Connect with us

International

आतंकवाद इस्लाम को कर रहा बदनाम, बंग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा-बच्चों को इससे रोकें

Published

on


Image Source : AP
शेख हसीना (बांग्लादेश की प्रधानमंत्री-फाइल फोटो)

Hasina On Islamic Terror:बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा है कि इस्लाम को आतंकवाद बर्बाद कर रहा है। इसलिए बच्चों को आतंकवाद और ड्रग्स की गिरफ्त में जाने से रोकना होगा। उन्होंने कहा कि इस्लाम दुनिया का सबसे अच्छा धर्म है, लेकिन कभी-कभी कुछ आतंकवादियों के कारण आलोचना का सामना करना पड़ता है। सभी लोगों से बुरी ताकतों द्वारा की जा रही इस्लाम की गलत व्याख्या का विरोध करने और धर्म के सार से भरे समाज से अंधकार, अशिक्षा, हिंसा और आतंकवाद को खत्म करने का आग्रह किया।

प्रधानमंत्री ने कहा- हम सभी शांति, इस्लाम के संदेश को अपने दिल में धारण करें और समाज से अंधकार, अशिक्षा, कलह, हिंसा, आतंकवाद और उग्रवाद को मिटा दें, इस्लाम की गलत व्याख्या करने वाली बुरी ताकतों का विरोध करें। उन्होंने बंगबंधु इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर में हज एजेंसीज एसोसिएशन ऑफ बांग्लादेश (एचएएबी) द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तर के हज और उमराह प्रबंधन सम्मेलन-2022 और हज और उमरा मेले के उद्घाटन समारोह को वर्चुअली संबोधित करते हुए कहा- देश को आतंकवाद से मुक्त रखकर पवित्र इस्लाम के शांतिपूर्ण गौरव को बनाए रखने के लिए हमने आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस अपनाया है।

शेख हसीना ने कहा कि राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान ने देश में इस्लाम के लिए बहुत कुछ किया है और उनके उत्तराधिकारी के रूप में उनकी सरकार इस्लाम की भावना को बनाए रखने और लोगों के कल्याण के लिए अथक प्रयास कर रही है। प्रीमियर ने कहा कि इमामों को मानव संसाधन के विकास के लिए धार्मिक नेताओं को शामिल करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। आयोजन के उद्देश्यों में तीर्थयात्रियों को हज-संबंधी उचित जानकारी प्रदान करना, उन्हें वर्तमान प्रौद्योगिकी-आधारित हज प्रबंधन के बारे में जागरूक करना, उन्हें हज एजेंसियों से सीधे संपर्क करने में सक्षम बनाना और बिचौलियों और घोटालेबाजों के प्रभाव को कम करना शामिल है।

सम्मेलन में हज और उमराह प्रबंधन: उपलब्धियां और कार्यों की आवश्यकता और ई-हज प्रबंधन और मक्का पहल के मार्ग पर दो सेमिनार आयोजित किए जाएंगे। विभिन्न हज एजेंसियों, वित्तीय संगठनों और अधिकारियों ने तीन दिवसीय हज और उमराह मेले में लगभग 150 स्टॉल और मंडप लगाए हैं, जो हर दिन सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक खुले रहेंगे। बांग्लादेश, दुनिया के बीच, मक्का में तीर्थयात्रियों को भेजने वाला चौथा सबसे बड़ा देश है। 90 प्रतिशत से अधिक बांग्लादेशी हज यात्री और 100 प्रतिशत उमरा तीर्थयात्री निजी प्रबंधन के तहत सऊदी अरब जाते हैं। उन्होंने कहा कि अब उनकी सरकार के कदमों की बदौलत हज तीर्थयात्रियों की आव्रजन प्रक्रिया ढाका में पूरी हो जाएगी और अब बांग्लादेशी तीर्थयात्रियों को जेद्दाह में आव्रजन प्रक्रिया के लिए समय देने की आवश्यकता नहीं होगी। उन्होंने कहा, मैंने अपनी आंखों से गंदी स्थिति देखी। इसलिए, जब मैंने सरकार बनाई, तो मेरी कोशिश तीर्थयात्रियों की समस्याओं को दूर करने की थी।

Latest World News





Source link

International

चीन में अनलॉक करने की डिमांड तेज, लोगों के सपोर्ट में बोला UN- ”प्रदर्शन करने के अधिकार का सम्मान करना सीखे चीन’

Published

on

By


Image Source : AP
चीन में अनलॉक करने की डिमांड तेज

चीन में कोरोना के चलते लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। एक तो कोरोना का प्रकोप ऊपर से सरकार की सख्ती और ना मानने पर पुलिस की कार्रवाई ने लोगों को प्रदर्शन करने पर मजूबर कर दिया है। इस बीच संयुक्त राष्ट्र ने चीन को दो टूक सुनाया है। समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र ने चीन से शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों में भाग लेने के लिए लोगों को हिरासत में नहीं लेने का आग्रह किया है।

‘सख्त जीरो कोविड पॉलिसी’ का विरोध 

चीन में कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं जिसके चलते यहां सख्त जीरो कोविड पॉलिसी लागू है। वहीं कोरोना के चलते पाबंदियों और सख्त गाइडलाइंस ने लोगों को थका दिया है और गुस्से में भी भर दिया है। चीन सरकार की सख्त कोविड पाबंदियों के खिलाफ विरोध तेज हो गया है और राष्ट्रपति शी जिनपिंग की ‘सख्त जीरो कोविड पॉलिसी’ के खिलाफ लोग सड़कों पर उतर आए हैं। इस दौरान पुलिस विरोध कर रहे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी कर रही है। 

लोगों को पुलिस की कारों में बांधा गया

शंघाई में हजारों प्रदर्शनकारी निकले, जहां लोगों को पुलिस की कारों में बांध दिया गया। छात्रों को बीजिंग और नानजिंग समेत अन्य जगहों पर विश्वविद्यालयों में प्रदर्शन करते देखा गया। शनिवार रात शंघाई में विरोध प्रदर्शन के दौरान लोगों को खुलेआम ‘शी जिनपिंग, पद छोड़ो’ और ‘कम्युनिस्ट पार्टी सत्ता छोड़ो’ जैसे नारे लगाते हुए सुना गया। 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन





Source link

Continue Reading

International

दुनिया का सबसे बड़ा एक्टिव ज्वालामुखी फटा, अमेरिका में बह रही आग की नदियां, आसमान हुआ लाल

Published

on

By


World Largest Volcano: दुनिया का सबसे बड़ा सक्रिया ज्वालामुखी हवाई का मौना लोआ है। ये ज्वालामुखी रविवार को फट गया है। अभी ज्वालामुखी से निकलने वाला लावा शिखर पर ही है। इससे स्थानीय लोगों को कोई खतरा नहीं है। यूनाइटेट स्टेट्स जियोलॉजिकल सर्वे लगातार लावा के बहाव की निगरानी कर रहा है।

 



Source link

Continue Reading

International

चीन में ‘A4 क्रांति’, क्यों सादे कागज लहरा कर जिनपिंग की सरकार के खिलाफ हो रहा प्रदर्शन?

Published

on

By


बीजिंग: चीन में विरोध प्रदर्शनों के दौरान कागज के खाली पन्ने एक प्रतिष्ठित वस्तु बन गए हैं, जिसे कई लोग ‘श्वेत पत्र क्रांति’, ‘कोरी चादर क्रांति’ या ‘ए4 क्रांति’ कहते हैं। देशभर में विभिन्न प्रदर्शनों के दौरान लोगों को कागज की एक कोरी चादर पकड़े देखा गया। कुछ का कहना है कि यह सेंसरशिप से बचने का एक तरीका है। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, एक वायरल वीडियो शनिवार का बताया जा रहा है, जिसमें नानजिंग के कम्युनिकेशन यूनिवर्सिटी में एक महिला कोरे कागज के एक लंबे टुकड़े का एक छोर पकड़े हुई है और दूसरे छोर को एक अज्ञात व्यक्ति पकड़े हुआ है।

उस रात बाद के एक अन्य वीडियो में कैंपस में दर्जनों और छात्रों को श्वेत पत्र के टुकड़ों को पकड़े हुए देखा गया, जो मौन खड़े थे। सप्ताहांत में अन्य प्रमुख शहरों में भी इसी तरह के दृश्य देखे गए। शनिवार की रात शंघाई में एक विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाली एक महिला ने बीबीसी को बताया, ‘‘निश्चित रूप से कागज पर कुछ भी नहीं लिखा था, लेकिन हम जानते हैं कि यह किस चीज का प्रतीक है।’’

छात्रों के बीच प्रचलित है विरोध
कागज निर्माता शंघाई एम एंड जी स्टेशनरी ने उन अफवाहों का खंडन किया है कि उसने राष्ट्रीय सुरक्षा कारणों से सभी ए4 पेपर को अलमारियों से हटा लिया है। कागज के खाली टुकड़े चीन में प्रदर्शनकारियों के लिए अवज्ञा का प्रतीक बन गए हैं, खासकर विश्वविद्यालयों के छात्रों के बीच। वे देश में लगाए गए कोविड-19 प्रतिबंधों पर अपना गुस्सा प्रकट कर रहे हैं।

चीन में हो रहा मौन विरोध
यह मौन विरोध का एक रूप है, लेकिन उनके लिए सेंसरशिप या गिरफ्तार होने से बचने का एक तरीका है। सोमवार को कंपनी ने शंघाई स्टॉक एक्सचेंज पर एक आपातकालीन नोटिस पोस्ट किया, जिसमें कहा गया कि एक जाली दस्तावेज ऑनलाइन प्रसारित हो रहा है। बीबीसी ने बताया कि एम एंड जी के अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने पुलिस को सूचित किया था। उत्पादन और संचालन कार्य सामान्य रूप से चल रहा है।



Source link

Continue Reading