानकारी 

संसद में आर्थिक सर्वेक्षण पेश हो जाने के बाद दिल्ली के नेशनल मीडिया सेंटर में चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर डॉ. वी अनंत नागेश्वरन प्रेस कांफ्रेंस करेंगे। इस दौरान वह पत्रकारों को आर्थिक सर्वेक्षण पर विस्तृत जानकारी देंगे और उनके सवालों के जवाब देंगे। आपको बता दें कि आर्थिक सर्वेक्षण मुख्य आर्थिक सलाहकार के नेतृत्व वाली टीम द्वारा तैयार किया जाता है। इस टीम में CEA के साथ वित्त और आर्थिक मामलों के जानकार शामिल रहते हैं। 

Latest Business News





Source link

Continue Reading

TRENDING

आर अश्विन बोले- हम रोहित और विराट की बात करते हैं, लेकिन ये खिलाड़ी भी दिग्गज है

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

जिस तरह से सीमित ओवरों की क्रिकेट में हाल के समय में शुभमन गिल और ईशान किशन ने अपना खेल दिखाया है, उस वजह से शिखर धवन के लिए व्हाइट बॉल क्रिकेट में दरवाजे फिलहाल के लिए बंद हो गए हैं। दिग्गज ओपनर को इस समय टीम में चुना नहीं जा रहा है। ऐसे में इस क्रिकेटर के लिए ODI क्रिकेट में कमबैक करना कठिन है। उनको लगातार तीन वनडे सीरीजों में नजरअंदाज किया गया है, लेकिन ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन का कुछ और ही मानना है।   

आर अश्विन ने शिखर घवन की तारीफ करते हुए कहा है कि 37 वर्षीय खिलाड़ी टीम के लिए सीमित ओवरों की क्रिकेट में साइलेंट कॉन्ट्रिब्यूटर रहा है। उन्होंने बाएं हाथ के बल्लेबाज को भारतीय क्रिकेट का दिग्गज कहा और एक दिलचस्प सवाल भी किया कि क्या टीम प्रबंधन को भविष्य के बारे में सोचते हुए ईशन किशन को बैक करना चाहिए या धवन को टीम में वापस लाना चाहिए।

आर अश्विन ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, “जब टॉप 3 विफल रहे, तो हमें अतीत में समस्याएं हुईं। शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली। हम रोहित और कोहली के बारे में काफी बातें करते हैं, लेकिन धवन भी दिग्गज हैं। वह चुपचाप अपना काम कर रहे थे। क्या उनकी जगह भरने में समस्या होगी? क्या हमें शिखर धवन के पास वापस जाना चाहिए या हमें इशान किशन को तैयार करना चाहिए, जिन्होंने अभी-अभी दोहरा शतक बनाया है?” 

उन्होंने सवाल उठाया कि एक बड़े स्कोर के आधार पर किसी खिलाड़ी का समर्थन करने के बजाय हमें यह देखना चाहिए कि टीम को क्या चाहिए? कौन सा खिलाड़ी दबाव में अच्छा प्रदर्शन उतरेगा? कौन सा किरदार लंबे समय तक हमारी सेवा करेगा? हालांकि, शुभमन गिल के प्रदर्शन से अश्विन काफी खुश नजर आए। गिल ने 3 मैचों की वनडे सीरीज में न्यूजीलैंड के खिलाफ 360 रन बनाए थे। इसमें एक दोहरा शतक और एक शतक शामिल था। 

आज से खेले जाएंगे रणजी ट्रॉफी के क्वार्टर फाइनल मैच, जानिए किससे भिड़ेगी कौन सी टीम

अश्विन बोले, “शुभमन गिल का खेल टीम इंडिया ने बीते दिनों देखा है। उन्होंने बहुत रन बनाए हैं और समय के साथ टीम के लिए सबसे कंसिस्टेंट बल्लेबाज रहे हैं। वह स्लॉग स्वीप और पारंपरिक स्वीप भी खेलते हैं, तेज गेंदबाजों को कट और पुल कर सकते हैं। स्मार्ट बल्लेबाजी, गुणवत्तापूर्ण बल्लेबाजी और अंत की ओर तेजी। उन्होंने आखिरी चार ओवरों में खूबसूरती से तेजी दिखाई और हैदराबाद वनडे में 200 रन पूरे किए।” 



Source link

Continue Reading

TRENDING

Jaya Ekadashi 2023: जया एकादशी के दिन करें ये खास उपाय, घर-परिवार पर बरसेगी मां लक्ष्मी की विशेष कृपा 

Published

on

By


Jaya Ekadashi 2023 Date: जया एकादशी पर प्रसन्न हो सकती हैं मां लक्ष्मी. 

Jaya Ekadashi 2023: शास्त्रों के अनुसार माघ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जया एकादशी कहा जाता है. एकादशी पर भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की विशेष पूजा-आराधना की जाती है. वहीं, जया एकादशी की बात करें तो इस दिन को पुण्यदायी माना जाता है. कहते हैं इस दिन पूजा करने वाले को विशेष फल की प्राप्ति होती है और भगवान विष्णु व्यक्ति के कष्टों को हर लेते हैं. इस वर्ष 1 फरवरी, बुधवार के दिन जया एकादशी का व्रत रखा जाएगा. मान्यतानुसार माता लक्ष्मी भगवान विष्णु की पत्नी हैं. इस चलते जया एकादशी पर कुछ उपाय करने पर भगवान विष्णु के साथ-साथ लक्ष्मी मां (Lakshmi Ma) की भी विशेष कृपा मिल सकती है. 

यह भी पढ़ें

Tulsi Niyam: मान्यतानुसार इस दिन नहीं चढ़ाया जाता तुलसी पर जल, घर में नहीं आती खुशहाली

जया एकादशी के उपाय | Jaya Ekadashi Upay 


पंचांग के अनुसार 31 जनवरी रात 11 बजकर 53 मिनट से जया एकादशी की शुरूआत हो रही है. इसका समापन अगले दिन 1 फरवरी दोपहर 2 बजकर 1 मिनट पर होगा. लेकिन, उदयातिथि के अनुसार जया एकादशी 1 फरवरी के दिन ही मनाई जाएगी. इस एकादशी पर व्रत का पारण 2 फरवरी सुबह 7 बजकर 9 मिनट से 9 बजकर 19 मिनट के बीच करना शुभ रहेगा. 


मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए जया एकादशी का व्रत (Jaya Ekadashi Vrat) किया जा सकता है. इस व्रत को करने पर भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होगी. पूजा में पीले वस्त्र, पीले फूल, पीली मिठाई व फल शामिल करें. भोग में मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु को केवल फल ही अर्पित करें.


जया एकादशी पर गाय को चारा खिलाना भी बेहद शुभ साबित होगा. गरीबों को भोजन खिलाने पर खासतौर से मां लक्ष्मी का चित्त प्रसन्न होगा और मान्यतानुसार भक्तों को आशीर्वाद मिलेगा. 

जया एकादशी के दिन तामसिक भोजन करने से परहेज करें. व्रत रखने वाले व्यक्ति के अलावा परिवार के अन्य सदस्यों को भी मान्यतानुसार अंडा, मांस, मछली और लहसुन-प्याज खाने से परहेज करना चाहिए. 

एक और उपाय (Ekadashi Upay) इस दिन किया जा सकता है जिसके लिए किसी मंदिर के पास पीपल के पेड़ तक जाना होगा. जया एकादशी के दिन पीपल के वृक्ष पर जल चढ़ाना शुभ साबित होगा. साथ ही, पीपल की परिक्रमा कर देसी घी का दीपक जलाया जा सकता है. पीपल के समक्ष मनोकामना मांगना सफल साबित हो सकता है. 

वास्तु शास्त्र के अनुसार पर्स में कभी नहीं रखनी चाहिए ये चीजें, माना जाता है रूठ जाती हैं मां लक्ष्मी

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Featured Video Of The Day

सच की पड़ताल : क्‍या पठान की कामयाबी बॉलीवुड में नई जान फूंक पाएगी? 



Source link

Continue Reading