Connect with us

TRENDING

अब बिहार में नीतीश-तेजस्वी को मात देने में जुटी BJP, बन गई रणनीति!

Published

on


Image Source : PTI
JP Nadda and Amit Shah

Highlights

  • जेडीयू-राजद के किले को ध्वस्त करने को लेकर रणनीति बनाने में लगी बीजेपी
  • बूथस्तर तक नीतीश की ‘पलटीमार’ छवि को भुनाने की कोशिश
  • बीजेपी विपक्ष में बैठकर बिहार की सियासत में खुलकर बैटिंग करने के मूड में

Bihar Politics: बिहार में एकबार फिर ‘पलटीमार’ कर नीतीश कुमार (Nitish Kumar) महागठबंधन के साथ पहुंच गए और भाजपा एक झटके में सरकार से बाहर हो गई। नीतीश ने 8वीं बार मुख्यमंत्री के पद की शपथ ली तो राजद के नेता तेजस्वी यादव उपमुख्यमंत्री बने। राजद के कंधे पर सवार होकर नीतीश एकबार फिर से भले ही मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गए हों, लेकिन भाजपा ने भी नीतीश और तेजस्वी को कड़ी टक्कर देने के लिए रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। वैसे, सरकार से बाहर होने की मायूसी भाजपा के नेताओं को जरूर है लेकिन इस बात की प्रसन्नता भी है कि अब भाजपा बिहार की सियासत की पिच पर खुलकर बैटिंग कर सकेगी। कार्यकर्ता यही मान रहे थे कि नीतीश कुमार के कारण पार्टी बिहार में खड़ी नहीं हो पा रही थी।

‘नीतीश के प्रशंसकों में भारी कमी आई’


भाजपा ने नीतीश कुमार के महागठबंधन के साथ जाने के बाद से ही जेडीयू और राजद के किले को ध्वस्त करने को लेकर रणनीति बनाने लगी थी। भाजपा ने 2 दिनों के अंदर जहां कोर कमेटी की बैठक की वहीं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने सांसदों और विधायकों के साथ भी बैठकर विचार किया। कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार की स्वीकार्यता बिहार में कम हुई है, इस कारण नीतीश को मात देना भाजपा आसान मान रही है। भाजपा के एक नेता कहते भी हैं कि नीतीश के प्रशंसकों में भारी कमी आई है। जिस प्रकार पिछले चुनाव में भी देखने को मिला था कि कई स्थानों पर नीतीश कुमार को विरोध का सामना करना पड़ा था।

नीतीश की ‘पलटीमार’ छवि को भुनाने की कोशिश में जुटी बीजेपी

भाजपा के सूत्रों का कहना है कि भाजपा संगठनात्मक रूप से किसी भी राजनीतिक पार्टी से मजबूत है। ऐसे में वह बूथस्तर तक नीतीश की ‘पलटीमार’ छवि को भुनाने की कोशिश में जुट गई है। यहीं कारण है कि पहले चरण में जेडीयू के विश्वासघात को लेकर जिला से लेकर प्रखंड मुख्यालय तक महाधरना का आयोजन किया गया है। सूत्र बताते हैं कि भाजपा के नेता और कार्यकर्ता राजद के जंगलराज और भ्रष्टाचार की छवि को भी फिर से उभारकर लोगों के बीच जाएंगे। भाजपा के साथ सरकार के बीच भी बिहार में नीतीश कुमार अपराध पर लगाम लगाने में नाकाम साबित हुए और प्रशासनिक भ्रष्टाचार बहुत ज्यादा बढ़ गया था। शराबबंदी का उनका कार्यक्रम भी भ्रष्टाचार की एक बड़ी वजह बनकर उभरा है। भाजपा को लगता है कि इन्हीं मुद्दों के सहारे वह नीतीश कुमार की छवि को तोड़ सकती है।

चिराग पासवान कर सकते हैं मदद

इसके अलावा भाजपा अपने सामाजिक समीकरण को भी दुरूस्त करने में जुटेगी। भाजपा मानती है कि तेजस्वी के राजद के सर्वेसर्वा नेता के रूप में उभरने के बाद राजद के वोट बैंक यादव और मुस्लिम पर पकड़ कमजोर हुई है। जेडीयू से बाहर किए गए पूर्व केंद्रीय मंत्री आर सी पी सिंह के भाजपा में आने के बाद जेडीयू के वोट बैंक में भी सेंध लगाया जा सकता है जबकि लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख चिराग पासवान यदि भाजपाई खेमे में लौट आते हैं, तो इससे वे दलितों के बीच पकड़ बनाने में अच्छी मदद कर सकते हैं।

बहरहाल, भाजपा अब विपक्ष में बैठकर बिहार की सियासत में खुलकर बैटिंग करने के मूड में है और नीतीश के NDA से बाहर जाने के बाद भाजपा के कार्यकर्ता भी उत्साहित है। ऐसे में अब देखने वाली बात होंगी कि भाजपा इन राणनीतियों को जमीन पर कैसे उतारती है।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

चीन की राजधानी बीजिंग में भी लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन, सरकार के विरोध में लोग लगा रहे नारे

Published

on

By


Image Source : AP
चीन में लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन

बीजिंग: चीन में एक बार फिर कोरोना कहर बनकर टूट रहा है। लगातार मरीजों की संख्या बढ़ रही है। वहीं कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए कड़े प्रतिबंधों के खिलाफ लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शन राजधानी बीजिंग तक फैल गए हैं जबकि चीन ने सोमवार को इससे जुड़ी चिंताओं को खारिज कर दिया। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने कहा कि सोमवार को संक्रमण के 39,452 नए मामले आए, जिनमें 36,304 स्थानीय मामलों में मरीजों में बीमारी के लक्षण नहीं देखे गए। इस बीच, सप्ताहांत के दौरान पूर्वी महानगर शंघाई में शुरू हुए प्रदर्शन बीजिंग तक फैल गया जहां मध्य शहर में लियांगमाहे नदी के करीब रविवार शाम को सैकड़ों लोग एकत्रित हो गए।

सरकार के खिलाफ लगे नारे

शंघाई के उरुमकी में बृहस्पतिवार को लॉकडाउन के दौरान एक अपार्टमेंट में आग लग जाने की घटना में मारे गए लोगों की याद में मोमबत्तियां लिए हुए लोगों ने सरकार द्वारा मनमाने लॉकडाउन के खिलाफ और शंघाई में प्रदर्शनों के प्रति एकजुटता जताते हुए नारे लगाए। कई राजनयिकों और विदेशियों ने प्रदर्शन देखा क्योंकि ये प्रदर्शन बीजिंग में राजनयिक आवासीय परिसर के समीप हुए। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि प्रदर्शन कई घंटे तक हुए और पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लिया। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने भी शंघाई में प्रदर्शनों को कवर करने वाले बीबीसी के एक पत्रकार की गिरफ्तारी के कदम का बचाव करते हुए कहा कि संवाददाता ने मीडिया से होने की अपनी पहचान जाहिर नहीं की थी। 

‘चीन शून्य-कोविड नीति का पालन कर रहा है’

लॉकडाउन के खिलाफ जारी विरोध-प्रदर्शनों से जुड़े सवाल के जवाब में झाओ ने प्रेसवार्ता के दौरान कहा, ‘‘आपने जो उल्लेख किया है वह ऐसा नहीं है, जो हुआ है। चीन शून्य-कोविड नीति का पालन कर रहा है और जमीनी हकीकत के आधार पर फैसले कर रहा है।’’ प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमें विश्वास है कि सीपीसी के नेतृत्व और चीनी लोगों के समर्थन से कोविड-19 के खिलाफ हमारी लड़ाई सफल होगी।’’ हालांकि, उन्होंने प्रदर्शनकारियों की, राष्ट्रपति जिनफिंग के सत्ता छोड़ने की मांग से जुड़े सवाल का कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया। 

BBC के पत्रकार को पुलिस ने लगाई हथकड़ी 

उधर, बीबीसी ने लंदन में जारी एक बयान में कहा, ‘‘बीबीसी अपने पत्रकार ए. लॉरेंस के साथ हुए व्यवहार को लेकर बेहद चिंतित है, जिन्हें शंघाई में विरोध प्रदर्शन को कवर करते समय गिरफ्तार किया गया था और हथकड़ी लगाई गई थी।’’ बयान में कहा गया, ‘‘पत्रकार को रिहा होने से पहले कई घंटों तक हिरासत में रखा गया। गिरफ्तारी के दौरान उन्हें पीटा गया और पुलिस ने उन्हें लात मारी। यह तब हुआ जब वह एक मान्यता प्राप्त पत्रकार के रूप में काम कर रहे थे।’’ 

Latest World News





Source link

Continue Reading

TRENDING

MP : मुख्‍यमंत्री ने किया बच्चे का “सरकारी नामकरण पेसा”, आदिवासी मां-बाप का आरोप-अफसरों ने जबरन रखा नाम

Published

on

By



बच्चे की दादी सुखवती मरावी ने भी कहा कि हमने हेमराज नाम रखा था, मुख्यमंत्री…



Source link

Continue Reading

TRENDING

सुकेश का ‘लेटर बम’, मनीष सिसोदिया से जुड़े नंबर से परिवार को धमकी मिलने का आरोप; LG को चिट्ठी

Published

on

By



इस चिट्ठी को लेकर कुछ मीडिया रिपोर्ट में यह भी कहा जा रहा है कि सुकेश ने इस खत में कहा है कि धमकी देने के लिए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आधिकारिक फोन नंबर का इस्तेमाल किया जा रहा है।



Source link

Continue Reading