Connect with us

Uncategorized

अनन्या पांडे ने स्टार प्लस के सबसे प्रतिष्ठित ITA अवॉर्ड्स में ‘गहराइयां’ के लिए जीता ‘बेस्ट डेब्यूटेंट एक्ट्रेस ऑफ द ईयर- ओटीटी’ का अवॉर्ड

Published

on


अनन्या पांडे ने स्टार प्लस के सबसे प्रतिष्ठित ITA अवॉर्ड्स में ‘गहराइयां’ के लिए जीता ‘बेस्ट डेब्यूटेंट एक्ट्रेस ऑफ द ईयर- ओटीटी’ का अवॉर्ड
स्टारप्लस भारत के मश्हूर चैनलों में से एक है और इसने टेलीविजन के इतिहास में कुछ सबसे बड़े शो दिए हैं। दर्शकों को उनके शो देखने में जितना मजा आता है, उतना ही उन्हें ग्रैंड अवॉर्ड इवेंट्स के होने का भी बेसब्री से इंतजार रहता है।

रविवार को मुंबई में आयोजित स्टार प्लस के इंडियन टेलीविज़न एकेडमी अवॉर्ड्स के 22वें एडिशन ने छोटे पर्दे और डिजिटल प्लेटफॉर्म पर एक्सीलेंस का जश्न मनाने के लिए बॉलीवुड और टेलीविजन इंडस्ट्री को एक साथ लाए। इस इवेंट पर कई बॉलीवुड हस्तियों में से एक अनन्या पांडे भी थीं, जिन्हें फिल्म ‘गहराइयां’ में उनके अभिनय के लिए ‘बेस्ट डेब्यूटेंट एक्ट्रेस ऑफ द ईयर-ओटीटी’ का पुरस्कार मिला।

अनन्या पांडे धीरे-धीरे और लगातार सफलता की सीढ़ी चढ़ रही हैं। अनन्या को पुनीत मल्होत्रा की 2019 की डायरेक्टोरियल स्टूडेंट ऑफ़ द ईयर 2 में श्रेया रंधावा के किरदार के लिए बेस्ट फीमेल डेब्यू का अवॉर्ड मिल चुका हैं। अनन्या पांडे ‘सॉटी 2’ में टाइगर श्रॉफ और तारा सुतारिया के साथ नजर आई थीं। इसके बाद से अनन्या ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा और कड़ी मेहनत की ताकि बेहतरीन एक्टर के रूप में वो खुद को साबित कर सकें और अपने प्रदर्शन से दर्शकों को प्रभावित कर सकें। इस साल, गहराइयां के साथ, उन्होंने एक अभिनेत्री के रूप में अपनी काबिलियत साबित की हैं।

बता दें, ITA अवॉर्ड्स 2022 में हिस्सा लेने वाले कई लोगों में, पूरी विजेता सूची में वरुण धवन, अनिल कपूर, रवीना टंडन, नकुल मेहता, दिशा परमार और अर्जुन बिजलानी शामिल हैं, जिन्होंने इंडियन टेलीविज़न एकेडमी अवॉर्ड्स जीते।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uncategorized

इस साल रिकॉर्ड ऊंचाई पर रहा CO2 एमिशन  

Published

on

साल 2022 ख़त्म होने को आ गया मगर अब भी वैश्विक स्तर पर कार्बन एमिशन रिकॉर्ड लेवेल पर है। इस बात की जानकारी मिलती है ग्लोबल कार्बन प्रोजेक्ट साइंस टीम से, जिसका कहना है कि वर्ष 2022 में वैश्विक स्तर पर कार्बन का एमिशन रिकॉर्ड ऊंचाई पर बना रहा। इसमें गिरावट के कोई निशान नहीं हैं जबकि वैश्विक तापमान में वृद्धि को डेढ़ डिग्री सेल्सियस से नीचे रखने के लिए कार्बन एमिशन में गिरावट लाना अनिवार्य है। 

अगर एमिशन के मौजूदा स्तर बने रहे तो अगले नौ वर्षों के दौरान ग्लोबल वार्मिंग में वृद्धि के डेढ़ डिग्री सेल्सियस की सीमा को पार कर जाने की आशंका 50% तक बढ़ जाएगी। 

इस नई रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि वर्ष 2022 में वैश्विक स्तर पर कुल 40.6 बिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड का एमिशन होगा। ऐसा जीवाश्म ईंधन के कारण उत्पन्न होने वाली कार्बन डाइऑक्साइड के एमिशन के कारण हो रहा है, जिसके वर्ष 2022 के मुकाबले 1% बढ़ने का अनुमान है और यह 36.6 गीगा टन तक पहुंच जाएगा। यह वर्ष 2019 में कोविड-19 महामारी से पहले के स्तर से कुछ ज्यादा होगा। वर्ष 2022 में भूमि उपयोग में बदलाव, जैसे कि वनों के कटान से 3.9 गीगा टन कार्बन डाइऑक्साइड पैदा होने का अनुमान है। 

कोयला और तेल से होने वाले एमिशन की मात्रा वर्ष 2021 के स्तरों से अधिक होने का अनुमान है। एमिशन में होने वाली कुल बढ़ोत्तरी में तेल सबसे बड़ा योगदान साबित हो रहा है। तेल से होने वाले एमिशन में वृद्धि को अधिकतर कोविड-19 महामारी के कारण लागू प्रतिबंधों के बाद अंतरराष्ट्रीय विमानन के विलंबित प्रतिक्षेप के जरिए समझाया जा सकता है। 

दुनिया के प्रमुख एमिशन करने वाले देशों में वर्ष 2022 की तस्वीर मिली जुली है। जहां चीन में एमिशन की दर में 0.9% और यूरोपीय यूनियन में 0.8% की गिरावट की संभावना है। वहीं, अमेरिका (1.50) प्रतिशत, भारत (6%) तथा दुनिया के बाकी अन्य देशों में (कुल मिलाकर 1.7%) वृद्धि होने का अनुमान है। 

ग्लोबल वार्मिंग को डेढ़ डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने की 50% संभावनाओं को जिंदा रखने के लिए शेष कार्बन बजट को घटाकर 380 गीगा टन कार्बन डाइऑक्साइड (अगर 9 साल बाद एमिशन वर्ष 2022 के स्तर पर रहता है) और 2 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के लिए 1230 गीगा टन सीओ2 कर दिया गया है। 

वर्ष 2050 तक कार्बन एमिशन को शून्य करने का लक्ष्य हासिल करने के लिए अब हर साल कार्बन एमिशन में 1.4 गीगा टन की गिरावट लाने की जरूरत होगी। इससे जाहिर होता है कि दुनिया को कितने बड़े पैमाने पर काम करना होगा। 

कार्बन को सोखने और उसे जमा करने का काम करने वाले महासागर और जमीन कुल कार्बन डाइऑक्साइड एमिशन का लगभग आधा हिस्सा खुद में समाहित करने का सिलसिला जारी रखे हुए हैं। हालांकि वर्ष 2012 से 2021 के बीच जलवायु परिवर्तन की वजह से महासागरों और लैंड सिंक द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने की क्षमता में क्रमशः 4% और 17% की अनुमानित गिरावट आई है। 

इस साल के कार्बन बजट से जाहिर होता है कि जीवाश्म ईंधन से होने वाले एमिशन में दीर्घकालिक बढ़ोत्तरी की दर अब कम हो चुकी है। जहां 2000 के दशक के दौरान इसमें अधिकतम औसत वृद्धि 3% प्रतिवर्ष थी, वहीं पिछले दशक में यह घटकर करीब 0.5% प्रतिवर्ष हो गई। 

रिसर्च टीम में शामिल यूनिवर्सिटी ऑफ़ एक्सीटर, यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंग्लिया (यूएई), सिसरो और लुडविग मैक्सिमिलियन यूनिवर्सिटी म्युनिख ने एमिशन में दीर्घकालिक बढ़ोत्तरी की दर में गिरावट का स्वागत किया है लेकिन यह भी कहा है कि यह गिरावट मौजूदा जरूरत के मुकाबले काफी कम है। 

यह तथ्य ऐसे समय सामने आए हैं जब दुनिया भर के नेता मिस्र के शर्म अल शेख में हो रही सीओपी27 में जलवायु परिवर्तन के संकट पर विचार-विमर्श कर रहे हैं। 

एक्सीटर के ग्लोबल सिस्टम्स इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर पियरे फ्रीडलिंगस्टीन ने कहा “जब हमें तेजी से कमी लाने की जरूरत है, तब इस साल हम वैश्विक स्तर पर जीवाश्म ईंधन से उत्पन्न कार्बन डाइऑक्साइड के एमिशन में एक बार फिर वृद्धि देख रहे हैं।” 

दुनिया के 100 से ज्यादा वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा तैयार की गई ‘ग्लोबल कार्बन बजट रिपोर्ट’ कार्बन के स्रोतों और सिंक दोनों ही का परीक्षण करती है। यह रिपोर्ट पूरी तरह से पारदर्शी ढंग से स्थापित कार्यप्रणाली के आधार पर एक वार्षिक और सहकर्मियों द्वारा समीक्षित अपडेट प्रदान करता है।  

Continue Reading

Uncategorized

पूजा एंटरटेनमेंट की ‘बड़े मियां छोटे मियां’ में खलनायक के किरदार में नजर आएंगे पृथ्वीराज सुकुमारन

Published

on


पूजा एंटरटेनमेंट की मच अवेटेड फिल्म ‘बड़े मियां छोटे मियां’ में हुई पृथ्वीराज सुकुमारन की एंट्री; निभायेंगे खलनायक

पूजा एंटरटेनमेंट की ‘बड़े मियां छोटे मियां’ में खलनायक के किरदार में नजर आएंगे पृथ्वीराज सुकुमारन
पूजा एंटरटेनमेंट की आने वाली फिल्म ‘बड़े मियां छोटे मियां’ वास्तव में साल की बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है। अक्षय कुमार और टाइगर श्रॉफ अभिनीत यह फिल्म अपने एलान के बाद से ही चर्चा में है। जैसा कि दर्शक फिल्म के बारे में अधिक जानने के लिए उत्सुक हैं, निर्माताओं ने आखिरकार पृथ्वीराज सुकुमारन द्वारा निभाए जाने वाले रोल का खुलासा कर दिया है जो एक विलेन का है।

बता दें, जब से अक्षय कुमार और टाइगर श्रॉफ अभिनीत ‘बड़े मियां छोटे मियां’ का पहला वीडियो रिलीज़ हुआ था, इसने दर्शकों में फिल्म के बारे में और ज्यादा जानने के लिए एक्साइटमेंट पैदा कर दी थी। जबकि फिल्म में अक्षय कुमार और टाइगर श्रॉफ शामिल हैं, अब पृथ्वीराज सुकुमारन के भी टीम में शामिल होने की खबर कन्फर्म हो चुकी हैं।

इस एलान पर बात करते हुए जैकी भगनानी ने कहा, “पृथ्वीराज सुकुमारन का ‘बड़े मियां छोटे मियां’ के कलाकारों के रूप में होना कमाल की बात है। एक विलेन के रूप में उनका होना फिल्म में और ज्यादा रोमांच जोड़ता है।”

वहीं निर्देशक अली अब्बास जफर ने कहा, “मैं वास्तव में बेहद प्रतिभाशाली पृथ्वीराज के साथ काम करने के लिए उत्सुक हूं। इस एक्शन एंटरटेनर में इस तरह के पावरहाउस परफॉर्मर का होना एक अद्भुत अनुभव होगा।”

ऐसे में जहां दर्शक ‘बड़े मियां छोटे मियां’ में पहली बार दो दमदार एक्शन हीरो को एक साथ पर्दे पर देखने के लिए उत्साहित हैं, वहीं फिल्म का कैनवास और भी दिलचस्प होने वाला है क्योंकि पृथ्वीराज सुकुमारन भी एक खलनायक के रूप में फिल्म के साथ जुड़ चुके हैं और अपनी दमदार एक्टिंग के साथ फिल्म को एक नया अयाम देंगे।

वाशु भगनानी और पूजा एंटरटेनमेंट अली अब्बास ज़फर द्वारा लिखित और निर्देशित, वाशु भगनानी, दीपशिखा देशमुख, जैकी भगनानी, हिमांशु किशन मेहरा और अली अब्बास ज़फ़र द्वारा निर्मित, एएजेड फिल्म के सहयोग से बड़े मियां छोटे मियां प्रस्तुत करते हैं।

इस फिल्म की शूटिंग अगले साल शुरू होने की उम्मीद है।

Continue Reading

Uncategorized

अरविन्द अकेला कल्लू, योगेश मिश्रा और गोविंदा की ‘विद्यापीठ’ की शूटिंग जोरो-शोरो से हुई शुरू

Published

on

अरविन्द अकेला कल्लू, योगेश मिश्रा और गोविंदा की ‘विद्यापीठ’ की शूटिंग जोरो-शोरो से हुई शुरू

भोजपुरी फिल्मों के यंग स्टार और चोकलेटी बॉय कहे जाने वाले अरविन्द अकेला कल्लू की फिल्म ‘विद्यापीठ’ की शूटिंग यूपी के बलरामपुर उत्तर प्रदेश में शुरू की गई है। फिल्म की शूटिंग जोरो-शोरो से की जा रही है। फिल्म में अरविंद अकेला कल्लू के साथ एक्ट्रेस आयुषी दत्त तिवारी नजर आएगी। जो इस फिल्म से भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में डेब्यू करने जा रही है। फिल्म का निर्देशन योगेश राज मिश्रा कर रहे है जिन्होंने इससे पहले भोजपुरी सुपरस्टार खेसारी लाल यादव के साथ फिल्म ‘दबंग सरकार’ का निर्देशन किया था। इस फिल्म को लेकर अब एक नयी सोच के साथ वे एक नया धमाका लेकर आ रहे है।

फिल्म ‘विद्यापीठ’के निर्माता गोविंदजी ( रंजीत जयसवाल ) हैं। फिल्म का संगीत आज़ाद सिंह ने तैयार किया है। निर्देशक योगेश राज मिश्रा ने बताया कि फिल्म ‘विद्यापीठ’ बहुत बड़ी फिल्म है और इसकी शूटिंग भव्यता से की जा रही है। यह फिल्म इंडियन फिल्म एकेडमी के चयनित बच्चों के लिए एक बड़ा एक्सपोजर लेकर आएगा। पढ़ाई के बाद इंडियन फिल्म एकेडमी के बच्चों के लिए ये बड़ा मौका है, जहां उन्हें बड़े पर्दे पर अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित करने का मौका मिलेगा।    

वही फिल्म के एक्टर अरविंद अकेला कल्लू भी अपनी इस फिल्म को लेकर काफी उत्साहित है क्योंकि उन्होंने अब तक ऐसा कोई किरदार नहीं निभाया है। साथ योगेश मिश्रा को भी अरविन्द अकेला कल्लू के किरदार को लेकर बेहद ज्यादा उम्मीद है और उन्होंने काफी भरोसा भी जताया है। फिल्म के बाकी कलाकारों की बात करे तो फिल्म में विनीत विशाल, समर्थ चतुर्वेदी,मनोज टाइगर,कृष्ण कुमार,जय शंकर पांडेय ,फिल्म के कोरिओग्राफर लकी विश्वकर्मा है। फिल्म का आर्ट देख रहे है सिकंदर, कॉस्टयूम कविता- सुनीता, फिल्म का लेखन मनोज पांडेय ने किया है और फिल्म के पीआरओ संजय भूषण पटियाला है।

Continue Reading