Connect with us

Business

उत्तर भारत में धीमी हवा, वायु की गुणवत्ता हुई ‘खराब’

Published

on


सिंधु और गंगा के मैदानी इलाकों में प्रदूषण का अधिक स्तर बरकरार है जबकि पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाएं कम हो गई हैं। मौसम के विशेषज्ञों के अनुसार बारिश नहीं होने के कारण उत्तर भारत में प्रदूषण का अधिक स्तर कायम है। इससे वायु गुणवत्ता सूचकांक खराब से गंभीर की श्रेणियों के इर्द-गिर्द घूम रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक हवा की स्थिर व धीमी गति ने प्रदूषण को बढ़ाने में योगदान दिया है।

विशेषज्ञों ने उत्तर भारत में प्रदूषण के लिए ‘सर्दी के हस्तक्षेप’ को जिम्मेदार करार दिया है। इसमें गर्म हवाओं के बीच ठंडी हवा फंस जाती है। इससे पृथ्वी की सतह के करीब प्रदूषण फैलाने वाले तत्त्व कैद हो जाते हैं और उन्हें वायुमंडल में फैलने की जगह नहीं मिल पाती है। यह घटना वायुमंडलीय कंबल की तरह होती है। स्काईमेट वेदर के मौसम विभाग व जलवायु परिवर्तन के वाइस प्रेजिडेंट महेश पलावत के अनुसार,’उत्तर पश्चिम की ठंडी हवाएं मैदानी इलाकों में पहुंचती हैं तो न्यूनतम तापमान में गिरावट आती है और यह गिरकर इकाई में आ जाता है।

ऐसे में वातावरण से प्रदूषक तत्वों का बिखरना बेहद मुश्किल हो जाता है। लिहाजा तापमान जितना ज्यादा गिरता है, उत्क्रमण परत (इंवर्जन लेयर) और मोटी हो जाती है। ऐसे में यह परत जितनी मोटी होती जाएगी, उतना ही सूर्य की रोशनी या हवा को उसके पार जाकर प्रदूषण के स्तर को कम करना मुश्किल होता जाता है।’ उत्क्रमण परत होने की स्थिति में समुद्र तल से ऊंचाई बढ़ने पर गर्मी भी बढ़ती जाती है।

प्रदूषण के स्तर को बढ़ाने में औद्योगिक गतिविधियां, वाहनों के प्रदूषण और वातावरण की स्थितियां भी जिम्मेदारी होती हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक प्रदूषण को फैलने में मदद करने के लिए शहरों को स्रोत पर उत्सर्जन में भारी कटौती करनी होगी। उनके मुताबिक बारिश की कमी को हिमालय क्षेत्र में पश्चिमी विक्षोभ की अनुपस्थिति से जोड़कर देखा गया है। इसके कारण पश्चिमी हिमालय के क्षेत्रों में अलग-अलग जगहों पर बर्फबारी हुई और आसपास के क्षेत्रों में बारिश हुई। दिसंबर में कमजोर पश्चिमी विक्षोभ नजर आ रहा है और इसका मौसम पर असर नहीं पड़ा है।

भारत के मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार नवंबर में उत्तर भारत से पांच पश्चिमी विक्षोभ गुजरे थे। इनमें से केवल दो विक्षोभ (2 से 5 नवंबर और 6 से 9 नवंबर) के दौरान पश्चिमी हिमालय में छिटपुट जगहों पर बारिश या बर्फबारी हुई और उसके आसपास के इलाकों में बारिश हुई। उसके अनुसार अन्य तीन विक्षोभ कमजोर पड़ गए थे (13-15, 18-21 और 22-24 नवंबर) और उनका क्षेत्र पर कोई असर नहीं पड़ा।

विशेषज्ञों के मुताबिक पश्चिमी विक्षोक्षों के अलावा प्रशांत महासागर के ऊपर होने वाली वायुमंडलीय घटना ला नीना ने भी हालिया मौसम के पैटर्न में योगदान दिया है। भारतीय तकनीकी संस्थान कानपुर के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर एसएन त्रिपाठी के अनुसार,’बड़ी पर्यावरणीय गतिविधियों जैसे ली नीना ने भी परिसंचरण (सरकुलेशन) को धीमा किया है। हमें वायु गुणवत्ता की भविष्यवाणी के लिए और ‘पूर्व चेतावनी के सिस्टम’ की जरूरत है। इन सिस्टमों की मदद से हम यह जान पाएंगे कि मौसम की गतिविधियों में कम योगदान देने वाले कौन से कारक हैं।’ भारत के मौसम विभाग ने 26 दिसंबर तक दिल्ली के लिए येलो अलर्ट जारी किया था। अनुमान यह है कि गहरी धुंध छायी रहेगी और अधिकतम व न्यूनतम तापमान में गिरावट आएगी।



Source link

Business

सेंसेक्स 400 अंक से अधिक गिर गया, निफ्टी 17,900 के नीचे बंद हुआ

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) गिरावट के साथ बंद हुआ। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही लाल निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 452.90 अंक यानी कि 0.75% की गिरावट के साथ 59,900.37 के स्तर पर बंद हुआ।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 132.70 अंक यानी कि 0.74% की गिरावट के साथ 17,859.45 के स्तर पर बंद हुआ।

आपको बता दें कि, सुबह बाजार सपाट स्तर पर खुला था। इस दौरान सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला था।

जबकि बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था और गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

सेंसेक्स में 77 अंकों की मामूली बढ़त, निफ्टी 18 हजार के पार खुला

Published

on

By


डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के पांचवे और आखिरी दिन (06 जनवरी 2023, शुक्रवार) भी सपाट स्तर पर खुला। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही हरे निशान पर रहे। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सेंसेक्स 77.23 अंक यानी कि 0.13% बढ़कर 60,430.50 के स्तर पर खुला।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 24.60 अंक यानी कि 0.14% बढ़कर 18,016.80 के स्तर पर खुला।

शुरुआती कारोबार के दौरान करीब 1205 शेयरों में तेजी आई, 679 शेयरों में गिरावट आई और 115 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ।

आपको बता दें कि, बीते कारोबारी दिन (05 जनवरी 2023, गुरुवार) बाजार सपाट स्तर पर खुला था इस दौरान सेंसेक्स 44.66 अंक यानी कि 0.07% बढ़कर 60702.11 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 17 अंक यानी कि 0.09% ऊपर 18060.00 के स्तर पर खुला था। 

जबकि, शाम को बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ था। इस दौरान सेंसेक्स 304.18 अंक यानी कि 0.50% गिरावट के साथ 60,353.27 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 50.80 अंक यानी कि 0.28% गिरावट के साथ 17,992.15 के स्तर पर बंद हुआ था।



Source link

Continue Reading

Business

पेट्रोल- डीजल की कीमतें हुईं अपडेट, जानें आज बढ़े दाम या मिली राहत

Published

on

By



डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पेट्रोल- डीजल (Petrol- Diesel) की कीमतों को लेकर लंबे समय से कोई बढ़ा अपडेट देखने को नहीं मिला है। जबकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कई बार जबरदस्त तरीके से गिर चुकी हैं। हालांकि, जानकारों का मानना है कि, आने वाले दिनों में कच्चा तेल महंगा होने पर इसका असर देश में दिखाई दे सकता है। फिलहाल, भारतीय तेल विपणन कंपनियों (इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम) ने वाहन ईंधन के दाम में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया है।

बता दें कि, आखिरी बार बीते साल में 22 मई 2022 को आमजनता को महंगाई से राहत देने केंद्र सरकार द्वारा एक्‍साइज ड्यूटी में कटौती की गई थी। जिसके बाद पेट्रोल 8 रुपए और डीजल 6 रुपए प्रति लीटर तक सस्‍ता हो गया था। इसके बाद लगातार स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है। आइए जानते हैं वाहन ईंधन के ताजा रेट…

महानगरों में पेट्रोल-डीजल की कीमत
इंडियन ऑयल (Indian Oil) की वेबसाइट के अनुसार आज देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 96.72 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। वहीं बात करें डीजल की तो दिल्ली में कीमत 89.62 रुपए प्रति लीटर है। आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल 106.35 रुपए प्रति लीटर है, तो एक लीटर डीजल 94.27 रुपए में उपलब्ध होगा। 

इसी तरह कोलकाता में एक लीटर पेट्रोल के लिए 106.03 रुपए चुकाना होंगे जबकि यहां डीजल 92.76 प्रति लीटर है। चैन्नई में भी आपको एक लीटर पेट्रोल के लिए 102.63 रुपए चुकाना होंगे, वहीं यहां डीजल की कीमत 94.24 रुपए प्रति लीटर है।   

ऐसे जानें अपने शहर में ईंधन की कीमत
पेट्रोल-डीजल की रोज की कीमतों की जानकारी आप SMS के जरिए भी जान सकते हैं। इसके लिए इंडियन ऑयल के उपभोक्ता को RSP लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। वहीं बीपीसीएल उपभोक्ता को RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर भेजना होगा, जबकि एचपीसीएल उपभोक्ता को HPPrice लिखकर 9222201122 नंबर पर भेजना होगा, जिसके बाद ईंधन की कीमत की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

 



Source link

Continue Reading